Saturday, 29 February 2020

उपनल के 16वें स्थापना दिवस कार्यक्रम में प्रतिभाग किया

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को केंट रोड देहरादून में उपनल द्वारा आयोजित 16 वें स्थापना दिवस कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने एक्स सर्विसमेन एवं उनके आश्रित्रों के इन्रोलमेंट लिंक को लॉंच किया एवं उपनल की सूचनाओं की बुकलेट का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य सरकार का सैनिकों के प्रति विशेष लगाव है। पिछले 03 साल में राज्य सरकार ने सैन्य परिवारों को तमाम सुविधाएं देने का प्रयास किया है। शहीद सैनिकों के आश्रितों को उनकी शैक्षिक योग्यता के आधार पर राज्याधीन सेवाओं में सेवायोजित किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री आवास एवं सचिवालय में सैनिकों के प्रवेश के लिए उनके आई कार्ड को मान्यता दे दी गयी है। अब कोई भी सैनिक अपना आई कार्ड दिखा कर सचिवालय में प्रवेश कर सकेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा परम विशिष्ट सेवा मेडल प्राप्त सैनिकों को दी जाने वाली धनराशि को 15 हजार से बढ़ाकर 2 लाख रूपये किया गया है। इसी प्रकार अति विशिष्ट सेवा मेडल की धनराशि को भी 7 हजार से बढ़ाकर 1 लाख 50 हजार किया गया है। सेना मेडल प्राप्त सैनिकों को 1 लाख रूपये दिए जाएंगे। इसी प्रकार विशिष्ट सेवा मेडल प्राप्त सैनिक को दी जाने वाली धनराशि को 3 हजार से बढ़ाकर 75 हजार किया गया है।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल, विधायक गणेश जोशी, मेजर जनरल राजेन्द्र सिंह ठाकुर, मैनेजिंग डायरेक्टर उपनल (रिटा.) ब्रिगेडियर पी.पी.एस पाहवा एवं सैन्य अधिकारी उपस्थित थे।  

डेंगू नियंत्रण उपायों पर बैइक 2 मार्च को

देहरादून। आगामी 2 मार्च को सांय 04 बजे जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में डेंगू नियंत्रण रोकथाम उपायों पर अन्तर्विभागीय समन्वय बैठक आयोजित की जायेगी। जिलाधिकारी ने सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को पूर्ण तैयारियों के साथ बैठक में उपस्थित होने के निर्देश दिये।

फ्रांस के राजदूत ने की सीएम से भेंट

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से शनिवार को मुख्यमंत्री आवास में भारत में फ्रांस के राजदूत एमानुवेल लिनेन ने शिष्टाचार भेंट की। उन्होंने मुख्यमंत्री से विभिन्न समसामयिक विषयो पर चर्चा की। फ्रांस के राजदूत ने मुख्यमंत्री से प्रदेश में शिक्षा, स्मार्ट सिटी, मेट्रो, एडवेंचर एक्टिविटी, वैलनेस एवं रोपवे के क्षेत्र में सहयोग की इच्छा जताई।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य सरकार का ग्राम्य विकास, पेयजल, स्मार्ट सिटी रोपवे, सीवरेज एंव पर्यटन के विकास पर विशेष ध्यान है। इस अवसर पर फ्रांस एम्बेसी की डिप्टी डायरेक्टर एएफडी क्लीमेंस विडल, भारत में फ्रांस एम्बेसी के पॉलिटिकल काउंसलर रोमेन ओटल, सचिव वित्त अमित नेगी, प्रभारी सचिव एस.ए. मुरूगेशन, मुख्यमंत्री के आर्थिक सलाहकार आलोक भट्ट आदि उपस्थित थे।

विभिन्न संस्थानों के लिए धनराशि स्वीकृत की

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के विशेष प्रयासों से प्रधानमंत्री सहभागिता योजना के तहत राजकीय पॉलीटेक्निक जसोवाला विकासनगर के फेस 02 के भवन निर्माण हेतु रू0 6.24 करोड़ तथा विकासनगर डिग्री कॉलेज के सांइस ब्लॉक के निर्माण हेतु रू0 3.52 करोड़ की निर्गत कर दी गई हैं। यह जानकारी देते हुए निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण सुरेश जोशी ने बताया कि इसी योजना के तहत रू0 11.42 करोड़ की धनराशि राजकीय पॉलीटेक्निक बलस्वागांज हरिद्वार के भवन निर्माण हेतु भी शीघ्र स्वीकृत की जायेगी।

ई-चालान ऐप एवं उत्तराखण्ड ट्रैफिक आई ऐप लॉच किया


 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को पुलिस लाईन, देहरादून में सड़क सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम-2020 में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने ई-चालान ऐप एवं उत्तराखण्ड ट्रैफिक आई ऐप को लॉच किया। इस व्यवस्था के शुरू होते ही प्रदेश के सभी 13 जनपदों में ई-चालान व्यवस्था शुरू हो गई है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने राज्य के सभी जनपदों के लिए इन्टरसेप्टर भी रवाना किये। मुख्यमंत्री के समक्ष ई-चालान के लिए यातायात निदेशक केवल खुराना एवं एसबीआई के डीजीएम बी.एल सैनी ने एमओयू हस्ताक्षरित किया। ई-चालान व्यवस्था लागू होने से यह भी पता चल सकेगा कि किस व्यक्ति का नियमों का उल्लंघन करते हुए कितनी बार चालान काटा गया है। किसी व्यक्ति का तीन बार चालान कटने के उपरान्त ड्राइविंग लाइसेंस भी निरस्त हो जायेगा।  

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि यातायात के नियमों का पालन करना सभी की जिम्मेदारी है। सड़क सुरक्षा के लिए निरन्तर जागरूकता कार्यक्रम चलाना जरूरी है। यातायात का उल्लंघन करने वालों पर पुलिस द्वारा सख्ती बरतने पर पिछले एक साल में दुर्घटनाओं की संख्या में कमी आई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यातायात के नियमों के पालन हेतु सबको अनुशासित होना होगा। पुलिस का उद्देश्य चालान काटना नहीं, बल्कि लोगों की जीवन की रक्षा करना है। उन्होंने कहा कि नियमों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई की जाय। उन्होंने कहा कि चालान एवं दंड नियमों के पालन में सहायक तो हो सकते हैं, परन्तु अनुशासन ही दुर्घटनाओं से बचाव का एकमात्र रास्ता है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि देहरादून में यातायात व्यवस्थाओं के लिए पुलिस विभाग को 20 और वाहनों को स्वीकृति दी गई है।

पुलिस महानिदेशक श्री अनिल कुमार रतूड़ी ने कहा कि पुलिस का कार्य अनुशासन के साथ कठिन परिस्थितियों एवं चुनौतियों से निपटने का होता हैं जनता की सुरक्षा की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी पुलिस की होती है। किसी भी व्यवस्था का मूल उद्देश्य लोगों के जीवन स्तर को बेहतर बनाना है। पुलिस का उद्देश्य चालान काटना नहीं बल्कि लोगों के जीवन की रक्षा करना है। उत्तराखण्ड में प्रतिवर्ष लगभग 05 करोड़ लोग उत्तराखण्ड आते हैं। पर्यटन से उत्तराखण्ड की आर्थिकी में सुधार होता है। जो पर्यटक उत्तराखण्ड आते हैं, उससे भी प्रदेश में वाहनों की संख्या काफी बढ़ती है। ई-चालान व्यवस्था से जहां कम मानव संसाधन की जरूरत होगी, वहीं यातायात के नियमों का उल्लंघन करने वालों का ऑनलाईन चालान काटा जायेगा। उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा को लेकर अभी और जागरूकता की जरूरत है। पिछले एक वर्ष में यातायात के नियमों का उल्लंघन करने पर 14 लाख चालान किये गये। इस अवसर पर विधायक हरबंस कपूर, विनोद चमोली, 20 सूत्रीय कार्यक्रम के उपाध्यक्ष नरेश बंसल, डीजी कानून एवं व्यवस्था अशोक कुमार, निदेशक यातायात केवल खुराना, डीआईजी अरूण मोहन जोशी एवं पुलिस एवं एसबीआई के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।    

चाइल्ड फ्रेंडली और क्म्यूट फ्रेंडली ट्रांसपोर्ट परियोजना का शुभारम्भ किया


देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को आईएसबीटी के निकट स्थानीय होटल में देहरादून स्मार्ट सिटी लि. की चाइल्ड फ्रेंडली और क्म्यूट फ्रेंडली ट्रांसपोर्ट परियोजना का औपचारिक शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी, भारत में फ्रांस के राजदूत एमानुवेल लिनेन, मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायक हरबंस कपूर, विनोद चमोली, सहदेव सिंह पुण्डीर ने बच्चों के साथ दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।  

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि देहरादून देश का पहला शहर है, जहां से चाइल्ड फ्रेंडली शहर की शुरूआत हो रही है। यह उत्तराखण्ड के लिए सम्मान की बात है। सम्मानजनक होने के साथ-साथ, यह चुनौतीपूर्ण भी है। उन्होंने कहा कि संवेदनाओं की पराकाष्ठाओं से ही कैलाश सत्यार्थी जैसे लोग पैदा होते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि  कोई शहर तभी स्मार्ट हो सकता है, जहां बच्चों की सुरक्षा हमारा उद्देश्य होना चाहिए। इसके लिए हम सबको मिलकर प्रयास करने होंगे। देहरादून स्मार्ट सिटी की चाईल्ड फ्रेंडली और कम्यूट फ्रेंडली ट्रांसपोर्ट परियोजना, शहर में बच्चों के लिए सुरक्षित यातायात उपलब्ध कराने में निश्चित रूप से सफल होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों के प्रति दोस्ताना व्यवहार रखने की आवश्यकता है।  राज्य सरकार भी बच्चों के प्रति संवेदनशील है। राज्य सरकार द्वारा अनाथ बच्चों के लिए 5 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गयी है। इसके साथ ही प्रदेश में मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना प्रारम्भ की जा रही है। इस परियोजना की सफलता के लिए राज्य सरकार द्वारा पंचायत स्तर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जाएंगे। बच्चों की सुरक्षा का हम आज से ही संकल्प लेना होगा। इसकी शुरूवात स्वयं से करना जरूरी है।

शांति नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि मैं जब भी उत्तराखण्ड आता हूं, ऐसा लगता है कि यहां की हवाओं में  ऋषि परम्परा एवं अध्यात्म की चेतना गूंज रही है। बाल मित्र देहरादून का सपना यही ऋषि परम्परा है। उत्तराखण्ड सरकार ने यह कदम रखकर बड़ी जिम्मेदारी उठा ली है। इस जिम्मेदारी का निर्वहन सरकार के साथ ही समाज, विभिन्न संस्थानों एवं मीडिया को मिलकर करना होगा। इस जिम्मेदारी को अंजाम तक पहुंचाने के लिए बहुत परिश्रम की आवश्यकता है। बाल अधिकारों  की रक्षा एवं बाल श्रम के विरूद्ध हमें मजबूती के साथ खड़ा होना होगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए ईश्वर हमें प्रेरणा देता है।  उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि मैं बच्चों को आजाद नहीं कराता, बल्कि वे मुझे आजाद कराते हैं। जब तक हम ऐसी दुनिया का निर्माण नहीं करते जहां बच्चों में मित्रता का भाव न हो, तब तक हमारी सभ्यता में कहीं न कहीं खोट है। कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि हमारे मन में ईमानदारी, करूणा एवं क्षमा का भाव होना जरूरी है।

मेयर श्री सुनील उनियाल गामा ने कहा कि देहरादून तेजी से स्मार्ट सिटी की ओर बढ़ रहा है। स्मार्ट सिटी के अंतर्गत देहरादून देशभर में 19वीं रैंक पर है। उन्होंने कहा कि देहरादून को स्वच्छ एवं सुन्दर बनाने में आप सब के सहयोग की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि प्रदेशभर में बच्चों के लिए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र द्वारा अनेक कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं। कुपोषण से मुक्ति हेतु बच्चों को गोद लेने की प्रथा शुरू की गयी है। इसके साथ ही ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ‘ द्वारा प्रदेश में बालिकाओं की स्थिति में सुधार हुआ है। इस अवसर पर मिशन डायरेक्टर स्मार्ट सिटी भारत सरकार कुनाल कुमार, सचिव शहरी विकास शैलेश बगोली, कमिश्नर गढ़वाल रविनाथ रमन एवं जिलाधिकारी एवं सीईओ स्मार्ट सिटी आशीष श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।

चाइल्ड फ्रेंडली और क्म्यूट फ्रेंडली ट्रांसपोर्ट परियोजना का शुभारम्भ किया


देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को आईएसबीटी के निकट स्थानीय होटल में देहरादून स्मार्ट सिटी लि. की चाइल्ड फ्रेंडली और क्म्यूट फ्रेंडली ट्रांसपोर्ट परियोजना का औपचारिक शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी, भारत में फ्रांस के राजदूत एमानुवेल लिनेन, मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायक हरबंस कपूर, विनोद चमोली, सहदेव सिंह पुण्डीर ने बच्चों के साथ दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।  

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि देहरादून देश का पहला शहर है, जहां से चाइल्ड फ्रेंडली शहर की शुरूआत हो रही है। यह उत्तराखण्ड के लिए सम्मान की बात है। सम्मानजनक होने के साथ-साथ, यह चुनौतीपूर्ण भी है। उन्होंने कहा कि संवेदनाओं की पराकाष्ठाओं से ही कैलाश सत्यार्थी जैसे लोग पैदा होते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि  कोई शहर तभी स्मार्ट हो सकता है, जहां बच्चों की सुरक्षा हमारा उद्देश्य होना चाहिए। इसके लिए हम सबको मिलकर प्रयास करने होंगे। देहरादून स्मार्ट सिटी की चाईल्ड फ्रेंडली और कम्यूट फ्रेंडली ट्रांसपोर्ट परियोजना, शहर में बच्चों के लिए सुरक्षित यातायात उपलब्ध कराने में निश्चित रूप से सफल होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों के प्रति दोस्ताना व्यवहार रखने की आवश्यकता है।  राज्य सरकार भी बच्चों के प्रति संवेदनशील है। राज्य सरकार द्वारा अनाथ बच्चों के लिए 5 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गयी है। इसके साथ ही प्रदेश में मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना प्रारम्भ की जा रही है। इस परियोजना की सफलता के लिए राज्य सरकार द्वारा पंचायत स्तर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जाएंगे। बच्चों की सुरक्षा का हम आज से ही संकल्प लेना होगा। इसकी शुरूवात स्वयं से करना जरूरी है।

शांति नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि मैं जब भी उत्तराखण्ड आता हूं, ऐसा लगता है कि यहां की हवाओं में  ऋषि परम्परा एवं अध्यात्म की चेतना गूंज रही है। बाल मित्र देहरादून का सपना यही ऋषि परम्परा है। उत्तराखण्ड सरकार ने यह कदम रखकर बड़ी जिम्मेदारी उठा ली है। इस जिम्मेदारी का निर्वहन सरकार के साथ ही समाज, विभिन्न संस्थानों एवं मीडिया को मिलकर करना होगा। इस जिम्मेदारी को अंजाम तक पहुंचाने के लिए बहुत परिश्रम की आवश्यकता है। बाल अधिकारों  की रक्षा एवं बाल श्रम के विरूद्ध हमें मजबूती के साथ खड़ा होना होगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए ईश्वर हमें प्रेरणा देता है।  उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि मैं बच्चों को आजाद नहीं कराता, बल्कि वे मुझे आजाद कराते हैं। जब तक हम ऐसी दुनिया का निर्माण नहीं करते जहां बच्चों में मित्रता का भाव न हो, तब तक हमारी सभ्यता में कहीं न कहीं खोट है। कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि हमारे मन में ईमानदारी, करूणा एवं क्षमा का भाव होना जरूरी है।

मेयर श्री सुनील उनियाल गामा ने कहा कि देहरादून तेजी से स्मार्ट सिटी की ओर बढ़ रहा है। स्मार्ट सिटी के अंतर्गत देहरादून देशभर में 19वीं रैंक पर है। उन्होंने कहा कि देहरादून को स्वच्छ एवं सुन्दर बनाने में आप सब के सहयोग की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि प्रदेशभर में बच्चों के लिए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र द्वारा अनेक कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं। कुपोषण से मुक्ति हेतु बच्चों को गोद लेने की प्रथा शुरू की गयी है। इसके साथ ही ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ‘ द्वारा प्रदेश में बालिकाओं की स्थिति में सुधार हुआ है। इस अवसर पर मिशन डायरेक्टर स्मार्ट सिटी भारत सरकार कुनाल कुमार, सचिव शहरी विकास शैलेश बगोली, कमिश्नर गढ़वाल रविनाथ रमन एवं जिलाधिकारी एवं सीईओ स्मार्ट सिटी आशीष श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।

देवप्रयाग संगम पर गंगा पूजन को पहुंचे मुख्य न्यायाधीश नदी में गिरने से बाल-बाल बचे

देहरादून। देवप्रयाग तीर्थ में संगम स्थल पर गंगा पूजन के लिए पहुंचे उत्तराखंड के मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन का पांव अचानक फिसल गया। साथ चल रहे सीओ प्रमोद शाह ने उन्हें तुरंत पकड़कर संभाला। जिससे वह नदी में गिरने से बाल-बाल बच गए।

शनिवार को मुख्य न्यायाधीश आर रंगनाथन अपनी पत्नी के साथ देवप्रयाग तीर्थ दर्शन को पहुंचे। दक्षिण भारत में भगवान रघुनाथ की विशेष महत्ता के चलते उन्होंने श्रीरघुनाथ मंदिर में पूजा अर्चना कर मुख्य पुजारी सोमनाथ भट्ट से आदिगुरु शंकराचार्य और मंदिर के बारे में जाना। उसके बाद वह संगम स्थल पर गंगा पूजन और दर्शन के लिए गए। पूजा के लिए जैसे ही वह गंगा नदी की ओर बढ़े तो उनका पांव फिसल गया। सीओ नरेंद्रनगर प्रमोद शाह ने उन्हें थाम लिया।

दिल्ली दंगे में दिवंगत हुए पौड़ी निवासी दिलवर सिंह के परिजनों को सीएम ने दी 5 लाख रु की आर्थिक सहायता 

देहरादून। दिल्ली दंगे में दिवंगत हुए पौड़ी निवासी दिलवर सिंह के परिजनों को मुख्यमंत्री ने दी 5 लाख रूपये की आर्थिक सहायता। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने जनपद पौड़ी के तहसील चाकीसैंण के ग्राम रोखड़ा निवासी स्व. दिलवर सिंह के परिजनों को 5 लाख रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने दिल्ली के दंगो में हुई दिलवर सिंह की आकस्मिक मृत्यु पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने मृत आत्मा की शान्ति तथा उनके शोक संतप्त परिजनों को इस दुःख को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है। मुख्यमंत्री दिलवर सिंह के परिजनों की कमजोर आर्थिक स्थिति के दृष्टिगत रूपये 5 लाख की आर्थिक सहायता भी प्रदान की है।

लापता जवान राजेंद्र सिंह की पत्नी को आर्थिक सहायता का चैक प्रदान किया  


 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के विशेषकार्याधिकारी धीरेन्द्र पंवार एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण परिषद् के उपाध्यक्ष खेमसिंह पाल ने शनिवार को 11वीं गढ़वाल राइफल्स के लापता जवान हवलदार राजेंद्र सिंह के आवास पर जाकर उनके परिवार की कुशल क्षेम पूछी। विशेषकार्याधिकारी श्री पंवार ने लापता जवान हवलदार राजेन्द्र सिंह की पत्नी को आर्थिक सहायता का चैक देते हुए कहा कि सरकार हवलदार राजेंद्र सिंह के परिवार की हरसंभव मदद करेगी।

ज्ञातव्य हो कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत 11 फरवरी को देहरादून स्थित सैन्य अस्पताल में भर्ती 11वीं गढ़वाल राइफल्स के लापता जवान हवलदार राजेंद्र सिंह की पत्नी की कुशल क्षेम पूछने भी पहुंचे थे। मुख्यमंत्री ने हवलदार राजेन्द्र सिंह की पत्नी को ढांढ़स बंधाते हुए कहा कि रक्षामंत्री से मुलाकात करते हुए उनके समक्ष इस मुद्दे को गंभीरता से उठाया गया था। उन्होंने कहा कि हवलदार राजेन्द्र सिंह के वेतन को पुनः शुरू किए जाने का भी अनुरोध किया गया था।

पीनट बटर सेहत के लिए खासा फायदेमंद


देहरादून। पीनट बटर खाने में जितना लज़िज़ होता है तो उतना ही ये आपकी सेहत के लिए भी बहुत ज्यादा फायदेमंद है और इसमें कई सारे पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसमें पोटेशियम के साथ साथ मैगनीशियम और अन्यस कई तत्वों से भरपूर यह पीनट बटर कई गंभीर बीमारियों से भी बचाता है। खाने के मामले में बच्चे बड़े सभी लोग शौकिन होते हैं, तो ऐसे में पीनट बटर आपकी मदद कर सकता है और जैली सैंडविच में पीनट बटर को मिलाकर बच्चे खूब पसंद से खाते हैं। काफी सारे लोगों के दिमाग में यह गलत बात बैठ गई है कि बटर खाने से मोटापा आपको घेर लेगा। हर खाने की चीज को कैलरी के हिसाब से तौलना बिल्कुल भी सही बात नहीं है। वैसे आप आपकी सेहत के प्रति फिक्रमंद जरूर रहें लेकिन जो पोषण तत्व होते हैं उन्हें अपने डायट से बिल्कुल भी नज़रअंदाज़ कभी भी नही करना चाहिए। पीनट बटर जिसे हम हिन्दी में मूंगफली का मक्खन कहते हैं यह आम मक्खन से भी बहुत ज्यादा टेस्टी होता है। इसमें पोटेशियम की मात्रा अधिक होती है। ज्यादातर लोग सोडियम का इस्तेमाल बेहद ज्यादा करते हैं। पीनट बटर में पोटेशियम की मात्रा काफी ज्यादा होती है और पोटेशियम सोडियम के खतरे को कम करने में यह काफी ज्यादा मददगार होता है।


पीनट बटर के फायदे


पीनट बटर में प्रोटीन बहुत ज्यादा होता है।
इसके अलावा इसमें अनसेचुरेटेड फैट होता है।
पीनट बटर एंटी ऑक्सीडेंट होता है जो आपके लिए बहुत हेल्दी है।
पीनट बटर में कार्बोहाइड्रेट भी ज्यादा होता है।
अल्जाइमर की बीमारी में भी पीनट बटर फायदेमंद होता है।


अन्तर्विभागीय एथलेटिक्स मीट का आयोजन 29 मार्च को होगा 

देहरादून। सचिवालय एथलेटिक्स एण्ड फिटनैस क्लब की एक आवश्यक बैठक क्लब के अध्यक्ष जीएस भाकुनी के कार्यालय कक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक में लिए गये निर्णयानुसार क्लब द्वारा 29 मार्च को प्रथम एक दिवसीय अन्तर्विभागीय एथलेटिक्स मीट का आयोजन महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज रायपुर देहरादून में आयोजित किया जाना प्रस्तावित है।

 इस प्रतियोगिता में कुल 10 प्रतिस्पर्धाएं आयोजित की जायेंगी। पहले आओ के आधार पर देहरादून में स्थित विभागीय मुख्यालय एवं देहरादून परिक्षेत्र में कार्यरत महिला एवं पुरूष कर्मचारी खिलाड़ी प्रतिभाग कर सकते हैं प्रतिस्पर्धा आयु समूह 40 वर्ष से कम, 40 वर्ष से अधिक एवं 50 वर्ष से अधिक वर्ग में होनी है। एक खिलाड़ी अधिकतम 03 प्रतिस्पर्धाओं में प्रतिभाग कर सकता है। तीनों प्रतिस्पर्धाओं में स्वर्ण पदक प्राप्त खिलाड़ियां को चैम्पियनशिप एवं अधिकतम पदक प्राप्त विभाग को चल बेजयन्ती ट्राफी प्रदान किया जाना प्रस्तावित है। प्रतियोगिता के सम्बन्ध में विभागीय मुख्यालयों को पत्र प्रेषित कर दिये गये हैं। 

आईआईटी रुड़की में पद्मविभूषण डॉ. कस्तूरीरंगन के व्याख्यान से लाभान्वित हुए छात्र

रुड़की। आईआईटी रुड़की के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सभागार में  पद्मविभूषण डॉ. कृष्णस्वामी कस्तूरीरंगन के व्याख्यान का आयोजन किया गया। इस व्याख्यान का शीर्षक टूवार्ड्स ए 21स्ट सेंचुरी नॉलेज सोसाइटी था। इस व्याख्यान सत्र में 100 से अधिक छात्रों ने बड़े उत्साह के साथ भाग लिया। डॉ. कस्तूरीरंगन ने 21 वीं सदी के महत्वाकांक्षी लक्ष्यों के अनुरूप भारत को एक बौद्धिक समाज में बदलने से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि ऐसा समाज आर्थिक विकास और समृद्धि के लिए एक पथ-प्रदर्शक का काम करेगा।

“भारत जैसे विशाल और विविधता वाले समाज की प्रगति के लिए ज्ञान बहुत ही आवश्यक है। यह बहुत ही उपयुक्त समय है, क्योंकि नई पीढ़ी ये मानती है कि ज्ञान ही सच्चा धन है और लोगों से साझा करने से इसमें वृद्धि होती है। यह आईआईटी रुड़की के छात्रों और अध्यापकों के साथ एक शानदार शाम थी। मेरे लिए यह सम्मान की बात है कि मुझे 21 वीं सदी के समाज के लीडर बनने जा रहे युवाओं से बात करने का मौका मिला,” डॉ. कस्तूरीरंगन ने कहा। डॉ. कस्तूरीरंगन को वर्तमान केंद्र सरकार द्वारा नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का मसौदा तैयार करने के लिए गठित समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। वर्तमान में, वह इंटर-यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स (आईयूसीएए), पुणे के गवर्निंग बोर्ड के अध्यक्ष, राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय के चांसलर, एनआईआईटी विश्वविद्यालय नीमराना के अध्यक्ष, परमाणु ऊर्जा आयोग के सदस्य, एनआईएएस, बैंगलोर में एमेरिटस प्रोफेसर और इसरो में विशिष्ट सलाहकार के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। साथ ही वे भारत के सभी चार प्रमुख विज्ञान और इंजीनियरिंग अकादमियों के फेलो सहित कई अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय विज्ञान अकादमियों के सदस्य भी हैं।

आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स के देहरादून केंद्र ने पूरा किया एक वर्ष का सफर, 500 युवाओं को किया प्रशिक्षित

 -जॉब प्लेसमेंट का विकल्प चुनने वाले सभी छात्रों को प्रशिक्षण के सफल समापन पर मिला उपयुक्त रोजगार

 

देहरादून। आईसीआईसीआई फाउंडेशन फॉर इनक्लूसिव ग्रोथ (आईसीआईसीआई फाउंडेशन) द्वारा स्थापित आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स (आईसीआईसीआई एकेडमी) की स्थापना आथिज्क दृष्टि से कमजोर वर्ग के युवाओं को निशुल्क व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए की गई, ताकि उन्हें एक स्थायी आजीविका कमाने में मदद मिल सके। देहरादून में आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स सेंटर की स्थापना फरवरी, 2019 में की गई थी। इस केंद्र पर वंचित वगज् के लोगों को निशुल्क स्किल ट्रेनिंग दी जाती है। यहां 8 सप्ताह की अवधि वाला श्ऑफिस एडमिनिस्ट्रेशन का कोसज् उपलब्ध कराया जाता है। जिन लोगों ने कम से कम 10वीं कक्षा तक शिक्षा पूरी की है और जो 18-30 वर्ष की आयु के हैं, वे इस पाठ्यक्रम के लिए आवेदन कर सकते हैं। प्रशिक्षण के अलावा, आईसीआईसीआई अकादमी में प्रशिक्षुओं को पोशाक, भोजन और पाठ्यक्रम से जुड़ी सभी जरूरी सामग्री निशुल्क उपलब्ध करवाई जाती है।

स्थापना के बाद से आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स के देहरादून केंद्र ने अब तक लगभग 500 युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान किया है। एकेडमी ने श्ऑफिस एडमिनिस्ट्रेशनश् का कोसज् विकसित करने और ट्रेनिंग प्रदान करने के लिए टैली सॉल्यूशंस के साथ ज्ञान साझेदार के रूप में समझौता किया है। देहरादून केंद्र में प्रशिक्षित होने वाले छात्रों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए एकेडमी ने इंडस्ट्री पाटज्न के साथ भी साझेदारी की है। पीवीआर सिनेमा, एक्सिस सिक्योरिटीज, वेस्टसाइड (ट्रेंट लिमिटेड), ईजी डे (फ्यूचर ग्रुप), ब्रांड फैक्टरी, क्लब महिंद्रा जैसे संगठनों ने एकेडमी के ऐसे छात्रों को प्रशिक्षण के सफल समापन पर अपने यहां रोजगार प्रदान किया है, जिन्होंने जॉब प्लेसमेंट का विकल्प चुना था। आईसीआईसीआई फाउंडेशन फॉर इनक्लूसिव ग्रोथ के प्रेसीडेंट श्री सौरभ सिंह ने कहा, श्श्आईसीआईसीआई फाउंडेशन ने पिछले वषज् देहरादून में आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स (आईसीआईसीआई एकेडमी) का शुभारंभ किया था, ताकि वंचित वगज् के युवाओं को प्रासंगिक कौशल सिखाते हुए व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया जाए, जिसकी सहायता से वे स्थायी आजीविका अजिज्त कर सकें। देहरादून केंद्र ने अब तक लगभग 500 विद्याथिज्यों को निशुल्क प्रशिक्षण प्रदान किया है। इस कायज्क्रम की एक महत्वपूर्ण उपलब्धि यह है कि 100 फीसदी प्रशिक्षुओं को नौकरी के लिए चुना गया है, जिन्होंने विभिन्न संगठनों के साथ उपयुक्त रोजगार हासिल किया है। अक्टूबर, 2013 में अपनी स्थापना से लेकर अभी तक, आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स ने देश भर में 25 केंद्र स्थापित किए हैं। कौशल एकेडमी ने 1.34 लाख से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया है, जिनमें से 56,800 से अधिक महिलाएं हैं। एकेडमी का लक्ष्य वंचित युवाओं को 12 विधाओं में प्रासंगिक और व्यावहारिक प्रशिक्षण प्रदान करना है, जैसे बिक्री कौशल, कायाज्लय प्रशासन, विद्युत और घरेलू उपकरणों की मरम्मत, रेफ्रिजरेटर और एयर कंडीशनर की मरम्मत, सेंट्रल एयर कंडीशनिंग, पंप और मोटर मरम्मत, पेंट एप्लीकेशन तकनीक, ट्रैक्टर मैकेनिक, टू और थ्री व्हीलर सविज्स तकनीशियन, रिटेल सेल्स, असिस्टेंट ब्यूटी थेरेपिस्ट और होम हेल्थ एड। सभी छात्रों को शिष्टाचार और कलात्मक समझ, संचार, वित्त जैसे विशिष्ट जीवन कौशल में भी निष्णात किया जाता है जो उन्हें संगठित उद्योग के माहौल के अनुकूल बनाने में मदद करते हैं। प्रशिक्षण के अलावा, आईसीआईसीआई अकादमी में प्रशिक्षुओं को पोशाक, भोजन और पाठ्यक्रम से जुड़ी सभी जरूरी सामग्री उपलब्ध करवाई जाती है। आईसीआईसीआई एकेडमी, क्षेत्र विशेष की जरूरतों के आधार पर कई चैनलों के माध्यम से लक्षित क्षेत्र तक अपनी पहुंच बनाती है। इसमें विभिन्न समुदायों में जागरूकता कायज्क्रम आयोजित करना, राज्य के विभिन्न हिस्सों में युवा परामशज् सत्र की व्यवस्था करना, राज्य सरकार की मदद लेना, उम्मीदवारों को संगठित करना, एनजीओ से सहायता लेना, संदभोज का मूल्यांकन करना और नियोक्ताओं के संदभज् के साथ उम्मीदवारों के लिए वॉक-इन का आयोजन करना शामिल है।

हरेला पर्व पर रहेगा सार्वजनिक अवकाश, सीएम त्रिवेन्द्र ने दी स्वीकृति

-16 जुलाई को हरेला पर्व पर पूरे राज्य में किया जाएगा व्यापक स्तर पर पौधारोपण

 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने हरेला पर्व पर 16 जुलाई को सार्वजनिक अवकाश घोषित किए जाने पर स्वीकृति दी है। पूर्व में इसे निर्बन्धित अवकाश घोषित किया गया था। इस वर्ष 23 फरवरी को मुख्यमंत्री आवास में आयोजित मंथन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने हरेला पर्व पर पूरे राज्य में एक ही दिन में व्यापक वृक्षारोपण किए जाने के निर्देश दिए थे। इसके लिए हरेला पर निर्बन्धित अवकाश को सार्वजनिक अवकाश मे परिवर्तित किए जाने का निर्णय लिया गया था। अब हर साल हरेला पर्व पर सार्वजनिक अवकाश रहेगा। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि ‘‘हरेला पर्व हमें प्रकृति और पर्यावरण से जोड़ता है। पर्यावरण का संरक्षण उत्तराखण्ड की संस्कृति में रहा है। हरेला पर्व को सार्वजनिक अवकाश घोषित करने से लोग हरेला पर वृक्षारोपण में भागीदारी कर सकेंगे। सभी मिलकर हरियाली का उत्सव ‘हरेला’ उत्साह से मनाएंगे।’

उत्तराखंड मंे उपभोक्ता केसों का फैसला करने वालों के 38 प्रतिशत पद रिक्त

-ठप्प पड़ा है राज्य आयोेग तथा 3 जिला उपभोक्ता फोरमों का अदालती काम

 

देहरादून। उत्तराखंड मेें प्रदेश के उपभोक्ता केसों का फैसला करने वाले अधिकारियों के 38 प्रतिशत पद रिक्त हैैं। इससे राज्य की सबसे बड़ी अदालत व प्रदेश के सभी 13 जिला फोरमोें की अपील सुुनने वाले उपभोक्ता आयोेग तथा तीन जिलांे के जिला उपभोक्ता फोरमों का अदालती काम काज ठप्प है औैर उपभोेक्ताओं को न्याय नहीं मिल पा रहा हैै। यह खुलासा सूचना अधिकार अधिनियम के तहत राज्य उपभोक्ता आयोेग द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना से हुआ है। 

काशीपुर निवासी सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन (एडवोकेट) ने राज्य में उपभोक्ता फोरम व आयोग में उपभोक्ता केेसोें का फैसला करने वालेे अध्यक्ष व सदस्योें केे रिक्त पदों की सूचना मांगी थी। इसके उत्तर मंे राज्य उपभोक्ता आयोेग की लोक सूचना अधिकारी/प्रशासनिक अधिकारी वन्दना शर्मा नेे अपनेे पत्रांक 66 दिनांक 22 फरवरी 2020 से सूचना उपलब्ध करायी है। श्री नदीम को उपलब्ध सूचना के अनुसार राज्य में 13 जिला उपभोक्ता फोरमों में 14 पद तथा राज्य उपभोक्ता आयोेग में 2 पद रिक्त है जिसके कारण राज्य उपभोक्ता आयोेग तथा 3 जिलों में उपभोक्ता केसोें का फैसला नहीं हो पा रहा हैै। इसकेे कारण जहां प्रदेश भर के जिला फोरमों के आदेशोें की राज्य उपभोक्ता आयोग में लम्बित अपीलोें पर फैसला नहीं हो पा रहा है, वही 20 लाख से एक करोड़ तक के उपभोक्ता केसोें का आयोेग में फैसला नहीं हो पा रहा हैै। इसके अतिरिक्त कोरम पूरा न होने के कारण तीन जिलो में उपभोेक्ता केसों का फैसला नहीं हो पा रहा हैै। वर्तमान में केवल दो जिलों में ही उपभोक्ता फोरम सुचारू चल रहे है, शेष 8 जिलोें में भी सदस्य की रिक्ति केे कारण सुचारू रूप सेे उपभोक्ता फोरम नहीं चल पा रहे हैं। श्री नदीम को उपलब्ध सूचना के अनुसार राज्य उपभोक्ता आयोेग में उपभोक्ता केेसोें व अपीलों का फैसला 01 अगस्त 2019 से नहीं हो पा रहा हैै। आयोेग में 17 जुलाई 2019 से महिला सदस्य तथा 01 अगस्त 2019 से पुरूष सदस्य का पद रिक्त हैै।

उधमसिंह नगर जिले में 12 अक्टूबर 2019 से उपभोक्ता केस निपटारा महिला सदस्य का पद रिक्त होने से ठप्प हो गया है। यहां अध्यक्ष का पद 01 अप्रैल 2019 सेे रिक्त है। अल्मोड़ा जिले में 25 सितम्बर 2019 को महिला सदस्य का पद रिक्त होेने से उपभोक्ता केसों के फैसले नहीं हो रहे है। पुरूष सदस्य का पद 16 अप्रैल 2019 से रिक्त हैै। रूद्रप्रयाग जिले में 23 अक्टूबर 2018 से अदालती कार्य महिला सदस्य का पद रिक्त होने सेे ठप्प हो गया हैै जबकि पुरूष सदस्य का पद 09 जनवरी 2018 से ही रिक्त है। प्रदेश के अन्य 8 जिलों में भी सदस्योें के एक-एक पद रिक्त होनेे से उपभोेक्ता फोरमोें का कार्य सुचारू नहीं चल रहा हैै। इन फोरमों में किसी एक सदस्य या अध्यक्ष केे अवकाश पर होनेे या अध्यक्ष व सदस्य केे मत में अंतर होने पर फैसला नहीं हो सकता हैै। प्रदेश केे जिन अन्य 8 जिला उपभोक्ता फोरमोें में सदस्यों के पद रिक्त हैै उनमें पिथौैरागढ़ में 2 मार्च 2018 से, नैैनीताल में 17 अप्रैल 2019, देहरादून में 27 मई 2019, टिहरी गढ़वाल में 21 सितम्बर 2019, पौड़ी गढ़वाल में 18 नवम्बर 2019, चमोली में 09 जनवरी 2020 से महिला सदस्योें केे पद रिक्त है। चम्पावत में 24 अप्रैल 2019, उत्तरकाशी में 25 सितम्बर 2019 से पुरूष सदस्योें के पद रिक्त चल रहे हंै। 

पीओके डॉक्यूमेंट्री सांग के निर्माता निर्देशक विजय भारद्वाज को सम्मानित किया 

देहरादून। देहरादून स्थित राजभवन में पीओके डॉक्यूमेंट्री सांग के निर्माता निर्देशक विजय भारद्वाज को सम्मानित किया गया। विजय भारद्वाज वर्ष 2005 से कला संस्कृति के क्षेत्र में कार्य करते आ रहे हैं। देशभर के अनाथ बच्चों को भी उनके द्वारा नेशनल चैनल पर अपनी कला दिखाने का मौका दिया गया। विजय भारद्वाज के ऊपर पूरे देश को गर्व है। उन्हें देश के लिए उल्लेखनीय योगदान के लिए विशिष्ट सम्मान से सम्मानित किया गया। उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, उत्तराखंड विधानसभा स्पीकर प्रेमचंद्र अग्रवाल एवं दायित्वधारी नरेश बंसल ने सर्टिफिकेट और शील्ड देकर उनको सम्मानित किया। कुछ ही दिनों के भीतर लाखों लोगों ने उनके इस गीत को पसंद और शेयर किया। इस गीत की वजह से पाकिस्तान से भी धमकी आई। यह कार्यक्रम अर्पित फाउंडेशन के द्वारा कारगिल, पुलवामा के शहीद जवानों की शहादत की याद में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन अर्पित फाउंडेशन के अध्यक्ष हनी पाठक द्वारा करवाया गया। इस कार्यक्रम में बाल कलाकार रोहतक हरियाणा के यूकेश मलिक, दिल्ली के प्रमुख समाज सेवक नरेश गुप्ता आदि उपस्थित रहे। 

राजभवन क्यों नहीं चला रहा फॉरेस्ट गार्ड भर्ती मामले में सरकार पर चाबुकः मोर्चा 

देहरादून। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि प्रदेश सरकार की प्रशासनिक अक्षमताओं एवं नकारापन की वजह से प्रदेश के हजारों फॉरेस्ट गार्ड भर्ती परीक्षा में प्रतिभाग करने वाले अभ्यर्थियों के साथ सरकार द्वारा छल करने का काम किया गया है। नेगी ने कहा कि ऐसा संभव ही नहीं है कि इस मामले में सरकार का कोई गुर्गा शामिल ना हो। उक्त पेपर लीक होने से स्पष्ट हो गया है कि सरकार में ईमानदार लोगों के लिए कोई जगह नहीं है, सिर्फ और सिर्फ माफिया और जालसाजों का राज है। नेगी ने कहा कि कई दिनों से प्रदेश के हजारों युवा भर्ती घोटाले ध्पेपर लीक मामले में आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की। प्रदेश के बेरोजगारों के लिए सरकार कोई नीति नहीं बना पा रही, वहीं दूसरी ओर खननध् शराब माफियाओं के लिए रातों-रात मनमाफिक फैसले लिए जा रहे हैं। मोर्चा राजभवन से मांग करता है कि भर्ती घोटाले पेपर लीक मामले में सरकार पर चाबुक चलाने एवं परीक्षा दोबारा कराने के निर्देश सरकार को दें।

-----------------------------------------------------

आंचल-अमृत योजना को मिड-डे-मील में शामिल किया जाएगा 

-मंत्री ने ली डेरी विकास विभाग की समीक्षा बैठक 

 

देहरादून। राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 धन सिंह रावत ने विधान सभा स्थित कार्यालय कक्ष में डेरी विकास विभाग की बैठक ली। बैठक में निर्णय लिया गया कि आगामी 12 मार्च को देहरादून में आंचल-अमृत योजना को मिड-डे-मील में शामिल करने के साथ ही आँचल-अमूल के मध्य हुए समझौतों के क्रम में तैयार किये जाने वाले विभिन्न उत्पादों का मुख्यमंत्री द्वारा विधिवत् शुभारम्भ किया जायेगा। इसी प्रकार महिला डेरी विकास परियोजना के 25 वर्ष (सिल्वर जुबली) पूर्ण होने पर हल्द्वानी में आगामी 20 मार्च को कार्यक्रम आयोजित कर मुख्यमंत्री के द्वारा निदेशालय भवन के शिलान्यास के साथ ही विभिन्न कार्यक्रम भी आयोजित किए जायंेगे।

बैठक में डाॅ. धन सिंह रावत ने डेरी विकास विभाग के अन्तर्गत संचालित योजनाओं आंचल अमृत योजना को मिड-डे-मील में शामिल किये जाने, हल्द्वानी में प्रस्तावित डेरी विकास विभाग के निदेशालय भवन निर्माण कार्यों की प्रगति, महिला डेरी विकास परियोजना के 25 वर्ष पूर्ण होने पर प्रस्तावित कार्यक्रमों की समीक्षा, पशु आहार व साईलेज के उत्पादन एवं विपणन, विभाग के अन्तर्गत कराये जा रहे निर्माण कार्यों व प्रस्तावित कार्यों की समीक्षा के साथ ही राज्य में आंचल एवं अमूल के मध्य हुए परस्पर समझौतों के क्रम में तैंयार किये जाने वाले उत्पादों की जानकारी ली। डाॅ. रावत ने अधिकारियों को डेरी विकास विभाग के अन्तर्गत विभिन्न योजनाओं के अन्तर्गते निर्माणाधीन कार्यों को नियत समय सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने विभागीय कार्यदायी संस्था ‘उत्तराखण्ड सहकारी डेरी फेडरेशन लिमिटेड’ द्वारा किये जा रहे निर्माण कार्यों की क्षमता 2.5 करोड़ से बढ़ाकर 5 करोड़ तक किये जाने हेतु प्रस्ताव तैयार करने के भी निर्देश दिये। पशु आहार निर्माण शाला द्वारा अर्जित लाभ में और अधिक वृद्धि किये जाने, राज्य के अन्तर्गत दुग्ध संघों की दुग्ध उत्पादन बकाया धनराशि का विवरण तैयार कर प्रस्ताव शासन को उपलब्ध कराने के निर्देश विभागीय मंत्री द्वारा दिये गये।

विभागीय अधिकारियों द्वारा बैठक में अवगत कराया गया कि अमूल एवं आँचल के मध्य हुए समझौते के तहत दुग्ध संघ देहरादून में पनीर, दूध एवं दुग्ध पदार्थों की पैकिंग अमूल ब्राण्ड नाम से कराया जाना तय हुआ है इसके लिए तरल दूध व पैकिंग मैटिरियल अमूल कम्पनी द्वारा ही उपलब्ध कराया जायेगा। इसके अतरिक्त पैकिंग कार्य के लिए देहरादून दुग्घ संघ को प्रोसेसिंग एवं पैकेजिंग चार्जेज भी अमूल द्वारा ही वहन किया जायेगा। इस प्रकार देहरादून दुग्घ संघ को प्रतिमाह लगभग 25 लाख का अतरिक्त व्यापार प्राप्त होने के साथ ही रूपये 7 लाख तक का शुद्ध लाभ होगा। अमूल से हुए अनुबन्ध के पश्चात दुग्ध संघ देहरादून द्वारा अमूल ब्राण्ड नाम से पनीर की पैकिंग प्रारम्भ कर दी गयी है तथा माह अप्रैल से दूध एवं अन्य दुग्ध पदार्थों की पैंकिग भी प्रराम्भ कर दी जायेगी।

बैठक में आर.आई.डी.एफ. योजना के अन्तर्गत निर्माणाधीन कार्यों दुग्घ अवशीतन केन्द्र नैनीताल के जीर्णोद्वार, सम्पर्क मार्ग, मिल्क स्टोरेज टैंक, दुग्घ अवशीतन केन्द्र कालाढुंगी, हेड़िया गांव, रूद्रपुर, ताड़ीखेत, कमेड़ी बागेश्वर, किलमोड़ी चम्पावत, हरबटपुर देहरादून, कोटद्वार आदि की समीक्षा की गयी। इसी प्रकार राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत देहरादून दुग्ध संघ में निर्माणधीन ब्वायलर कक्ष निर्माण, राष्ट्रीय डेरी विकास योजना के अन्तर्गत दुग्ध संघ गोदाम ऊधमसिंह नगर व पिथौरागढ़ में रिसेप्शन एवं फैक्ट्री फ्लोर कार्यों व नैनीताल में सर्विस ब्लाॅक निर्माण कार्यों की भी समीक्षा की गयी। इस अवसर पर सचिव डेरी विकास आर.मीनाक्षी सुन्दरम, संयुक्त निदेशक डेरी विकास जयदीप अरोड़ा, सामान्य प्रबन्धक डाॅ. एच.एस.कुटौला, उप सामान्य प्रबन्धक डाॅ. मोहन चन्द्र, सहायक निदेशक महिला डेरी विकास परियोजना डाॅ. एल.एम. जोशी, प्रधान प्रबन्धक दुग्ध संघ देहरादून मानसिंह पाल, उप महा प्रबन्धक निर्माण आर.एम.तिवारी, आदि अधिकारी मौजूद थे।

स्वामी विवेकानंद पुरी महाराज का समूचा जीवन त्याग, तपस्या व भारतीय संस्कृति को समर्पित रहाः स्वामी राजेश्वराश्रम 

हरिद्वार। सप्तसरोवर भूपतवाला की प्रख्यात धार्मिक संस्था श्री विवेक कुटीर में ब्रह्मलीन स्वामी विवेकानंद पुरी जी महाराज की षोड्शी भण्डारा के अवसर पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर श्रद्धाजंलि सभा को सम्बोधित करते हुए जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी राज राजेश्वराश्रम महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी विवेकानंद पुरी महाराज का समूचा जीवन त्याग, तपस्या व भारतीय संस्कृति को समर्पित था। उन्होंने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी विवेकानंद पुरी महाराज ने जीवन पर्यंत भारतीय संस्कृति व संस्कृत को बढ़ाने के लिए भारत ही नहीं अपितु विश्व में अपनी कार्यशैली से भारत के साधु समाज की ख्याति को बढ़ाने का काम किया है। उन्होंने जीवन पर्यंत समाज को नई दिशा, नई सोच देने के लिए अपने आप को समर्पित रखा। शंकराचार्य स्वामी राज राजेश्वराश्रम महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी विवेकानंद महाराज आध्यात्मिक की पराकाष्ठा पर स्थित अनेक दर्शन शास्त्रों के ज्ञाता थे। उन्हें अध्यात्मिक व धार्मिक स्वरूप प्रतिष्ठित करने में सफल शिल्पी कहा जाए तो भी कम है।

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल ने ब्रह्मलीन स्वामी विवेकानंद पुरी महाराज को श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कहा कि वेदान्त, अध्यात्म व संस्कृत के प्रचार-प्रसार में स्वामीजी ने अपना जीवन अर्पित कर भारतीय संस्कृति को मजबूत करने का कार्य किया है। उन्हांेने कहा कि ऐेसे महान विभूति का विलुप्त होना संत समाज एवं सनातन संस्कृति के लिए अपूर्णीय क्षति है। श्रद्धाजंलि सभा में पधारे महामण्डलेश्वर, संत-महंतजनों व अतिथियों का स्वामी शान्तानन्द पुरी महाराज व स्वामी सुनीता विवेक पुरी महाराज ने माल्यार्पण कर स्वागत किया। श्रद्धाजंलि सभा को म.मं. स्वामी कमलानंद महाराज, म.मं. स्वामी हरिचेतनानंद महाराज, म.मं. स्वामी डाॅ. प्रेमानन्द महाराज, म.मं. स्वामी शिवप्रेमानन्द महाराज, म.मं. स्वामी आनन्दचेतनानन्द महाराज, महंत ललितानन्द गिरि महाराज, म.मं. स्वामी प्रकाशानन्द महाराज, म.मं. स्वामी जीरागिरि महाराज, स्वामी केशवानन्द महाराज, श्रीमहंत विनोद गिरि महाराज, महंत दिनेश दास, महंत रवि शास्त्री, स्वामी नित्यानन्द, स्वामी कृष्णानन्द, स्वामी प्रज्ञानन्द, स्वामी शिवानन्द, स्वामी मंगलानन्द, स्वामी शांतानन्द आदि संत-महंतजनों ने सम्बोधित किया। इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल, शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के प्रतिनिधि नरेश शर्मा, पार्षद अनिल मिश्रा, अनिरूद्ध भाटी, विनित जौली, पार्षद प्रतिनिधि विदित शर्मा, पं. शिवप्रकाश शर्मा, रितेश वशिष्ठ, पूजा सिखेरा समेत श्रद्धालु भक्तजनों ने ब्रह्मलीन स्वामी विवेकानन्द पुरी महाराज को भावभीनी श्रद्धाजंलि अर्पित की। ----

गौ सेवा व गंगा संरक्षण को समर्पित है जयश्री गंगा मां गौशाला आश्रम ट्रस्ट

-निराश्रित गौवंश की सेवा, पर्यावरण व गंगा संरक्षण को समर्पित हैं व युवा समाजसेवी व ट्रस्ट के अध्यक्ष अमित प्रसाद शर्मा

 

हरिद्वार। तीर्थनगरी में पर्यावरण, गंगा संरक्षण व निराश्रित गौवंश की सेवा में जय श्री गंगा मां गौशाला आश्रम ट्रस्ट निरन्तर सक्रिय भूमिका निभा रहा है। निराश्रित पशुओं को चारा, पेयजल उपलब्ध कराना हो अथवा घायल पशुओं का ईलाज, मरहम-पट्टी की व्यवस्था करना हो यह संस्था सदैव अग्रणीय रहती है। यही नहीं शीतकाल में निराश्रित पशुओं को आश्रय उपलब्ध कराने में ट्रस्ट के अध्यक्ष अमित प्रसाद शर्मा के नेतृत्व में समूचे टीम जुटी रहती है।

जय श्री गंगा मां गौशाला आश्रम ट्रस्ट के अध्यक्ष अमित प्रसाद शर्मा ने कहा कि जब भी निराश्रित गौवंश को वह सड़कों पर भटकता हुआ, घायल व भूख की अवस्था में देखते थे तो उनके दिल में बैचेनी उत्पन्न हो जाती थी। साथ ही गंगा जी में बढ़ते प्रदूषण व घटती पेड़ों की संख्या के संदर्भ में जब उन्होंने अपने साथियों के साथ चिंतन किया तो गौवंश संरक्षण, गंगा-पर्यावरण संरक्षण हेतु उन्होंने जय श्री गंगा मां गौशाला आश्रम ट्रस्ट का गठन किया। इस ट्रस्ट का मुख्य उद्देश्य जनसेवा, गौसेवा, गंगा सेवा है। ट्रस्ट के उपाध्यक्ष रमेशनाथ गोस्वामी, राहुल कौशिक, सचिव हरबंस लाल, कोषाध्यक्ष सुमित शर्मा अध्यक्ष अमित प्रसाद शर्मा के नेतृत्व में निरन्तर सेवा प्रकल्पों का संचालन कर रहे हैं। संस्था धरातल पर कार्य करते हुए गौसेवा के नये आयाम स्थापित कर रही है।

स्मैक के नशे में उड़ते हरिद्वार पर रोकथाम जरूरीः सुनील सेठी

हरिद्वार। महानगर व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष सुनील सेठी ने सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ सी ओ हरिद्वार अभय सिंह से मुलाकात कर स्मेक के नशे की रोकथाम को प्रभावी कदम उठाने की मांग करते हुए ज्ञापन सौपा। सामाजिक कार्यकर्ता महानगर व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष सुनील सेठी ने ज्ञापन के माध्यम से स्मेक की रोकथान को कड़ी कार्यवाही की मांग की।

लगातार हरिद्वार जिले में पिछले कुछ माह से नए नए बच्चो में युवा पीढ़ी में एक उड़ता नशा स्मेक पैर पसार रहा है कई युवा इस लत में अपना भविष्य खराब कर रहे है जो कि खतरनाक है ये बीमारी लगातार बढ़ती जा रही है हर गली मोहल्लों गंगा घाटों पर स्मेक का नशा फलफूल रहा है जिसको लेकर समाज परेशान है और इसकी रोकथाम चाहते है क्योंकि ये आने वाले समय में युवा पीढ़ी को बर्बाद कर देगा। पूर्व पाषर्द सामाजिक कार्यकर्ता कन्हिया खेवारिया ने बताया कि चंद पैसों के लालच में कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा स्मैक के कारोबार को बढ़ावा देकर हरिद्वार के युवाओं को बर्बाद किया जा रहा है उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है जिसके लिए हम जागृति मिशन भी चलाएंगे ओर युवाओं को इसके दुष्परिणामो को जानकारी देते हुए नशे की लत से छुटकारा दिलाने की कोशिश करेंगे।जागृति व्यापार मंडल अध्यक्ष नाथीराम सैनी एव मायापुर व्यापार मंडल अध्यक्ष जितेंद्र चैरसिया ने कहा कि सबसे बड़ी चिंता का विषय है कि इतनी बड़ी तादात में नशा हरिद्वार कैसे आ रहा है उसके बाद यहाँ बिक रहाहै जो चिंता का विषय है कई परिवार खराब हो रहे है युवा नशे की लत में अवैध काम कर रहे है इन सभी चीजों को देखते हुए प्रसाशन को प्रभावी कदम उठाने चाहिए। सी ओ अभय सिंह ने उचित से उचित कार्यवाही का भरोसा देते हुए जागरूकता अभियान में भी सहयोग देने का आश्वाशन दिया ज्ञापन सोपने वालो में,तरुण व्यास,राहुल चैहान, मनोज कुमार आदित्य, रमन सिंह, पंकज माटा, सुधांशु शर्मा, राहुल कुमार, प्रीतकमल सारस्वत, ऋषभ कुमार,देवेंद्र कुमार, रवि कुमार उपस्तिथ रहे। 

नगरनिगम ने स्ट्रीट वेंडर्स के लिए आयोजित किया बायोमेट्रिक सत्यापन कैम्प

हरिद्वार। उत्तराखंड नगरीय फेरी व्यवसायी (आजीविका सुरक्षा तथा फेरी व्यवसाय विनियमन) नियमावली- 2016 को क्रियान्वयन करते हुए नगर निगम प्रशासन द्वारा नगर आयुक्त नरेंद्र सिंह भंडारी के निर्देशन में पूर्व की फेरी समिति की बैठक के प्रस्ताव को नगर निगम क्षेत्र में लागू करने के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए लघु व्यापार एसो. के प्रांतीय अध्यक्ष संजय चोपड़ा के सहयोग से सर्वप्रथम चंडी चैक से लालतारो पूल दाई और खाली भूमि पर 50 (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों की क्षमता के वेंडिंग जोन के स्थापन की कार्रवाई को आगे बढाते हुए चंडीघाट मार्ग स्थित वेंडिंग जोन में पूर्व के सर्वे रिपोर्ट के आधार पर पंजीकृत (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों का सत्यापन करने हेतु दो दिवसीय कैम्प नगर निगम प्रशासन द्वारा आयोजित किया गया। जिसमें उत्साह के साथ रेडी पटरी के लघु व्यापारियों ने अपना पुनः बायोमेट्रिक पंजीकरण का सत्यापन कराया।

इस अवसर पर लघु व्यापार एसो. के प्रांतीय अध्यक्ष संजय चोपड़ा ने कहा अरसे से उत्तराखंड बनने के उपरांत प्रदेश भर में लघु व्यापारियों को संगठित कर उनकी न्यायसंगत मांगो को लंबे संघर्ष के परिणाम स्वरूप मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के संयुक्त निर्देशन में धर्मनगरी हरिद्वार में नगर निगम क्षेत्र में प्रथम बार महाकुम्भ मेला आयोजन से पूर्व वेंडिंग जोन में रेडी पटरी के (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों को स्थापित किये जाने की प्रक्रिया को किया जा रहा है उसका सभी लघु व्यापारियों की और से सरकार व नगर निगम प्रशासन का आभार प्रकट करते है। उन्होंने कहा कि नगर आयुक्त द्वारा सर्व प्रथम किसी एक चयनस्थल को जहाँ पर यातायात बाधित ना हो चिन्हित करते हुए मॉडल वेंडिंग जोन मार्किट स्थापित करने का प्रस्ताव पूर्व की फेरी समिति की बैठक में रखा गया था जिस पर सदस्यो द्वारा चिन्हित प्रथम वेंडिंग जोन चंडी चैक से लालतारो पूल दाई और खाली भूमि पर 50-50 रेडी पटरी के (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों को स्थापित किया जाएगा जो रेडी पटरी वालो के लिए न्यायसंगत व उनकी जीविका के लिए हर्ष का विषय है। लघु व्यापारियों को स्थापित करने की प्रक्रिया के सत्यापन में वेंडिंग जोन प्रभारी राजेन्द्र घागड़, सुदीप मिश्रा, सचिन कुमार, सहयोगी भूपेंद्र राजपूत, विमल कुमार, जयसिंह बिष्ट, प्रभात चैधरी, वीरेंद्र, मोहनलाल आदि सहित भारी तादाद में लघु व्यापारी उपस्थित रहे।

जल जीवन मिशन योजना के अन्तर्गत संचालित कार्यो की समीक्षा की

नैनीताल/देहरादून। केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत तथा मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने उत्तराखण्ड प्रशासनिक अकादमी नैनीताल में राज्य में जल जीवन मिशन योजना के अन्तर्गत संचालित होने वाले कार्यो की गहनता से समीक्षा की। केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने बताया कि जल जीवन मिशन समयबद्ध कार्यक्रम है और इस कार्य को पूरा करने के लिए धन की कोई कमी नहीं है। उत्तराखण्ड की विषम भौगोलिक परिस्थितियों वाले क्षेत्रों तक इस योजना का लाभ पहुंचाने के लिए रणनीति बनाकर कार्य करने को कहा। उन्होंने राज्य सरकार द्वारा जल एवं प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण व संवर्द्धन हेतु किये जा रहे प्रयासों की सराहना की।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि राज्य सरकार नदियों, तालाबों, गाड़-गधेरों, चाल-खाल एवं प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण एवं संवर्द्धन के लिए लगातार कार्य कर रही है। कार्यक्रम में जनमानस की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न स्वयं सहायता समूहों, महिला एवं युवक मंगल दलों के साथ ही लोगों को भी जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा 2022 तक हर घर में नल और हर नल में जल की परिकल्पना को साकार करने का लक्ष्य रखा गया है, ताकि इस महत्वपूर्ण एवं समयबद्ध कार्य के पूर्ण होने में किसी भी प्रकार का विलम्ब न हो। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रदेशभर के सभी तोकों, ग्रामों, ब्लॉकों, जनपदों तथा राज्य स्तरीय कार्य योजना तैयार करते हुए कार्यवाही की जा रही है।

केन्द्रीय अपर सचिव जल जीवन मिशन श्री भरत लाल ने कहा कि राष्ट्रीय जल जीवन मिशन का उद्देश्य हर घर में नल और हर नल में जल है। उन्होंने कहा कि मिशन तभी सार्थक होगा, जब हर नल में पानी होगा। उन्होंने कहा कि हर नल में पानी के लिए जल स्रोतों को रिचार्ज करने की भी कार्य योजना तैयार करनी होगी। पेयजल की गुणवत्ता के लिए सेंसर भी लगाये जायेंगे जिनके माध्यम से पेयजल के 6 से 11 पैरा मीटरों की जॉच की जायेगी। उन्होंने कहा कि बिना एफएसटीसी के कोई भी स्कीम अनुमोदित नहीं होगी। योजना के बारे में दूरस्थ क्षेत्रों तक प्रचार-प्रसार करने एवं जल सम्बन्धी शिकायतों के निवारण के लिए अलग से हैल्प लाईन नम्बर जारी करने पर भी बल दिया। बैठक में पेयजल सचिव उत्तराखण्ड अरविन्द सिंह ह्यांकी ने हाउस हॉल्ड सर्वे, जेजेएम की वित्तीय एवं भौतिक प्रगति, शिकायत निवारण सिस्टम, राज्य में जल संसाधन सिस्टम, ग्रामीण, जिला एवं  राज्य कार्य योजना, थर्ड पार्टी इंस्पेक्शन के बारे में विस्तार से जानकारी दी। श्री ह्यांकी ने बताया कि भारत सरकार के जल शक्ति मंत्रालय द्वारा जल संचय-जीवन संचय योजना के लिए प्रदेश में जनपद नैनीताल को चयनित किया था, जिसके तहत जनपद नैनीताल में चाल-खाल निर्माण व अन्य उपायों से जन सहभागिता के आधार पर जल संचय का विशेष कार्य किया गया। जिसके लिए भारत सरकार द्वारा जनपद को विशेष रैंक दी गयी। बैठक में सचिव मुख्यमंत्री एवं आयुक्त कुमाऊॅ मण्डल श्री राजीव रौतेला, निदेशक स्वजल श्री उदय राज, अधीक्षण अभियंता पेयजल निगम वीसी पुरोहित, महाप्रबन्धक जल संस्थान डीके मिश्रा, परियोजना अधिकारी स्वजल संतोष उपाध्याय व अन्य अधिकारी मौजूद थे।

हल्द्वानी में 1 अरब 13 करोड 42 लाख की 78 योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया

हल्द्वानी/देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने हल्द्वानी में 1 अरब 13 करोड 42 लाख की 78 योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। जिसमें 48 करोड 52 लाख, 68 हजार की 24 योजनाओं का लोकार्पण व 64 करोड, 89 लाख, 43 हजार की 54 योजनाओं का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने महानगर हल्द्वानी की आन्तरिक सडकों हेतु 20 करोड़ रूपये की घोषणा भी की। समारोह में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिह रावत ने वर्ग-4, वर्ग-1ख काबिज काश्तकारों को पट्टे, दीनदयाल आवास, आयुष्मती योजना के कार्ड लाभार्थियों को मुख्य मंच से ज्वाला दत्त, विशना देवी, धीरेन्द्र कुमार, दयाकिशन, कमला देवी, देवकी देवी, चम्पा, दीपा देवी, पार्वती, बबली आदि को वितरित किये।

 मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने जनता को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार पारदर्शिता से विकास कार्य कर रही है। जिसका जनता को लाभ मिल रहा है। उन्होने कहा जनहित में शीघ्रता से नीतिगत निर्णय लिये जायेंगे। प्रदेश में विगत तीन वर्षो से केन्द्र सरकार के सहयोग से विकास की श्रृंखला गतिमान है जिससे  प्रति व्यक्ति आय प्रतिवर्ष बढ रही है। उन्होने कहा कि कही भी पेयजल की कमी नही होने दी  जायेगी। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि प्रदेश में 500 विद्यालयों मे वर्चुअल क्लासेज प्रारम्भ कर दी है, 700 विद्यालयों मे भी जल्द ही वर्चुअल क्लासेज प्रारम्भ की जायेंगी। उन्होने कहा प्रत्येक संचालित आंगनबाडी केन्द्र का अपना भवन होगा। 2022 तक प्रत्येक सडक जिसमें पुल की जरूरत है पुल बनाये जायेंगे। प्रदेश मे 2022 तक हर गांव को सडक से जोडने का लक्ष्य रखा गया है। गन्ना व धान की फसलों का बकाया भुगतान काश्तकारों को कर दिया गया है। साथ ही गेंहू का भुगतान काश्तकारों को चैबीस घंटे के भीतर भुगतान किया जायेगा। प्रदेश मे हैली सेवायें प्रारम्भ कर दी गई है। 27 एरोड्रम स्वीकृत हेतु भारत सरकार को भेजे गये है, प्रत्येक जनपद मे एरोड्रम बनाकर हैली सेवाये प्रारम्भ की जायेंगी। उन्होने कहा कि प्रदेश में ड्रोन एप्लीकेशन सेन्टर शुरू कर दिया गया है।  इस ड्रोन एप्लीकेशन सेन्टर के प्रारम्भ होने से हमारे प्रदेश के युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार के अवसर प्राप्त हांगे।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि हल्द्वानी में आईएसबीटी बनाना सरकार की प्राथमिकता में है। हल्द्वानी आईएसबीटी को सुन्दर व भव्य बनाया जायेगा। हल्द्वानी में 3.25 करोड का इलेक्ट्रिक शवदाह गृह बनने जा रहा है जो प्रदेश का प्रथम शवदाह गृह है, शवदाह के लिए धनराशि अवमुक्त कर दी गई है। उन्होने कहा सभी विधायक के कार्यो की रिपोर्ट 18 मार्च को प्रेजेन्टेशन के जरिये जनता को दी जायेगी साथ ही सभी विधायक अपने-अपने  क्षेत्र में विकास कार्यो की रिपोर्ट स्वयं भी जनता को देंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे प्रदेश की जनता सर्वगुण सम्पन्न है मगर हमें व्यवसायिक गुण को अपना कर विकास की ओर उन्मुख होना होगा ताकि हम सम्पन्न होकर देश के सामने प्रदेश को एक मॉडल के रूप में स्थापित कर सकें।

विधायकध्भाजपा अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि सरकार लगातार विकास के कार्य कर रही है। विकास कार्यो में केन्द्र सरकार का पूर्ण सहयोग मिल रहा है। उन्होने कहा कि दशकों से जमरानी बांध परियोजना को सरकार द्वारा स्वीकृत प्रदान कर दी गई है, जिससे तराई व भाबर को नवजीवन मिलेगा। उन्होने कहा भूमिहीनों को पटटा दिलाने, युवाओें, महिलाओं को समूहों के माध्यम से रोजगार को जोडने का कार्य सरकार के नेतृत्व मे किया जा रहा है जो सराहनीय है। सरकार गत तीन वर्षो से लगातार विकास कार्यो के साथ जनकल्याणकारी कार्य कर रही है जिससे जनता लाभान्वित हो रही है। कार्यक्रम में जिलाधिकारी नैनीताल सविन बंसल ने स्वास्थ्य, आवास,पोस्ट कार्ड गर्वेनेस, विद्यालयी शिक्षा, ग्राम्य विकास नैनीझील संवर्धन  अभिनव पहल की डाटा प्रेजेन्टेशन के माध्यम से विस्तृत जानकारियां दी। कार्यक्रम में विधायक श्री दीवान सिह बिष्ट, नवीन दुम्का, संजीव आर्य, रामसिह कैडा, मेयर डा0 जोगेन्द्र पाल सिह रौतेला,उत्तराखण्ड मण्डी अध्यक्ष गजराज बिष्ट, मण्डी अध्यक्ष मनोज साह, राज्यमंत्री  प्रकाश हरर्बोला,डा0 मजहर नईम नवाब, अजय राजौर, बहादुर सिह बिष्ट, प्रदेश महामंत्री राजेन्द्र भण्डारी आदि उपस्थित थे।

कम्यूनिटी इंटरप्राइज पर प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित 

देहरादून। उत्तराखण्ड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान केन्द्र (यूसर्क) द्वारा साहस फाउंडेशन के संयुक्त तत्वावधान में विकासनगर ब्लाॅक आॅफिस में कम्यूनिटी इंटरप्राइज विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में मुख्य अतिथि विकासनगर के विधायक मुन्ना सिंह चैहान ने गांव एवं सुदूर क्षेत्रों में कृषि एवं सम्बन्धित क्षेत्रों के विकास हेतु एवं कौशल प्रशिक्षण के उद्देश्य से आयोजित इस कार्यशाला के आयोजन की सराहना की तथा इस क्षेत्र से सम्बन्धित जन प्रतिनिधियों के कई प्रश्नों के समाधान दिये। 

यूसर्क के निदेशक प्रो0 दुर्गेश पंत एवं साहस फाउंडेशन के निदेशक साहब नकवी ने कार्यशाला के महत्व पर प्रकाश डालते हुये इस कार्यक्रम के उद्देश्य पर विस्तार से चर्चा की। एक गांव टेक्नोलाॅजी के सी0ई0ओ0 श्री विजय प्रताप सिंह ने कार्यशाला का संचालन एवं रूप रेखा समझाते हुये कृषि बागवानी, हैंडीक्राफ्टस इत्यादि विषयों पर प्रशिक्षण प्रदान किया तथा कृषि क्षेत्र से सम्बन्धित टेक्नोलाॅजी को अपनाते हुये कृषि को आजीविका से जोड़ने हेतु टेक्नोलाॅजी के योगदान पर चर्चा की। 

कार्यशाला में यूसर्क से वैज्ञानिक अनुराधा ध्यानी, मन्दाकिनी की आवाज से सरिता थाॅमस, साहस फाउंडेशन, डी0आई0टी0, एक गांव टेक्नालाॅजी एवं विभिन्न संस्थाओं से 180 से अधिक किसानों शिक्षकों, विद्यार्थियों एवं जन प्रतिनिधियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

मेरा थैला मेरी शान’, प्रकृति का दोहन नहीं बल्कि संवर्द्धन होः स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन में जिओ टीवी प्रतिनिधि बालाजी अय्यर और विशाल तथा थैला आन्दोलन के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में कार्य कर रहे स्वामी सहजानन्द जी दर्शनार्थ आये। परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज से भेंट वार्ता कर दिव्य गंगा आरती में सहभाग किया।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने थैला आन्दोलन को विस्तार देने हेतु विस्तृत चर्चा करते हुये कहा कि लोग आजकल अपनी फटी पैंट को फैशन समझते हैं परन्तु अब समय आ गया है कि पर्यावरण संरक्षण के लिये थैला हाथ में पकड़ने को फैशन बनायें। जिस दिन लोग ‘मेरा थैला मेरी शान’ समझने लगेंगे उस दिन प्लास्टिक के उपयोग में निश्चित रूप से कमी आयेगी। साथ ही पुराने कपड़ों का उपयोग होगा और महिलाओं को रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि ‘ईको फें्रडली कल्चर’ को अपनाकर ही हम अपनी भावी पीढ़ियों को सुरक्षित भविष्य दे सकते हंै।

 जिओ टीवी के प्रतिनिधि श्री बालाजी अय्यर और श्री विशाल जी के साथ चर्चा करते हुये स्वामी जी ने कहा कि जिओ नेटवर्क के माध्यम से लोगों ने पूरी दुनिया तक अपनी पहंुच बनायी है। जिओ का सही उपयोग किया जाये तो जीवन में विलक्षण परिवर्तन हो सकता है। स्वामी जी ने कहा कि प्रकृति के साथ सौहार्द्र और शुद्धता का सम्बंध स्थापित करने के लिये ईको फ्रेंडली कल्चर को आत्मसात करना होगा तथा पर्यावरण को समावेशी और सतत बनाने हेतु आगे आकर सम्पूर्ण मानवता का कल्याण हो वह मार्ग अपनाना होगा। स्वामी जी ने कहा कि धरती को प्रदूषण मुक्त रखने के अलावा हमारे पास कोई भी वैकल्पिक योजना नहीं है अतः ऐसी तकनीक को अपनाना होगा जो कि सतत और हरित विकास लक्ष्य को हासिल करने में मदद करें। अब प्रकृति के दोहन की नहीं बल्कि संवर्द्धन की संस्कृति को अपनाना होगा। स्वामी जी ने स्वामी सहजानन्द जी, श्री सिद्धार्थ शर्मा जी एवं सभी अतिथियों को पर्यावरण संरक्षण का प्रतीक रूद्राक्ष का पौधा देकर सम्मानित किया। परमार्थ गंगा आरती में उपस्थित श्रद्धालुओं को स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने ‘‘मेरा थैला मेरी शान’’ संकल्प कराया।

सीएफए इंस्टीट्यूट यंग वीमन इन इन्वेस्टमेंट इनीशिएटिव के लिए आवेदन आमंत्रित

देहरादून। इन्वेमस्टमेंट मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स की वैश्विक संस्था सीएफए इंस्टिट्यूट ने “यंग वीमन इन इनवेस्टमेंट” इनीशिएटव कार्यक्रम के लिए आवेदन आमंत्रित किए। 2020 का कार्यक्रम शिक्षा संबंधी किसी भी क्षेत्र से जुड़ी लगभग 100 चुनी हुई महिलाओं के लिए होगा। कार्यक्रम में भाग लेने के लिए उम्मीदवार को कम से कम फाइनल ईयर का स्टूडेंट होना चाहिए, जिनका ग्रेजुएशन 2020 में पूरा हो रहा हो। हालांकि उच्च शैक्षिक योग्यता औरध्या अनुभव  वाले उम्मीदवार भी इस कार्यक्रम के लिए आवेदन करने के योग्य हैं।

 प्रोग्राम के लिए सभी 100 उम्मीदवारों के चुने जाने तक, या 8 मार्च 2020 तक, जो भी पहला होगा, आवेदन प्रक्रिया बंद कर दी जाएगी। सीएफए इंस्टीट्यूट में सीएफए, सीआईपीएम और इंडिया के कंट्री हेड विधु शेखर ने कहा, ‘हमने यह पहल 2018 में की थी। इसके बाद हमने इस कार्यक्रम की निवेश इंडस्ट्री और भागीदारों में काफी मांग देखी है। यह काफी उत्साहजनक है कि अलग-अलग शैक्षिक पृष्ठभूमि, जैसे इंजीनियरिंग, आर्ट्स, साइंस, कॉमर्स  से जुड़ी महिलाएं फाइनेंस में अपना कॅरियर बनाना पसंद कर रही है। हम इस प्रोग्राम के लिए प्रमुख वित्तीय संस्थाओं के साथ काम कर काफी उत्साहित हैं, जिसके समर्थन से हम अन्य महिलाओं को भी निवेश इंडस्ट्री में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। मुंबई और बेंगलुरु के केंद्रों में एक साथ चलने वाले चार सप्तािह के गहन बूट में फ्री रूम और बोर्ड शामिल है। प्रत्येतक बूट कैम्पे में कारोबारी कौशल और बिजनेस की बुनियादी बातें, जैसे नैतिकता, माइक्रो और मैक्रो इकोनॉमिक्स, नियम-कायदों, जोखिम प्रबंधन के साथ फाइनेंशियल स्टेटमेंट, प्रतिभूतियों, वैकल्पिक निवेश, मात्रात्मक अवधारणा, मशीन लर्निंग, फाइनेंशियल मॉडलिंग के बारे में भी बताया जाएगा। सभी क्लासरूम सेशन इंडस्ट्री के सीनियर प्रोफेशनल्स की अगुवाई में होंगे। बूट कैम्पर समाप्ता करने वाले सभी प्रतिभागियों को कुछ शर्तों के साथ भारत के प्रमुख वित्तीय संस्थान में तीन से छह महीने की इंटर्नशिप ऑफर की जाएगी, जिसमें उन्हें स्टाइपेंड भी मिलेगा

भर्ती घोटाले, शराब नीति व महंगाई के खिलाफ कांग्रेस 1 मार्च को देगीे धरना

देहरादून। अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा आयोजित फारेस्ट भर्ती में हुए घोटाले, राज्य में शराब को बढ़ावा देने की नीति व महंगाई के खिलाफ कांग्रेस पार्टी द्वारा चलाये जा रहे अभियान की कड़ी में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने आगामी एक मार्च रविवार को राजधानी देहरादून में गांधी पार्क में धरने के ऐलान किया है। उक्त जानकारी देते हुए प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने कहा कि राज्य की सरकार ने राज्य के बेरोजगारों के साथ विश्वास घात किया है,पिछले तीन वर्षों में किसी भी विभाग में बेरोजगारों की भर्ती करना तो दूर की कौड़ी रही उल्टा फारेस्ट गार्ड भर्ती में भारी घोटाला करने के लिए प्रवेश परीक्षा में ही पेपर लीक करवा दिया। उन्होंने कहा कि राज्य में महंगाई से जनता त्राहिमाम त्राहिमाम कर रही है और त्रिवेंद्र सरकार बजाय जनता को महंगाई से राहत देने के शराब की बिक्री बढ़ाने की सौगात दी रही है। श्री धस्माना ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष श्री प्रीतम सिंह के नेतृत्व में राज्य भर में जनसरोकारों के मुद्दों पर संघर्ष जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि एक मार्च को गांधी पार्क के समक्ष श्री प्रीतम सिंह के नेतृत्व में विशाल धरना प्रातः 10 बजे से शुरू होगा।

कांग्रेस का लालटेन प्रदर्शन नौटंकी, जब नजर में दोष हो तो सर्च लाइट से भी दिखाई नहीं देताः भाजपा

देहरादून। भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ देवेंद्र भसीन ने कांग्रेस द्वारा हल्द्वानी में राज्य सरकार के खिलाफ निकाले गए लालटेन जुलूस को हास्य नाटक की संज्ञा देते हुए कहा कि यदि नजर में ही दोष हो तो सर्च लाइट से भी कुछ दिखाई नहीं देता।

   मुख्य मंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों पर सवाल उठाते हुए आज कांग्रेस द्वारा आयोजित लालटेन प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ देवेंद्र भसीन ने कहा कि यह प्रदर्शन हास्य नाटक जैसा था। कांग्रेस नेता दिन के उजाले में लालटेन लिए चल रहे थे। इससे साफ है कि कांग्रेस दिमागी खोखलेपन की शिकार है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा राज्य के विकास की नई परिभाषा लिखी जा रही है और इन तीन वर्षों में विभिन्न क्षेत्रों में ऐतिहासिक विकास कार्य किए गए हैं ।इसके साथ ही प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के उत्तराखंड के प्रति विशेष लगाव के कारण केंद्र सरकार की बड़ी बड़ी विकास योजनाएँ प्रदेश में तेजी से चल रही है। डॉ भसीन ने कहा कि कांग्रेस प्रदेश के सतत विकास व भाजपा की सतत सफलताओं से सदमें में है और इस कारण उसके नेता दृष्टि दोष के शिकार हो गए हैं। ऐसे में यदि कांग्रेस नेताओं को सर्च लाइट में भी कुछ दिखाई नहीं देगा। ऊपर से हालत यह है कि वे दिन में लालटेन लेकर चल रहे थे जो किसी हास्य नाटक से कम नहीं था।

भाजपा महानगर की बैठक में पार्टी के आगामी कार्यक्रमों को लेकर हुई चर्चा

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी महानगर कार्यालय में महानगर के पदाधिकारियों मंडल अध्यक्षों एवं मंडल महामंत्रियों की एक बैठक हुई। बैठक में आगामी कार्यक्रमों के बारे में चर्चा हुई। महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट ने कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए कहा कि 1 मार्च को महानगर इकाई की ओर से नवनिर्वाचित प्रदेश अध्यक्ष और महानगर में निवास करने वाले ऐसे सभी नवनिर्वाचित प्रदेश पदाधिकारियों का स्वागत किया जाएगा। 

इसके साथ ही होली के बाद सोशल मीडिया से जुड़े कार्यकर्ताओं की एक वर्कशॉप महानगर द्वारा करवायी जाएगा। इसके साथ ही 6 अप्रैल को पार्टी की स्थापना दिवस को पार्टी बड़े धूमधाम से मनाएगी। बैठक में महापौर सुनील उनियाल गामा ने कहा कि सभी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं को आपसी मतभेद भुलाकर एकजुटता से 2022 के चुनाव के लिए तैयारी अभी से करनी होगी। उन्होंने कहा कि पार्टी के हर एक पदाधिकारी और कार्यकर्ता अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए सरकार की उपलब्धियों को आम जनमानस तक पहुंचायें। बैठक में उदय सिंह पुंडीर, पूरन सिंह नेगी, बृजेश गुप्ता, संजय सिंघल, सुनील शर्मा, हरीश कोहली, कार्यालय प्रभारी आनंद प्रकाश नौटियाल, सह मीडिया प्रभारी गिरिराज उनियाल, सोशल मीडिया प्रभारी अनुराग भाटिया, करुण दत्ता, संजीव वर्मा, आशीष नागरथ, संध्या छेत्री, पूनम नौटियाल, पूनम ममगाई, संदीप मुखर्जी, विजय भटट, धर्मपाल रावत, विजय थापा, अर्चना बागड़ी ,श्याम पंत, राजेंद्र ढिल्लों, राजेश कांबोज, दिनेश सती, विशाल गुप्ता, अशोक पंवार सहित सभी महानगर पदाधिकारी, मंडल अध्यक्ष महामंत्री मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन महानगर महामंत्री सतेंद्र नेगी ने किया।

देहरादून में स्थापित हुई आयकर अपीलीय अधिकरण की सर्किट बैंच

देहरादून। केन्द्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद द्वारा गुरूवार को हरिद्वार बाई पास स्थित होटल में आयकर अपीलीय अधिकरण (आई.टी.ए.टी) की देहरादून सर्किट बैंच का मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत एवं आयकर अपीलीय अधिकरण के अध्यक्ष जस्टिस पी.पी. भट्ट की उपस्थिति में शुभारम्भ किया। इस अवसर पर उत्तराखण्ड पोस्टल सर्किल द्वारा तैयार की गई विशेष एलबम का भी अनावरण किया गया। इस अवसर पर अपने सम्बोधन में केन्द्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि उनका उत्तराखण्ड से विशेष लगाव है। देहरादून में आई.टी.ए.टी. की सर्किट बैंच की स्थापना को राज्य हित में बताते हुए इसे आयकर अपीलार्थियों एवं अधिवक्ताओं के व्यापक हित में बताया। उन्होंने इस अवसर पर जौलीग्रांट हवाई अड्डे पर वाई-फाई सुविधा उपलब्ध कराये जाने की भी घोषणा की।

उन्होंने कहा कि देश को आर्थिक रूप से सशक्त बाने तथा विकास की दिशा में आगे बढ़ाने के लिये जरूरी है कि सभी लोग ईमानदारी से टेक्स दें। उन्होंने कहा कि देश की 130 करोड़ की आबादी में मात्र 9 करोड़ लोग ही टेक्स देते हैं। एक करोड़ की आय दिखाने वाले 2 हजार प्राफेसनल हैं, जबकि पिछले चार साल में 2 करोड़ लोग विदेश गये। 2.50 करोड़ लोगों ने नई गाड़ी खरीदी, 10 लाख से ऊपर अपनी आय दिखाने वाले मात्र 50 हजार हैं, यह स्थिति सोचनीय है। हमें ईमानदारी से टैक्स देने की सोच बढ़ानी होगी। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा आयकर दाताओं के हित में बड़े निर्णय लिये है। अब 31 अक्टूबर के बाद किसी भी करदाता को नोटिस डिजिटल फार्मेट में ही भेजी जाएंगी। पेनाल्टी के निर्धारण के लिये तीन आयकर आयुक्तों की समिति बनाई गई है। 31 मार्च तक आई.टी.ए.टी. के तहत विभिन्न न्यायालयों में जितने भी केस लंबित है उसमें अपीलार्थी को मूल धनराशि ही जमा करनी होगी। उन्होंने कहा कि हम प्रधानमंत्री के रिफार्म परफार्म एवं ट्रांसफार्म की अवधारण के साथ कर सुधारों एवं समावेशी डिजिटल भारत की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज देश में 121 करोड़ लोगों के पास मोबाइल है 70 करोड़ स्मार्टफोन है। फर्जी नाम से चलने वाले एकाउन्ट को बंद कर 1.40 करोड़ की बचत की गई है। उन्होंने कहा कि सभी गांवों में बिजली पहुंचाने के साथ ही 2.50 लाख न्याय पंचायतों में आप्टिकल फाइवर लाइन बिछाई गई हैं। इससे पूरा देश नेटवर्किंग से जुड़ जायेगा।

उन्होंने कहा कि दुनिया के 06 देशों ने प्रधानमंत्री श्री मोदी को अपने राष्ट्रीय सम्मान से नवाजा है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश तेजी से विकास की ओर अग्रसर हैं दुनिया में देश की प्रतिष्ठा बढ़ी है। उन्होंने नागरिकता कानून को आस्था के कारण पीड़ितों को मदद करने वाला बताते हुए कहा कि यह नागरिकता देने वाला है किसी की नागरिकता छीनने वाला नही।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आई.टी.ए.टी. की सर्किट बेंच को राज्य के लिये बड़ी सौगात बताते हुए कहा कि इससे अपीलार्थियों एवं अधिवक्ताओं को बार-बार दिल्ली नहीं जाना पड़ेगा तथा उनकी समय के साथ-साथ आर्थिक बचत भी होगी। उन्होंने कहा कि लोगों को स्वकर निर्धारण की दिशा में आगे आना चाहिए तथा ईमानदारी के साथ अपना टैक्स अदा करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने राज्य में नगर पालिका एवं नगर पंचायतों में भी स्वकर निर्धारण की व्यवस्थ बनायी है। आपसी सहयोग विश्वास व समन्वय से विवादों का समाधान हो इसकी भी उन्होंने जरूरत बतायी। उन्होंने कहा कि देश व प्रदेश के विकास में जागरूक नागरिकों द्वारा ईमानदारी के साथ टैक्स के रूप में दिये गये सहयोग की बड़ी भूमिका रहती है। आई.टी.ए.टी के अध्यक्ष जस्टिस पी.पी.भट्ट ने कहा कि इस सर्किट बैंच की स्थापना से राज्य के करदाताओं को लाभ होगा। इस बैंच की दिल्ली से राज्य में सम्बन्घित 880 अपीलों के दस्तावेज यहां लाये गये है। इनका शीघ्र निस्तारण हो इसका उन्होंने आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि इस बैंच को और अधिक जनोपयोगी बनाये जाने तथा कार्य निर्वहन में आई टी का अधिकतम उपयोग का उनका प्रयास रहेगा। आई.टी.ए.टी के उपाध्यक्ष जी.एस. पन्नू ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, विधायक हरबंस कपूर, मुन्ना सिंह चैहान, विनोद चमोली, खजान दास सहित आयकर व अन्य विभागों क अधिकारी एंव अधिवक्तागण आदि उपस्थित थे।  

पुण्यतिथि पर याद किए गए चंद्रशेखर आजाद

विकासनगर। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महान नायक शहीद चंद्रशेखर आजाद की पुण्यतिथि पर पछवादून विकास मंच द्वारा उन्हें याद कर श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस मौके पर मंच के संयोजक अतुल शर्मा ने कहा कि मातृभूमि के लिए अपने प्राणों का बलिदान करने वाले क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद हमारे राष्ट्र की अमूल्य धरोहर है। उनके क्रांतिकारी विचार युवाओं में आज भी जोश पैदा करते हैं। उनका कहना था कि अगर आपके लहू में जोश नहीं है तो ये पानी है, जो आपकी रगो में बह रहा है, ऐसी जवानी का क्या मतलब अगर वो मातृभूमि के काम न आए। बताया उनका यह भी कहना था कि मैं ऐसे ध्र्म को मानता हूं जो समानता और भाईचारा सिखाता है। आजाद प्रखर देश वक्त थे। उन्होंने उस समय वीरता की नई परिभाषा लिखी थी। कहा आज वो हमारे बीच नही परंतु उनके विचार व आदर्श देश को मजबूती प्रदान करते रहेगे। इस अवसर पर चै. सुनील तोमर, संजीव कुमार, राकेश कश्यप, नवीन वर्मा, अवनीश कुमार, अनिल कुमार, महेंद्र सिंह, कृष्णलाल धीमान, उषा रानी वर्मा, मंजीत कौर, सुनीता देवी, आरजूमन, अंशिका सैनी, अमिता सैनी, सना परवीन, अजरा बानो, रिया परवीन आदि मौजूद थे।

कच्ची शराब के साथ एक गिरफ्तार 

विकासनगर। कोतवाली विकासनगर पुलिस ने जीशान पुत्र इकबाल निवासी कुरैशी मोहल्ला जीवनगढ़ विकासनगर को जलालिया बैरियर के पास से 10 लीटर अवैध कच्ची शराब के साथ गिरफ्तार किया। पुलिस ने आरोपी पर आबकारी अधिनियम में मुकदमा दर्ज कर कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। पुलिस टीम में एसआई रतन बिष्ट, सिपाही धमेंद्र व कुलबीर शामिल थे।

माया व अल्पाइन इंस्टीट्यूट के छात्रों ने किया रूरल सर्वे

विकासनगर। रूरल एग्रीकल्चर वर्क एक्सपीरियंस कार्यक्रम के तहत दून पीजी माया इंस्टिटयूट तथा अल्पाइन इंस्टिटयूट के बच्चों के द्वारा ग्राम लक्ष्मीपुर में रूरल सर्वे किया गया। सर्वे में पश्चिम बंगाल, लेह लद्दाख, जम्मू कश्मीर, नागालैंड, मिजोरम, मणिपुर, नेपाल, छत्तीसगढ़, अरूणाचल प्रदेश के छात्रा शामिल थे।

सर्वे के दौरान छात्रा-छात्राओं के द्वारा दी गई जानकारी से ज्ञात हुआ कि ग्रामीण किसानों को अपनी खेती के बारे में बहुत व्यवहारिक ज्ञान है लेकिन उसकी अभिव्यक्ति उनके पास नहीं है। किसानों द्वारा कहा गया कि यदि समय समय पर कृषक गोष्ठी की जाए तो उनकी जानकारी का भी विकास हो जाए लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में सरकार की दी जाने वाली योजनाओं का प्रचार-प्रसार नहीं किया जाता, इसलिए किसान खेती किसानी से संबंधित सभी योजनाओं के बारे में जानकारी नहीं रखते हैं और इसी से उन्हें पूर्ण योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता। इस अवसर पर ग्राम प्रधान रूपा देवी ने कहा कि छात्र-छात्राएं हमारे देश का भविष्य हैं, उन्हें निरंतर सीखने का प्रयास करके आगे बढ़ते रहना चाहिए। नीरज राजपूत ने कहा कि अपनी प्रतिभा का इस्तेमाल करके आप कुछ भी बन सकते हैं, बशर्ते आप उस कार्य को करने में अपना पूरा समय और तन मन धन लगा दें। इस मौके पर नई दिशा जनहित ग्रामीण विकास समिति के संस्थापक अमर सिंह कश्यप, यूनीपफायर कृषि प्रशिक्षण केंद्र प्रेमनगर के अमित उपाध्याय, अर्जुन सिंह, रोहित, आकाश नेगी ने भी बच्चों को संबोधित किया।

हिमोत्थान सोसाइटी ने आजीविका वृद्धि के बारे में दिया प्रस्तुतीकरण

देहरादून। सचिवालय सभागार में हिमोत्थान सोसाईटी (टाटा ट्रस्ट) द्वारा आयोजित 13वीं राज्य स्तरीय संचालन समिति की बैठक मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में आयोजित की गई जिसमें हिमोत्थान परियोजना के विषय विशेषज्ञों ने महिला स्वंय सहायता समूहों की संगठित सदस्यों द्वारा संचालित पशुपालन, कृषि, पर्यटन, शिक्षा एवं खेलकूद, पेयजल आदि कार्यक्रमों से की जा रही आजीविका वृद्धि के बारे मे विस्तार से प्रस्तुतीकरण दिया।

मुख्य सचिव ने सोसाईटी द्वारा संचालित जल जीवन मिशन, स्प्रिंग शेड मैनेजमेंट कार्यक्रम में टिहरी एवं पिथौरागढ़ जनपद में समन्वय कर कार्य किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने विभिन्न स्वंय सहायता समूहों द्वारा उत्पादित स्थानीय उत्पादों की गुणवत्ता एवं एकीकरण कर उसे बाजार दिलाने के निर्देश अधीनस्थ अधिकारियों को दिये। हिमोत्थान सोसाईटी द्वारा ऐसे रोजगार परक कार्यक्रम के माध्यम से स्वंय सहायता समूहों के आजीविका वृद्धि की जा रही है। हिमोत्थान परियोजना के अन्तर्गत सोसाईटी द्वारा संचालित विभिन्न सफल गतिविधियों को प्रदेश के समस्त क्षेत्रों में सरकार के सहयोग से विस्तारित करने के निर्देश मुख्य सचिव द्वारा दिये गये। उन्होंने हिमोत्थान सोसाइटी द्वारा संचालित पर्यटन के क्षेत्र में किये जा रहे कार्यों को प्रदेश के पर्यटन विभाग के मदद से राज्य में संचालित करने के निर्देश पर्यटन विभाग  को दिये।

मुख्य सचिव ने कृषि के क्षेत्र में उत्पादित बीजों को विभाग के माध्यम से विक्रय करने हेतु विभाग के साथ बैठक कर अनुबन्ध करने के निर्देश दिये।

हिमोत्थान सोसाइटी की अध्यक्षा श्रीमती विभापुरी दास द्वारा बताया गया कि हिमोत्थान द्वारा संचालित पशुपालन, कृषि, पर्यटन, शिक्षा एवं खेलकूद, पेयजल आदि के क्षेत्र में आजीविका वृद्धि को लेकर छोटे छोटे प्रयासों को पूरे प्रदेश में विस्तारित करने की आवश्यकता है। उन्होंने पर्यटन के क्षेत्र में संचालित होम स्टे योजना को लाभकारी एवं पलायन रोकने में मददगार बताते हुए इसमें अधिक से अधिक कार्य करने की जरूरत पर बल दिया।

बैठक में सोसाईटी के अधिशासी निदेशक डॉ0 यशपाल सिंह बिष्ट द्वारा सोसाईटी द्वारा विभिन्न स्थलों में संचालित कार्यक्रमों पर विस्तार से प्रस्तुतीकरण दिया गया।

बैठक में निदेशक, अनुसन्धान उद्यान एवं वन भरसार, डॉ0 राजेश कौशल, निदेशक एक्सटेंशन गोविन्द वल्लभ पन्त विश्वविद्यालय कृषि एवं उद्यान डॉ0 अनुराधा, उपनिदेशक टाटा ट्रस्ट डॉ0 मालविका चैहान, समन्वयक वाश विनोद कोठारी, टीम लीडर कृषि डा. राजेन्द्र कोश्यारी, टाटा ट्रस्ट पर्यटन हैड मृदुला, विशेषज्ञ शिक्षा एवं खेल अमन एवं टीम लीडर कृषि प्रद्युमन्न रावत, कृषि विशेषज्ञ टाटा ट्रस्ट डॉ0 एचएस रैवल, अपर सचिव ऊर्जा कैप्टन आलोक शेखर तिवारी, अपर सचिव राम विलास यादव,निदेशक वैकल्पिक ऊर्जा श्री ए0के0त्यागी आदि उपस्थित थे।

अनियंत्रित होकर ट्रक नदी में गिरा, वाहन चालक गंभीर रूप से घायल

विकासनगर। थाना सेलाकुई से प्राप्त जानकारी के अनुसार बीती देर रात्रि ट्रक यूके08 सीए-5431 अनियंत्रित होकर सेलाकुई के ग्राम रामपुर की आसन नदी के पुल से नदी में गिर गया, जिससे वाहन चालक फिरोज उम्र 27 वर्ष पुत्र युसूफ खान निवासी ग्राम अंबाडी विकासनगर को गम्भीर चोटें आई। बताया गश्त पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने तुरन्त मौके पर पहुंचकर चालक को वाहन से बाहर निकाला और निकट के अस्पताल भेजा। थाना प्रभारी विपिन बहुगुणा ने बताया प्राथमिक उपचार के बाद डाक्टरों ने गंभीर  रूप से घायल चालक को हायर सेंटर रेपफर कर दिया है।

25 वाहनों के काटे चालान, एक सीज

विकासनगर। बढ़ती दुर्घटनाओं पर रोक लगाने को लेकर गुरूवार को मुख्य प्रशासनिक अध्किारी परिवहन एसके निरंजन ने विकासनगर, हरर्बटपुर, कालसी आदि क्षेत्रों में घूम-घूमकर वाहनों को रोककर चैक किया और बताया अनिमियता पाये जाने पर 25 वाहनों के चालन काटें तो वहीं एक वाहन को सीज किया गया। उन्होंने सभी चालको को वाहनों में ओवरलोड और क्षमता से अध्कि सवारी नही बैठाने की सख्त हिदायत देते हुए कार्यवाही किए जाने की चेतावनी दी। अधिकारी का कहना है की ओवर लोडिंग आदि के खिलापफ उनका अभियान जारी रहेगा।

विधायक ने पेयजल लाइन के निर्माण कार्य का किया शुभारंभ


सहसपुर,। विधानसभा सहसपुर विधायक ने स्थानीय लोगों के साथ पेयजल लाइन के निर्माण कार्य का भूमि पूजन कर नारियल फोड़कर योजना का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि जल्द ही कांसवाली कोठरी और मांडूवाला गांव में पेयजल की समस्या दूर हो जाएगी। विधायक ने कहा कि क्षेत्रा की सभी समस्याओं को प्राथमिकता के साथ निस्तारण किया जा रहा है। इस मौके पर एसडीओ जल संस्थान एपी सिंह, जेई विवेक कुमार, रमा थापा, यशपाल सिंह नेगी, सुद्दोवाला मंडल अध्यक्ष सुखदेव सिंह पफर्सवाण, प्रियंका गुलेरिया, संदेश कुमार, कमलनाथ नेगी, अंकित शर्मा, निर्मला नेगी, सुनील, देवेंद्र थपलियाल, माया पंत, अमर सिंह कंडवाल, रजनीश शर्मा, हरिश चैहान, बल बहादुर थापा, देवेन्द्र बिष्ट आदि मौजूद रहे।


 

सहसपुर, आजखबर। विधानसभा सहसपुर विधायक ने स्थानीय लोगों के साथ पेयजल लाइन के निर्माण कार्य का भूमि पूजन कर नारियल फोड़कर योजना का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि जल्द ही कांसवाली कोठरी और मांडूवाला गांव में पेयजल की समस्या दूर हो जाएगी। विधायक ने कहा कि क्षेत्रा की सभी समस्याओं को प्राथमिकता के साथ निस्तारण किया जा रहा है। इस मौके पर एसडीओ जल संस्थान एपी सिंह, जेई विवेक कुमार, रमा थापा, यशपाल सिंह नेगी, सुद्दोवाला मंडल अध्यक्ष सुखदेव सिंह पफर्सवाण, प्रियंका गुलेरिया, संदेश कुमार, कमलनाथ नेगी, अंकित शर्मा, निर्मला नेगी, सुनील, देवेंद्र थपलियाल, माया पंत, अमर सिंह कंडवाल, रजनीश शर्मा, हरिश चैहान, बल बहादुर थापा, देवेन्द्र बिष्ट आदि मौजूद रहे।

एसडीएम चकराता ने सस्ते गल्ले की दुकानों का किया औचक निरीक्षण

विकासनगर। एसडीएम चकराता डा. अपूर्वा सिंह के नेतृत्व में तहसील की टीमों ने छावनी बाजार स्थित सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण किए जाने से राशन डीलरों में हड़कंप मच गया। 

एसडीएम ने निरीक्षण के दौरान दुकानदारों के स्टाक और बिक्री रजिस्टरों के साथ दुकानों में रखे स्टाक की गहनता से जांच की साथ ही दुकानदारों और उपभोक्ताओं से राशन कार्डों के डिजिटलाइजेशन के बारे में जानकारी ली। एसडीएम डा. अपूर्वा सिंह ने बताया कि निरीक्षण के दौरान विक्रेताओं से राशन कार्डों के डिजिटलाइजेशन और आनलाइन आधार लिंक के बारे में जानकारी ली गई। बताया कि समस्त दुकानदारों के दस्तावेज, स्टाक और राशन की क्वालिटी संतोषजनक पाई गई है। टीम में तहसीलदार चकराता केएस नेगी आदि शामिल रहे।

बोर्ड परीक्षाओं के लिए विभाग ने की पुख्ता की तैयारियां

विकासनगर। आगामी दो मार्च से शुरू होने वाली हाईस्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षाओं के लिए विभाग ने कमर कसते हुए तैयारियां पुख्ता कर दी। इस वर्ष जौनसार बावर सहित पछवादून के कुल 56 परीक्षा केंद्रों में 12,228 छात्र-छात्राएं बोर्ड की परीक्षा में शामिल होंगे। 

विकासनगर के बीईओ वीपी सिंह ने गुरुवार को केंद्र व्यवस्थापकों की बैठक लेते हुए कहा कि परीक्षा से पूर्व सभी केंद्रों पर मूलभूत सुविधाएं पूरी कर ली जाएं। वहीं सहसपुर ब्लाक के खंड शिक्षाधिकारी पंकज शर्मा ने सभी केंद्र व्यवस्थापकों की बैठक लेकर व्यवस्थाओं को चाक चैबंद करने के निर्देश दिए थे। बीईओ ने कहा कि नकल विहीन परीक्षा संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के उपाय पुख्ता किए जाने जरूरी हैं। उन्होंने सभी केंद्र व्यवस्थापकों का परीक्षा से एक दिन पहले कक्ष निरीक्षकों की बैठक लेने के निर्देश दिए। उन्होंने किसी भी आपात स्थिति पर कंट्रोल रूम को सूचित करने के निर्देश दिए गए। बीईओ चकराता डा. शूल चंद ने बताया कि ब्लाक के कैंट इंटर कालेज, राइंका क्वांसी और राइंका त्यूणी को संवेदनशील की श्रेणी में रखा गया है। इन केंद्रों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। इस दौरान जेएस चैहान, सतीश कुमार शर्मा, एनके सिंह, ओपी सिंह, मदन मोहन नेगी, हरीश धामी, आरसी कांडपाल, एसके सिंह, लाल बहादुर सिंह, रमन बड़थ्वाल, आरके सिंह आदि मौजूद रहे।

भाजपा धर्मपुर मंडल के वार्डों के प्रभारी एवं सह प्रभारी घोषित किए गए

देहरादून। भाजपा धर्मपुर नगर मंडल अध्यक्ष संन्दीप मुखर्जी के नेतृत्व में मंडल के नव नियुक्त मंडल पदाधिकारी, कार्यकारणी सदस्यों और वार्डों के शक्तिकेन्द्र संयोजक की एक परिचय बैठक महानगर कार्यलय पर आयोजित की गई। बैठक में महानगर के महामंत्री सतेन्द्र नेगी, मंडल प्रभारी एवं महानगर उपाध्यक्ष डॉ उदय सिंह पुंडीर, मण्डल सह प्रभारी एवं महानगर मंत्री संजय सिंघल, एवं मंडल अध्यक्ष द्वारा मंडल के नवनियुक्त पदाधिकारियों, कार्यकारणी सदस्यों एवं वार्डों के शक्तिकेन्द्र संयोजक का स्वागत के साथ आपसी परिचय किया गया।

इस दौरान महानगर महामंत्री सतेंद्र नेगी, मंडल प्रभारी डॉ उदय सिंह पुण्डीर, मण्डल सह प्रभारी एवं महानगर मंत्री संजय सिंघल ने सभी पदाधिकारियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी और आशा व्यक्त की वे पार्टी की रीती नीति के अनुसार कार्य करते हुए पार्टी के जनाधार को बढ़ाने का काम करेंगे। इस दौरान महानगर महामंत्री सतेंद्र नेगी ने 01 मार्च को माननीय प्रदेश अध्यक्ष के स्वागत कार्यक्रम, मार्च के अंतिम सप्ताह में सोशल मीडिया प्रभारियों की कार्यशाला और 06 अप्रैल को पार्टी के स्थापना दिवस पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की तैयारियों की चर्चा की। बैठक में मंडल अध्यक्ष ने सभी की बधाई दी और कहा की आप लोगों को जो पद दिये गए है वह एक जिम्मेदारी है और इस जिम्मेदारी की ध्यान में रखते हुए आप सभी संगठन के कार्य को आगे बढ़ाएंगे। हमे केंद्र और प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को जन जन तक ले कर जाना है तभी ज्यादा से ज्यादा लोग पार्टी के साथ जुड़ेंगे। उन्होंने इस दौरान वार्डों के प्रभारी एवं सह प्रभारियों की घोषणा की। कार्यक्रम का संचालन मंडल महामंत्री दिनेश सती एवं मुकेश सिंघल द्वारा किया गया। बैठक में पार्षद आलोक कुमार, वरिष्ठ भाजपा नेता लच्छू गुप्ता, वैजयंती माला, अजय शर्मा, नवीन नौटियाल, मुकेश रावत, बबली रावत, अजय सिंघल, संजय गौड़, ईन्दू पुण्डीर, रुचि, मंजू शर्मा, पूनम मसीह, प्रवीण बिष्ट, नदीम जैदी, रिजवान, महेश डोभाल, आशी खान, विक्की ठाकुर, मनोज धीमान, महेश गोयल, सलीम अंसारी, शशि भूषण जोशी, आर एस तिवारी, सोहन लाल प्रजापति, जितेंद्र गुप्ता आदि उपस्थित थे।

महाविद्यालयों के निर्माण कार्यो की धीमी गति पर मंत्री ने नाराजगी व्यक्त की

देहरादून। राज्यमंत्री डाॅ0 धन सिंह रावत द्वारा निर्माण कार्यो मंे धीमी गति वाले महाविद्यालयों के कार्यों को लेकर नाराजगी व्यक्त करते हुए नियत समय सीमा के अन्तर्गत निर्माण कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिन महाविद्यालयों से कार्य उपयोगिता प्रमाण-पत्र नहीं मिले हैं, उनके साथ बैठक कर तत्काल समस्या का समाधान निकाला जाए। 

समीक्षा के दौरान विभागीय मंत्री द्वारा निर्देशित किया गया कि राजकीय महाविद्यालय गोपेश्वर, नागनाथ पोखरी, तलवाड़ी, लम्बगांव, जहरीखाल, चैबट्टाखाल, थैलीसैंण, रानीखेत व रामनगर में चल रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा आगामी 13 मार्च एवं अन्य महाविद्यालयों त्यूनी, अमोड़ी, बनबसा, मंगलौर, मुवानी, पिथौरागढ़, गुप्तकाशी, दुकनाकुरी, उफरेंखाल, घाट, खटीमा, चुड़याला, चकराता, आदि के निर्माण कार्यों की समीक्षा 18 मार्च, 2020 को प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा के द्वारा सचिवालय में की जायेगी। जिसमें सम्बन्धित महाविद्यालयों के प्राचार्य एवं कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारी प्रगति अख्या के साथ प्रतिभाग करेंगे। डाॅ. रावत द्वारा अधिकारियों को निर्देशित किया गया की मार्च, 2020 तक निर्माणाधीन महाविद्यालयों का स्वीकृत बजट का उपयोग कर लिया जाए। इस अवसर पर हरिद्वार ग्रामीण क्षेत्र से विधायक स्वामी यतीश्वरानन्द, प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा आनन्द बर्द्धन, सचिव उच्च शिक्षा अशोक कुमार,  जिलाधिकारी हरिद्वार सी. रविशंकर, अपर सचिव अहमद इकबाल, संयुक्त सचिव एम.एम.सेमवाल, निदेशक उच्च शिक्षा डाॅ.एन.पी. माहेश्वरी, सलाहकार उच्च शिक्षा डाॅ एम.एस.एम रावत, संयुक्त सचिव राजस्व कृष्ण सिंह, संयुक्त निदेशक रूसा डाॅ. रचना नौटियाल, उप निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण रईस अहमद सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

जनगणना कार्ययोजना पर स्लाइड शो के माध्यम से दिया प्रस्तुतीकरण 

देहरादून। सचिवालय सभागार में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में जनगणना विभाग द्वारा आयोजित जनगणना से जनकल्याण 2021 विषयक बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में निदेशक जनगणना, भारत सरकार विम्मी सचदेवा रमन द्वारा जनगणना 2021 को सम्पन्न करने के लिए प्रथम एवं द्वितीय चरण की कार्ययोजना पर विस्तार से स्लाईड शो के माध्यम से प्रस्तुतीकरण किया गया। निदेशक जनगणना, भारत सरकार विम्मी सचदेवा रामन द्वारा बताया गया कि प्रथम चरण में मकान सूचीकरण एवं मकानों की गणना का कार्य 01 मई से 15 जून तक प्रगणकों द्वारा किया जाना है। द्वितीय चरण में जनसंख्या की गणना का कार्य 09 फरवरी से 28 फरवरी, 2021 तक पूर्ण किया जाना है।

उन्होंने बताया कि प्रथम चरण के साथ ही राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के अद्यतन का कार्य भी किया जायेगा। निदेशक द्वारा जनगणना कार्य हेतु विभिन्न स्तरों पर तैनात किये जाने वाले जनगणना अधिकारियों की नियुक्ति कर्तव्य एवं मानदेय के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने समस्त जिलाधिकारियों को जनगणना कार्य में लगाये जाने वाले फील्ड अधिकारियों तथा उनके निर्धारित मानदेय के बारे मे विस्तार से जानकारी दी। निदेशक जनगणना द्वारा प्रगणक एवं सुपरवाईजरों की नियुक्ति एवं प्रशिक्षण के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने जनगणना-2021  के लिए विकसित किये गये सीएमएमएस पोर्टल की भूमिका एवं इसके क्रियान्वयन के विषय में भी समस्त जिलाधिकारियों को अवगत कराया। उन्होंने बताया कि जनगणना-2021 में डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के उद्देश्य से जनगणना आंकड़ों का संकलन अनुसूचियों के साथ-साथ मोबाइल एप द्वारा भी किया जायेगा। उन्होंने प्रशिक्षण के विषय में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि राज्य स्तरीय प्रशिक्षक एवं प्रदेश स्तरीय मास्टर प्रशिक्षक का प्रशिक्षण कराया जा चुका है, जिनके द्वारा जिला स्तर में नियुक्त 514 फील्ड प्रशिक्षको को माह मार्च में प्रशिक्षण दिया जायेगा, जो अप्रैल माह में जनगणना कार्य में लगाये गये 30,102 प्रगणकों (इनुमेरेटरर्स) एवं 5474 सुपरवाईजर को प्रशिक्षित करेंगे। उन्होंने जानकारी दी कि जनगणना में इसबार 2018 तथा 2019 बैच के आईएएस प्रोबेशनर को भी जनगणना कार्य में शामिल किया गया है। बैठक में प्रभारी सचिव रंजीत सिन्हा ने भी जनगणना में विभिन्न स्तरों में तैनात अधिकारियों, प्रगणकों एवं सुपरवाईजरों के मानदेय के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने जिलाधिकारियों द्वारा मानदेय को लेकर उठाई गई जिज्ञासा का भी समाधान किया। बैठक में अपर सचिव बंशीधर तिवारी, जनगणना उपनिदेशक एसएस नेगी तथा उपनिदेशक सतान्या सेठ तथा सहायक निदेशक भी उपस्थित थे।

विज्ञान के अनुसंधानों का प्रयोग मानवता के विकास एवं पर्यावरण के अनुकूलन में होः बत्रा  

हरिद्वार। एस.एम.जे.एन. पी.जी. काॅलेज में उत्तराखण्ड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान केन्द्र (यू.सर्क) देहरादून के संयुक्त तत्वावधान में प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा की अध्यक्षता में ‘राष्ट्रीय विज्ञान’ दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने छात्र-छात्राओं को सम्बोधित करते हुए विज्ञान के गत 100 वर्षों की प्रगति पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि किस प्रकार से प्रगतिशील विज्ञान ने हम सभी का जीवन सरल बनाया है। डॉ सुनील कुमार बत्रा ने बताया कि विज्ञान के अनुसंधानों का प्रयोग मानवता के सतत् विकास एवं पर्यावरण के अनुकूल किया जाना चाहिए। सतत् विकास की अवधारणा आधारित आविष्कारों का प्रयोग हीं मानव जाति के लिए वरदान साबित हो सकता है। डॉ बत्रा ने कहा कि पालिथीन के दुरुपयोग से सम्पूर्ण विश्व त्रस्त है। इसके साथ ही उन्होंने विज्ञान के दुरूपयोग से उत्पन्न हो रही पर्यावरणीय समस्याओं को भी समझाया तथा पर्यावरणीय समस्याओं के समाधान पर भी अपने विचार व्यक्त किये।

कार्यक्रम के तकनीकि सत्र में एक वृत्त-चित्र भी दिखायी गयी जिसमें प्रदूषण व उसके समाधान को वैज्ञानिक तरीकों से समझाया गया। तकनीकि सत्र में छात्र-छात्राओं को विज्ञान के प्रति जागरूक  किया गया। इसके साथ ही कार्यक्रम में एक प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया जिसमें विज्ञान के विभिन्न पहलुओं से सम्बन्धित प्रश्नों के उत्तर छात्र-छात्राओं से पूछे गये। सही उत्तर देने वाले छात्र-छात्रा को पुरस्कृत किया गया। प्रतियोगिता में कनु प्रिया, आंकाक्षा व अफरोज जहां ने प्रथम, सूरत सती, जसवंत, दीपराज व मनु काजला ने द्वितीय तथा सलोनी दास व नवनीत कौर ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। दलजीत कौर व ऋषि रावत को सांत्वना पुरस्कार प्रदान किया गया। सम्पूर्ण कार्यक्रम का सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार दीक्षा वर्मा को प्रदान किया गया। इस अवसर पर मुख्य रूप से डाॅ. मनोज कुमार सोही, डाॅ. प्रज्ञा जोशी, डाॅ. विजय शर्मा, डाॅ. पूर्णिमा सुन्दरियाल, डाॅ. पदमावती तनेजा, विनीत सक्सेना, नेहा गुप्ता, नेहा सिद्दकी, दीपिका आनन्द, पुनीता शर्मा, स्वाति चोपड़ा, पंकज यादव, डाॅ. निविन्धया शर्मा, डाॅ. अमिता मल्होत्रा, कंचन तनेजा, रिचा मनोचा, सुगन्धा वर्मा, साक्षी अग्रवाल, डाॅ. रीतू चैधरी, रिंकल गोयल, प्रीति लखेड़ा, रचना राणा, प्रिंस श्रोत्रिय, योगेश कुमार रवि, कार्यक्रम के अंत में काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए महाविद्यालय प्रशासन, विज्ञान विभाग सहित समस्त शिक्षकों, शिक्षणेत्तर कर्मचारियों व छात्र-छात्राओं को धन्यवाद प्रेषित किया।

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत अभी तक 125 करोड़ की धनराशि व्यय की जा चुकी      

-केंद्रीय मंत्री निशंक की अध्यक्षता में हुई जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति बैठक

 

देहरादून। मंथन सभागार में क्षेत्रीय सांसद एवं केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डाॅ रमेश चन्द्र पोखरियाल निशंक की अध्यक्षता में जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति ‘‘दिशा’’ की बैठक आयोजित की गयी। इस अवसर पर स्मार्ट सिटी, प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण एवं शहरी, प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना, दीनदयाल ग्रामीण कौशल विकास योजना, सर्व शिक्षा अभियान, मध्यान्ह भोजन योजना, स्वच्छ भारत मिशन, राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल मिशन, बेटी बचाओ-बेटी पढाओ योजना, दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना, स्वच्छ भारत मिशन, पी.एम.जी.एस.वाई, उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी एवं ग्रामीण, दीनदयाल अन्त्योदय योजना समेत कई अन्य केन्द्रीय पोषित एवं वाह्य सहायतीत योजनाओं की समीक्षा की गयी। बैठक में स्मार्ट सिटी की समीक्षा के दौरान अभी-तक प्राप्त की गयी प्रगति के बारे में जानकारी देते हुए बताया गया कि अभी तक 125 करोड़ की धनराशि व्यय की जा चुकी है और 90 प्रतिशत् कार्यों के क्रियान्वयन पर तेजी से कार्य चलाया जा रहा है।  बताया गया कि योजना के अन्तर्गत 11 करोड़ रू0 के तीन कार्य, चार सड़के तथा 3 स्मार्ट स्कूल चलाये जायेंगे। इसके अलावा 30 इलैक्ट्रीक बसें स्मार्ट सिटी की सड़कों पर समयबद्धरूप से चलाई जायेंगी। महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना मनरेगा के तहत् प्राथमिकताएं तय करने के निर्देश भी बैठक में दिये गये। इसके अलावा एनआरएलएम के तहत् विभिन्न सामग्रीयों को ब्राडंेड आवरण देते हुए आगे बढाने की बात कही गयी। बैठक में भारत सरकार की नेशलन हेल्थ मिशन एनएचएम की समीक्षा के दौरान तेजी से कार्य किये जाने पर बल दिया गया। बैठक में प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना एवं प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत् कौशल विकास की सम्भावनाओं को तेजी से चलाये जाने के निर्देश भी दिये गये। बैठक में बताया गया कि 38 हजार किसान के्रडिट कार्ड धारकों को प्रधानमंत्री फसलबीमा योजना से लाभान्वित किया जायेगा। साथ ही प्रधानमंत्री सम्मान निधि का लाभ भी काश्तकारों को उपलब्ध कराया जायेगा। बैठक में सामाजिक सहायता के तहत् इन्दिरा गांधी वृद्धाअवस्था पेंशन, राष्ट्रीय विकलांग पेंशन एवं पारिवारिक लाभ योजना के लाभार्थियों को निर्धारित समय में लाभान्वित किये जाने के निर्देश भी दिये गये। बैठक में अनुसूचित जाति बाहुल्य ग्रामों को प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना से जोड़ने के भी निर्देश दिये गये। राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल योजना के तहत् ग्रामीण इलाकों में शुद्ध पेयजल की सुलभता कराये जाने पर भी बल दिया गया। इसके अलावा सर्वशिक्षा अभियान के तहत् साक्षरता दर बढाये जाने, स्मार्ट क्लासेस चलाये जाने, मध्यान्ह भोजन योजना चलाने तथा प्रत्येक स्कूल में खेल का मैदान बनाये जाने के भी निर्देश दिये गये। बैठक में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क येाजना के तहत् लक्षित 120 किमी सड़क का निर्माण निर्धारित समय मे ंपूरा करने के निर्देश भी दिये गये। बैठक में डिजिटल भू-लेख , पब्लिक इन्टरनेट आदि सुविधाओं के बारे में भी आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गये। समीक्षा बैठक के दौरान मा0 मंत्री जी ने उज्ज्वला योजना के तहत् गरीब परिवारों को दिये जा रहे गैस कनैक्शनों का वितरण जनप्रतिनिधियों के माध्यम से कराये जाने को कहा। उन्होंने दीन दयाल ज्योति योजना तथा प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के लिए कमेटी बनाकर मिशन मोड में योजना को चलाये जाने पर भी बल दिया। समीक्षा बैठक में दीन दयाल अन्त्योदय योजना, स्वच्छ भारत मिशन, सुलभ शौचालयों की स्थिति के सम्बन्ध में भी व्यापक दिशा-निर्देश दिये गये। बैठक में विभिन्न विभागीय अधिकारियों को केन्द्र पोषित योजनाओं को आम जनमानस के लिए लाभकारी बनाने हेतु जनप्रतिनिधिेयों का सहयोग लिये जाने तथा बैठक का एजेंडा जनप्रतिनिधियों को समय से भेजने के निर्देश दिये ताकि अगली बैठक में योजनाओं का रिव्यू किया जा सके। बैठक में मंत्री जी ने मुख्य विकास अधिकारी को जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति के कार्यों को अमलीजामा पहनाने के लिए विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक करने के निर्देश दिये गये। बैठक का संचालन मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल ने किया।  

इस अवसर पर जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव नें मंत्री जी द्वारा दिये गये निर्देशों का परिपालन सुनिश्चित करने के लिए विभागीय अधिकारियों को कहा। उन्होंने कहा कि दिशा की बैठक आगामी माह मई में निर्धारित समय पर सम्पादित की जायेगी और केन्द्रपोषित और वाह्य सहायतीत योजनाओं का ज्यादा से ज्यादा लाभ जनता को दिलाया जायेगा। समिति की बैठक में नगर निगम के महापौर सुनील उनियाल गामा, वरिष्ठ विधायक एवं पूर्व विधानसभा अध्यक्ष हरबंस कपूर, विधायक रायपुर उमेश शर्मा काऊ, विधायक सहसपुर सहदेव सिंह पुण्डीर, विधायक एवं पूर्व मेयर विनोद चमोली, राजपुर विधायक खजानदास, नगर निगम ऋषिकेश की मेयर अनिता ममगांई, डोईवाला के प्रमुख भगवान पोखरिया, नगर आयुक्त विनय शंकर पाण्डेय, मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल, जिला विकास अधिकारी प्रदीप पाण्डेय, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ मीनाक्षी जोशी समेत विभिन्न विभागों के जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

टीएचडीसीआईएल ने 22वीं आई.सी.पी.एस.यू. टेबल टेनिस प्रतियोगिता आयोजित की 

ऋषिकेश। टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड (टीएचडीसीआईएल) ने 25 से 28 फरवरी, 2020 तक पावर स्पो्र्ट्स कंट्रोल बोर्ड, विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के तत्वावधान में 22वीं अंतर केद्रींय विद्युत क्षेत्र उपक्रमों की टेबल टेनिस टूर्नामेंट सफल आयोजन किया। प्रतियोगिता में टीम स्पर्धा का फाइनल मुकाबला पी.जी.र्सी.आइ.एल एवं बी.बी.एम.बी. के बीच खेला गया तथा इसमें पी.जी.सी.आई.एल  विजयी रही। एस.जे.वी.एन.एल.  तृतीय स्थान पर रही।

युगल वर्ग की प्रतिस्पर्धा में पी.जी.र्सी.आइ.एल के रोनल सिंह तथा जे. मुखर्जी एवं बी.बी.एम.बी. के गौरव साहनी तथा नरेश कुमार के बीच खेला गया जिसमें पी.जी.सी.आई.एल के रोनल सिंह तथा जे. मुखर्जी की जोडी विजेता रही। तबी.बी.एम.बी. के गौरव साहनी तथा नरेश कुमार उपविजेता रहे तथा बी.बी.एम.बी. के ही नवनीत एवं परमजीत ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। एकल वर्ग की प्रतिस्पर्धा  पी.जी.र्सी.आइ.एल के रोनल सिंह तथा जे. मुखर्जी के बीच खेला गया जिसमें श्री रोनल सिंह विजेता तथा जे. मुखर्जी उपविजेता रहे तथा बी.बी.एम.बी. के गौरव साहनी तृतीय स्थान पर रहे।

प्रतियोगिता के समापन समारोह के अवसर पर मुख्य अतिथि  डी.वी. सिंह, अध्यक्ष व प्रबन्ध निदेशक ने अपने सम्बोधन में विजेताओं को बधाई देते हुए इस बात पर भी बल दिया कि सच्चे खेल भावना न केवल एक खिलाडी के लिए बल्कि एक संगठन को सुचारू रूप से चलाने के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है। समापन कार्यक्रम में निदेशक (कार्मिक) विजय गोयल, निदेशक (वित्त) जे. बेहेरा, मुख्य सतर्कता अधिकारी बी.पी. गुप्ता, कार्यपालक निदेशक (सेवायें. सामाजिक व पर्या.) एच.एल. भारज, महाप्रबन्धक एल.पी. जोशी, महाप्रबन्धक जी.एस. चैधरी, महाप्रबन्धक कुमार शरद, अपर महाप्रबन्धक (का.एवं प्र.) एन.के. प्रसाद एवं उपमहाप्रबन्धषक (कॉरपोरेट संचार ) डॉ. ए.एन. त्रिपाठी सहित कॉरपोरेशन के वरिष्ठ अधिकारीगण व कर्मचारीगण उपस्थ्ति रहे। श्री प्रसाद ने मुख्य अतिथि एवं सभी प्रतिभागियों का अभिवादन करते हुए उपस्थित जनसमूह का धन्यवाद किया। उल्लेखनीय है कि  टीएचडीसीआईएल ने 25 से 28 फरवरी, 2020 तक पावर स्पोॉर्ट्स कंट्रोल बोर्ड, विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के तत्वासधान में 22वीं अंतर केन्द्रीय विद्युत क्षेत्र उपक्रमों की टेबल टेनिस टूर्नामेंट का सफल आयोजन किया। इस प्रतियोगिता में विद्युत क्षेत्र उपक्रमों की 10 टीमें जिसमें एम.ओ.पी. पी.जी.र्सी.आइ.एल, एन.एच.पी.सी. ए बी.बी.एम.बी., पी.एफ.सी. सी.ई.ए. पो.सो.को.ए एस.जे.वी.एन.एल.ए डी.वी.सी. तथा आयोजक टीम-टी.एच.डी.सी.आई.एल. ने प्रतिभाग किया  मुख्य अतिथि अध्यदक्ष एवं  प्रबन्ध निदेशक डी.वी. सिंह ने टीएचडीसीआईएल द्वारा आयोजित विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के तत्वावधान में 22वीं अंतर केद्रींय विद्युत क्षेत्र उपक्रमों की टेबल टेनिस टूर्नामेंट के समापन की विधिवत घोषणा की। इस प्रतियोगिता के सफल संचालन हेतु प्रिंस विपन, चयनकर्ता, राष्ट्रीय टेबल टेनिस टीम एं राष्ट्रीय कोच तथा इस प्रतियोगिता के चीफ रेफरी के नेतृत्व में पूर्ण रूप से प्रशिक्षित अंतर्राष्ट्रीय एंव राष्ट्रीय अंपायरो को सहयोग लिया गया।

एम्स और टेलर एंड फ्रांसिस ग्रुप के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर

ऋषिकेश। ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) ऋषिकेश ने प्रतिष्ठित पब्लिशर कंपनी टेलर एंड फ्रांसिस ग्रुप के साथ समझौता ज्ञापन (एमओ यू) पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते के बाद टेलर एंड फ्रांसिस ग्रुप, एम्स के लिए आधिकारिक पुस्तक भागीदार बन जाएगा। यह एमओयू एम्स के डायरेक्टर प्रो रविकांत और सुनील नायर (एडिटोरियल डायरेक्टर-विज्ञान और चिकित्सा, टेलर एंड फ्रांसिस ग्रुप) के बीच साइन किया गया।

48,236 युवाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य निर्धारित 

देहरादून। सचिवालय सभागार में उत्तराखण्ड कौशल विकास विभाग द्वारा संचालित योजनाओं की प्रगति की समीक्षा बैठक मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में प्रभारी सचिव कौशल विकास रणजीत सिन्हा ने अवगत कराया कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (पी.एम.के.वी.वाई-2) में भारत सरकार द्वारा 48236 युवाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिसमें अभी तक 69 विभिन्न व्यवसायों से सम्बन्धित प्रशिक्षण में 27919 युवाओं को प्रशिक्षित किया जा चुका है तथा 22198 युवाओं को प्रमाणित किया जा चुका है एवं 9142 प्रशिक्षित युवा विभिन्न उद्यमों में नियुक्ति प्राप्त कर चुके हैं। साथ ही 19 हजार युवाओं को व्यावसायिक प्रशिक्षण से प्रशिक्षित किया जा रहा है।

समीक्षा के दौरान मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि पलायन वाले जनपदों यथा पौड़ी, चम्पावत, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा में नीति आयोग की संस्तुति का संज्ञान लेते हुए स्थानीय उत्पादों आधारित रोजगार परक व्यवसायों में युवाओं को प्रशिक्षित किया जाए। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में सेवा क्षेत्र में रोजगार व स्वरोजगार की बहुत सम्भावनायें हैं, जिसको देखते हुए स्किल डेवलपमेंट स्क्रीम में सेवा क्षेत्र आधारित प्रशिक्षण कार्यक्रम में बल दिया जाए। प्रभारी सचिव रणजीत सिन्हा ने अवगता कराया कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना में सेवा क्षेत्र में प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं। समीक्षा के दौरान अपर सचिव कौशल विभाग मिशन डॉ. अहमद इकबाल ने बताया कि मार्च 2020 तक अल्पकालिक प्रशिक्षण कार्यक्रमों के माध्यमों से लगभग एक लाख युवाओं को प्रशिक्षित किये जाने का लक्ष्य गतिमान है। उन्होंने बताया कि युवाओं को सेवायोजित करने के लिए पर्यटन के क्षेत्र में मेसर्स स्ट्रगलिंग होलीडे के साथ अनुबंध किया गया हैं तथा ऑटोमेटिव व्यवसाय में युवाओं को रोजगार के अवसर दिलाने के लिए मेसर्स होण्डा कम्पनी से भी अनुबंध किया जा रहा है। बैठक में अपर निदेशक कौशल विकास केन्द्र चन्द्रकांता, समन्वयक एस.पी. सचान सहित सम्बन्धित विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

चिकित्सा क्षेत्र में संकेताकों में आई गिरावट पर की चर्चा, सुधार के दिए निर्देश  

देहरादून। सचिवालय सभागार में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में प्रदेश के आकांक्षी(एस्पिरेशनल) जनपदों हरिद्वार एवं ऊधमसिंहनगर की वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से आयुक्त एवं जनपद हरिद्वार, ऊधमसिंहनगर के जिलाधिकारी एवं अन्य अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक हुई। उन्होंने माह दिसम्बर, 2019 में हरिद्वार के चिकित्सा क्षेत्र में आए संकेताकों में गिरावट पर चर्चा करते हुए इसमें सुधार के निर्देश जिलाधिकारी हरिद्वार सी. रविशंकर को दिए। उन्होंने चिकित्सा व्यवस्था बेहतर बनाने के लिए जिलाधिकारी हरिद्वार को अपने स्तर पर संविदा में रिक्त ए.एन.एम. के पद भरने के भी निर्देश दिए तथा महानिदेशक चिकित्सा को ए.एन.एम. के नियमित पदों पर नियुक्ति की कार्रवाई चलाने के निर्देश दिए।

मुख्य सचिव ने गढ़वाल मण्डल आयुक्त रविनाथ रामन को जनपद हरिद्वार के चिकित्सा, कृषि, कौशल विकास के क्षेत्रों में सुधार की पर्याप्त संभावनाओं पर नियमित समीक्षा करने के निर्देश दिए। उन्होंने वित्त सचिव अमित सिंह नेगी को आकांक्षी जनपदों हरिद्वार एवं ऊधमसिंहनगर को 01-01 करोड़ की अतिरिक्त धनराशि विवेकाधीन कोष के रूप में जारी करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी हरिद्वार एवं ऊधमसिंहनगर द्वारा इस जारी धनराशि में आवश्यकतानुसार व्यय हेतु जिलाधिकारियों को स्वायत्तता प्रदान करने का अनुरोध किया गया, जिसपर मुख्य सचिव द्वारा विचार का आश्वासन दिया गया। जिलाधिकारी हरिद्वार श्री सी. रविशंकर तथा जिलाधिकारी ऊधमसिंहनगर नीरज खैरवाल द्वारा गत माहों में आकांक्षी जनपदों द्वारा विभिन्न सेक्टरों में बेहतर प्रदर्शन के कारण भारत सरकार से प्राप्त प्रोत्साहन राशि उपयोग किये जाने की प्रास्थिति पर भी चर्चा हुई। ज्ञातव्य है कि प्रोत्साहन राशि के रूप में भारत सरकार द्वारा हरिद्वार जनपद को रू0 07 करोड़ तथा ऊधमसिंहगनर को रू0 03 करोड़ स्वीकृत किये गये थे। दोनो जिलाधिकारियों द्वारा बेहतर परफार्मेंस के लिए फ्रंटलाईन कार्मिकों की भर्ती में स्वायत्ता प्रदान करने का अनुरोध किया गया। बैठक में गढ़वाल मण्डल आयुक्त रविनाथ रामन, प्रभावी सचिव कौशल विकास योजना रणजीत सिन्हा, अपर सचिव शिक्षा रवनीत चीमा, महानिदेशक चिकित्सा अमिता उप्रेती तथा आयुक्त कुमांऊ मण्डल राजीव रौतेला, जिलाधिकारी ऊधमसिंहनगर नीरज खैरवाल एवं जिलाधिकारी हरिद्वार सी. रविशंकर से वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से आकांक्षी जनपदों के विषय में विस्तार से चर्चा की गई।

शादी का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाने वाले के खिलाफ मुकदमा दर्ज

विकासनगर। एसएसपी कार्यालय से एक प्रार्थना पत्र प्राप्त हुआ, जिसमें एक महिला द्वारा लिखा गया कि वह वर्ष 2018 में देहरादून ईस्ट अप्रिफकन ओवरसीज प्रा.लि. में नौकरी करने हेतु देहरादून से आई थी। जहां उसकी मुलाकात आशुतोष कुमार कटारिया पुत्र सलेकचन्द निवासी 39 ग्राम लकसंधा थाना कोतवाली नगर जिला मुजफनगर यूपी से हुई। जिसके द्वारा महिला को प्रेम प्रसंग में फंसाकर शादी का झांसा देकर उससे शारीरिक सम्बन्ध बनाये तथा बाद में शादी करने से इन्कार किया गया। इस सम्बन्ध में बीते रोज थाना सहसपुर पर धारा 376 आईपीसी बनाम आशुतोष मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

सीआरपीसी की कार्यवाही के तहत एक व्यक्ति का चालान 

सहसपुर। थाना सहसपुर पुलिस ने सीआरपीसी की कार्यवाही के तहत एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। जानकारी के अनुसार शुक्रवार को सिपाही अमित कुमार व सुधीर कुमार चीता मोबाइल शांति कानून व्यवस्था डयूटी में थाना क्षेत्रा में रवाना थे। ग्राम खुशहालपुर में दिलावर उर्फ सोनू पुत्र अशरफ निवासी खुशहालपुर सहसपुर अपनी माताजी के साथ घर में लड़ाई झगड़ा कर रहा था। जिसे मौके पर स्थानीय जनता व पुलिस कर्मियों ने काफी समझाने की कोशिश की, लेकिन नही माना। पुलिस ने मौके पर शांति बनाए रखने को सीआरपीसी में गिरफ्तार कर लिया गया। जिसे कोर्ट में पेश किया गया।

मेधावी छात्रों को पुरस्कृत किया गया

विकासनगर। केनरा बैंक शाखा विकासनगर की ओर से राजकीय प्राथमिक पूर्व माध्यमिक एवं इंटर कालेज में अध्ययनरत बालिकाओं जिन्होंने विद्यालयों में उत्कृष्ट प्रतिशत प्राप्त किए थे को प्रेरणा स्वरूप धनराशि के चैक वितरित किए गए।

राजकीय प्राथमिक विद्यालय शेरपुर की पायल कक्षा 5, कक्षा 6 की मीनाक्षी व कक्षा 7 की प्रीति को 2 हजार 5 सौ रूपये और कक्षा 8 की अंजु तोमर को 5 हजार रूपये का चैक प्रदान किया गया। इसके अलावा राजकीय इंटर कालेज मेदनीपुर कक्षा 9 की रूमा व  निकिता को 5 हजार रूपये के चैक वितरित किए।

इस मौके पर केनरा बैंक विकासनगर के वरिष्ठ शाखा प्रबंधक विजय सिंह चैहान, बैंक अधिकारी सचिन जोशी, तथा राजकीय इंटर कालेज मेदनीपुर के प्रवक्ता केशर सिंह राय, राजकीय प्राथमिक विद्यालय शेरपुर के प्रधनाध्यापक रणबीर सिंह राय, अरूण गेजवाल, कृष्णा कुमारी, कमलेश चड्डा, अनुप, बीडी शर्मा मौजूद थे।

चोरी के सामान के साथ एक गिरफ्तार 

विकासनगर। कोतवाली विकासनगर पुलिस ने चोरी के सामान सहित एक व्यक्ति को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। पुलिस ने आरोपी को शुक्रवार को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया। जानकारी के अनुसार 20 फरवरी को आईजीक कुमार पुत्र चार्ली निवासी पोटा रोड आलोक चिल्ड्रन होम ढकरानी थाना विकासनगर द्वारा थाना पर तहरीर दी कि अज्ञात चोरों द्वारा उनके घर का दरवाजा खुला होने पर घर में घुसकर कैमरे मोबाइल आदि सामान चोरी कर लिया है इस सूचना पर थाना विकासनगर पर धारा 380 आईपीसी के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर चोरी की घटना के अनावरण को मुखबिर तंत्र को सक्रिय करते हुए पूर्व में चोरी की घटनाओं में संलिप्त अपराधियों का सत्यापन किया गया। घटनास्थल के आसपास सीसीटीवी कैमरे चेक किए गए इसी क्रम में शनिवार को 28 फरवरी को मुखबिर की सूचना पर राहुल यादव पुत्रा स्व. बैजनाथ निवासी खानपुर रोड शिव मंदिर कुष्ठ आश्रम के पास थाना खैरतपुर जिला पफतेहपुर पंजाब को चोरी गए 2 सोनी व कैनन कंपनी के कैमरे व 1 मोबाइल पफोन विवो कंपनी और 2 कैमरा चार्जर टोटल कीमत लगभग 75 हजार रूपयेद्ध साहित हरबर्टपुर क्षेत्रा से गिरफ्रतार करने में सपफलता प्राप्त की। आरोपी द्वारा पूछताछ में बताया गया कि वह गरीब है तथा परिवार में सबसे बडा होने के कारण पारिवारिक जिम्मेदारियां ज्यादा है वह पूर्व से ही घटनास्थल से वाकिफ था तथा घटना के दिन जब उसे घर का दरवाजा खुला मिला तो उसके द्वारा घर में रखे कैमरे व मोबाइल फोन चोरी कर लिए गए थे। पुलिस ने आरोपी को कोर्ट में पेश कर न्यायिक अभिरक्षा में जिला कारागार सुद्दोवाला भेज दिया गया।  पुलिस टीम में एसएसआई गिरीश नेगी, एसआई रवि प्रसाद चैकी प्रभारी हरबर्टपुर, सिपाही परविंदर कुमार, श्रीकांत मलिक, जितेंद्र कुमार शामिल थे।

शैक्षिक भ्रमण कार्यक्रम के तहत छात्रों ने पुलिस कार्यप्रणाली के बारे में जाना 

विकासनगर। स्कूली छात्र-छात्राओं को थाना भ्रमण करवाकर सहसपुर पुलिस ने पुलिस कार्यप्रणाली की जानकारी दी। इस दौरान पुलिस ने एमवी एक्ट के साथ-साथ नशे की प्रवृति पर अंकुश लगाने पर जोर दिया। थाना सहसपुर जनपद में थानाध्यक्ष सहसपुर के नेतृत्व में छात्र व छात्राओं को पुलिस कार्य प्रणाली व जनसहभागिता से पुलिस की छवि को उत्कृष्ट बनाए जाने हेतु सड़क सुरक्षा व यातायात सुचारू रखने के दृष्टिगत जन-जागरुकता, एमवी एक्ट के अधीन नियमो/मानको की जानकारी, सड़क दुर्घटनाओं पर प्रभावी अंकुश लगाने, यातायात नियन्त्राण एवं वर्तमान मंे विद्यार्थियांेे में बढ़ रही नशे की प्रवृति पर अंकुश लगाने व रोकथाम करने हेतु छात्र-छात्राओं व अध्यापकों को पुलिस के प्रति समन्वय व सूचना तंत्रा को मजबूत बनाने को थाना सहसपुर मे आमन्त्रित किया गया। 

जिसमे एएसपी/थानाध्यक्ष व एसएसआई थाना सहसपुर एवं कार्यालय कर्मचारियों द्वारा स्कूली बच्चों को सम्बोधित करते हुए, सुझाव का आदान-प्रदान कर सहायता कार्याे की विस्तारपूर्वक जानकारी दी गयी व साथ ही आमजनों को प्रोत्साहित करने के उदेश्य से पुलिस द्वारा विषम व प्रतिकूल परिस्थितियों में भी पुलिस द्वारा की जा रही निरोधात्मक कार्यवाही व कार्य प्रणाली के सम्बन्ध में भी विस्तृत रूप से अवगत कराया गया, तथा किस प्रकार जनता के सहयोग से अपराध व अपराधियो पर अंकुश लगाया जा सकता है, इसकी भी विस्तृत चर्चा की गई। पुलिस ने सभी बच्चो से आग्रह किया गया कि उक्त बिन्दुओं के सम्बन्ध में अपने परिवार, दोस्तो व अपने अन्य सभी परिचितों को भी अवगत कराएं, और ज्यादा से ज्यादा पुलिस को सहयोग हेतु प्रोत्साहित करें। जिससे अपराध मुक्त समाज की परिकल्पना की जा सके। आगंतुक सभी बच्चो द्वारा थाना भ्रमण के दौरान कापफी उत्सुक्ता दिखाई गयी, और पुलिस की कार्यप्रणाली को ध्यान से सुन व देखकर खुद में आत्मसात करने की प्रतिबद्धता दिखाई दी व बड़े उत्साह के साथ थाना भ्रमण किया गया।

दूल्हा और दुल्हन ने सात फेरे लेने से पहले किया पौधारोपण 

कालसी। पर्यावरण संरक्षण हम सब का कर्तव्य है, यदि पर्यावरण ठीक रहेगा तो यह समाज भी ठीक रहेगा। पर्यावरण को बढ़ावा देने के लिए दूल्हा और दुल्हन ने सात फेरे लेने से पहले पौधारोपण किया और उसके बाद आठवां वचन पर्यावरण संरक्षण का लिया। खत फरटाड पिनगीरी गांव के महावीर सिंह तोमर की बारात जब समाल्टा गांव पहुंची तो बारातियों के स्वागत के पश्चात दुल्हन अंजू ने दूल्हे महावीर के साथ मिलकर संयुक्त रूप से पौधारोपण किया और दोनों ने अपने विवाह के स्मृति को चिरस्थाई रखने के लिए यह संकल्प भी लिया कि जीवन पर्यंत पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्य करते रहेंगे। दुल्हे के मामा एवं विधानसभा में सूचना अधिकारी भारत चैहान का कहना है कि पर्यावरण संरक्षण को सुरक्षित रखने के लिए इस प्रकार की पहल सराहनीय है। समाज के लोगों को अपने पावन अवसरों को स्मरण रखने के लिए पौधारोपण करना समय की आवश्यकता है। बदलते समय में जिस प्रकार प्रदूषण बढ़ रहा है ऐसे में पौधारोपण ही एकमात्र समाधान है। इस अवसर पर पूरन सिंह तोमर, तिलक सिंह, अनिल सिंह, सरदार सिंह, श्रीचंद तोमर, रमेश चैहान, बलवंत सिंह तोमर सहित बाराती एवं दुल्हन पक्ष के लोग भी उपस्थित थे। पौधारोपण के बाद सब लोगों ने जोरदार तालियों से इस पहल का स्वागत किया।

सीएचसी साहिया का औचक निरीक्षण किया

साहिया, आजखबर। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र साहिया का अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. दिनेश चैहान ने औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान आपरेशन थिएटर, लैब, इमरजैन्सी वार्ड, ओपीडी, उपस्थिति पंजिका और औषधि भंडार की व्यवस्थाओं की जांच की गई।  कोरोना वायरस को लेकर केन्द्र के चिकित्साधिक्षक को आइसो लेशन वार्ड व अस्पताल मंे इन्फ्रलूएंजा सिमटम, खांसी, जुकाम, बुखार वाले मरीजो को अलग ओपीडी बनाने को कहा ताकी और लोगों मंे इंपफेक्शन न फैल सके साथ ही अस्पताल में बैसिक इन्प्रफास्ट्राक्चर मंे सुधार करने की बात कही। कहा की एक एजेंडा के तहत सभी अस्पतालों का निरीक्षण किया जा रहा है। चीन में कोरोना वायरस पफेला हुआ है। कोरोना वायरस को देखते हुए सतर्कता बरती जा रही है। सरकार ने इसके लिए एडवाजरी भी जारी की है जिसका अनुपालन भी किया जा रहा है, वहीं दुसरी और अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. दिनेश चैहान ने चकराता अस्पताल में एएनएम, आशाओं पफार्मासिस्ट, व डाक्टरों की बैठक ली व समस्याएं सुनी व कोरोना वायरस को लेकर सतर्कता बरतने के निर्देश दिए। इस मौके पर साहिया अस्पताल के अधिक्षक डा. विक्रम सिंह, चकराता के अधिक्षक व स्टाफ मौजूद रहा।

हाईकोर्ट ने सरकार के आदेश पर रोक लगाई

देहरादून। उत्तराखंड में पांच हेक्टेयर से कम क्षेत्र में फैले वनों को वन श्रेणी से बाहर रखे जाने के मामले में दायर जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने सरकार के आदेश पर रोक लगा दी है। वरिष्ठ न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया एवं न्यायमूर्ति एनएस धानिक की खंडपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई। 

प्रो. अजय रावत ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा था कि सरकार ने 19 फरवरी 2020 को एक नया आदेश जारी किया है, इसमें 5 हेक्टेयर से कम क्षेत्रफल वाले वनों को वनों की श्रेणी से बाहर रखा गया है। इससे पूर्व भी सरकार ने 10 हेक्टेयर से कम क्षेत्रफल वाले वनों को वन श्रेणी में नहीं माना था लेकिन सरकार ने आदेश में संशोधन कर 10 हेक्टयेर को 5 हेक्टेयर कर दिया। 

याचिकाकर्ता का कहना था कि फॉरेस्ट कंजरवेशन एक्ट 1980 के तहत प्रदेश में 71 प्रतिशत वन क्षेत्र घोषित किया गया है। इसमें वनों की श्रेणी को विभाजित किया गया है लेकिन कुछ क्षेत्र ऐसे भी हैं जिन्हें किसी भी श्रेणी के तहत नहीं रखा गया है। याचिका में संबंधित क्षेत्रों को भी वन क्षेत्र की श्रेणी में शामिल किए जाने की मांग करते हुए कहा गया कि इनके दोहन और कटान पर रोक लगाई जा सकेगी। याचिकाकर्ता की ओर से कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने 1996 के अपने आदेश में गोडा वर्मन बनाम केंद्र सरकार में कहा है कि किसी भी वन क्षेत्र को वन श्रेणी में रखा जाएगा। उसका मालिक कोई भी हो सकता है। उन्होंने स्पष्ट किया है कि वनों का अर्थ क्षेत्रफल और घनत्व से नहीं है। जहां भी 5 प्रतिशत क्षेत्र में पेड़ पौधे हैं, उनका घनत्व 10 प्रतिशत है तो उन्हें वनों की श्रेणी में रखा गया है। सरकार के इस आदेश पर वन एवं पर्यावरण मंत्रालय भारत सरकार ने कहा है कि प्रदेश सरकार वनों की परिभाषा न बदले। पक्षों को सुनने के बाद हाईकोर्ट की खंडपीठ ने सरकार के आदेश पर रोक लगा दी है।

त्यूनी क्षेत्र की योजनाओं का किया निरीक्षण

त्यूनी। त्यूनी क्षेत्र में उद्यान विभाग द्वारा विभागीय योजनाओं पोलिहाउस, वाटर टैंक, ग्रेडिंग हाल आदि येाजनाओ को निरीक्षण किया गया। वरिष्ट उद्यान निरीक्षक प्रेम सिंह रावत ने बताया कि विभाग की ओर से काश्तकारेां को सब्सीडी दी गयी। जिससे काश्तकार अपनी पफसलों को दुगुनी कर मुुनापफा कमा सके। उन्होने बताया कि चैसाल, कुल्हा, भाटगडी, भगौत, सारनी, डेरसा, भटाड, पुरटाड, छजाड आदि क्षेत्रो में चल विभागीय योजनाओं का कार्य संतोषजनक पाया गया। इस मौके पर वरिष्ठ उद्यान प्रभारी आरपी जसोल, आरएस कोहली, पीएस रोथाण, बीर सिंह चैधरी आदि मौजूद रहे।

विधानसभा सत्र को देखते हुए कर्मियों का अवकाश स्वीकृत न करने के दिए निर्देश

देहरादून। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने समस्त अपर मुख्य सचिव समस्त प्रमुख सचिव, सचिव एवं अन्य उच्चाधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे अपने अधीन समस्त विभागाध्यक्षों को आदेश कर दें कि आगामी 03 मार्च से गैरसैंण चमोली में आरम्भ हो रहे विधानसभा सत्र के दृष्टिगत किसी अधिकारी कर्मचारी को अवकाश स्वीकृत नही किया जाए क्योंकि इस अवधि में अपेक्षित विधानसभा प्रश्नों के उत्तर तथा विधानसभा से सम्बन्धित अन्य वांछित कार्रवाई सुनिश्चित करने के उद्देश्य से अधिकारियों की मुख्यालय में उपस्थिति अनिवार्य है। अतः विषम परिस्थितियों को छोड़कर किसी भी अधिकारीध्कर्मचारी का अवकाश स्वीकृत न किया जाय। इसके अतिरिक्त सभी अधिकारी कार्यालय अवधि के उपरान्त भी मुख्यालयध्दूरभाष पर अपनी उपस्थिति बनाये रखें, ताकि आवश्यकता पड़ने पर किसी भी समय उनसे सम्पर्क किया जा सके।

आबकारी विभाग के 14 अफसरों को तबादला

देहरादून। उत्तराखंड आबकारी विभाग में शासन ने बड़ा फेरबदल किया है। विभाग के 14 अफसरों को इधर से उधर किया गया है। बीएस चैहान, रमेश चैहान, प्रदीप कुमार, विवेक सोनकिया, मनोज कुमार उपाध्याय, पवन कुमार सिंह, अशोक कुमार मिश्रा, तपन कुमार पांडेय, रमेश चंद्र बंगवाल, रेखा जुयाल, ओमकार सिंह, कैलाश चंद्र बिंजोला, आलोक शाह और राजेंद्र लाल का ट्रांसफर किया गया है।

भाजपा के नवनियुक्त पदाधिकारियों का 1 मार्च को होगा भव्य स्वागत

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और महानगर में निवास कर रहे नवनिर्वाचित प्रदेश पदाधिकारियों का 1 मार्च रविवार के दिन भव्य स्वागत किया जाएगा। इस कार्यक्रम को लेकर आज महानगर कार्यालय में महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट की अध्यक्षता में बैठक हुई। जिसमें कार्यक्रम को लेकर चर्चा हुई। महानगर अध्यक्ष भट्ट ने कहा, कि यह स्वागत कार्यक्रम अपने आप में यादगार और भव्य कार्यक्रम होगा।

 भाजपा महानगर की ओर से यह कार्यक्रम लाॅड वेंकटेश्वर (सचिवालय के सामने) में किया जाएगा। जिसमें महानगर के में रह रहे सभी जेष्ठ-श्रेष्ठ कार्यकर्ता, पदाधिकारी विधायक और दायित्व धारी भी मौजूद रहेंगे। इसके लिए महानगर की कार्यकारणी के अलावा मंडलों और पार्षदों को भी कार्यक्रम को सफल बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। भट्ट ने कहा कि सभी कार्यकर्ता प्रातः 10.30 बजे बड़ी संख्या में लॉर्ड बटेश्वर में नवनिर्वाचित प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत और प्रदेश के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों के स्वागत में पहुंचे। इसके लिए वरिष्ठ पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं को अलग-अलग जिम्मेदारियां दी गई हैं। बैठक का संचालन महामंत्री सतेंद्र नेगी ने किया। बैठक में महानगर के उपाध्यक्ष डॉक्टर उदय सिंह पुंडीर, उपाध्यक्ष आशीष नागरथ, बृजलेश गुप्ता, रुद्रेश शर्मा, सह मीडिया प्रभारी गिरिराज उनियाल, संजय सिंघल, सुनील शर्मा, लच्छू गुप्ता, सोशल मीडिया प्रभारी अनुराग भाटिया, करन दत्ता, राजेंद्र ढिल्लो, राजेश रावत, विजय थापा आदि मौजूद थे।

---------------------------------------------------------------

पार्टी नेताओं ने मुत्त कंठ से की प्रशंसा 

देहरादून। 15 सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के नवनियुत्त उपाध्यक्ष शादाब शम्स के कार्यभार ग्रहण करने के मौके पर मौजूद वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने उनकी मुत्तकंठ से प्रशंसा की। दर्जा प्राप्त कैबिनेट मंत्री ज्योति प्रसाद गैरोला ने कहा कि शादाब ने भाजपा में 20-20 के अंदाज में अपनी पारी खेली और बहुत जल्दी एक मजबूत स्थान पार्टी में बनाया। उन्होंने सरकार और संगठन का पक्ष मीडिया में प्रदेश सह प्रभारी रहते मजबूती के साथ रखा। नवनियुत्त प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ देवेंद्र भसीन ने शम्स को बेहतरीन प्रवत्ता और मीडिया पैनल लिस्ट होने के नाते पार्टी का आईना कहकर उन्हें उत्साहित किया। वरिष्ठ भाजपा नेता और शादाब समझ के राजनीतिक गुरु प्रकाश सुमन ध्यानी ने उनकी तारीफ करते हुए कहा कि वह बहुत जल्द भाजपा में फिट हो गए और पार्टी की रीति नीति को तेजी से समझा संगठन के लिए उनकी मेहनत और समर्पण को देऽते हुए सरकार ने उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दी। शादाब के बारे में बोलते हुए ध्यानी की आंखे नम हो गई। एंग्लो इंडियन प्रतिनिधि जॉर्ज आईवन ग्रेगरी मैन ने कहा कि शादाब उनके लंबे समय से दोस्त हैं और उनका ताल्लुक भाई जैसा है। संगठन के प्रति उनके समर्पण भाव ने उन्हें पार्टी का मजबूत नेता बनाया है। प्रदेश सह मीडिया प्रभारी संजीव वर्मा ने कहा कि शादाब शम्स ने पार्टी संगठन और सरकार का पक्ष मीडिया में मजबूती के साथ रखा।

Featured Post

जवानों की शहादत का कोई मोल नहीं है केंद्र सरकार की नजरों मेंः मोर्चा

-देश की एजेंसियों को विरोधियों को कमजोर करने व चुनावी षड्यंत्र के काम से हटाए सरकार -उत्तराखंड के जवानों की दिनों-दिन हो रही शहादत पर...