Saturday, 31 July 2021

1 से 7 अगस्त तक निःशुल्क ऑर्थोपीडिक सेवाएं

देहरादून। इंडियन ऑर्थोपीडिक एसोशियेसन के बोन एवं ज्वाइंट वीक के अवसर पर संजय ऑर्थोपीडिक, स्पाइन एवं मैटरनिटी सेंटर, देहरादून एवं सेवा संस्था एक निःशुल्क कार्यक्रम का आयोजन कर रहे हैं। जिसकी रुपरेखा इस तरह से है जिसमें 1 अगस्त को जनजागरूकता व्याख्यान वेबीनार, 2 अगस्त को आकाशवाणी पर साक्षात्कार, 3 अगस्त को निःशुल्क बी.एम.डी. जांच, 4 अगस्त को निःशुल्क स्वास्थ्य परामर्श शिविर, 5 अगस्त को निःशुल्क पोलियो ऑपरेशन, 6 अगस्त को निःशुल्क घुटनों के ऑपरेशन तथा 7 अगस्त को समापन कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। एम्स अस्पताल, ऋषिकेश के डॉ. पंकज कण्डवाल एवं डॉ. आर. बी. कालिया, मैक्स अस्पताल के डॉ. हिमांशु कोचर, कोरोनेशन अस्पताल के डॉ. एस. एन. सिंह, ब्रिज ट्रोमा सेंटर के डॉ. मयंक जैन, संजय ऑर्थोपीडिक, स्पाइन एवं मैटरनिटी सेंटर के डॉ. गौरव संजय एवं डॉ. बी. के. एस. संजय वेबिनार के वक्ता हैं। जिसकी जानकारी उत्तराखण्ड एसोशियेसन के संस्थापक अध्यक्ष, गिनीज एवं लिम्का रिकार्ड होल्डर डॉ. बी. के. एस. संजय ने प्रेस विज्ञाप्ति के माध्यम से जानकारी दी। पद्मश्री से सम्मानित ऑर्थोपीडिक एवं स्पाइन सर्जन डॉ‐ बी. के. एस. संजय ने बताया कि पिछले 40 सालांे में आर्थोपीडिक के मरीजों के ढंग एवं प्रकार बदल गया है। पहले जोड़ों और पैरों के टेढ़ेपन के कारण पोलियो एवं सी.पी. मुख्य कारण थे लेकिन आज सड़क दुर्घटनाओं के दुष्परिणामों के कारण हाथ-पैरों एवं कमर के टेढ़ेपन एवं विकलांगता की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। वैसे तो शास्त्रों मे भी कहा गया है कि यदि किसी व्यक्ति का जन्म है तो उसमें विकास, बीमारी, बुढ़ापा एवं मृत्यु निश्चित ही है। इस तरह से जोड़ों का घिसना एवं उनका टेढ़ा होना स्वभाविक समस्या है लेकिन आजकल लोगों की जीवन शैली में जैसे कि मोटापा, डायबीटिज हायपरटेंशन, धू्रमपान एवं शराब के नशे के कारण ऑर्थराइटिस की समस्या पहले से ज्यादा आ रही है। इण्डिया बुक रिकार्ड होल्डर आर्थोपीडिक सर्जन डॉ. गौरव संजय ने बताया कि इस तरह की समस्याओं से बचने के लिए हमें संतुलित भोजन एवं ज्यादा से ज्यादा शारीरिक काम प्रतिदिन नियमित रूप से करना चाहिए। इसके अतिरिक्त लोगों को लगभग 8 घंटे नींद लेनी चाहिए। आज की दौड़ती-भागती जीवनशैली, दैनिक दिनचर्या में खान-पान का अभाव न केवल हमें शारीरिक समस्याऐं दे रही है। इसके लिए योगासन एवं प्राणायाम जैसी योग क्रिया इन सब समस्याओं से बचने में बहुत मददगार साबित होगी। डॉ‐ गौरव संजय ने यह भी बताया कि जैसे की जोडो़ं का टेढा़ होना एक स्वभाविक समस्या है जो कि लोगों में दर्द एवं सूजन पैदा करती है और जिसको ठीक करने के लिए दवाईयाँ, कसरत, सिर्काइं जैसी चीजें यदि काम नहीं करती तो ऐसे में ऑपरेशन कराने की आवश्यकता होती है। इनमंे ऑपरेशन जैसे कि रिअलाइनमेंट तथा रिप्लेसमेंट बहुत कामयाब ऑपरेशन है। हम लोग आज अपने अनुभव से निश्चित तौर से कह सकते है कि ऑपरेशन के परिणाम बहुत संतोषजनक एवं उम्मीद के मुताबिक है।

युवा संवाद: कर्नल कोठियाल ने युवाओं के सवालों के बेबाकी से दिए जवाब

ऋषिकेश। आप के वरिष्ठ नेता कर्नल अजय कोठियाल आज युवा संवाद कार्यक्रम के लिए ऋषिकेश पहुंचे ,जहां उन्होंने युवाओं से सीधा संवाद किया। उन्होंने कहा कि, गंगा का पौराणिक महत्व ही नहीं है, बल्कि गंगा नदी से कई लोगों का रोजगार, पर्यटन के रुप में जुडा हुआ है और हर साल इससे जुडे हजारों लोग अपना जीवन यापन करते हैं। उन्होंने बताया कि, गंगा नदी में एडवेंचर स्पोर्टस की अपार संभावनाओं के साथ साथ अन्य संभावनाएं भी हैं ,लेकिन सरकार इन संसाधनों का इस्तेमाल नहीं कर पा रही है ,जिससे कई युवाओं को रोजगार मिल सकता है। उन्होंने कहा कि ऋषिकेश राफिटंग और पर्यटन का हब है लेकिन अगर सरकार की नीतियां पारदर्शी हों तो एक ही जगह पर कई तरह की योजनाओं को धरातल पर उतार कर युवाओं को जागरुक किया जा सकता है ,जिससे रोजगार के कई अवसर पैदा होंगे और हमारा उद्देश्य है कि आने वाले दिनों में राफिटंग और एडवेंचर टूरिज्म के माध्यम से युवाओं को रोजगार के लिए प्रेरित करेंगे। युवा संवाद में युवाओं से बात करते हुए कर्नल कोठियाल ने कहा, ऋषिकेश अपने आप में खास है और यहां विदेशों से पर्यटक, कुदरत का दीदार करने और योग सीखने के लिए देवभूमि आते हैं । यहां की नैसर्गिक सौंदर्यता विदेशियों को कई वर्षों से आकर्षित करती आई है और अब हमें जरुरत है नए तरीकों को इजात करने की ,ताकि यहां आने वाले लोग सिर्फ योग तक सीमित ना रहे ,बल्कि उन्हें अन्य माध्यमों से भी जोडा जाए और यहां के लोगों के रोजगार में विस्तार हो सके। उन्होंने कहा कि ऋषिकेश को धार्मिक,आध्यात्मिक और टूरिस्ट हब के रुप में विकसित करने की बेहद जरुरत है। उन्होंने कहा, ऋषिकेश चार धामों को जाने के लिए प्रमृख द्वार है और जो भी चारधाम यात्रा के लिए आता है वो मां गंगा के दर्शन जरुर करता है। इसके लिए सरकार को व्यवस्थाओं के साथ साथ पार्किंग,बेहतर टाउन प्लानिंग बहुत जरूरी है। युवाओं द्वारा शिक्षा पर पूछे गए सवाल पर जवाब देते हुए कर्नल कोठियाल ने सरकारी सिस्टम को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि, ये सिस्टम का ही फेलियर है कि आज हालात ऐसे हो गए हैं कि सरकारी नौकरी पाने के लिए आपको जान पहचान चाहिए जबकि सरकार स्कूल में बच्चे के एडमिशन के लिए कोई जान पहचान की आवश्यकता नहीं। वहीं प्राईवेट स्कूल में नौकरी पाने के लिए काबिलयत चाहिए जबकि प्राईवेट स्कूल में बच्चों के दाखिले के लिए जान पहचान। अगर सिस्टम दुरुस्त हो तो ऐसी नौबत ही नहीं आती लेकिन कहीं ना कहीं ये सरकार की लापरवाही है ,जो लोगों को इसका दंश झेलना पड रहा है। उन्होंने कहा कि ये नेताओं द्वारा शुरु की गई परिपाठी है,लेकिन अच्छे स्कूलों और बेहतर शिक्षा के लिए जैसे काम आप की सरकार ने दिल्ली में किए, वहीं काम आप की सरकार आने पर उत्तराखंड में भी किया जाएगा। वहीं भू कानून पर बोलते हुए कर्नल कोठियाल ने कहा,आज प्रदेश की जमीनें इन 20 सालों में भू माफियाओं द्वारा, खुर्द बुर्द की जा चुकी हैं लेकिन अब राज्य में सशक्त भू कानून की दरकार है जिससे यहां के लोगों की जमीनों को भू माफियाओं से बचाई जा सके जिसके लिए आप सरकार सशक्त भू कानून की पैरवी करती है। उन्होंने कहा युवा संवाद का मतलब सिर्फ सवालों के जवाब देना ही नहीं बल्कि युवाओं द्वारा उठाए गए गंभीर सवालों और मुद्दों को आप पार्टी द्वारा अपने मेनिफेस्टो में शामिल करना भी है जिन्हें लेकर पार्टी 2022 के चुनावों में मैदान में उतरेगी। प्रदेश के हडताली राज्य पर बोलते हुए कर्नल कोठियाल ने कहा कि यह प्रदेश हडताली प्रदेश है ये दुर्भाग्यपूर्ण है ,लेकिन हमें सकारात्मक रुप से सीखते हुए जापान जैसे छोटे देश को नहीं भूलना चाहिए ,जहां लोग हडताल तो करते हैं लेकिन काम इस तरीके से करते हैं कि मजबूरन उनकी मांगों को माना जाता है और देश के विकास पर उसका कोई असर नहीं पडता है। उन्होंने कहा कि अब वक्त आ गया है कि, यहां के युवा बढ चढकर राजनीति में आएं और एक ऐसा मजबूत तंत्र स्थापित करें ताकि प्रदेश आसानी से चल सके। इस दौरान उन्होंने पूर्व सैनिक विरेन्द्र भट्ट का भी स्वागत किया और बताया कि जब वो सेना के दौरान आतंकवादियों से लोहा ले रहे थे तो वीरेन्द्र भट्ट ने अपनी जान की परवाह किए बिना 7 आंतकवादियों में से 3 आतंकवादियों को ढेर कर दिया और मिशन फतह करने में अहम भूमिका निभाई। कीर्ति चक्र को असल मायने में दिलाने का असली हकदार वीरन्द्र भट्ट है। उन्होंने आगे कहा कि यहां के युवाओं में खेल प्रतिभा छुपी हुई है ,लेकिन संसाधनों के सही इस्तेमाल ना होने से ये प्रतिभाएं आगे नहीं आ पाती जिसकी जिम्मेदार भी राज्य सरकार है ,जिसने खेल के मैदान तो बनवा दिए लेकिन उनमें ऐसे संसाधन नहीं ,कि वो अच्छे खिलाडियों को ट्रेनिंग दे सके। उन्होंने कहा कि, हमारी पार्टी ऐसा होने नहीं देगी और एक ऐसा बदलाव लेकर आएगी जहां युवाओं को ऐसे मौके उपलब्ध कराए जाएं कि युवा अपने प्रदेश के साथ देश का नाम भी रौशन कर सकें।

सीएम ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को आवास स्वीकृति पत्र सौंपे

-उत्तराखण्ड में 16472 लाभार्थियों को दिये गए आवास स्वीकृति पत्र -मुख्यमंत्री ने आवास बनने के बाद हर लाभार्थी को सामान आदि के लिए पांच हजार रूपए देने के घोषणा की देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के अंतर्गत चिन्हित लाभार्थियों को आवास स्वीकृति पत्र सौंपे। सीएम कैम्प कार्यालय परिसर स्थित जनता दर्शन हॉल में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने प्रदेश के लाभार्थियों को प्रथम किश्त की राशि डीबीटी द्वारा ऑनलाईन जारी की। उन्होंने कार्यक्रम में सौ से अधिक लोगों को आवास स्वीकृति पत्र वितरित किए। मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण में प्रदेश के लाभार्थियों को आवास बन जाने के बाद सामान आदि के लिए पांच-पांच हजार रूपए दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास के ध्येय वाक्य के साथ सरकार नहीं बल्कि साझेदार के तौर पर काम कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की योजनाएं समाज में अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति को सीधे लाभ पहुंचा रही है। पहले योजनाएं बनती थीं पर उसका लाभ पात्र लोगों तक नहीं पहुंचता था। परंतु प्रधानमंत्री जी ने दूरदर्शिता के साथ पहले सभी के जनधन योजना में खाते खुलवाए और अब उन खातों में डीबीटी द्वारा योजना की राशि सीधे लाभार्थी को दी जा रही है। स्वच्छ भारत मिशन, उज्ज्वला योजना, किसान सम्मान निधि आदि योजनाओं से करोड़ों भारतीयों को लाभ मिला है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री का उत्तराखण्ड से विशेष लगाव है। केंद्र सरकार के सहयोग से राज्य में अनेक महत्वपूर्ण विकासपरक योजनाएं चल रही हैं। सड़कों के क्षेत्र में अभूतपूर्व काम हुआ है। जल्द ही देहरादून से दिल्ली केवल दो घंटे में जा पाएंगे। चार धाम परियोजना, भारतमाला परियोजना से विकास को नई गति मिल रही है। रेलवे का काफी विस्तार हुआ है। ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल पर तेजी से काम हो रहा है। टनकपुर-बागेश्वर का सर्वे ब्राडगैज पर करने का केन्द्र से अनुरोध किया है। उत्तराखण्ड में इसमें प्रत्येक व्यक्ति को आच्छादित किया गया है। योजना को अधिक व्यावहारिक तरीके से लागू करने के निर्देश अधिकारियों को दिए गए हैं ताकि हर गरीब इसका लाभ आसानी से उठा सके। कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद ने प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के लाभार्थियों को बधाई देते हुए कहा कि लाभार्थियों का चयन पूरी पारदर्शिता से किया गया है। अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण का शुभारम्भ वर्ष 2016 में किया गया। जिसका उद्देश्य सभी बेघर, कच्चे तथा जीर्ण-शीर्ण मकानों में रह रहे परिवारों को बुनियादी सुविधायुक्त पक्का आवास उपलब्ध कराया जाना है। प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के द्वित्तीय फेज में एस.ई.सी.सी- 2011 सर्वे में आवास की पात्रता सूची में सम्मिलित होने से छूटे हुए कुल 94286 परिवारों को आवास प्लस के माध्यम से चिन्हित किया गया है। जिसमें से 29142 अपात्र परिवारों को हटाने के पश्चात् वर्तमान में राज्य में कुल 65144 परिवार पीएमएवाई-जी हेतु पात्र पाए गए है। जिसमे कुल 2865 परिवार भूमिहीन (देहरादून 102, हरिद्वार 42, नैनीताल 68, पिथौरागढ़-3, ऊधमसिंह नगर-2662) है। भारत सरकार द्वारा द्वितीय फेज में आवास प्लस सूची से वित्तीय वर्ष 2020-2021 हेतु 13399 लक्ष्य तथा वित्तीय वर्ष 2021-2022 हेतु 3073 लक्ष्य सहित कुल 16472 आवास निर्माण का लक्ष्य राज्य को आवंटित किया गया है। जिसमें कुल 2865 परिवार भूमिहीन (देहरादून 102, हरिद्वार 42, नैनीताल 68 पिथौरागढ़ 3, ऊधमसिंह नगर 2662) है। उपरोक्त प्राप्त 16472 आवास के लक्ष्यों की पूर्ति हेतु राज्य को रूपये 226.99 करोड धनराशि की आवश्यकता होगी। जिसके सापेक्ष भारत सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष 2020-21 के लक्ष्य 13399 के लिए प्रथम किश्त रू0 60,000- की दर से केन्द्राश कुल रू0 35.39 करोड़ तथा राज्यांश कुल रू०. 3.93 करोड़ सहित कुल रू0 39.32 करोड अवमुक्त किए गए है। वर्तमान में राज्य स्तर पर विगत अवशेष रू. 47.74 करोड़ एवं उक्त अवमुक्त रू. 39.32 करोड़ सहित कुल रु. 87.06 करोड़ की धनराशि उपलब्ध है। जिसे लाभार्थियों के खाते में आन-लाईन अवमुक्त किया जा रहा है। द्वित्तीय किश्त की धनराशि लाभार्थियों के खाते में शीघ्र प्रेषित की जायेगी। अपर सचिव एवं आयुक्त ग्राम्य विकास वंदना ने बताया कि पीएमवाई-जी के तहत नये आवासों के निर्माण हेतु प्रति आवास अनुदान राशि 130,000.00 अनुमन्य है। जिसका भुगतान तीन किश्तों में यथा प्रथम किश्त रु 60,000, द्वित्तीय किश्त रु 40,000 एवं तृतीय किश्त रु 30,000 को ऑन-लाईन सीधे पात्र लाभार्थी के बैंक खाते में किया जाता है।

उत्तराखंड बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में 99.09 व 12वीं में 99.56 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण

उत्तराखंड बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में 99.09 व 12वीं में 99.56 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण
-हल्द्वानी के हरगोविंद सुयाल इंटर कालेज की कनक तिवाड़ी ने हाईस्कूल में टॉप किया रामनगर। उत्तराखंड बोर्ड की हाईस्कूल की परीक्षा में इस बार 99.09 प्रतिशत तो इंटर में 99.56 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। कोरोना संक्रमण के चलते इस बार टॉपर्स की सूची जारी नहीं की गई। दसवीं में लड़के लड़कियों से आगे रहे। संस्थागत श्रेणी में लड़कों का रिजल्ट 99.39 प्रतिशत व लड़कियों का 98.92 प्रतिशत रहा। व्यक्तिगत श्रेणी में बालकों का पास प्रतिशत 95.33 व बालिकाओं का 94.14 प्रतिशत रहा। जबकि, दसवीं में लड़कियां आगे रही। इस बार संस्थागत श्रेणी में बालकों का 99.47 प्रतिशत व बालिकाओं का 99.72 प्रतिशत रहा। व्यक्तिगत श्रेणी में बालकों का रिजल्ट 97.63 व बालिकाओं का 99.23 प्रतिशत रहा। हल्द्वानी के हरगोविंद सुयाल इंटर कालेज की कनक तिवाड़ी ने हाईस्कूल में टॉप किया है। उनके पिता हॉकर हैं। वह कहती हैं कि अनुशासन के साथ पढ़ाई और कड़ी लगन से सफलता संभव है। कनक अपनी सफलता का पूरा श्रेय टीचर्स सहित अपने परिजनों को देता चाहती हैं। हल्द्वानी के गौलापार में रहने वाले राज मिस्त्री के घर में उत्तराखंड बोर्ड का रिजल्ट आते ही खुशियों की बहार आ गई। मंझले बेटे गजेंद्र चिलवाल ने शहर के सबसे प्रतिष्ठित स्कूल हरगोविंद सुयाल इंटर कालेज में टॉप 3 पॉयदान पर नाम दर्ज कराकर अपने पिता का नाम रोशन कर दिया। गजेंद्र ने बताया शुरू से ही वह पढ़ने में परिवार व खानदान में सबसे अव्वल रहा है। गजेंद्र अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और टीचर्स को देते हैं। उत्तराखंड बोर्ड रिजल्ट की घोषणा शनिवार रामनगर स्थित बोर्ड कार्यालय में विद्यालयी शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने की। उन्होंने बताया कि इस बार हाईस्कूल और इंटर की बोर्ड परीक्षा में राज्यभर से ढाई लाख से अधिक परीक्षार्थी सम्मिलित हुए थे। इंटरमीडिएट में इस साल एक लाख 21 हजार 705 परीक्षार्थी सम्मलित हुए। जिनमें से एक लाख 21 हजार 171 पास हुए हैं। सम्मान सहित 20 हजार 955 व प्रथम श्रेणी में 63,901 परीक्षार्थी पास हुए हैं। वहीं, हाईस्कूल में इस साल एक लाख 47 हजार 725 परीक्षार्थी शामिल हुए थे। जिनमें से एक लाख 46 हजार 386 परीक्षार्थी पाए हुए। 23 हजार 688 परीक्षार्थी सम्मान सहित उत्तीर्ण हुए हैं।

Friday, 30 July 2021

उत्तराखंड में बारिश से हाल बेहाल, राज्य की 154 सड़कें पड़ी हैं बंद

देहरादून। प्रदेश में मॉनसून लगातार सक्रिय है। भारी बारिश के कारण शुक्रवार 30 जुलाई तक प्रदेश में 154 छोटे-बड़े मार्ग बंद हैं, जिन्हें खोलने की कार्रवाई लगातार जारी है। देहरादून में 24, चमोली में 47 व पौड़ी में 27 मोटर मार्ग मलबा आने से बंद हैं। उत्तराखंड आपदा प्रबंधन कंट्रोल रूम देहरादून से मिली जानकारी के मुताबिक प्रदेश में बड़े राजमार्ग और छोटे ग्रामीण मार्गों को मिलाकर कुल 154 सड़कें बंद हैं। हालांकि इन्हें खोलने की कार्रवाई की जा रही है। वहीं, जिलों के सड़कों की स्थिति और राजमार्गों की स्थिति पर नजर डाली जाए तो उत्तरकाशी में ऋषिकेश-गंगोत्री नेशनल हाईवे एनएच-108 धरासू और हल्गुगाड़ के पास मलबा आने के कारण बंद है।वहीं ऋषिकेश यमुनोत्री नेशनल हाईवे-94 धरासू-कल्याणी के पास मलबा आने के कारण बंद है। लमगांव-घनसाली-तिलवाड़ा मोटर मार्ग साडा के पास 18 जुलाई को बादल फटने के कारण पुल क्षतिग्रस्त हुआ था। यहां पुल बनाने की कार्रवाई जारी है। देहरादून जिले में 4 राज्य मार्ग, 1 जिला मार्ग और 24 ग्रामीण मोटर मार्ग यातायात के लिए अवरुद्ध हैं। इन्हें खोलने की कार्रवाई की जा रही है। चमोली जिले में ऋषिकेश-बदरीनाथ एनएच-58 श्रीनगर के पास मलबा आने के कारण बंद है। इसके अलावा चमोली में 47 ग्रामीण मोटर मार्ग यातायात के लिए अवरुद्ध हैं, जिन्हें खोलने की कार्रवाई की जा रही है। रुद्रप्रयाग में एनएच-107 खोला जा चुका है। पौड़ी जिले में 1 राज्य मार्ग और 27 ग्रामीण सड़कें भी अलग-अलग जगहों पर बंद हैं, जिन्हें खोलने की कार्रवाई लोक निर्माण विभाग द्वारा की जा रही है। टिहरी जिले में 7 ग्रामीण मोटर मार्ग यातायात के लिए अवरुद्ध हैं। टिहरी बांध भी अपने अधिकतम जलस्तर 830 मीटर से नीचे 795.20 मीटर पर है। बागेश्वर जिले में 8 ग्रामीण मोटर मार्ग अवरुद्ध हैं, जिन्हें खोलने की कार्रवाई की जा रही है। नैनीताल जिले में 4 ग्रामीण मोटर मार्ग अवरुद्ध हैं। अल्मोड़ा जिले में 3 ग्रामीण मोटर मार्ग बंद हैं, जिन्हें खोलने में संबंधित विभाग जुटा है। उधम सिंह नगर की कोई भी सड़क अवरुद्ध नहीं है, लेकिन जनपद में बारिश हो रही है।चंपावत जिले में टनकपुर चंपावत राष्ट्रीय राजमार्ग एनएच-9 स्वाला और भरतोली के पास भूस्खलन होने की वजह से बंद है। इसके अलावा 1 राज्य मार्ग, 3 अन्य ग्रामीण मोटर मार्ग भी यातायात के लिए अवरुद्ध हैं। जिन्हें खोला जा रहा है। पिथौरागढ़ में 2 बॉर्डर रोड, 1 राज्य मार्ग और 11 ग्रामीण मोटर मार्ग बंद हैं, जिन्हें खोलने की कार्रवाई की जा रही है। वहीं, हरिद्वार में गंगा नदी का जलस्तर 292.50 मीटर पर है, जबकि खतरे का स्तर 294।00 मीटर है।

खराब मौसम के कारण सीएम का केदारनाथ दौरा रद्द

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शुक्रवार को केदारनाथ दौरे पर जाने वाले थे। लेकिन खराब मौसम की वजह से उनका दौरा रद्द कर दिया गया। उनका हेलीकॉप्टर देहरादून से रवाना हुआ था, लेकिन मौसम खराब होने की वजह से उन्हें लौटना पड़ा। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों का निरीक्षण करने वाले थे। मुख्यमंत्री शुक्रवार की सुबह करीब 7.45 बजे केदारनाथ पहुंचने वाले थे। अब वह दून विश्वविद्यालय में डॉ. भीमराव आंबेडकर चेयर स्थापना कार्यक्रम में भाग लेंगे। इसके बाद वह सचिवालय में शासकीय काम करेंगे। शाम को वह एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में शामिल होंगे।

हजारांे के नशीले इंगजेक्शन बरामद, आरोपी फरार

रुद्रपुर। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने खेड़ा स्थित मकान में छापा मार कार्रवाई कर हजारों रुपये कीमत के इंजेक्शन और नशीली गोलियां बरामद की है। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया है, साथ ही उसकी तलाश शुरू कर दी गई है। पुलिस के मुताबिक आरोपित पहले भी नशीले इंजेक्शन में जेल जा चुका है। सूचना पर सीओ अमित कुमार, एसडीएम विशाल मिश्रा, कोतवाल बिजेंद्र शाह, रम्पुरा चैकी प्रभारी अनिल जोशी ने खेड़ा स्थित एक मकान में छापामार कार्रवाई की थी। मुख्य गेट की चाबी न होने पर पुलिस को तीन घंटे इंतजार करना पड़ा। देर रात मकान में किराए में ही रहने वाला युवक चाबी लेकर पहुंचा तो पुलिस ने सर्च अभियान चलाया था। इस दौरान पुलिस को कुछ बैग मिले, जिसे कब्जे में ले लिया था। बैग में मिले सामान की जांच की गई तो उसमें 50 डाइजापाम, 50 ब्रोफिन के इंजेक्शन के साथ ही 50 सीसी एविल की बरामद हुई। इसके अलावा 390 नशीली गोलियां भी मिली। जिस पर पुलिस ने मकान स्वामी किशन गंगवार पुत्र सत्य प्रकाश के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया। सीओ सिटी अमित कुमार ने बताया कि आरोपित लंबे समय से नशीले इंजेक्शन और दवाइयां बेच रहा था। पूर्व में भी वह गिरफ्तार हो चुका है। उसकी तलाश की जा रही है, जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

संदिग्ध परिस्थितियों में महिला ने खाया जहर, मौत

काशीपुर। संदिग्ध परिस्थितियों में श्यामपुरम निवासी महिला ने जहर खा लिया। हालत बिगड़ने पर परिवार वाले उसे लेकर एक निजी अस्पताल पहुंचे, जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया। कोतवाली पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव स्वजनों के हवाले कर दिया। श्यामपुरा निवासी 30 वर्षीय शशी पत्नी शानू वर्मा ने गुरुवार देर रात घर में जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया। कुछ देर बाद उनकी हालत बिगड़ गई। जानकारी होने पर स्वजन उन्हें तुरंत ही लेकर नगर के एक निजी अस्पताल पहुंचे। यहां डॉक्टरों ने उनका प्रारंभिक इलाज शुरू किया, लेकिन इलाज के दौरान शशि की मौत हो गई। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और महिला का पंचनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।शुक्रवार को पोस्टमार्टम हाउस पर स्वजनों ने बताया कि शशि और शानू वर्मा की शादी लगभग 4 साल पहले हुई थी। शशि के ससुराल वालों के अनुसार परिवार में सब कुछ ठीक चल रहा था। इसी दौरान अचानक से शशि के ऐसा कदम उठाने को लेकर सभी हैरान है। उनकी एक 3 साल की बेटी आराध्या है। हालांकि शव लेने के दौरान महिला का पति पोस्टमार्टम हाउस पर मौजूद नहीं था। जिसको लेकर कई तरह की चर्चाएं होती रही। अभी तक महिला की ससुराल पक्ष के किसी व्यक्ति ने कोई शिकायत नहीं की है।

यूकेडी ने मेधावी छात्रों को किया सम्मानित

देहरादून। उत्तराखंड क्रांति दल की ओर से कॉमर्स के मेधावी छात्रों को सम्मानित किया गया। इन मेधावी छात्रों में से सुहानी चैहान ने 91 प्रतिशत अंकों के साथ विद्यालय में टॉप किया, इसी के साथ दूसरा स्थान मुनीश खान ने 90 प्रतिशत अंकों के साथ प्राप्त किया। वहीं आयुषी नैनवाल ने 85 प्रतिशत अंक प्राप्त किए और राजकृति राणा ने 84 प्रतिशत के साथ घरवालों का नाम रोशन किया। इन सभी छात्रों ने कामर्स क्लासेज से कोचिंग प्राप्त की है और इनका कहना है कि आज अंकित घिल्ड़ियाल की दी हुई शिक्षा दीक्षा की वजह से ही हम लोग यह अंक प्राप्त कर पाए हैं और एक अव्वल दर्जे की शिक्षा को ग्रहण कर पाए हैं। उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय मीडिया प्रभारी शिवप्रसाद सेमवाल ने सभी को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी।

नर्सेज फाउंडेशन ने बुद्ध पार्क में प्रदर्शन कर लगाई भर्ती की गुहार

हल्द्वानी। नर्सिंग अधिकारी बनने का सपना संजो रहे युवा सरकार के ढुलमुल रवैये से आहत हैं। तीन बार परीक्षा टल गई है। अब एक बार फिर नर्सेज फाउंडेशन के बैनर पर युवाओं ने शुक्रवार को बुद्ध पार्क में धरना दिया और कहा कि सरकार नर्सिंग अधिकारी पद पर कब भर्ती करेंगे। प्रदर्शन कर रहे युवाओं का कहना था कि स्वास्थ्य विभाग ने आठ महीने पहले नर्सिंग अधिकारियों 2621 पदों पर भर्ती निकाली गई थी। तमाम खामियों व विसंगतियों के चलते अब तक तीन बार परीक्षा स्थगित हो चुकी है। इसके बाद नए सिरे से भर्ती को लेकर कोई हलचल नहीं है। इसे निरस्त होने का कारण है कि सरकार ने 11 साल बाद भर्ती निकाली और लिखित परीक्षा रख दी गई। कोरोनाकाल में रात-दिन सेवा दे रहे तमाम अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल नहीं हो सकते हैं। इस दौरान फाउंडेशन के अध्यक्ष बबलू, बैजयंती, भगवती प्रसाद, अनीता भौंर्याल, विनोद कुमार, बहादुर सिंह, जानकी बिष्ट, रश्मि बिष्ट आदि शामिल रहे।

अब दो चरणों में खुलेंगे उत्तराखंड के स्कूल

-पहले चरण में खुलेगें 9 से 12 कक्षा तक के स्कूल -दूसरे चरण में 16 अगस्त से 6 से 8 तक के स्कूल खुलेंगे देहरादून। प्रदेश सरकार ने आगामी 2 अगस्त से कक्षा 6 से लेकर कक्षा बारहवीं तक के छात्रों के लिए स्कूलों को खोले जाने का निर्णय लिया था। ऐसे में अब शासन-प्रशासन की ओर से इस फैसले में कुछ बदलाव किया गया है। आगामी 2 अगस्त को पहले चरण में कक्षा 9 से लेकर कक्षा 12वीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूलों को खोला जाएगा। पहले के निर्णय में सरकार ने थोड़ा बदलाव किया है। अब कक्षा 6 से लेकर कक्षा आठवीं तक के छात्रों के लिए दूसरे चरण में स्कूल खुलेंगे। स्कूल खुलने का दूसरा चरण आगामी 16 अगस्त से शुरू होगा। यानी 16 अगस्त से स्कूलों को खोला जाएगा। शिक्षा सचिव राधिका झा की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया है। इसकी एसओपी देर शाम तक जारी कर दी गई। वहीं बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि स्कूलों को खोले जाने को लेकर कोरोना गाइडलाइन का ध्यान रखना होगा। इसके साथ ही सभी स्कूलों को अपनी खुद की एसओपी तैयार कर शिक्षा निदेशालय को भेजनी होगी। गौरतलब है कि शिक्षा सचिव द्वारा सभी स्कूल संचालकों को यह भी निर्देशित किया गया है कि जिन स्कूलों में छात्रों की संख्या अधिक है, वह स्कूल अपने स्तर पर दो पालियों में कक्षाएं चलाने का निर्णय ले सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने विभिन्न निर्माण कार्यों के लिये प्रदान की 52 करोड़ की वित्तीय स्वीकृति

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रदेश के विधानसभा क्षेत्रों के अन्तर्गत विभिन्न निर्माण कार्यों हेतु वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री ने विधानसभा क्षेत्र रूद्रपुर के अन्तर्गत 18 निर्माण कार्यों हेतु 05 करोड़ 40 लाख रूपये की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। उन्होंने विधानसभा क्षेत्र बाजपुर के अन्तर्गत 04 निर्माण कार्यों हेतु 02 करोड़ 82 लाख रूपये, विधानसभा क्षेत्र खटीमा के अन्तर्गत 05 निर्माण कार्यों हेतु 01 करोड़ 60 लाख रूपये की प्रशासकीय व वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री ने राज्य योजनान्तर्गत टिहरी गढ़वाल के विधानसभा क्षेत्र नरेन्द्रनगर के अन्तर्गत विभिन्न 04 निर्माण कार्यों हेतु 06 करोड़ 52 लाख रूपये की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री ने विधानसभा क्षेत्र देवप्रयाग के अन्तर्गत विभिन्न 03 निर्माण कार्यों हेतु 01 करोड़ रूपये, विधानसभा क्षेत्र घनसाली के अन्तर्गत विभिन्न 02 निर्माण कार्यों हेतु 23 लाख 48 हजार रूपये की प्रशासकीय व वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य योजनान्तर्गत जनपद हरिद्वार के विधानसभा क्षेत्र हरिद्वार के अन्तर्गत 06 निर्माण कार्यों हेतु 03 करोड़ 5 लाख रूपये की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री ने विधानसभा क्षेत्र ज्वालापुर के अन्तर्गत 03 निर्माण कार्यों हेतु 01 करोड़ 71 लाख रूपये, विधानसभा क्षेत्र बी.एच.एल. के अन्तर्गत विभिन्न 04 निर्माण कार्यों हेतु 01 करोड़ 52 लाख रूपये की प्रशासकीय व वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देहरादून के विधानसभा क्षेत्र रायपुर के अन्तर्गत 13 निर्माण कार्यों हेतु 08 करोड़ 48 लाख रूपये की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री ने विधानसभा क्षेत्र सहसपुर के अन्तर्गत विभिन्न 02 निर्माण कार्यों हेतु 03 करोड़ 95 लाख रूपये, विधानसभा क्षेत्र विकासनगर के अन्तर्गत विभिन्न 03 निर्माण कार्यों हेतु 93 लाख 33 हजार रूपये की प्रशासकीय व वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य योजनान्तर्गत जनपद पौड़ी गढ़वाल के विधानसभा क्षेत्र चैबट्टाखाल के अन्तर्गत विभिन्न 08 निर्माण कार्यों हेतु 01 करोड़ 12 लाख रूपये की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री ने विधानसभा क्षेत्र लैन्सडाउन के अन्तर्गत विभिन्न 03 निर्माण कार्यों हेतु 01 करोड़ 22 लाख रूपये की प्रशासकीय व वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य योजनान्तर्गत जनपद नैनीताल के विधानसभा क्षेत्र रामनगर के अन्तर्गत विभिन्न 04 निर्माण कार्यों हेतु 02 करोड़ रूपये, विधानसभा क्षेत्र चम्पावत के अन्तर्गत विभिन्न 04 निर्माण कार्यों हेतु 03 करोड़ 52 लाख रूपये, बागेश्वर के विधानसभा क्षेत्र कपकोट के अन्तर्गत विभिन्न 04 निर्माण कार्यों हेतु 02 करोड़ 7 लाख रूपये के साथ ही मुख्यमंत्री ने राज्य योजनान्तर्गत विधानसभा क्षेत्र बद्रीनाथ के अन्तर्गत विभिन्न 02 निर्माण कार्यों हेतु 61 लाख 20 हजार रूपये की प्रशासकीय व वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है।

मूल्याकंन ने नाखुश छात्र 15 सितंबर से बैठ सकते हैं परीक्षा में

देहरादून। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 12वीं कक्षा का परिणाम जारी कर दिए हैं। आप इनकी वेबसाइट पर जाकर रिजल्ट देख सकते हैं। पर, कई छात्रों और अभिभावकों के मन में यह शंका है कि परिणाम कैसे देखें, क्योंकि इस साल परीक्षाएं नहीं हुई। परीक्षा नहीं होने के कारण छात्रों को प्रवेश पत्र नहीं मिला, जिसके चलते कई छात्रों को उनका रोल नंबर मालूम नहीं है। बोर्ड ने ऐसे छात्रों की सुविधा के लिए बोर्ड की वेबसाइट पर एक रोल नंबर फाइंडर लिंक जारी कर दिया है। बोर्ड के क्षेत्रीय निदेशक निदेशक रणबीर सिंह ने बताया कि रिजल्ट को लेकर अभी तक कोई आधिकारिक सूचना जारी नहीं की गई है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार 12वीं का परिणाम 31 जुलाई से पहले जारी करना है। आंतरिक मूल्यांकन से मिले अंकों से जो छात्र खुश नहीं होंगे उन्हें 15 अगस्त से 15 सितंबर के बीच परीक्षा में बैठने का मौका दिया जाएगा। सीबीएसई के क्षेत्रीय ने बताया कि बोर्ड ने सभी छात्रों के रोल नंबर उनके अंक वेबसाइट पर अपलोड करने से पहले ही जारी कर दिए थे। इन्हीं रोल नंबर को छात्र की पहचान मानकर छात्रों के अंक अपलोड करने से लेकर परिणाम तैयार होने की प्रक्रिया पूरी हुई है। हालांकि प्रवेश पत्र नहीं मिलने के कारण ज्यादातर छात्रों को इसकी जानकारी नहीं है। ऐसे छात्रों की सुविधा के लिए सीबीएसई ने रोल नंबर फाइंडर लिंक जारी किया है।

सीबीएसई ने 12वीं के नतीजे घोषित किए, छात्राओं ने मारी बाजी

देहरादून। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने शुक्रवार को 12वीं परीक्षा के परिणाम घोषित किए। हर बार की तरह इस बार भी लड़कियों ने बाजी मारी है और लड़कों की तुलना में उनके परिणाम 0.54 फीसदी अंतर से बेहतर रहे जबकि करीब 70,000 विद्यार्थियों ने 95 फीसदी से अधिक अंक प्राप्त किए। वहीं इस वर्ष सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों से पास होने वाले बच्चों के प्रतिशत में काफी वृद्धि हुई है। इसके अंतर्गत इस साल यह 99.37 प्रतिशत दर्ज किया गया जो पिछले वर्ष के 88.8 प्रतिशत से लगभग 10 फीसदी अधिक है। इस संबंध में बोर्ड के प्रवक्ता के मुताबिक लड़कियों ने 0.54 फीसदी के अंतर से लड़कों से बेहतर प्रदर्शन किया है। इस साल उत्तीर्ण प्रतिशत 99.37 फीसदी है। किसी प्रावीण्य सूची की घोषणा नहीं की जा रही है। करीब 65,000 विद्यार्थियों के 12वीं कक्षा के परिणाम अब भी तैयार किए जा रहे हैं, इनकी घोषणा पांच अगस्त तक की जाएगी। कुल 70,004 विद्यार्थियों ने 95 प्रतिशत से अधिक अंक और 1,50,152 विद्यार्थियों ने 90 प्रतिशत से अधिक हंक हासिल किए। इसके अलावा 6149 विद्यार्थी पूरक श्रेणी में हैं। बोर्ड की परीक्षाएं कोविड-19 की दूसरी लहर के मद्देनजर इस साल रद्द कर दी गई थी और परिणाम बोर्ड द्वारा वैकल्पिक मूल्यांकन नीति के आधार पर घोषित किए गए हैं। कक्षा 12 के छात्रों के अंकों के मूल्यांकन के लिए बोर्ड के 40ः30ः30 फॉर्मूले के अनुसार, छात्रों का मूल्यांकन उनकी कक्षा 12, कक्षा 11 और कक्षा 10 के अंकों के आधार पर किया गया है। प्रत्येक विषय के थ्योरी अंकों की गणना इस वर्ष की शुरुआत में उनके स्कूलों द्वारा आयोजित विषय प्री-बोर्ड या मिड-टर्म परीक्षा में प्राप्त अंकों से 40 प्रतिशत का उपयोग करके की जाएगी, उनके 11 वीं कक्षा की अंतिम परीक्षा के अंकों से 30 प्रतिशत , और उनके कक्षा 10 के बोर्ड परीक्षा परिणाम से 30 प्रतिशत इसे वास्तविक अंकों में जोड़ा जाएगा जो उन्हें उस विषय के लिए कक्षा 12 के आंतरिक मूल्यांकन और प्रायोगिक परीक्षा में मिले थे। जो छात्र मूल्यांकन के तरीके या उनके द्वारा प्राप्त अंकों से संतुष्ट नहीं हैं, उन्हें बोर्ड द्वारा आयोजित लिखित परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाएगी। जब परीक्षा आयोजित करने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हों।

डीएम ने जनता मिलन में सुनीं जनता की समस्याएं

देहरादून। मुख्य सचिव उत्तराखण्ड शासन से प्राप्त दिशा-निर्देशों के अनुपालन में जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने जिला कार्यालय में जनता मिलन की शुरूआत की गई। इस जनता मिलन कार्यक्रम के अन्तर्गत जनपद के विभिन्न क्षेत्रों में आये लोगों द्वारा लगभग 22 आवेदन पत्र जिलाधिकारी को प्रस्तुत किये गये, जिनमें शस्त्र लाईसेंस, पेंशन, सड़क, दाखिल खारिज, पार्किंग ठेका, चकराता के पुनिंग कुनुवा ग्राम पंचायत की पेयजल योजना, स्कूल द्वारा अतिरिक्त फीस चार्ज बढाये जाने, टिहरी बांध विस्थापितोंको राजस्व गांव की भूमिधरी देने, तहसील डोईवाला के न्यायालयों में लम्बित गलत नामान्तरण, भूमि पर अवैध कब्जा, अतिक्रमण सम्बन्धी समस्याएं प्रस्तुत की गयी। इन पर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को लोगों की समस्याओं, शिकायतों को प्राथमिकता से निस्तारण कराये जाने के निर्देश जारी किये। जनता मिलन कार्यक्रम में मौहकमपुर खुर्द् के शिवलाल, अजबपुरकाला चाण्यक्यपुरी के निवासी, पोखरी के हुकम सिंह, आशीष कोठारी, ढकरानी के रोहिताष, रामविहार बल्लुपुर की सुमित्रा देवी, अधोईवाला की रंजीत कौर, पुनिंग कुनुवा के ग्रामवासी, ऋषिकेश के प्रताप सिंह राणा, भानियावाला के शिवप्रकाश, मालदेवता की सुमित्रा देवी, भाऊवाला विकासनगर के नीरज राजपूत समेत भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों द्वारा अपनी शिकायतोंध्समस्याओं से जिलाधिकारी रूबरू कराया।

डीएम ने की जिला, राज्य, केन्द्रपोषित व वाह्य सहायतित योजनाओं की समीक्षा

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार की अध्यक्षता में जिला, राज्य, केन्द्रपोषित, वाह्य सहायतित योजनाओं तथा 20 सूत्री कार्यक्रम की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। जिलाधिकारी ने जिला योजना तथा 20 सूत्री कार्यक्रम में सभी विभागों को तेजी से अपने कार्यों की वित्तीय और भौतिक प्रगति बढ़ाने के निर्देश दिये। जनपद को जिला योजना में प्राप्त 49.73 करोड़ रू0 की धनराशि शासन से प्राप्त हुई तथा जिला स्तर पर सम्बन्धित विभागों को शत्प्रतिशत् धनराशि अवमुक्त की गई है। समीक्षा के दौरान बताया गया कि अभी तक प्रथम तिमाही में विभागों द्वारा 37 प्रतिशत् धनराशि व्यय की गई है। उन्होंने सभी जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि राज्य, केन्द्रपोषित, वाह्य सहायतित योजनाओं में प्रगति बढ़ाते हुए धनराशि व्यय करना सुनिश्चित करें साथ ही अक्टूबर एवं नवम्बर तक इन योजनाओं की शत प्रतिशत् पूर्ण करें। उन्होंने 20 सूत्रीय कार्यक्रम में निम्नतम ग्रेड वाले विभागों को अपनी प्रगति बढ़ाते हुए अपर ग्रेड में आने को कहा। उन्होंने लोनिवि, सिंचाई, नलकूप, जल निगम, जल संस्थान, सिंचाई विभाग को बाढ सुरक्षा के कार्यों को प्राथमिकता के आधार पूरा करने के निर्देश दिये। साथ ही सभी विभागों को निर्देशित किया किया कि निर्माण कार्यों में बेहतर गुणवत्ता और पारदर्शिता का ध्यान रखा जाय। इस दौरान बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल, प्रभागीय वनाधिकारी देहरादून राजीव धीमान, अर्थ एवं संख्याधिकारी राजेश कुमार सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी बैठक में जुड़े हुए थे।

विधायक कपूर व डीएम ने बिंदाल नदी के किनारे स्थित बस्तियों का निरीक्षण किया

देहरादून। विधायक कैन्ट हरंबश कपूर एवं जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार द्वारा बिन्दाल नदी किनारे अवस्थित सत्तोघाटी-गांधीग्राम स्थित मलिन बस्ती का स्थलीय निरीक्षण किया गया। इस दौरान उन्होंने नदी किनारे स्थित बसी आबादियों की मानसून सीजन के दृष्टिगत जलभराव एवं भूस्खलन से बचाव हेतु नगर निगम, सिंचाई विभाग एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान विधायक ने स्थानीय निवासियों की बरसात के समय होने वाली विभिन्न समस्याओं से निजात दिलाने हेतु जिला प्रशासन के अधिकारियों को क्षेत्र में साफ-सफाई रखने तथा जलभराव की स्थिति पर नजर रखते हुए इसका तत्काल समाधान किये जाने हेतु आवश्यक कदम उठाने को कहा ताकि बरसाती मौसम में किसी भी प्रकार की दुर्घटना एवं अनहोनी से बचा जा सके। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने नगर निगम के अधिकारियों नदी नालों की लगातार सफाई करवाने एवं प्लास्टिक कूड़ा हटाने के निर्देश दिये ताकि नदीध्नालों में कूड़ा फसने से जलभराव की स्थिति ना बनें। उन्होंने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को नदी किनारे पुस्ते निर्माण एवं पुस्तों की स्थिति पर नजर रखते हुए यदि कहीं पर पुस्तो आदि की मरम्मत करनी हो तो ऐसे कार्यों को तत्काल पूर्ण कर लिया जाय। साथ ही उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों को नदी किनारे अतिक्रमण एवं निर्माण कार्यों पर रोक लगाने हेतु नदी किनारे बसी बस्तियों का नियिमित निरीक्षण करने के निर्देश दिये। उन्होंने राजस्व विभाग के अधिकारियों को नदी किनारे बसी बस्तियों की बाढ एवं जलभराव, भूस्खलन से सुरक्षा के दृष्टिगत तत्कालिक एवं दीर्घकालिक योजना के अन्तर्गत कार्य करने के निर्देश दिये। उन्होंने मानसून काल में आपदा के दृष्टिगत मुस्तैद रहने तथा आईआरएस सिस्टम को सक्रिय रखते हुए इससे जुड़े अधिकारियों को आपसी समन्वय से कार्य करने के निर्देश दिये। उन्होंने जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी को जनपद में आपदा, बाढ, जलभराव, सड़क अवरूद्ध होने जैसी सूचनाओं पर तत्काल संज्ञान लेते हुए सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को आवश्यक कार्यवाही हेतु सूचित करने के साथ ही जिलाधिकारी कार्यालय को भी तत्काल अवगत कराने के निर्देश दिये। साथ ही सम्बन्धित विभाग से प्रत्येक 1 घण्टे के भीतर की वस्तुस्थिति की जानकारी प्राप्त करते हुए अवगत कराने को कहा। निरीक्षण के दौरान स्थानीय पार्षद, तहसीलदार सदर दयाराम, नगर निगम, सिंचाई विभाग एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों व कार्मिकों सहित क्षेत्रीय जनमानस मौजूद रहे।

ओलंपस हाई में अमन व दीपा 96.4 प्रतिशत अंकों के साथ अव्वल रहे

देहरादून। ओलंपस हाई स्कूल ने आज कक्षा 12 वीं सीबीएसई बोर्ड के परिणाम घोषित किए। अमन अहमद और दीपा गुप्ता ने साइंस स्ट्रीम में 96.4 प्रतिशत अंक हासिल कर टॉप किया। कॉमर्स स्ट्रीम में प्रियांशु बिष्ट ने 94.8ः स्कोर करके पहला स्थान हासिल किया, जबकि ह्यूमेनिटीज स्ट्रीम में श्रुति रावत और समरीन ने 94.8ः स्कोर करके पहला स्थान हासिल किया। विषयवार टॉपर्स की भी घोषणा की गई, जिसमें अमन अहमद और दीपा गुप्ता ने गणित और केमिस्ट्री में टॉप किया, समरीन ने पोलिटिकल साइंस और हिस्ट्री में टॉप किया, श्रुति कुलश्रेष्ठ ने फिजिकल एजुकेशन में टॉप किया, रिया त्यागी ने पेंटिंग में टॉप किया जबकि मानसी शर्मा और रोहित खानकरियाल ने अंग्रेजी में टॉप किया। स्कूल के प्रबंधन निदेशक कुनाल शमशेर मल्ला और प्रिंसिपल अनुराधा मल्ला ने मेधावी छात्रों को बधाई दी और उनके जीवन में सफलता की कामना करी।

मंत्री ने एक सौ तेरह करोड़ तिरसठ लाख की 34 पेयजल योजनाओं को दी मंजूरी

देहरादून। पेयजल, ग्रामीण निर्माण विभाग एवं जनगणना मंत्री बिशन सिंह चुफाल ने द्वारा जल जीवन मिशन कार्यक्रम के अन्तर्गत 5259.96 लाख (रू0 बावन करोड़ उनसठ लाख छियानब्बे हजार मात्र) कुल 17 पेयजल योजनाओं की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति दी गयी है, जिसमें देहरादून जनपद की नागल बुलन्दवाला पेयजल योजना, डोईवाला रू0 250.64 लाख, सिमलास ग्रांट पेयजल योजना, डोईवाला 242.23 लाख, लक्ष्मीपुर पेयजल योजना, विकासनगर 342.17 लाख, खुशालपुर पेयजल योजना, सहसपुर 471.57 लाख, केदारवाला पेयजल योजना, विकासनगर 274.51 लाख, खेरी खुर्द पेयजल योजना, डोईवाला 387.26 लाख, भाउवाला पेयजल योजना,सहसपुर 291.32 लाख, बरोनवाला पेयजल योजना,सहसपुर 201.42 लाख रुपये शामिल हैं। बख्तावारपुर ग्रांट पेयजल योजना, सहसपुर 383.97 लाख, जनपद उत्तरकाशी के अन्तर्गत बडेथी पेयजल योजान 288.93 लाख बौन पेयजल योजाना, उत्तरकाशी 240.21 लाख, मातली पेयजल योजान 216.77 लाख, जनपद ऊधमसिंहनगर के अन्तर्गत बकाईनिया पेयजल योजना,गदरपुर 397.93 लाख, महोली जंगल पेयजल योजना, बाजपुर 292.76 लाख, प्रतापपुर इन्दरपुर पेयजल योजना, गदरपुर 371.71 लाख, धनपुर विजयपुर पेयजल योजना, गदरपुर 359.34 लाख, केलाबन्दवारी पेयजल योजना,बाजपुर 287.22 लाख की योजना सम्मलित है। इसके अतिरिक्त 30 जुलाई को कुल 6103.77 लाख (इकसठ करोड़ तीन लाख सतहत्तर हजार मात्र) की कुल 17 पेयजल योजनाओं की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति मा0 पेयजल मंत्री जी द्वारा प्रदान कर दी गयी है, जिसमें देहरादून जनपद की मारी ग्रान्ट पेयजल योजना, डोईवाला 428.22 लाख, मदनीपुर बद्रीपुर पेयजल योजना, विकास नगर 232.32 लाख, साभावाला पेयजल योजना, विकासनगर 313.63 लाख, कुल्हनमाटक माजरी पेयजल योजना, विकासनगर 297.86 लाख, जनपद चम्पावत के अन्तर्गत बाराकोट की छन्दा पम्पिंग पेयजल योजना 434.76 लाख, बाराकोट पम्पिंग पेयजल योजना 371.86 लाख, जनपद ऊधमसिंहनगर के अन्तर्गत सकैनिया ग्राम समूह पेयजल योजना, गदरपुर 416.98 लाख, सन्यासीवाला एवं सुरजपुर ग्राम समूह पेयजल योजना, जसपुर 296.53 लाख, धेमरी ग्राम समूज पेयजल योजना, गदरपुर 441.47 लाख, कनकपुर ग्राम समूह पेयजल योजना, काशीपुर 489.98 लाख, शिवलापुर अमरझण्डा ग्राम समूह पेयजल योजना, काशीपुर 348.47 लाख, खरमासी ग्राम समूह पेयजल योजना, काशीपुर 399.48 लाख, खमिया नं0-1 पेयजल योजना, रूद्रपुर 297.86 लाख, खमिया नं0-4 पेयजल योजना, रूद्रपुर 482.51 लाख, रामनगर लुन्कुरा पेयजल योजना, बाजपुर 325.04 लाख जनपद हरिद्वार के अन्तर्गत रघुनाथपुर बलावाली पेयजल योजना, खानपुर 214.18 लाख एवं लालढांग पेयजल योजना, बहादराबाद 393.70 लाख की योजना सम्मलित है। मंत्री द्वारा मात्र दो सप्ताह के अन्तर्गत कुल 11363.73 लाख (एक सौ तेरह करोड़ तिरसठ लाख तिहत्तर हजार मात्र) के कुल 34 पेयजल योजनाओं की वित्तीय एवं प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान की गयी है। इन योजनाओं का निर्माण त्वरित गति से किये जाने हेतु पेयजल विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया गया एवं इसमें किसी प्रकार का विलम्ब न हो, सम्बंधित अधिकारियों को सचेत भी किया गया। इसके अतिरिक्त अन्य पेयजल योजनाओं के प्रस्ताव की डी0पी0आर0 तथा समस्त औपचारिकताएं पूर्ण करते हुए शासन को स्वीकृति हेतु प्रेषित किये जाने के भी निर्देश दिये गये।

तुलाज स्कूल में 12वीं की परीक्षा में 98.25 प्रतिशत अंक हासिल कर चहित जैन रहे स्कूल टॉपर

देहरादून। तुलाज इंटरनेशनल स्कूल ने आज 12 वीं कक्षा के बोर्ड के परिणामों की घोषणा करी। कॉमर्स स्ट्रीम में चहित जैन ने 98.25 प्रतिशत फीसदी अंक हासिल कर पहला स्थान हासिल किया वहीं दूसरा और तीसरा स्थान सार्थक सिंगला ने 96.5 प्रतिशत और खुशी राज ने 94.5 प्रतिशत स्कोर करके हासिल किया। साइंस स्ट्रीम में पीयूष चैधरी ने 96.25 प्रतिशत फीसदी अंक हासिल कर पहला स्थान हासिल किया, जबकि कविता सरकार ने 93.25 प्रतिशत फीसदी और ऋषव राज ने 90.75 प्रतिशत फीसदी अंक हासिल कर दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया। ह्यूमैनिटीज स्ट्रीम में स्मृति बिष्ट ने 98 प्रतिशत फीसदी अंक हासिल कर पहला स्थान हासिल किया, जबकि इशिका भट्ट ने 96.25ः फीसदी और देव मित्तल ने 91.5 प्रतिशत अंक हासिल कर दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया। साइंस स्ट्रीम में 80 प्रतिशत से ऊपर स्कोर करने वाले अन्य छात्रों में अर्चिस बांका - 90.75 प्रतिशत, सिद्धार्थ जिंदल -89.25 प्रतिशत, शैवी कामड़ी 85.75 प्रतिशत, देव ब्रत डिमरी 84.75 प्रतिशत, केशव राज -83 प्रतिशत, सौरिश भारती- 82.75 प्रतिशत, सूर्यांश पुंडीर 82 प्रतिशत, देवांश कोटिया 80 प्रतिशत, सोइफ हबीब 80 प्रतिशत शामिल हैं। वहीं, कॉमर्स स्ट्रीम में, अविरल कनिष्का 93 प्रतिशत, वंश चावला 92.75, कृति झामर - 91.75 प्रतिशत, देवांश गोस्वामी 90.5 प्रतिशत, खुुशी गुप्ता 86.25 प्रतिशत, मौलिक टंडन 83.75 प्रतिशत, मिरनल कुमार 83.5 प्रतिशत और चैतन्य भाटिया 82.5 प्रतिशत स्कोर किए। तुलाज इंटरनेशनल स्कूल के निदेशक रौनक जैन और प्रिंसिपल शालीनी शर्मा ने सभी छात्रों को बधाई दी और उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं।

राज्यपाल, मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री ने कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

देहरादून। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य एवं मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने दून विश्वविद्यालय, केदारपुरम में डॉ. भीमराव अम्बेडकर चेयर स्थापना उद्घाटन कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होंने डॉ. देवेन्द्र प्रसाद मांझी द्वारा लिखित पुस्तक ‘‘रीविजिटिंग डॉ. अम्बेडकर-थॉटस एण्ड फिलासफी’’ पुस्तक का विमोचन भी किया। शोध एवं नवाचार केन्द्र, गढ़वाली, कुमांउनी, जौनसारी भाषाओं में एक वर्षीय सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम, उत्तराखण्ड की लोक कला पर आधारित दो वर्षीय स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम सहित अनेक घोषणाएं राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने दून विश्वविद्यालय में डॉ0 आम्बेड़कर फाउंडेशन, सामाजिक कल्याण एवं आधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार द्वारा पोषित डॉ0 आम्बेड़कर चेयर की स्थापना की घोषणा की। इसके साथ ही राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने दून विश्वविद्यालय में मौलिक शोध एवं नवाचार को विकसित करने हेतु शोध एवं नवाचार केन्द्र की स्थापना करने, सत्र 2020-21 से दून विश्वविद्यालय में बी.एस.सी इन्टेग्रेटेड बॉयोलॉजिकल सांइसेस, गढ़वाली, कुमांउनी, जौनसारी भाषाओं में एक वर्षीय सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम, उत्तराखण्ड की लोककला पर आधारित दो वर्षीय स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम (एम0ए0 थियेटर), एम0ए0, एम0एस0सी0 गृहविज्ञान, बी0ए0(ऑनर्स) मनोविज्ञान जैसे नये पाठ्यक्रमों के शुभारंभ की घोषणा की है। कोविड-19 में अनाथ बच्चों के लिए दून विश्वविद्यालय में संचालित प्रत्येक पाठ्यक्रम में एक सीट इस सत्र में आरक्षित राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने कहा कि कोरोना वायरस से फैली वैश्विक महामारी कोविड-19 की त्रासदी में जो बच्चे अनाथ हुए हैं उनके लिए दून विश्वविद्यालय में संचालित प्रत्येक पाठ्यक्रम में एक सीट इस सत्र में आरक्षित की जायेगी। यह सीट पूर्व से आवंटित सीटों के अतिरिक्त होगी। राज्यपाल ने कहा कि दून विश्वविद्यालय इस चेयर के माध्यम से राज्य में महिला सशक्तीकरण, सामाजिक न्याय, सामाजिक बदलाव, मानवाधिकार एवं जातिगत भेदभाव जैसे विषयों पर अनुसंधान एवं शिक्षण के लिए विशेष रूप से सक्रिय रहेगा। राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने कहा कि भारतीय समाज के ताने-बाने की गहरी समझ रखने वाले बाबा साहेब ने संविधान में विभिन्न कानूनों का समावेश किया ताकि देश की सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक व्यवस्था सुचारू रूप से चल रही है। आज भी हम उस राष्ट्र के निर्माण में लगे हैं जिससे बाबा साहेब के सपनों का भारत बन सके। जहाँ लोग बिना छुआछूत, धर्म या जाति के भेदभाव के एक सम्मानित जीवन जी सकें। हमारे विश्वविद्यालयों का यह दायित्व है कि बाबा साहेब के सपनों को साकार करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएँ। राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने कहा कि विश्वद्यालयों को लोक कलाओं, लोक संगीत एवं लोक संस्कृति के संरक्षण के लिये कार्य करना चाहिये। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि दून विश्वविद्यालय को डॉ. भीमराव अम्बेडकर चेयर स्थापना का सौभाग्य प्राप्त हुआ, यह विश्वविद्यालय के लिए गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि डॉ. भीमराव अम्बेडकर के जीवन संघर्ष एवं सामाजिक सरोकारों के लिए उनके द्वारा किये गये कार्यों से सभी परिचित हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि दून विश्वविद्यालय द्वारा उच्च शिक्षा के क्षेत्र में अनेक सराहनीय प्रयास किये जा रहे हैं। दून विश्वविद्यालय में पुस्तकालय भवन के लिए बजट की व्यवस्था जल्द की जायेगी। इस अवसर पर डॉ. भीमराव अम्बेडकर फाउण्डेशन के निदेशक डॉ. देवेन्द्र प्रसाद मांझी, दून विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सुरेखा डंगवाल, कुलसचिव डॉ. एस.एस. मन्द्रवाल, विश्वविद्वालय के प्रोफेसर एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

गुणवत्ता में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहींः मुख्यमंत्री

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने परेड ग्राउण्ड देहरादून में निर्माणाधीन बहुद्देशीय क्रीडा भवन का औचक निरीक्षण किया। इस भवन में दरार एवं सीलन की समस्या को देखते हुए मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी देहरादून को निर्माण कार्य की शीघ्र जाँच करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि निर्माण कार्यों की गुणवत्ता के प्रति किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। कार्यों की गुणवत्ता में लापरवाही पर संबधित कार्यदाई संस्था के अधिकारियों पर सख्त कारवाई की जायेगी। परेड ग्राउण्ड में बन रहे बहुद्देशीय क्रीडा भवन का निर्माण पेयजल निर्माण निगम द्वारा किया जा रहा है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस दौरान परेड ग्राउण्ड में स्मार्ट सिटी के तहत हो रहे कार्यों का निरीक्षण भी किया। कार्य की धीमी प्रगति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होंने जिलाधिकारी को निर्देश दिये कि स्मार्ट सिटी के तहत परेड ग्राउण्ड में होने वाले निर्माण कार्यों को पूर्ण करने की समयावधि क्या रखी गई है, इसका पूरा विवरण प्रस्तुत किया जाय। मुख्यमंत्री ने कहा कि निर्माण कार्यों में समय एवं गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाये।

Thursday, 29 July 2021

उच्च शिक्षा में नए आयाम स्थापित करेगा एकेडमिक क्रेडिट्स बैंकः डा. धनसिंह रावत

देहरादूनl केन्द्र सरकार द्वारा उच्च शिक्षा के क्षेत्र में नई शिक्षा नीति के अंतर्गत एकेडमिक क्रेडिट्स बैंक की स्थापना और संचालन को लेकर अधिसूचना जारी की गई है। जिस पर राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत ने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति के अंतर्गत एकेडमिक क्रेडिट्स बैंक लागू होने से उच्च शिक्षा के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित होंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में केन्द्रीय उच्च शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान द्वारा लिया गया यह क्रांतिकारी फैसला है जिसके लिए वह बधाई के पात्र। इसके लागू होने से देशभर में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में कई अहम बदलाव आयेंगे। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. रावत ने कहा कि राज्य में उच्च शिक्षा की कार्ययोजना राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत तैयार करने के निर्देश विभागीय अधिकारीयों को दिए हैं। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति के अंतर्गत उच्च शिक्षा में विद्यार्थियों के अकादमिक क्रेडिट्स खाते खोले जायेंगे। जिसमें विद्यार्थी अध्ययन किये गये पाठ्यक्रमों से अर्जित शैक्षणिक क्रेडिट्स का स्टोर और ट्रांसफर कर सकेंगे। इन्हीं स्कोर के आधार पर विश्वविद्यालय अथवा स्वायत्त महाविद्यालय विद्यार्थियों को डिग्री, डिप्लोमा या प्रामणपत्र प्रदान करेंगे। डा. रावत ने कहा कि यह एक राष्ट्रीय स्तर की सुविधा है जो उच्च शिक्षण संस्थानों में पाठ्यक्रम का फ्रेमवर्क लचीला बनाने और छात्रों की इंटरडिसिप्लिनरी या मल्टीडिसिप्लिनरी एकेडमिक मोबिलिटी को बढ़ावा देने के लिए है। इसके अंतर्गत विद्यार्थियों को अपनी इच्छानुसार पाठ्यक्रम चुनने के साथ-साथ मल्टीपल एंट्री-मल्टीपल एग्जिट की सुविधा दी जायेगी। जो किसी भी समय, कहीं पर भी और किसी भी स्तर की शिक्षा हासिल करने के सिद्धांत पर आधारित है। यानि विद्यार्थी अगर कॉलेज की पढ़ाई बीच में छोड़ देता है तो उसकी पढ़ाई बेकार नहीं जाएगी और यदि वह दोबारा पढ़ाई शुरू करना चाहता है तो उसकी व्यवस्था भी नई शिक्षा नीति के अंतर्गत की गई है। एकेडमिक क्रेडिट बैंक की स्थापना देश और राज्य के छात्रों को राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा का वातावरण उपलब्ध कराते हुए उनमें गुणात्मक परिवर्तन लाने का कार्य करेगा । भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत एकेडमिक क्रेडिट बैंक की स्थापना छात्रों को शिक्षा के बेहतर अवसर के साथ नयी सम्भावनाए प्रदान करेगा । इसके साथ ही संस्थाओं को भी बेहतर उच्च शिक्षा उपलब्ध कराने की दिशा में सार्थक प्रयास के लिए प्रेरित करेगा । डा. रावत ने कहा कि क्रेडिट बैंक एकदम बैंक के जमा खाते की तरह ही होगा, जिसमें एकेडमिक एकाउंट होल्डर छात्र होंगे। छात्रों को इसमें क्रेडिट सत्यापन, क्रेडिट संचयन, क्रेडिट हस्तांतरण या इन्हें भुनाने के साथ एकेडमिक अवार्ड के प्रमाणीकरण जैसी सेवाओं का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रावधानों के तहत उच्च शिक्षा में बदलाव के लिए राज्य अपनी पूरी तैयारी कर रहा है और उच्च शिक्षा में गुणात्मक परिवर्तन लाते हुए देश में मॉडल राज्य बनने की दिशा में अग्रसर है।

मुख्य सचिव ने दिए प्रतिदिन जनसंवाद एवं जन समस्याओं के निदान के निर्देश*

देहरादून : मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु ने प्रदेश में सुशासन के दृष्टिगत जनसंवाद एवं जन समस्याओं के समाधान के निर्देश दिए हैं। आयुक्त गढ़वाल एवं कुमायूँ, समस्त जिलाधिकारियों एवं तहसील एवं विकास खण्ड अधिकारियों को जारी अपने आदेश में मुख्य सचिव ने जन समस्याओं के समाधान की व्यवस्था सुदृढ़ किए जाने के निर्देश दिए हैं। *जन समस्याओं को गम्भीरता से लें अधिकारी* मुख्य सचिव ने सभी मण्डल, तहसील, विकास खण्ड स्तरीय कार्यालयों के कार्यालयाध्यक्षों द्वारा प्रतिदिन पूर्वाह्न 10 बजे से 12 बजे तक जन सम्पर्क एवं जन समस्याओं के समाधान हेतु अपने कार्यालयों में अनिवार्य रूप से उपस्थित रहने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पूर्वाह्न 10 से 12 बजे कोई अन्य बैठक नियत न किए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि अपरिहार्य कारणों से व्यक्तिगत उपलब्धता सम्भव ने होने की दशा में अन्य सक्षम प्राधिकारी की वैकल्पिक व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने जन सम्पर्क के दौरान भेंट करने वाले व्यक्तियों के प्रति यथोचित शिष्टाचार के साथ प्राप्त समस्याओं एवं विषयों को गम्भीरता से लेते हुए समयबद्धता एवं गुणवत्तापूर्वक निस्तारित किए जाने के निर्देश दिए। *प्रत्येक माह प्रथम एवं तृतीय मंगलवार तहसील दिवस का आयोजन* मुख्य सचिव डॉ. संधु ने तहसील स्तर पर भी प्रत्येक माह प्रथम एवं तृतीय मंगलवार को ‘तहसील दिवस‘ आयोजित किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पूर्व में प्रचलित व्यवस्था, जो कि कोविड के कारण स्थगित हो गयी थी, को पुनः प्रारम्भ किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने निर्देश दिए कि तहसील दिवस के दौरान, उपजिलाधिकारी, पुलिस क्षेत्राधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी सहित अन्य रेखीय विभागों के तहसील स्तरीय सक्षम अधिकारी अनिवार्य रूप से उपस्थित रहें। तहसील दिवस के अवसर पर कोविड प्रोटोकाल का अनुपालन भी सुनिश्चित किया जाए। *प्रत्येक माह कार्यवाही एवं परिणाम की रिपोर्ट भेजेंगे अधिकारी* मुख्य सचिव ने निर्देशों को तत्काल अनुपालन सुनिश्चित किए जाने के साथ ही मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी द्वारा भेजी जाने वाली मासिक आख्या के साथ ही निर्देशित बिन्दुओं पर कार्यवाही एवं परिणाम भेजे जाने के निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा कि समस्याओं के निराकरण में यदि समय लगना सम्भावित हो तो इस सम्बन्ध में सम्बन्धित विभाग अथवा प्राधिकारी को औचित्यपूर्ण न्यूनतम तिथि निर्दिष्ट करते हुए ऐसे विषय को निर्दिष्ट तिथि के उपरान्त पड़ने वाले तहसील दिवस में पुनर्विचार एवं समीक्षा हेतु प्रस्तुत किया जाए। मुख्य सचिव ने जिलाधिकारियों को भी रेंडम आधार पर तहसील दिवसों पर प्रतिभाग करते हुए कार्यकलापों को पर्यवेक्षण एवं अनुश्रवण किया जाए। स्थानीय स्तर पर नीतिगत बिन्दुओं में मार्गदर्शन अपेक्षित होने पर सम्बन्धित अधिकारी को शीघ्र अतिशीघ्र प्रेषित किया जाए।

Wednesday, 28 July 2021

सस्ती लोकप्रियता नहीं नियोजित विकास में है विश्वासः चमोली

देहरादून। विधायक धर्मपुर विनोद चमोली ने आज रेस्ट कैंप भंडारी बाग रेलवे ओवर ब्रिज के कार्यारंभ पर कहा कि वे सस्ती लोकप्रियता नहीं अपितु नियोजित विकास में विश्वास रखते हैं। चमोली ने अपने महापौर तथा विधायक अवधि के कार्यों को उपस्थित गणमान्य नागरिकों के समक्ष रखते हुए कहा कि चकराता रोड का चैड़ीकरण हो, डाट काली मंदिर पर टनल बनाने की बात हो, महंत इंद्रेश पर रास्ता खुलने का मामला हो उन्होंने हमेशा जनता की सुविधा को प्राथमिकता दी और आज इन सभी क्षेत्रों के नागरिकों का समय तथा पेट्रोल जाम से निजात मिलने के कारण बच रहा है। चमोली ने कहा की गांधी पार्क को राजनीतिक धरना प्रदर्शन से निजात दिलाने का मामला हो या देहरादून की छतों से विज्ञापनों के बोर्ड हटाने का , वह किसी के दबाव में नहीं आए और हमेशा जनता के पक्ष में खड़े रहे। चमोली ने बताया रेलवे ओवर ब्रिज बनने तथा प्रिंस चैक से सहारनपुर मार्ग के चैड़ीकरण से भी जनता को ट्रैफिक जाम से निजात मिलेगी। चमोली ने बताया कि 47.15 करोड़ के बजट में 38.62 करोड़ रुपए आर ओ बी तथा 4.53 करोड़ रुपए यूटिलिटी के लिए खर्च होने वाले इस रेलवे ओवरब्रिज के कार्य को 7 मार्च 2023 तक पूर्ण होना है , उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का साधुवाद करते हुए कहा कि पूर्व में कांग्रेस के समय इसका बार-बार उद्घाटन कार्यक्रम हुआ पर धरातल पर कार्य आज से आरंभ हो रहा है। विधानसभा में किए गए कार्यों का विवरण देते हुए उन्होंने कहा कि अमृत योजना पूरी होने का कारण अब क्षेत्र में तीन से चार मंजिल तक बिना मोटर के पानी चढ़ रहा है , इसी के साथ चमोली ने हरिद्वार बायपास बनाने हेतु ₹42 करोड़ तथा देहराखास में सीवर लाइन हेतु रुपए 450 करोड के टेंडर हो जाने की जानकारी देते हुए बताया कि शीघ्र ही जनता को इसका लाभ मिलेगा। चमोली ने कहा कि पिछले वर्ष तक पथरी बाग से कारगी तक सड़क नदी का रूप ले लेती थी उनके प्रयास से इसमें 80 प्रतिशत तक कमी आई है , चमोली ने बताया कि इस मार्ग पर पटेल नगर एक्सचेंज से बड़ के पेड़ बंजारावाला तक सड़क एवं दोनों तरफ नालियों हेतु टेंडर स्वीकृत हो चुका है। आर ओ बी कार्यारंभ कार्यक्रम को भारतीय जनता पार्टी महानगर मीडिया प्रभारी राजीव उनियाल, पार्षद महिपाल धीमान, राजपाल पयाल, सतीश कश्यप, आलोक कुमार, भाजपा नेता महेश्वर बहुगुणा, सिद्धार्थ अग्रवाल ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में धर्मपुर नगर मंडल अध्यक्ष संदीप मुखर्जी , पंडित दीनदयाल मंडल अध्यक्ष धर्मपाल रावत, पार्षद आफताब आलम, पूर्व पार्षद सुशील गुप्ता, गोपाल पुरी,सरदार सोनू सिंह, वैजयंती माला, अनिल सेमवाल, दयाराम आदि के साथ ही लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता राजेश कुमार, सहायक अभियंता विजय सिंह रावत , सहायक अभियंता रजत कोटीयाल, अवर अभियंता मुकेश रतूड़ी, अपर अभियंता अरुण कुमार, लिसा कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर जावेद खान, वरिष्ठ प्रबंधक आबिद खान आदि उपस्थित रहे।

कोरोना की तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए स्कूलों को खोलने में जल्दबाजी न करेंः जैन

देहरादून। मानवधिकार एवं सामाजिक न्याय संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सचिन जैन ने उत्तराखंड में स्कूल खोले जाने के मामले में कहा कि एक ओर कोरोना की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है, वहीं सरकार द्वारा स्कूल खोले जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्कूलों को खोले जाने के मामले में जल्दबाजी नहीं की जानी चाहिए। सचिन जैन ने कहा कि जब कोविड-19 की तीसरी लहर आने की आशंका बनी है तो ऐसी क्या जल्दबाजी है कि स्कूल खोले जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि बच्चांे का भी वैक्सीनेशन पूरा होने के बाद ही स्कूल खोले जाने चाहिए। इससे पहले और राज्यों में भी स्कूल खुल रहे हैं तो पहले हमें वहां का अनुभव ले लेना चाहिए उसके बाद ही स्कूल खोलने की परमिशन दी जाए। क्योंकि अगर स्कूल खुलते भी हैं तो सभी स्टाफ का वैक्सीनेशन भी कराना अनिवार्य हो। कम से कम उनको एक डोज लगी हुई हो। बाकी राज्‍यों में अगर स्‍कूल खुल रहे हैं तो हम उनके अनुभवों को देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्राइमरी कक्षा के बच्चों को स्कूल बुलाया जा सकता है क्योंकि बच्चे कोरोना वायरस से बड़ों के मुकाबले बेहतर तरीके से लड़ पाते हैं इसलिए पहले उन्हें ही स्कूल बुलाना चाहिए और फिर धीरे-धीरे बाकी बच्चों को जबकि देखने में आया है कि कक्षा 9 से 12 वीं को बच्चों पहले बुलाया जा रहा है।

विधानसभा अध्यक्ष ने कोरोना योद्धाओं को सम्मानित किया

देहरादून। वैश्विक महामारी कोविड-19 के दौरान विधानसभा भवन, देहरादून में कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं उपचार दे रहे एलोपैथिक होम्योपैथिक व आयुर्वेदिक डॉक्टरों सहित मेडिकल स्टाफ को उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कोरोना योद्धा के रूप में सम्मानित किया। विधानसभा परिसर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान अग्रवाल ने सभी कोरोना योद्धाओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। विधान सभा सचिवालय में तैनात अधिकारी कर्मचारी एवं उनके पारिवारिक सदस्य जो कोरोना संक्रमित पाए गए उन्हें उचित चिकित्सा सुविधा प्रदान कर एलोपैथिक, होम्योपैथिक एवं आयुर्वेदिक चिकित्सालय के डॉक्टर एवं मेडिकल स्टाफ द्वारा अपनी हर संभव सहायता प्रदान की गई।विधानसभा अध्यक्ष ने सभी मेडिकल स्टाफ का उत्साहवर्धन करने के उद्देश्य से डॉक्टर एवं मेडिकल स्टाफ को सम्मानित किया। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि विधानसभा में स्थित चिकित्सालय के डॉक्टरों एवं मेडिकल स्टाफ द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं उपचार में अपने उच्च स्तरीय सेवाएं प्रदान की गई, जिससे विधानसभा परिसर में कोरोना संक्रमण को समय रहते यथासंभव नियंत्रित किया गया। श्री अग्रवाल ने कहा कि कोरोना महामारी की भयावहता के कारण जब परिजन कोरोना पीड़ितों से मिलने के लिये भी तैयार नहीं थे, उस दौर में स्वास्थ्य विभाग के योद्धाओं ने कोरोना मरीजों का उपचार कर मानवता की बेमिसाल तस्वीर प्रस्तुत की है। ऐसे योद्धा हम सबके लिये वंदनीय और अभिनंदनीय हैं।उन्होंने कहा कि हमारे मेडिकल स्टाफ की जितनी भी तारीफ की जाए कम है, जो अपनी जान जोखिम में डालकर मानव सेवा के लिए समर्पित रहकर फ्रंट लाइन में डटे रहे। इस अवसर पर एलोपैथिक चिकित्सालय के वरिष्ठ चिकित्साधिकारी सतीश चंद डोभाल, होम्योपैथिक चिकित्सालय के वरिष्ठ चिकित्साधिकारी डॉ विनोद शर्मा, आयुर्वेदिक चिकित्सालय के प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ हरीमोहन त्रिपाठी, चीफ फार्मेसिस्ट के.एस फरस्वाण, फार्मेसिस्ट अशोक पांडे, फार्मेसिस्ट नीलम वर्मा, कक्ष सेवक नवनीत चंदोला, लैब टेक्नीशियन दीपक पुंडीर, चालक पितांबर दत्त चमोली, आयुर्वेदिक चिकित्सालय के चीफ फार्मेसिस्ट विशंभर दत्त को कोरोना योद्धा के रूप में सम्मानित किया गया। इस मौके पर विधानसभा के प्रभारी सचिव मुकेश सिंघल, वरिष्ठ निजी सचिव अजय अग्रवाल, विशेष कार्याधिकारी ताजेंद्र नेगी, समीक्षा अधिकारी राजीव बहुगुणा, प्रवीण जोशी, जय बडोनी सहित विधानसभा के अन्य कर्मचारी मौजूद थे।

राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन 11 सितंबर को

देहरादून। सिविल जज (सी0डि0) व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव नेहा कुशवाहा ने बताया कि उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, नैनीताल के निर्देशानुसार जनपद देहरादून की समस्त न्यायालयों में समस्त प्रकृति के मुकदमों का सुलह-समझौते के आधार पर निस्तारण किये जाने हेतु 11 सितम्बर को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जाना सुनिश्चित किया गया है। जिसमें फौजदारी के शमनीय वाद, राजस्व सम्बन्धित वाद, धारा 138 एन.आई.एक्ट से सम्बन्धित वाद, विधुत एवं जलकर बिलों के मामलें, मोटर दुर्घटना प्रतिकर सम्बन्धित वाद, वेतन-भत्तों एवं सेवानिवृत्ति से सम्बन्धित वाद, वैवाहिकध्कुटुम्ब न्यायालयों के वाद, धन वसूली से सम्बन्धित वाद, श्रम सम्बन्धित वाद, भूमि अर्जन के वाद, दीवानी वाद अन्य ऐसे मामले जो सुलह-समझौते के आधार पर निस्तारित हो सके। प्रकार के अधिक से अधिक वादों को राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से निस्तारित किये जाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि जो पक्षकार अपने वादों को राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से निस्तारित करवाना चाहते है, वह सम्बंधित न्यायालय, जहाँ उनका मुकदमा लम्बित है, में स्वयं या अधिवक्ता के माध्यम से प्रार्थनापत्र (भौतिक या आॅनलाईन) देकर अपने वाद राष्ट्रीय लोक अदालत के लिये नियत करवा सकते हंै।

मंत्री रेखा आर्य ने 31 महिलाओं को महालक्ष्मी किट वितरित किए

देहरादून। कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य द्वारा केदारपुरम स्थित दुर्गा मंदिर प्रांगण में 31 महिलाओं को मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट का वितरण किया गया। मंत्री द्वारा प्रसवोपरान्त माता एवं कन्या शिशु के पोषण, स्वच्छता एवं स्वास्थ्य देखभाल हेतु मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट में महिला हेतु बादाम गिरीध्सुखी खुमानीध्अखरोट, छुआरा, 2 जोड़े जुराब, गर्म काॅटन स्काॅर्प, एक बड़ा व एक छोटा तौलिया, मौसम अनुसार वार्मध्काॅटन ब्लैंकेट, फुल साइज गर्म शाॅल, सिंगल बैड तकिये कवर के साथ काॅटन प्रिन्ट में बेडशीट, 2 पैकेट सेनेटरी नैपकिन, सरसों का तेल, साबुन और कपड़े धोने का साबुन किट में दिया गया तथा कन्या शिशु हेतु 2 जोड़े शिशु के कपड़े सूती या गर्म मौसम के अनुसार टोपी- जुराब सहित, सूती लंगोट के कपड़े, साॅफ्ट काॅटन बेबी तौलिया, बेबी साबुन-तेल-पाउडर, रबर सीट मौसम अनुसार गर्मध्काॅटन बेबी ब्लैंकेट, टीकाकरण कार्ड, स्तनपानध्पोषाहार कार्ड, समस्त सामग्री पैक करने हेतु बैग और साथ में मा0 मुख्यमंत्री का सन्देश सामग्री के साथ वितरित किया गया। मंत्री ने किट वितरित करते समय महिलाओं से बेटियों का बेहतर तरीके से लालन-पालन करने को कहा। कहा कि पैदा होने वाली बेटियों के लिए इस तरह की राज्य सरकार नेे 50 हजार किट वितरित की हैं साथ ही इसको आगे भी वितरित करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि बेटियों को मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट वितरित करने का सरकार का मकसद ये है कि लिंगानुपात में सुधार लाया जा सके। लोग बेटा-बेटी को लेकर किसी भी तरह का संकोच ना रखे साथ ही लालन-पालन से लेकर शिक्षा-दीक्षा सभी में बेटी को भी बेटों की तरह लें। इस दौरान सचिव बाल विकास हरीश सेमवाल ने कहा कि आज बेटी को लेकर लोगों की सोच मे बहुत सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। लोग आज समझ चुके हैं कि बेटियों को यदि हम बेटों की तरह विकसित होने का पूरा अवसर प्रदान करेंगे तो बेटियां भी किसी से कम नहीं निकलती और देश-दुनिया में देखा जा सकता है है कि बेटियां आज बेटों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर नये-नये कीर्तिमान स्थापित कर रही हैं। इसी बीच माननीय मंत्री ने मंदिर प्रांगण में वृक्ष का रोपण भी किया। इस दौरान मा मंत्री के साथ सचिव हरीक्ष सेमवाल, अपर सचिव प्रशांत आर्य, उप निदेशक एस.के सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी डाॅ अखिलेश मिश्रा, स्थानीय पार्षद दिनेश प्रसाद सती व सुशीला रावत सहित बड़ी संख्या में महिलायें, विभागीय कार्मिक और स्थानीय लोग उपस्थित थे।

बाजपुर के किसानों के प्रतिनिधिमण्डल ने सीएम से की भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में विधायक हरभजन सिंह चीमा के नेतृत्व में आये बाजपुर के किसानों के प्रतिनिधि मण्डल ने भेंट की। उन्होंने विभिन्न श्रेणियों की भूमि के नियमितीकरण में हो रही परेशानियों से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि किसानों के व्यापक हित में इस पूरे मामले के जल्द समाधान के प्रयास किए जायेंगें।

ब्लड कैंसर से पीड़ित अनु धामी के ईलाज के लिए सीएम ने पांच लाख का चेका सौंपा

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने एम्स ऋषिकेश में ब्लड कैंसर से पीड़ित अनु धामी के ईलाज हेतु मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष से 05 लाख रुपए का चेक उनके पति मदन धामी को सौंपा। मुख्यमंत्री ने कहा कि अनु धामी के ईलाज के लिए सरकार की ओर से हर संभव मदद दी जाएगी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को अनु धामी की बीमारी का पता चलते ही उन्होंने जिलाधिकारी देहरादून आर राजेश कुमार को उनकी स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए एम्स ऋषिकेश भेजा। परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री ने अनु धामी के ईलाज के लिए मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष से धनराशि स्वीकृत की। इस अवसर पर एम्स ऋषिकेश के निदेशक प्रो. रविकांत एवं जिलाधिकारी देहरादून आर. राजेश कुमार मौजूद थे।

भाजपा ने कर्णप्रयाग रेलवे लाइन, ऑलवैदर रोड जैसे कई ऐतिहासिक कार्य कियेः महाराज

चमोली। प्रदेश के पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, संस्कृति मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज ने बुधवार को भारतीय जनता पार्टी गौचर मण्डल कार्यसमिति की बैठक में प्रतिभाग कर कार्यकर्ताओं और मण्डल पदाधिकारियों से कहा कि वर्तमान में हमारे समक्ष अनेक चुनौतियां हैं। ऐसे में हमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए अपने लक्ष्य को प्राप्त करना है। भारतीय जनता पार्टी गौचर मण्डल कार्यसमिति की बुधवार को नगर पालिका सभागार में आयोजित बैठक को सम्बोधित करते हुए प्रदेश के कैबिनेट मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं को केन्द्र व राज्य की भाजपा सरकार की उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचाने के साथ साथ प्रदेश में ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन और ऑलवैदर रोड़ जैसे ऐतिहासिक कार्यों के विषय को गांव-गांव तक पहुंचाना चाहिए। हमें आम जन को बताना होगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिना किसी भेदभाव के तमाम तरह की आलोचनाओं के बावजूद भी देशहित में अपना जीवन होम करने में लगे हैं। श्री महाराज ने कहा कि केंद्र एवं राज्य में भाजपा की सरकार हैं होने के कारण आज कार्यकर्ताओं की बातें सुनी जा रही हैं उनके काम हो रहे हैं। जो भी आपस में गिले-शिकवे हों उन्हें भूलाकर सबको मिलजुलकर काम करना है। केन्द्र और राज्य में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की सरकार में अनेक विकास कार्य हो रहे हैं। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, जल जीवन मिशन, पी. एम. मोदी हेल्थ कार्ड योजना जैसी जनकल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से सभी को लाभ देने के साथ-साथ राज्य सरकार भी अनेक योजनाओं पर कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के छोटे उद्यमियों के व्यापक हित में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना अति सूक्ष्म (नैनो उद्यम) लागू किए जाने का भी निर्णय लिया गया है, इसके अंतर्गत सिलाई बुनाई फल विक्रेता जैसे छोटे लगभग 20 हजार व्यवसायियों को लाभान्वित किया जाएगा। इसके लिए प्रति व्यक्ति को 10000 के ऋण पर ₹5000 की सब्सिडी का प्रावधान किया गया है। चमोली जिले के प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज ने भाजपा कार्यसमिति गौचर मंडल की बैठक में कार्यकर्ताओं में जोश का संचार करते हुए कहा कि हमारी सरकार ने अतिथि शिक्षकों का वेतन 15000 से बढ़ाकर 25000 करने का निर्णय लिया। इसी प्रकार मनरेगा कर्मियों के रिक्त पदों पर वाह्य स्रोत के माध्यम से भर्ती की जाएगी। कार्यरत अतिथि शिक्षकों को प्राथमिकता के आधार पर उनके गृह जनपद में ही नियुक्ति दी जाएगी। श्री महाराज ने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा कि न हमें रूकना है, न हमें थकना है, हमें हमेशा आगे बढना है। इस विचार को लेकर हमें चुनाव की तैयारियां करनी हैं। सतपाल महाराज ने मण्डल कार्यसमिति से पूर्व जहाँ एक ओर भाजपा कार्यकर्ताओं की समस्याओं को सुनने के साथ-साथ मौके पर ही उसका निस्तारण किया वहीं उन्होने लोक निर्माण, सिंचाई सहित अनेक विभाग के अधिकारियों को आवश्यक निर्देश देते हुए सभी से सरकार की योजनाओं को समय से पूरा करने की भी हिदायत दी।

डीटीसी इंडिया की करोड़ों की जमीन अवैध रूप से बेचने के मामले में कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज

देहरादून। देहरादून की चाय कम्पनी डीटीसी इंडिया लिमिटेड करोड़ों की जमीन अवैध रूप से बेचने के मामले में कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। प्रेमनगर थाना, देहरादून में चार अभियुक्तों सुशील कुमार आर्या, त्रिशला आर्या, संजय सिंह कटारिया और सतीश कुमार के खिलाफ आईपीसी धारा 420, 46, 468, 471, 120-ठ, 409 के अंतर्गत मुकदमा दर्ज हुआ। अवैध रूप से रह रहे कम्पनी के रिटायर्ड क्लर्क सुशील कुमार आर्या और उनकी पत्नी त्रिशला आर्या ने कूटरचित दस्तावेज बना कर करोड़ो की जमींन अवैध रूप से बेचीं। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, देहरादून के आदेश पर आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है। डीटीसी इंडिया लिमिटेड द्वारा वर्ष 1979 में सुशील कुमार आर्या पुत्र स्व ओ पी शास्त्री हाल निवासी स्टाफ बाबूलाइन, आर्केडिया ग्रान्ट, देहरादून को अपनी कंपनी में नौकरी पर रखा था। वर्ष 1983-84 में ऑफिस के कार्यो में लापरवाही बरतने के कारण कंपनी द्वारा उन्हें निकल दिया गया। फिर उसके द्वारा कंपनी के सीनियर्स से माफी मांगने और भविष्य में कोई लापरवाही नहीं बरतने का वादा करने पर उन्हें फिर से नौकरी पर वापस रख लिया गया और कंपनी के स्टाफ क्वार्टर मे मरमत करवा कर उनको रहने के लिए दे दिया गया। 2016 में सुशील कुमार आर्य कम्पनी से रिटायर्ड हो गए थे। जिसके बाद डी टी सी इंडिया लिमिटेड कम्पनी द्वारा उन्हें स्टाफ क्वार्टर खली करने के सम्बन्ध में पत्र लिखा गया इस पर भी उन्होंने कंपनी के क्वार्टर को खली नहीं किया और वही रहने लग गए। डी के सिंह, पूर्णकालिक निदेशक, डी टी सी इंडिया लिमिटेड को हाल ही में पता चला कि सुशील कुमार आर्य ने 5 अप्रैल 2021 में कम्पनी की खाता संख्या 2478 खसरा नं० 588 मी की 3560 वर्ग मीटर आबादी भूमि स्थित मौजा, आर्केडिया ग्रान्ट, जमीन जिसमे की कम्पनी का स्टाफ क्वार्टर भी बना है और वह स्वयं भी रहता था, दो व्यक्तियों संजय सिंह कटारिया पुत्र मंगत राम कटारिया निवासी ग्राम जस्सोवाला, देहरादून व सतीश कुमार पुत्र अनन्त राम निवासी ग्राम ढकरानी , विकासनगर, देहरादून को मात्र 70,00000- सत्तर लाख रूपये में विक्रय कर दिया गया, जबकि कंपनी की कथित भूमि की सरकारी कीमत 3,20,000000 तीन करोड़ बीस लाख रूपये से अधिक है। विक्रय पत्र पर सुशील कुमार आर्या की पत्नी त्रिशला आर्या भी गवाह बानी है। सुशील कुमार आर्या और उसकी पत्नी त्रिशला आर्या का कंपनी की भूमि पर आंशिक कब्जा भी किया हुआ था और इसी का फायदा उठाते हुए उन्होंने आपराधिक षड़यंत्र के तहत संजय सिंह कटारिया और सतीश कुमार के साथ मिलकर बेईमानी व कपटपूर्वक आशय से कूटरचित दस्तावेज तैयार किये और स्वयं को कंपनी की भूमि सम्पति का मालिक दर्शाया जबकि यह लोग अच्छी तरह जानते थे कि सुशील कुमार आर्या इस भूमि सम्पति का मालिक नहीं है। कंपनी द्वारा इस भूमि पर बहुत पहले से आम जनता के लिए एक बोर्ड भी लगा रखा है।

कपकोट पहुंचे कर्नल कोठियाल ने किया युवाओं से संवाद

देहरादून/बागेश्वर। आप पार्टी के वरिष्ठ नेता कर्नल कोठियाल आज युवा संवाद के तहत बागेश्वर जिले के कपकोट पहुंचे। कर्नल कोठियाल के कपकोट पहुंचने पर स्थानीय लोगों ने उनका जमकर स्वागत किया। कर्नल कोठियाल से मिलने युवाओं समते मातृशक्ति बड़ी तादात में पहुंचे थे जिन्होंने बड़ी गर्मजोशी से कर्नल कोठियाल का स्वागत किया। युवा संवाद कार्यक्रम में, युवाओं से सीधा संवाद करते हुए कर्नल कोठियाल ने कहा कि कपकोट पहुंचते ही ये अहसास हुआ कि लोग कैसे विषम परिस्थितियों में पहाडों में रहते हैं, यहां के लोगों को रोजमर्रा कई संघर्षों से गुजरना पडता है लेकिन उसके बावजूद पिछले 20 सालों से कोई भी सरकार पहाड़ के दुरस्त क्षेत्रों का विकास नहीं कर पाई। उन्होंने कहा कि पहाडों में आज युवाओं के बीच रोजगार की सबसे बड़ी समस्या देखने को मिल रही है ,बेरोजगारी से हमारे प्रदेश के युवा लगातार जूझ रहे हैं। यह प्रदेश का बहुत बड़ा दुर्भाग्य है कि, उत्तर प्रदेश से विभाजन होने के बाद इन 20 वर्षों में हमारे प्रदेश के युवाओं को बेरोजगारी समेत कई मूलभूत समस्याओं से आज भी जूझना पड़ रहा है। उन्होंने कहा,प्रदेश में इतने संसाधन होने के बावजूद भी रोजगार ना मिलना एक बहुत बड़ा दुर्भाग्य है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सत्तासीन सरकारों ने युवाओं के रोजगार के लिए आज तक कोई कारगर सिस्टम नहीं बनाया। उन्होंने कहा,जब तक सरकारी सिस्टम को दुरुस्त नहीं किया जाएगा ,तब तक यही समस्या प्रदेश में बरकरार रहेगी, उन्होंने आगे कहा कि यूथ फाउंडेशन को शुरू करने का मकसद यही था कि ज्यादा से ज्यादा युवाओं को रोजगार देना और यूथ फाउंडेशन ने अब तक 10000 से ज्यादा युवाओं को सेना में भर्ती करवाने का काम किया है जो आगे भी जारी रहेगा। कर्नल ने कहा कि, आम आदमी पार्टी लगातार धरातल पर काम कर रही है, और शुरुआत उन्होंने 300 यूनिट बिजली मुफ्त प्रतिमाह देने की बात कही है ,जिसके लिए लोगों को गारंटी कार्ड भी मुहैया कराए जा रहे हैं। रोजगार योजनाओं को लेकर आम आदमी पार्टी मंथन कर रही है और ऐसी योजनाएं लेकर आएगी जिससे प्रदेश में बेरोजगारी पर काबू पाकर युवाओं को रोजगार की तरफ ले जायेंगे। उन्होंने स्वास्थ्य को लेकर कहा कि ,पहाड़ों में स्वास्थ्य के बहुत बुरे हाल हैं और जिस तरीके से दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने स्वास्थ्य को लेकर एक सफल अभियान चलाया और रोल माॅडल स्थापित किया,उसी सफल अभियान को अब उत्तराखंड में भी लागू करने की जरूरत है ,जो आम आदमी पार्टी की सरकार बनते ही तुरंत लागू किया जाएगा।

भोले जी महाराज के जन्मदिवस पर आशाओं, भोजनमाताओं को राशन किट वितरित किए

देहरादून। हंस फाउंडेशन के प्रेरणास्रोत भोले जी महाराज के जन्मदिवस के अवसर पर वरिष्ठ भाजपा नेता दिनेश रावत द्वारा कैंट विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत वार्ड 31 कौलागढ़ में ब्राह्मणजनांे व पंडितों एवं आशा, आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों, भोजनमाताओं व उनकी सहयोगी कार्यकत्रियों का सम्मान समारोह आयोजित किया गया। इस अवसर पर सभी को राशन किट, मास्क, सैनिटाइजर व एवं पौधे व गिलोय भेंट किया गये। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि महानगर महिला मोर्चा अध्यक्ष कमली भट्ट एवं विशिष्ट अतिथि भाजपा महिला मोर्चा महामंत्री सुमन सिंह उपस्थित रहीं। भाजपा नेता दिनेश रावत ने सभी अतिथियों एवं ब्राह्मणजनों का शॉल एवं पटका पहनाकर स्वागत किया गया। इस अवसर पर सभी ने परमपूज्य श्री भोले जी महाराज के जन्मदिवस पर उनके लिए मंगलकामना करी व वृक्षरोपण भी किया गया। इस अवसर पर दिनेश रावत ने कहा कि परमपूज्य भोले जी महाराज व माताश्री मंगला जी द्वारा सदैव जनहित के कार्य किये जाते हंै और विशेषकर उत्तराखंड को हंस फाउंडेशन के माध्यम से उनका आशीर्वाद व कृपा दृष्टि सदैव प्राप्त होती रहती है। उनका कार्य सदैव प्रदेश हित में रहता है व अतुलनीय है। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के महानगर कार्यालय प्रभारी आनंद प्रकाश नौटियाल, महानगर महामंत्री महिला मोर्चा सुमन सिंह, महानगर उपाध्यक्ष महिला मोर्चा उषा रावत, सदस्य सुषमा भारद्वाज, पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य गीता गहरवार, बूथ अध्यक्ष पवन डबराल, बूथ अध्यक्ष पुष्कर थापा, शरद शर्मा, सुरेंदर सिंह बिष्ट, सुदर्शना बिष्ट, पूजा नौटियाल, लक्ष्मी असवाल, रेणुका डबराल, कमला उप्रेती, हनुमान मंदिर के पुजारी श्रीनिवास नौटियाल, मुकेश ढौंढियाल, हिम्मत सिंह भंडारी, शंकर क्षेत्री, भूमिका शर्मा, नीलू कश्यप व अन्य सम्मानित कार्यकर्ता बंधु व क्षेत्रवासी उपस्थित रहे।

उत्तराखंड विधानसभा चुनावों में राष्ट्र निर्माण पार्टी का आगाज

देहरादून। उत्तराखंड में होने वाले आगामी विधानसभा चुनावों में राष्ट्र निर्माण पार्टी बीजेपी, कांग्रेस व आप जैसी पार्टियों के विरूद्ध एक सशक्त विकल्प के रूप में भाग लेगी। यह घोषणा करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. आनंद कुमार, जिन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के रूप में अपनी सेवाएं मध्य प्रदेश एवं गृह विभाग में प्रतिनियुक्ति पर रहते हुए पश्चिम बंगाल, अरुणाचल, असम एवं दिल्ली में दी हैं, ने बताया कि उत्तराखंड को ही यह गौरव प्राप्त है कि यह आदि शंकराचार्य एवं महर्षि दयानंद जैसे महापुरुषों की तपोस्थली रही है। उत्तरांचल प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में डॉ. कुमार ने कहा कि सबकी उन्नति में अपनी उन्नति यह हमारे राजनैतिक दर्शन का आधार है, जबकि अधिकांश राजनेता व पार्टियां अपना या अपनों के विकास में लगे हुए हैं। आप अपने आसपास नजर घुमाकर देख लें, आपको पता लग जाएगा कि किसने कितना विकास किया है। जैसा कि राष्ट्र निर्माण नाम से ही स्पष्ट है कि हम राष्ट्रहित को सर्वोपरि मानते हैं और इसलिए राष्ट्र हित के साथ कभी समझौता नहीं करेंगे। ऐसे कोई भी कार्य जिससे राष्ट्र की उन्नति बाधित होती हो, हम नहीं करेंगे। मैं उत्तराखंड वासियों को विश्वास दिलाता हूं कि हमारी पार्टी इस देवभूमि में दैवीय सांस्कृतिक मूल्यों की स्थापना के लिए कार्य करेगी। एक राष्ट्रीय पार्टी है जो मदरसे स्थापित करना चाहती है, जहां कंप्यूटर और कुरान शरीफ पढ़ाई जा सके। दूसरी पार्टी है जिनके नेता कहते हैं उनकी पार्टी मुसलमानों की पार्टी है। एक दिल्ली के नेता हैं जो अवैध बांग्लादेशियों व रोहिंग्याओं को संरक्षण देने में लगी हुई है। ऐसे में उत्तराखंड की जनता तय करे कि वे देवभूमि को क्या बनाना चाहते हैं। वर्तमान में उत्तराखंड में राजनैतिक अस्थिरता बनी हुई है। मुख्यमंत्री लगातार बदले जा रहे हैं। विकास का कार्य ठप है। उत्तराखंड का नौजवान बेरोजगार है। वे पहाड़ों से पलायन कर रहे हैं। इसके लिए बागवानी, औषधीय पौधे तथा जंगल और जल का संरक्षण करके इन पर आधारित उद्योग.धंधे स्थापित कर रोजगार प्रदान किए जाएंगे। शिक्षा, न्याय तथा चिकित्सा हर व्यक्ति का अधिकार है। विधायकों तथा सांसदों को दी जाने वाली पेंशन की व्यवस्था समाप्त की जाएगी। संरक्षण प्रकृति मानव केंद्रित विकास यह हमारा विकास का मॉडल है।राष्ट्र निर्माण पार्टी का प्रयत्न होगा भ्रष्टाचार मुक्त, पारदर्शी एवं संवेदनशील शासन व्यवस्था लागू करना, जिससे उत्तराखंड का चहुंमुखी विकास सुनिश्चित किया जा सके। आम जनता से अनुरोध है कि राष्ट्र निर्माण पार्टी के प्रत्याशियों का चयन कर अपने सपनों के उत्तराखंड के निर्माण में सहयोग दें। इस अवसर पर पार्टी के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष दानवीर विद्यालंकार, उत्तराखंड के प्रदेश अधिकारी अशोक सिंह रावत, आर्य प्रवीण वैदिक, प्रभात आर्य, अरविन्द शास्त्री, सोमदेव शास्त्री आदि उपस्थित रहे।

पर्यटन विभाग के अधिकारियों ने उत्तराखंड आने वाले पर्यटकों से की अपील

देेहरादून। उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश और मौसम विभाग के एक सप्ताह के पूर्वानुमान को ध्यान में रखते हुए उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद (यूटीडीबी) ने उत्तराखंड आने वाले पर्यटकों से पानी वाली जगहों में जाने से बचने की अपील की है। साथ ही मानसून में उत्तराखंड आने वाले पर्यटकों को सुरक्षित वातावरण उपलब्ध कराने के लिए पानी वाले पर्यटन स्थलों पर पुलिस बल को तैनात किया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्वानुमान के अनुसार, प्रदेश को 30 जुलाई तक बारिश से राहत नहीं मिलने वाली है। वहीं, 28 से 30 जुलाई तक प्रदेश में ऑरेंज अलर्ट जारी है। अगस्त माह के शुरूआत के दिनों में भी प्रदेश के कुछ पहाड़ी इलाकों में बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। ऐसे में तेज और लगातार हो रही बारिश से पानी वाले पर्यटन स्थलों का जलस्तर बढ़ रहा है।देहरादून जिला पर्यटन अधिकारी (डीटीओ) जसपाल सिंह चैहान बताया कि लगातार हो रही बारिश से सहस्त्रधारा, गुच्चूपानी, मालदेवता समेत सभी पानी की जगह वाले पर्यटन स्थलों में जलस्तर बढ़ने से खतरा बना हुआ है। पर्यटकों से अपील है कि इन स्थानों पर जाने से पहले सुरक्षा के तमाम इंतजाम कर पूरी जानकारी प्राप्त कर लें। साथ ही नदी तट से उचित दूरी बनाने के साथ किसी भी स्थिति में पानी में न जाए। जिससे किसी भी परेशानी से बचा जा सकता है। पर्यटकों के साथ स्थानीय निवासियों से अपील है कि अगले एक सप्ताह तक इन स्थानों पर जाने से बचें। पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर का कहना है कि लगातार हो रही बारिश से पानी वाली जगहों का जल स्तर बढ़ रहा है। मौसम विभाग के अनुसार अलगे एक सप्ताह तक पहाड़ी जिलों में भारी बारिश होने की आशंका है। ऐसे में पर्यटक किसी भी समस्या से बचने के लिए पहाड़ी इलाकों के पर्यटन स्थालों के साथ पानी वाली जगहों पर जाने से पहले पूरी जानकारी जुटा लें। पर्यटकों को सुरक्षित वातावरण देने के लिए सरकार लगातार काम कर रही है। राज्य में आने वाले पर्यटक शासन द्वारा जारी कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए उचित दूरी, मास्क व सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें।

Monday, 26 July 2021

सीएम ने कारगिल शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गांधी पार्क, देहरादून में शौर्य दिवस के अवसर पर शहीद स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पित कर कारगिल शहीदों को श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि भारतीय सैनिकों ने कारगिल युद्ध में विपरीत परिस्थितियों में वीरता का परिचय देते हुए घुसपैठियों को सीमा पार खदेड़ा। कारगिल युद्ध में देश की सीमाओं की रक्षा के लिए वीर सैनिकों के बलिदान को राष्ट्र हमेशा याद रखेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कारगिल युद्ध में बड़ी संख्या में उत्तराखण्ड के सपूतों ने देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहूति दी। राज्य सरकार सैनिकों, पूर्व सैनिकों एवं उनके परिजनों के कल्याण के लिए वचनबद्ध है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस अवसर पर घोषणा की कि उत्तराखंड से द्वितीय विश्व युद्ध की वीरांगना एवं वेटरन को अब प्रतिमाह पेंशन 8 हजार रुपए से बढ़ाकर 10 हजार रुपए दी जाएगी। इसका फायदा लगभग 800 परिवारों को मिलेगा। एन.डी.ए , सी.डी.एस एवं उसके समकक्ष लिखित परीक्षा पास करने पर परिवार की आर्थिक स्थिति के आधार पर अभ्यर्थी को साक्षात्कार की तैयारी के लिये 50 हजार रुपए की वित्तीय सहायता दी जाएगी। जल्द ही सैनिकों एवं पूर्व सैनिकों के बच्चों के लिए पढ़ाई हेतु हल्द्वानी में छात्रावास बनाया जाएगा। वीर नारियों एवं वीरता पुरस्कार प्राप्तकर्ता सैनिकों के सम्मान में गढ़वाल एवं कुमाऊं मण्डल में सम्मान समारोह आयोजित किया जाएगा। 01 सितंबर से प्रदेश में सैन्य सम्मान यात्रा शुरू की जाएगी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इसके बाद कारगिल शहीद नागा रेजीमेंट के नायक स्व. देवेन्द्र सिंह रावत के कौलागढ़ स्थित आवास जाकर उनके चित्र पर पुष्प अर्पित किये। इस अवसर पर सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी, विधायक हरवंश कपूर, खजानदास, मेयर सुनील उनियाल गामा ने भी शहीद स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पित कर कारगिल शहीदों को श्रद्धांजलि दी।

सीएम आवास में प्रवेश पर धामी को राज्यपाल ने दी शुभकामनाएं

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के न्यू कैंट रोड स्थित मुख्यमंत्री आवास में प्रवेश के अवसर पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने मुख्यमंत्री से भेंट कर शुभकामनायें दीं। मुख्यमंत्री ने शुभ

लुमिनस ने पेश किया उन्नत डिजाइन वाला इन्वर्टर ‘आईकन’

देहरादून। उत्तराखण्ड के कई जनपदों में गर्मी व बरसात के मौसम में बिजली ज्यादातर जाती है। जिस कारण लोगों को गर्मी व उमस का सामना करना पड़ता है। ऐसे में भारत में पॉवर बैकअप एवं होम इलेक्ट्रिकल्स में लीडर, लुमिनस पॉवर टेक्नॉलॉजीज ने उत्तराखण्ड के घर-घर तक अपनी पहुंच बनाने के लिए आइकन 1100 पेश किया। यह भारत का पहला उन्नत इन्वर्टर है, जो खूबसूरत, सुविधाजनक, एवं सुरक्षित है। काफी किफायती दामों में उत्तराखण्ड के लोग आइकन 1100 खरीद सकते हैं। इस अभिनव उत्पाद में बैटरी के लिए एक समर्पित एन्क्लोजर होता है, जो 150 एएच - 220 एएच के बीच की क्षमता वाली टॉल ट्यूबुलर बैटरी (टीटीबी) के साथ कंपैटिबल है। बच्चों के लिए भी पूरी तरह से सुरक्षित है। लेटेस्ट आइकन 1100 में 900 वोल्ट एंपियर की रेटिंग है। यह घरेलू बाजार में सबसे ज्यादा बिकने वाला इन्वर्टर सेगमेंट है। अमित शुक्ला, सीनियर वाईस प्रेसिडेंट लुमिनस पॉवर टेक्नॉलॉजीज ने कहा, ‘‘अभिनव एवं नेटिव आरएंडडी के साथ, लुमिनस को आइकन इन्वर्टर को पेश करने की खुशी है, जो ग्राहक पर केंद्रित दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए डिजाइन किया गया है। डब्लूएफएच ट्रांजिशन के कारण इन्वर्टर की मांग बढ़ रही है और हम शानदार कस्टमर सेवा के साथ उत्तराखण्ड के हर ग्राहक को सबसे किफायती दाम में स्मार्ट समाधान प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’

सीएम ने पूजा-अर्चना कर प्रदेश की सुख समृद्धि की कामना की

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित शिव मंदिर में पूजा अर्चना कर प्रदेश की सुख समृद्धि की कामना की। मुख्यमंत्री आवास स्थित गौशाला में मुख्यमंत्री ने गौ माता से आशीर्वाद लिया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को न्यू कैंट रोड स्थित मुख्यमंत्री आवास में प्रवेश किया। विधि विधान से पूजा अर्चना कर मुख्यमंत्री श्री धामी ने मुख्यमंत्री आवास में प्रवेश किया। इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री बंशीधर भगत, गणेश जोशी, यतीश्वरानंद, डॉ. धन सिंह रावत, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायक हरबंस कपूर, सौरभ बहुगुणा, मुन्ना सिंह चैहान, सहदेव सिंह पुंडीर, खजानदास, शक्तिलाल शाह मौजूद थे।

पोर्टल बेस्ड मॉनिटरिंग की जाएः मुख्य सचिव

देहरादून। मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. सन्धु ने सोमवार को सचिवालय में केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को कार्यों में गति लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कार्यों में गति लाने के लिए आवश्यक मैन पावर, मशीनरी एवं मटीरियल की पर्याप्तता सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कार्यों में गति लाने के लिए वीकली टारगेट निर्धारित कर अचीवमेंट की समीक्षा नियमित रूप से की जाए। उन्होंने पोर्टल बेस्ड मॉनिटरिंग किए जाने के भी निर्देश दिए। मुख्य सचिव डॉ. सन्धु ने अगले एक-दो दिनों में पोर्टल तैयार कर इसकी नियमित रूप से पोर्टल बेस्ड मॉनिटरिंग किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बैठकों में लिए जाने वाले निर्णयों की जानकारी पोर्टल पर उसी दिन अपलोड कर सम्बन्धित को भी उसी दिन प्रेषित कर दिए जाएं, ताकि निर्णयों की जानकारी के अभाव में कोई कार्य बाधित न हो। मुख्य सचिव ने निर्माण कार्यों में लगी मशीनरी हेतु सभी आवश्यक स्पेयर पार्ट्स की लिस्ट तैयार करते हुए उनकी उपलब्धता पूर्व में ही सुनिश्चित किए जाने के भी निर्देश दिए, ताकि स्पेयर पार्ट्स के अभाव में कार्य बाधित न हो। उन्होंने शीघ्र अतिशीघ्र आवश्यक अनुमोदन समितियों की बैठक कराए जाने के भी निर्देश दिए। मुख्य सचिव ने कहा कि कार्यों में गति के साथ ही गुणवत्ता का विशेष ख्याल रखा जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि गुणवत्ता से किसी भी प्रकार का समझौता न किया जाए। कार्यों में तेजी लाने के लिए जो कार्य समानांतर किए जा सकते हैं, कर लिए जाएं। उन्होंने अधिकारियों को कार्यां में आ रही समस्याओं और उनके समाधान के साथ बैठकों में आने के निर्देश दिए, ताकि शीघ्र निर्णय लिए जा सकें। इस अवसर पर प्रमुख सचिव आर. के. सुधांशु, अरविन्द सिंह ह्यांकी, दिलीप जावलकर एवं आयुक्त गढ़वाल रविनाथ रमन सहित सम्बन्धित जनपद के जिलाधिकारी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

प्रगतिशील पार्टी ने पूर्व अध्यक्ष स्व. संजय कुंडलिया की याद में श्रद्धांजलि सम्मेलन आयोजित किया

देहरादून। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी ने आज परेड ग्राउंड स्थित उज्जवल रेस्टोरेंट में अपने पूर्व अध्यक्ष स्वर्गीय संजय कुंडलिया की याद में श्रद्धांजलि सम्मेलन का आयोजन किया। इस सम्मेलन में प्रदेश के सभी जिलों से पार्टी संयोजको ने भाग लिया। साथ ही साथ जो संयोजक देहरादून नहीं पहुंच पाए उनके लिए पूरे कार्यक्रम का सीधा प्रसारण ऑनलाइन किया गया। इस श्रद्धांजलि सम्मेलन की अध्यक्षता गिरीश डालाकोटी एवं डॉ अश्विनी कुमार ने संयुक्त रूप से किया। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के संस्थापक एवं अध्यक्ष स्वर्गीय संजय कुंडलिया का देहांत कुछ महीने पूर्व कोरोना महामारी की वजह से हो गया था, जिससे पार्टी के कार्यक्रमों पर काफी असर पड़ा,परंतु इस सम्मेलन में आगामी 2022 में उत्तराखंड में होने वाले चुनावों पर भी जोर शोर से चर्चा हुई एवं आगे की रणनीति बनाई गई है जिससे संभव है उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में 70 के 70 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। सम्मेलन को संबोधित करते हुए गिरीश डालाकोटी ने कहा है ’हमारे पूर्व अध्यक्ष स्वर्गीय संजय कुंडलिया अब हमारे बीच में नहीं है परंतु उनके द्वारा बनाये हुए सभी सिद्धांत और विचार को हम आगे बढ़ाएंगे एवं 2022 के चुनाव हम उन्हीं के विचारधाराओं पर जनता के बीच जाकर चुनाव लड़ेंगे एवं विजई होकर लौटेंगे। वहीं डॉ अश्विनी कुमार ने अपने संबोधन में कहा कि हम प्रदेश के सभी संयोजको का धन्यवाद देते हैं। सभी संयोजकों ने पूरे धैर्य से इस वक्त का इंतजार किया, हमारे इस संकट की घड़ी में प्रदेश की जनता हमारे साथ है। इस सम्मेलन में पार्टी कार्यकर्ता डॉक्टर संदीप ढौंडीयाल, मनोज सिंह नेगी, राजेश बलूनी, मनोज सिंह रावत, प्रदीप सिंह नेगी, सुमित थपलियाल, नवीन जोशी, प्रदीप, आशीष उनियाल, योगेंद्र वर्मा, खजान चंद्र भट्ट, भूपेंद्र सिंह, प्रेम शर्मा, अश्वनी कुमार, विक्रम सिंह वर्गली के साथ-साथ ऑनलाइन जूड़ने वाले कार्यकर्ता में मोहन चंद्र ढौंडियाल, विपिन उपाध्याय, राजेश, कमलेश, खुशहाल नेगी, आशीष एवं चंद्र सिंह नेगी मौजूद रहे।

शिवसेना ने कारगिल दिवस पर कारगिल शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की

देहरादून। शिवसेना द्वारा कारगिल दिवस के अवसर पे कारगिल शहीदी स्थल गांधी पार्क ओर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर शिवसेना प्रदेश प्रमुख गौरव कुमार ने कहाकी पूरा देश आज के दिन अपने सैनिकों पर गर्व करके विजय दिवस मनाता है, वही शहीदों के शहादत पर सबकी आँखे नम हो जाती है। इस अवसर पर शिव सेना नेता पंकज तायल, हरिद्वार जिला प्रमुख अशोक शर्मा, जितेंद्र निर्वाल, विकास मल्होत्रा, रोहित बेदी, विकास सिंह, हर्ष सिंघल, राजेश भट्ट, जगपाल सिंह, आबाद कुरेशि आदि उपस्तिथ रहे।

डीआईटी विवि में सात दिवसीय फैकल्टी डवलपमेंट कार्यक्रम का शुभारंभ

देहरादून। डीआईटी विवि में आज सात दिवसीय फैकल्टी डवलपमेंट प्रोग्राम एवं अंतरराष्ट्रीय कार्यशाला का शुभारंभ हुआ। इस कार्यक्रम का आयोजन सेंटर ऑफ एक्सीलेंस लॉ एवं रसायन विभाग ने संयुक्त रूप से किया। कार्यक्रम का उदघाटन आईआईपी देहरादून के निदेशक डा अंजन रे ने अपने अध्यक्षीय भाषण से किया। उन्होंने बताया कि आज के समय में हमें किसी भी तत्व को कैसे प्रयोग एवं निस्तारण करना चाहिए। पर्यावरण को बचाने के लिए हमें किस प्रकार सीओ 2 की मात्रा को हवा में कम करना जरूरी है। विवि के रजिस्ट्रार डॉ. वंदना सुहाग ने सात दिन चलने वाले कार्यक्रम के बारे में सभी प्रतिभागियों को अवगत कराया। प्रथम सत्र में अमृता विवि के कोयंबटूर के एरोस्पेस इंजीनियर के वैज्ञानिक डा शांतनु भौमिक ने प्लास्टिक कचरे के निस्तारण की विभिन्न विधियों से सभी अभियार्थियों को अवगत कराया। उन्होंने बताया कि उत्तराखण्ड में किस प्रकार हम प्लास्टिक वेस्ट को कम करके रोजगार के नए अवसर पैदा कर सकते है। द्वितीय सत्र में तीर्थांकर महावीर विवि मुरादाबाद के कुलपति प्रो रघुवीर सिंह ने आउटकम बेस एजुकेशन पर गहन चर्चा की और नई शिक्षा नीति पर अपने विचार रखे। कार्यशाला का विशय न्यू ट्रेडस इन द फील्ड ऑफ कैमिस्ट्री इनवायरमेंट एवं शिक्षा नीति है। कार्यक्रम का संचालन डा तरुमय घोषाल ने किया। आज के सत्र में उपस्थित प्रतिभागियों का अभिनंदन कार्यशाला के समन्वय डा नवीन सिंघल ने किया।

कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल के स्वागत की तैयारियां पूरी

देहरादून। उत्तराखंड कांग्रेस के नवनियुक्त अध्यक्ष गणेश गोदियाल के स्वागत की तैयारियां पार्टी ने पूरी कर ली है। यह जानकारी देते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप और महामंत्री संगठन विजय सारस्वत और नवीन जोशी ने बताया कि भारी बारिश को देखते हुए पार्टी मुख्यालय में वाटर प्रूफ टेंट लगाया गया है और कांग्रेस मुख्यालय को झंडो और बड़े-बड़े बैनरों से सजाया गया है। कांग्रेस महामंत्री पीके अग्रवाल के सहयोग से पार्टी मुख्यालय में वाटर प्रूफ टेंट और झंडे और शहर भर में पार्टी की बड़ी संख्या में झंडियों और बैनर लगाए गए हंै। आज दिन भर पार्टी उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट और धीरेंद्र प्रताप, महासचिव विजय सारस्वत, पीके अग्रवाल, राजेंद्र शाह और नवीन जोशी और पार्टी प्रवक्ता मंथुरा दत जोशी पार्टी तैयारियों का जायजा लेते रहे और देर शाम तक पार्टी तैयारियों को अंजाम देने की कोशिश में लगे रहे। मौसम विभाग द्वारा भारी बारिश के अलर्ट को देखते हुए वाटर प्रूफ टेंट की व्यवस्था की गई है। जबकि राज्य भर से आने वाले पार्टी कार्यकर्ताओं के दोपहर के भोजन के लिए पुलाव की व्यवस्था की गई है। आज कांग्रेस सेवादल अध्यक्ष राजेश रस्तोगी भी पार्टी कार्यालय आए और सेवा दल की तैयारियों से पार्टी नेताओं को अवगत कराया। कल के कांग्रेस अध्यक्ष के देहरादून आगमन को देखते हुए बड़ी संख्या में राज्य भर से कार्यकर्ता आज दिन में ही पार्टी मुख्यालय में पहुंचने लगे और उनका उत्साह देखते ही बनता था। धीरेंद्र प्रताप और नवीन जोशी ने बताया की पार्टी की चुनाव अभियान समिति के नवनियुक्त अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, कांग्रेस के नए अध्यक्ष गणेश गोदियाल और प्रतिपक्ष के नए नेता प्रीतम सिंह का स्वागत ऐतिहासिक होगा और इस मौके पर राज्य भर से कई हजार लोगों के देहरादून आने की संभावना है।

एसजेवीएन के अध्‍यक्ष ने किया 14वीं मोबाइल मेडिकल यूनिट का लोकार्पण

देहरादून। एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नन्‍दलाल शर्मा ने शिमला तथा आसपास के इलाकों के लोगों के लिए एसजेवीएन फाउंडेशन की सीएसआर पहल-सतलुज संजीवनी सेवा के अंतर्गत निशुल्क चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए एसजेवीएन कारपोरेट मुख्यालय, शिमला में एक मोबाइल हेल्‍थ वैनका लोकार्पण किया। इस अवसर पर गीता कपूर निदेशक (कार्मिक)-सह-अध्‍यक्ष, एसजेवीएन फाऊंडेशन,अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उपस्थित रहीं। एकत्रित जनसमूह को संबोधित करते हुए नन्‍दलाल शर्मा ने कहा कि एसजेवीएन अपनी सामाजिक प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के प्रति सदैव वचनबद्ध है और अपने सीएसआर कार्यक्रमों के जरिए हितधारकों के जीवन की गुणवत्ता के उन्नयन के लिए प्रयासरत रहता है। स्थानीय समुदायों को 14 मोबाइल हेल्थ वैनों के जरिए उनके घरद्वार पर निरूशुल्क चिकित्सा परामर्श सुविधाएं और दवाइयां उपलब्ध करवाने के लिए सतलुज संजीवनी सेवा कार्यक्रम की शुरुआत एसजेवीएन सीएसआर फाउंडेशन के झंडे तले वर्ष 2012 में की गई। श्री शर्मा ने आगे बताया कि पहले से ही 13मोबाइल हेल्‍थ वैनें हिमाचल प्रदेश,उत्तराखंड, बिहार एवं महाराष्ट्र के 11 जिलों, 101 ग्राम पंचायतों तथा 197 सामुदायिक स्थानों को कवर करते हुए सेवाएं प्रदान कर रही हैं जिसके अंतर्गत नौ लाख से ज्यादा लोगों को उपचार सुविधाएं प्रदान की जा चुकी हैं। प्रत्येक मोबाइल हेल्थ वैन में एक डॉक्टर, फार्मासिस्ट तथा सहायक स्टाफ से युक्त एक क्वालिफाइड मेडिकल टीम होती है और यह बेसिक डायग्नोस्टिक परीक्षण उपकरणों से लैस होती है। एसजेवीएन फाउंडेशन कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में वित्तीय मदद देने सहित स्वास्थ्य देखभाल एवं स्वच्छता,शिक्षा एवं दक्षता विकास, समाज के कमजोर वर्गों के सशक्तिकरण, सततशील विकास, संस्कृति,विरासत एवं प्रसिद्ध स्थलों के संरक्षण एवं संवर्धन,खेलों के विकास, सशस्त्र बल के भूतपूर्व सैनिकों, सैनिक विधवाओं तथा उनके आश्रितों हेतु उपाय, कुदरती आपदाओंध्विपदाओं के दौरान राहत, अवसंराचनात्मक विकास, सामुदायिक विकास तथा ग्रामीण विकास के विभिन्न क्षेत्रों में कार्य कर रहा है। एसजेवीएन को नवोन्‍वेषी एवं सततशील सीएसआर पहलों की जरिए समाज पर सकारात्‍मक प्रभाव डालने के प्रति किए गए इसके प्रयासों के सम्‍मान स्‍वरूप कई प्रतिष्ठित पुरस्‍कार प्रदान किए गए हैं। कंपनी को कोरोना वारियर्स की श्रेणी के अंतर्गत सीआईडीसी विश्‍वकर्मा अवार्ड-2021 से नवाजा गया है। इसके स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र में विभिन्‍न पहलों की शुरूआत करने के लिए हेल्‍पएज इंडिया द्वारा ‘’गोल्‍ड प्‍लेट अवार्ड‘’से भी नवाजा गया है।

दिल को सुकून पहुंचाता है चैकोरी का नजारा

देहरादून। हिमालय के हृदय स्थल में बसा उत्तराखंड का चैकोरी प्रकृति प्रेमियों के लिए जन्नत से कम नहीं है। चैकोरी उन खास स्थानों में से एक है जहां प्रकृति प्रेमी अपनी कल्पनाओं को हकीकत में बदल सकते हैं। विशाल हिमालय की अद्भुत पहाड़ियों और वनस्पतियों से घिरा कुमाऊं का यह हिल स्टेशन उत्तराखंड के चुनिंदा सबसे शानदार गंतव्यों में से एक है। देश की राजधानी दिल्ली से 530 किमी दूर उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले की बेरीनाग तहसील में स्थित चैकोरी एक छोटा सा पहाड़ी नगर है। समुद्र तल से 2010 मीटर की ऊंचाई में बसे चैकारी के उत्तर में तिब्बत और दक्षिण में तराई का क्षेत्र है। यह जगह भी पश्चिमी हिमालय की पर्वत श्रृंखला के पास स्थित है। विशाल हिमालय की अद्भुत पहाड़ियों और वनस्पतियां से घिरा चैकोरी अपनी सुंदरता से धार्मिक और साहसिक पर्यटक को बढ़ावा देने के साथ देश-दुनिया से आने वाले सैलानियों को मनोरम दृश्यों से आकर्षित करता है। यहां का हर नजारा दिल को सुकून पहुंचाता है। शांत शीतल हवा शरीर में नई सुफूर्ति का संचार करती है। चैकोरी में आने वाले पर्यटक उल्का देवी मंदिर में आकर नतमस्त करते हैं। जबकि घनसेरा देवी मंदिर में विभिन्न भगवानों की पत्थर पर बनी सुंदर नक्काशी पर्यटकों को भक्तिमय कर उठती है। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा, ‘‘उत्तराखंड अपनी नैसर्गिक सौंदर्य से देश-दुनिया के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है। शाही हिमालय, भव्य नंदा देवी, नंदा कोट और पंचाचुली शिखर का शानदार दृश्य चैकोरी की सुंदरता पर चार चांद लगाने का काम करते हैं। प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए यहां के पर्यटन स्थलों को विकसित करने के लिए सरकार की ओर से लगातार काम किया जा रहा है। कोविड संक्रमण के दौरान राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करते हुए सभी लोग उचित दूरी, मास्क व सेनेटाइजर का इस्तेताल करें।’’ पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने कहा, “हम उत्तराखंड में ऑफबीट लोकेशनों विकसित करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं। चैकोरी एक ऐसी जगह है, जहां वर्केशन की काफी संभावनाएं हैं और शहर की भागदौड़ जिन्दगी से छुटकारा पाते हुए शांत वातावरण मिलता है। हमारा पर्यटन सर्किट एक ऐसा कदम है जो इन गंतव्यों को लोकप्रिय बनाते हुए पर्यटकों को आकर्षित कर रहे हैं। जिससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी बल मिल रहा है। जिला पर्यटन अधिकारी अमित लोहानी ने बताया कि रोमांचक गतिविधियों का आनंद लेने के साथ हरी-भरी वनस्पतियों से घिरी पहाड़ियों में नेचर वॉक कर आप अपनी छुट्टियों का आरामदायक अनुभव ले सकते हैं। जबकि यहां साहसिक खेलों, जल क्रीडा के साथ साइकिलिंग का भी लुप्त उठा सकते हैं। इसके अलावा आप यहां के गांवों का भ्रमण कर कुमाऊंनी कला, संस्कृति और परंपराओं से रूबरू हो सकते हैं। चैकोरी के आस-पास की प्राकृतिक सुंदरता देखते ही बनती है। हरे जंगलों और सदाबहार चरागाहों के साथ काफी आंनदमयी है। चैकोरी से त्रिशूल, चैखंबा नंदा देवी, नंदा कोट और पंचचुली शिखर के अदभुत प्रेरणादायक दृश्य नजर आता है।

उपनल करेगा नौकरियों की बंदरबांट सरकार के इशारे परः मोर्चा

-100 अवर अभियंताओं की नियुक्तियां होनी है उपनल के माध्यम से -राज्य जल एवं स्वच्छता मिशन ने भेजा अधियाचन उपनल को -तिगड़मबाज पहुंच वालों ने पहले ही हासिल कर ली है नौकरी -उपनल के माध्यम से होनी है मात्र रस्म अदायगी -रस्म अदायगी बंद कर किसी चयन आयोग से विधिवत संपन्न कराएं परीक्षा विकासनगर। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि सरकार द्वारा जल जीवन मिशन के तहत जून 2021 को 100 अवर अभियंताओं के पद सृजित किए गए तथा शासन के निर्देश के क्रम में राज्य जल एवं स्वच्छता मिशन विभाग ने इन पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया शुरू कराने को लेकर अधियाचन उपनल को प्रेषित किया है, जिसमें बहुत जल्द उपनल प्रक्रिया संपन्न कर युवाओं को प्रायोजित कर देगा, जिनमें से 55 अवर अभियंता जल संस्थान एवं 45 पेयजल निगम में नियुक्त किए जाएंगे द्य नेगी ने कहा कि बड़े दुर्भाग्य की बात है कि अवर अभियंता जैसे महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया हेतु उपनल जैसे गैर- जिम्मेदार विभाग को जिम्मेदारी देकर सरकार ने सिफारिश विहीन व योग्य युवाओं को छलने का काम किया है द्य उपनल ने आज तक आरक्षित वर्ग के हजारों युवाओं को भी शासनादेश के सापेक्ष प्रायोजित करने के बजाए खास पहुंच वालों को ही फायदा पहुंचाया है द्य उपनल के माध्यम से सरकार अपने खासमखास यानी ऊंची पहुंच रखने वाले युवाओं को नौकरी देगी। वैसे तो ये नियुक्ति प्रक्रिया मात्र रस्म अदायगी भर है द्य सूत्रों की माने तो नियुक्तयां तो भीतर खाने पहले ही हो चुकी हैं। नेगी ने कहा कि इस कृत्य से प्रदेश के सिफारिश विहीन युवाओं के साथ बहुत बड़ा अन्याय किया जा रहा है। अगर नियुक्ति प्रक्रिया उपनल जैसे निगमों से ही होनी है तो इन चयन आयोगों का क्या महत्व रह जाता है। मोर्चा सरकार से मांग करता है कि इन पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया हेतु उपनल के स्थान पर किसी जिम्मेदार आयोग से परीक्षाध्नियुक्ति प्रक्रिया संपन्न कराए।

Featured Post

कोरोना काल के पश्चात राफ्टिंग का प्रारंभ होना बेहद सुखदः महाराज

ऋषिकेश। पर्यटन व्यवसाय से जुड़े 15 हजार लोगों को पर्यटन विभाग की ओर से अब तक 7 करोड़ की धनराशि वितरित की जा चुकी है। उक्त बात गंगा नदी राफ...