Monday, 31 August 2020

अलविदा प्रणब दाः हर तरफ शोक की लहर, सात दिवसीय राजकीय शोक घोषित

 




नई दिल्ली। भारतीय राजनीति में हर तबके और पक्ष-विपक्ष में सभी के सम्मानित नेता रहे भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (प्रणब दा) के निधन की खबर मिलते ही हर तरफ शोक की लहर दौड़ गई। वे 84 वर्ष के थे।दिल्ली कैंट स्थित आर्मी रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में उनका इलाज किया जा रहा था। आज सुबह ही अस्पताल की तरफ से बताया गया था कि फेफड़ों में संक्रमण की वजह से वह सेप्टिक शॉक में थे। मुखर्जी के निधन पर भारत सरकार ने 31 अगस्त से छह सितंबर तक सात दिवसीय राजकीय शोक घोषित किया है। 


84 वर्षीय मुखर्जी लगातार गहरे कोमा में थे और उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था। सेप्टिक शॉक की स्थिति में रक्तचाप काम करना बंद कर देता है और शरीर के अंग पर्याप्त ऑक्सीजन प्राप्त करने में विफल हो जाते हैं। उन्हें 10 अगस्त को दिल्ली कैंट स्थित सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इससे पहले उनकी कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई थी। मुखर्जी के मस्तिष्क में खून के थक्के जमने के बाद उनका ऑपरेशन किया गया था। अस्पताल में भर्ती कराए जाने के समय वह कोविड-19 से भी संक्रमित पाए गए थे। इसके बाद उन्हें श्वास संबंधी संक्रमण हो गया था। मुखर्जी भारत के 13वें राष्ट्रपति के रूप में वर्ष 2012 से 2017 तक पद पर रहे। पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी के परिवार में दो बेटे और एक बेटी हैं।


प्रणब मुखर्जी का जन्म 11 दिसंबर 1935 को पश्चिम बंगाल के वीरभूमि जिले के मिराती नामक गांव में हुआ था। उनके पिता कामदा किंकर मुखर्जी एक स्वतंत्रता सेनानी और कांग्रेस के नेता थे और उनकी माता राजलक्ष्मी मुखर्जी एक गृहणी। प्रणब दा शुरू से ही पढ़ाई में तेज थे और जिले के सुरी विद्यासागर कॉलेज से अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त की और उसके बाद कलकत्ता विश्वविद्यालय से राजनीति शास्त्र में एमए और कानून की पढाई (एलएलबी) में स्नातक की डिग्री प्राप्त की।
अपनी प्रारंभिक और उच्च शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने कलकत्ता में ही पोस्ट एंड टेलिग्राफ विभाग में अपर डिविजन क्लर्क की नौकरी शुरू की। इसके बाद उन्होंने 1963 में पश्चिम बंगाल के 24 परगना जिले में स्थित विद्यानगर कॉलेज में कुछ वक्त तक बतौर शिक्षक राजनीति शास्त्र भी पढ़ाया। इतना ही नहीं उन्होंने एक समाचार पत्र में बतौर पत्रकार भी काम किया।


राजनीति की शुरुआत
प्रणब मुखर्जी ने 1969 में मिदनापुर उपचुनाव में एक निर्दलीय उम्मीदवार वीके कृष्ण मेनन के लिए चुनाव प्रचार किया और यहां से उनकी दिलचस्पी राजनीति में बढ़ने लगी। उस वक्त की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी उस उपचुनाव में प्रणब मुखर्जी के चुनावी और रणनीतिक कौशल से बेहद प्रभावित हुईं और उन्हें कांग्रेस पार्टी का सदस्य बना दिया। इसके बाद उसी साल जुलाई में मुखर्जी को कांग्रेस ने राज्यसभा में भेज दिया।
पहली बार राज्यसभा पहुंचे और मंत्री पद संभाला
इंदिरा गांधी की बदौलत प्रणब मुखर्जी 1969 में कांग्रेस की तरफ से पहली बार राज्यसभा पहुंचे। फरवरी 1973 से जनवरी 1974 तक वह औद्योगिक विकास
मंत्री रहे। इसके बाद जनवरी 1974 से अक्टूबर 1974 तक वह जहाजरानी और परिवहन मंत्री के पद पर रहे। अक्टूबर 1974 से दिसंबर 1975 तक वह वित्त राज्य मंत्री रहे।


पांच बार पहुंचे राज्यसभा
जुलाई 1975 में वह दूसरी बार राज्यसभा के लिए चुने गए। दिसंबर 1975 से मार्च 1977 तक वह राजस्व और बैंकिंग मंत्रालय में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बने रहे। साल 1978 से 1980 तक वह राज्यसभा में कांग्रेस पार्टी के उप नेता रहे। वे कई वर्षों तक कांग्रेस वर्किंग कमिटी के सदस्य रहे और पार्टी के विभिन्न पदों का जिम्मा भी संभाला। पार्टी में कई अहम पदों के साथ ही उन्होंने कई मंत्रालयों का भार भी संभाला। इसके बाद अगस्त 1981 में वह तीसरी बार राज्यसभा सदस्य चुने गए। इसके बाद 1993 में चैथी और 1999 में पांचवीं बार राज्यसभा के लिए चुने गए।


कई मंत्रालय संभालते हुए राष्ट्रपति पद पर पहुंचे
प्रणब दा ने विदेश मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय, वित्त मंत्रालय समेत कई महत्वपूर्ण पदों पर अपनी भूमिका निभाई। प्रणब दा ने 25 जून 2012 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया और 2012 से 2017 तक भारत के 13वीं राष्ट्रपति रहे।



पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन को अपूर्णीय क्षति बताया

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने भारत के 13वें राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा है कि प्रणब मुखर्जी का हम लोगों के बीच से जाना समाज के लिए एक अपूरणीय क्षति है।
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा है कि उनके निधन से देश ने एक ऎसे नेता को खो दिया है जो हमेशा समाज में जमीनी स्तर से जुड़े रहे।वो बहुत कुशाग्र थे और उन्होंने पूरी तन्मयता के साथ विभिन्न पदों पर रहते हुए देश की सेवा की है।वह बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे साहित्यिक दक्षता, पत्रकारिता,असाधारण विवेक के धनी, एक राजनीतिज्ञ, सौम्य और मिलनसार स्वभाव के कारण राजनीतिक क्षेत्र में वे सर्वप्रिय थे।उन्होंने हमारे राष्ट्र के विकास पथ पर एक अमिट छाप छोड़ी है। विधानसभा अध्यक्ष ने भगवान से उनकी आत्मा को शांति प्रदान करने की प्रार्थना करते हुए उनके शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है।


गृहमंत्री अमित शाह को एम्स से छुट्टी मिलने पर खुशी व्यक्त की

देहरादून। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने आज एम्स, दिल्ली से गृहमंत्री अमित शाह की छुट्टी होने पर प्रसन्नता व्यक्त की एवं उनके कुशलता की ईश्वर से कामना की।
 इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने कहा है कि अस्वस्थ  होने के कारण विगत दिनों अमित शाह जी एम्स दिल्ली में एडमिट हुए थेस आज एम्स से छुट्टी मिलने के पश्चात वह वापस अपने आवास पर पहुंचे हैं। श्री अग्रवाल ने कहा कि हर चुनौती के सामने गृह मंत्री जी की  दृढ़ता और इच्छाशक्ति एक मिसाल रही है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि गृहमंत्री अब स्वस्थ होकर पूर्व की भांति राष्ट्र सेवा एवं पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन करेंगे।


कांस्टेबल नरेन्द्र तोमर के निधन पर दुख व्यक्त किया

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने जनपद हरिद्वार में कार्यरत उत्तराखण्ड पुलिस के कर्मठ योद्धा कांस्टेबल नरेन्द्र तोमर के आकस्मिक मृत्यु पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत आत्मा की शान्ति तथा शोक संतप्त परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि स्वर्गीय श्री तोमर ने कोविड-19 के खिलाफ इस लड़ाई में सबसे बड़ा बलिदान दिया है। एक भी कोरोना वॉरियर की क्षति पूरे समाज के लिए बहुत बड़ी क्षति है।


राज्य में सोमवार को 592 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले, 12 की मौत

देहरादून। उत्तराखंड में सोमवार को 592 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं, सक्रमित मरीजों की मृत्यु दर में रिकॉर्ड बना है। पांच महीने में पहली बार एक ही दिन में 12 मरीजों की मौत हुई है। आज 604 मरीजों को ठीक होने पर घर भेजा गया है। प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 20 हजार पार पहुंचने को है।
स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, सोमवार को 10109 सैंपल निगेटिव मिले हैं। वहीं, 592 सैंपलों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। नए संक्रमित मामलों से ज्यादा कोरोना मरीज ठीक हुए हैं। देहरादून जिले में सबसे अधिक 149 कोरोना संक्रमित मिले हैं। हरिद्वार में 138, नैनीताल में 99, ऊधमसिंह नगर में 58, टिहरी में 52, उत्तरकाशी में 41 लोग जांच में संक्रमित मिले। पौड़ी और चंपावत जिले में 13-13, अल्मोड़ा में 10, रुद्रप्रयाग में सात, बागेश्वर और पिथौरागढ़ में छह-छह कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। आज सुशीला तिवारी मेडिकल कालेज हल्द्वानी में सात, एम्स ऋषिकेश में चार, दून मेडिकल कॉलेज में एक संक्रमित की मौत हुई है। प्रदेश में अब तक 269 कोरोना मरीजों की मौत हो चुकी है। प्रदेश में कुल संक्रमितों में से 13608 मरीज ठीक हो चुके हैं। जबकि 5887 सक्रिय मरीजों का उपचार चल रहा है। प्रदेश में होम आईसोलेशन और कोविड केयर सेंटर में भर्ती कोरोना संक्रमित मरीजों का केंद्र से जारी ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल के अनुसार इलाज करने के लिए शासन ने सभी जिलों को आदेश जारी किए हैं। जिलाधिकारियों और सीएमओ को निर्देश दिए गए कि प्रोटोकॉल के अनुसार मरीजों को दवाईयां दी जाएं। सोमवार को प्रभारी सचिव स्वास्थ्य डॉ. पंकज कुमार पांडेय की ओर से जारी आदेश के अनुसार कोरोना संक्रमित लक्षण रहित और कम लक्षण वाले मरीजों के इलाज की होम आईसोलेशन और कोविड केयर सेंटर में रखने की व्यवस्था की गई है। प्रत्येक मरीज को केंद्र की ओर जारी ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल के आधार पर मरीजों की दवाईयां दी जाए, जिससे संक्रमित गंभीर मरीज की श्रेणी में न आ सके। वहीं, कोरोना संक्रमित मरीजों की मृत्यु दर को कम किया जा सके।


पीएम आवास योजना में स्वीकृत 17,227 लाभार्थियों में से अपात्र 4175 के नाम हटाने का अनुमोदन

देहरादून। प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अन्तर्गत गठित राज्य स्तरीय अनुमोदन एवं अनुश्रवण समिति (एस.एल.एस.एम.सी) के अध्यक्ष/मुख्य सचिव ओम प्रकाश की अध्यक्षता में बैठक हुई। बैठक में भारत सरकार से वर्ष 2015 से 2019 तक प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) में स्वीकृत 17,227 लाभार्थियों में से पाये गये अपात्र 4175 लाभार्थियों के नाम हटाने का अनुमोदन किया गया।
मुख्य सचिव द्वारा हटाये गये लाभार्थियों की सूची पर चर्चा करते हुए इनमें शामिल 36 पट्टाधारक लाभार्थियों के प्रकरणों को दुबारा रिव्यु करने के निर्देश दिये जिनमें  सचिव शहरी विकास द्वारा बताया गया कि इनमें शामिल लाभार्थियों में 161 नजूल भूमि, 480 आबादी क्षेत्र, 36 पट्टाधारक, 225 भूमि अनुपलब्धता, 1295 पक्का मकान वाले तथा 1932 निरस्त किये जाने वाले प्रकरण में अधिक आय, अन्य आवास योजना से लाभान्वित होने अथवा नगरीय क्षेत्र से बाहर होने या अनुसूचित जनजाति वर्ग की भूमि के कारण हटाये गये हैं। मुख्य सचिव ने सचिव शहरी विकास को निरस्त पट्टाधारको को कम किराये वाले आवासीय परिसरों मे भवन दिलाने की संभावना पर भी विचार करने के निर्देश दिये।
एसएलएसएमसी द्वारा 14 नगर निकायों में 211 आवासों के विस्तारीकरण के प्रस्ताव को भी अनुमोदन प्रदान किया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना में स्वीकृत की जाने वाली कार्ययोजना में विभिन्न शासकीय निकायों की 14 कार्ययोजना को अनुमोदन किया गया। पूर्व में इस योजना में स्वीकृत 59 कार्ययोजना में कार्य गतिमान है। मुख्य सचिव ने चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री आवास योजना अर्बन में कम किराये वाले आवासीय परिसर निर्माण योजना के लिए मॉडल 1 में शहरी विकास तथा मॉडल 2 में आवास विभाग को नामित किया गया तथा इस योजना में शासकीय विभागों से निर्माणकार्य न कराने की एसएलएसएमसी में सहमति बनी। बैठक में सचिव शहरी विकास श्री शैलेश बगोली, सचिव राजस्व सुशील कुमार, निदेशक शहरी विकास वीके सुमन सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।


लाकडाउन में प्रदेश के लाखांे छात्रों को एमडीएम की धनराशि उपलब्ध कराने की सराहना की

देहरादून। शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार द्वारा कोविड-19 के दृष्टिगत लाक डाउन के दौरान उत्तराखण्ड सरकार द्वारा स्कूली छात्रों को मिड डे मिल योजना के तहत 38 करोड़ की धनराशि उपलब्ध कराने के प्रयासों की सराहना की है। शिक्षा मंत्रालय द्वारा इस उत्कृष्ट प्रयास के लिये सम्बन्धित अधिकारियों एवं कार्मिकों की भी सराहना की है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भारत सरकार द्वारा की गई इस सराहना को अधिकारियों के मनोबल को ऊंचा करने वाला बताया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि लाक डाउन के दौरान प्रदेश के लाखो स्कूली छात्रों को मिड डे मील के लिये धनराशि उपलब्ध कराया जाना निश्चित रूप से सराहनीय पहल रही है।


भारतरत्न पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत आत्मा की शान्ति तथा शोक संतप्त परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है। उन्होंने कहा कि स्वर्गीय प्रणब मुखर्जी बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी थे। राजनीति, वित्त, विधि आदि क्षेत्रों के वे विशेषज्ञ थे। अपने लम्बे सार्वजनिक व राजनीतिक जीवन में उन्होंने गहरी छाप छोड़ी है। वे कुशल प्रशासक और भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष थे। स्वर्गीय मुखर्जी जी का देवभूमि उत्तराखंड के प्रति गहरा लगाव था। जब वे राष्ट्रपति थे तो उन्होंने उत्तराखण्ड विधानसभा को सम्बोधित किया था।


वन तस्करों पर शिकंजा कसने को वन विभाग कर रहा माॅनसून गश्त

देहादून। लच्छीवाला रेंज के अंतर्गत वन विभाग की संयुक्त टीम ने वन तस्करों के खिलाफ मॉनसून गश्त के तहत अभियान चलाया है। इसके तहत बरसात में अवरुद्ध मार्गों पर जंगली जानवरों और तस्करों पर पैनी नजर रखी जा रही है।
मॉनसून गश्त के तहत लच्छीवाला वन रेंज के अंतर्गत वन विभाग की टीम तीन रेंजों की गश्ती कर रही है। इसका मुख्य उद्देश्य बरसात के कारण बंद और अवरुद्ध मार्गों, हाथी, गुलदार और अन्य जानवरों की गतिविधियों पर विशेष रूप से निगरानी रखना है। साथ ही शिकारियों और वन तस्करों पर भी नजर रखना है। लच्छीवाला रेंज के अधिकारी घनानंद उनियाल ने बताया कि हर साल मॉनसून गश्त के दौरान विभाग वन तस्करों पर नजर रखने के लिए ये अभियान चलाता है। वहीं डिप्टी रेंज अधिकारी केएल नौटियाल ने बताया कि इस मॉनसून गश्त का मुख्य उद्देश्य वन, वन्य जीव और तस्करों पर निगरानी रखना है। वहीं, वन रेंज अधिकारी ने बताया कि मॉनसून गश्त के दौरान वन्यजीवों विशेषकर हाथी की गतिविधि को देखा जाता है। हाथी के पैरों के ताजे निशान देखे जाते हैं। जंगल में प्रवेश करने वाले ग्रामीणों को भी सचेत किया जाता है कि वो ऐसे वन क्षेत्र में न जाएं, जहां पर जंगली जानवरों की गतिविधि हो रही हैं।


हरिद्वार में हुआ मंदिर हटाने का जमकर विरोध

हरिद्वार। हाईकोर्ट के आदेश के बाद जब सोमवार को हरिद्वार में प्रशासन की टीम करीब एक दर्जन से ज्यादा मंदिरों को हटाने पहुंची तो विरोध में लोग जमा हो गए। इस दौरान लोग जय श्रीराम-जय श्रीराम के नारे लगाते दिखे। सोमवार को हरिद्वार के बादशाहपुर में तालाब की भूमि पर अतिक्रमण कर बने रविदास मंदिर को हटाने गये पुलिस प्रशासन के अधिकारियों का लोगों ने घेराव कर दिया। जिसके बाद बादशाहपुर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया। यहां भारी संख्या में पुलिस व पीएसी तैनात है। मौके पर सीओ अभय सिंह, थानाध्यक्ष सुखपाल सिंह मान, एसडीएम हरिद्वार गोपाल सिंह चैहान, तहसीलदार हरिद्वार आशीष घिल्डियाल मौजूद हैं। विरोध करने वालों में बजरंग दल के जिला सह संयोजक जिवेन्द्र तोमर, बादशाहपुर के ग्राम प्रधान जाफिर अली, बसपा नेता इरशाद अली, मोनू राणा, गुलशनव्वर अंसारी, शुभम सैनी आदि हैं। वहीं जगजीतपुर में फुटबाल ग्राउंड रोड पर भी मंदिर हटाने के विरोध में आसपास के लोगों के साथ हिंदू संगठनों के लोग विरोध में जमा हो गए हैं। बहादराबाद में बैरियर नंबर छह पर तालाब किनारे सरकारी भूमि पर बने मंदिर को तोड़ने से रुकवाने के लिए विधायक सुरेश राठौर, भाजपा नेता व आसपास के लोग जमा हो गए हैं।बता दें कि हाईकोर्ट के आदेश पर हरिद्वार तहसील क्षेत्र में बैरागी कैंप, बहादराबाद बैरियर नंबर छह, फेरुपुर, टिबड़ी आदि क्षेत्रों में करीब 15 मंदिर हटने हैं।


मसूरी-देहरादून मार्ग भारी भूस्खलन से बंद

देहरादून। मसूरी-देहरादून मार्ग पर गलोगी पावर हाउस के पास भारी भूस्खलन के बाद मार्ग देर रात से बंद है। लोगों को परेशानी हो रही है। मसूरी में सुबह के समय दूध सब्जी आदि समान न आने के कारण भी लोगों को परेशानी हो रही है। लगातार भूस्खलन के कारण भी लोक निर्माण विभाग को सड़क पर आए मलबे को हटाने में भारी दिक्कत हो रही है। भारी बारिश से रिस्पना नदी का जल स्तर बढ़ गया। हालांकि किसी नुकसान की सूचना नहीं है। वहीं, शहर में बरसात से गली मोहल्ले में जलभराव हो गया, जो बारिश बंद होने के कुछ ही देर बाद खत्म हो गया। इसके अलावा गोविंदगढ़ स्थित टीचर कॉलोनी, गल्जवाड़ी के ग्राम रजवाड़ी, बल्लूपुर स्थित मित्रलोक कॉलोनी, कौलागढ़, सुमननगर, कांवली रोड, खुड़बुड़ा, महाराजा अग्रसेन चैक आदि जगहों पर भी जलभराव दिखा। लोग घर और प्रतिष्ठानों से पानी निकालते दिखाई दिए। हालांकि कई दुकानदार इसकी वजह स्मार्ट सिटी के तहत चल रहे कार्यों को मानते हैं। वहीं, दूसरी ओर नगर निगम की टीम जलभराव को हटाने के लिए नाली और नालों को साफ करती दिखाई दी।


वर्चुअल एरा निशुल्क इंटरनेशनल क्विज प्रतियोगिता आयोजित होगी

-देहरादून के विभिन्न स्कूलों से छात्र करेंगे प्रतिभाग

देहरादून। वर्चुअल एरा श्डेली वर्ल्ड इंटरनेशनल क्विज प्रतियोगिता 2020 का आयोजन 5 सितंबर को शाम 4 बजे करेगा। शिक्षक दिवस के अवसर पर यह ऑनलाइन प्रतियोगिता देशव्यापी होगी। यह क्विज थ्रिल जोन द्वारा समर्थित होगा।
छात्रों के लिए आयोजित निःशुल्क अंतर्राष्ट्रीय प्रश्नोत्तरी प्रतियोगित आधे घंटे तक चलेगी, जिसमें कुल 60 प्रश्न होंगे।प्रतियोगिता में छात्र अपनी इच्छित भाषा (अंग्रेजी/ हिंदी) का चयन करने के लिए विमुक्त होंगे। प्रश्न चयनित विषयों से होंगे जिसमें अंकगणित, सामान्य विज्ञान, हिंदी और अंग्रेजी व्याकरण, करंट अफेयर्स, सामान्य ज्ञान और सैद्धांतिक रूप से शिक्षक दिवस प्रश्न शामिल रहेंगे।
प्रतियोगिता को 4 आयु समूहों में विभाजित किया जाएगा जिसमें 6-10 वर्ष, 10-15 वर्ष, 15-18 वर्ष और 18़ वर्ष शामिल रहेंग।  
प्रतियोगिता के परिणाम 10 सितंबर को दोपहर 1 बजे घोषित किए जाएंगे। सभी प्रतिभागियों को एक डिजिटल प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया जाएगा। प्रतियोगिता के पंजीकरण की प्रक्रिया के बारे में बात करते हुए, आयोजक पीसी कुशवाहा ने कहा, “उल्लेखित आयु वर्ग के छात्र हमारी प्रतियोगिता की वेबसाइट पर जाकर मुफ्त में अपना पंजीकरण करा सकते हैं। अब तक हमें दिल्ली पब्लिक स्कूल, जसवंत मॉडर्न स्कूल, सीजेएम, कैम्ब्रिज स्कूल, समर वैली स्कूल, एमकेपी पीजी कॉलेज और दून विश्वविद्यालय सहित कई देहरादून के स्कूलों के छात्रों से पंजीकरण प्राप्त हुए हैं। वर्चुअल एरा एक डिजिटल क्विज आयोजन मंच है जिसका उद्देश्य छात्रों को क्विज, आभासी कार्यशालाओं और लाइव सत्रों के माध्यम से सीखने की नई दिशा प्रदान करना है। इस मंच का मुख्य फोकस नवोदित छात्रों के लिए एक मजबूत नींव बनाने के साथ-साथ उन्हें कौशल विकसित करने में मदद करना है।

-देहरादून के विभिन्न स्कूलों से छात्र करेंगे प्रतिभाग

देहरादून, आजखबर। वर्चुअल एरा श्डेली वर्ल्ड इंटरनेशनल क्विज प्रतियोगिता 2020 का आयोजन 5 सितंबर को शाम 4 बजे करेगा। शिक्षक दिवस के अवसर पर यह ऑनलाइन प्रतियोगिता देशव्यापी होगी। यह क्विज थ्रिल जोन द्वारा समर्थित होगा।
छात्रों के लिए आयोजित निःशुल्क अंतर्राष्ट्रीय प्रश्नोत्तरी प्रतियोगित आधे घंटे तक चलेगी, जिसमें कुल 60 प्रश्न होंगे।प्रतियोगिता में छात्र अपनी इच्छित भाषा (अंग्रेजी/ हिंदी) का चयन करने के लिए विमुक्त होंगे। प्रश्न चयनित विषयों से होंगे जिसमें अंकगणित, सामान्य विज्ञान, हिंदी और अंग्रेजी व्याकरण, करंट अफेयर्स, सामान्य ज्ञान और सैद्धांतिक रूप से शिक्षक दिवस प्रश्न शामिल रहेंगे।
प्रतियोगिता को 4 आयु समूहों में विभाजित किया जाएगा जिसमें 6-10 वर्ष, 10-15 वर्ष, 15-18 वर्ष और 18़ वर्ष शामिल रहेंग।  
प्रतियोगिता के परिणाम 10 सितंबर को दोपहर 1 बजे घोषित किए जाएंगे। सभी प्रतिभागियों को एक डिजिटल प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया जाएगा। प्रतियोगिता के पंजीकरण की प्रक्रिया के बारे में बात करते हुए, आयोजक पीसी कुशवाहा ने कहा, “उल्लेखित आयु वर्ग के छात्र हमारी प्रतियोगिता की वेबसाइट पर जाकर मुफ्त में अपना पंजीकरण करा सकते हैं। अब तक हमें दिल्ली पब्लिक स्कूल, जसवंत मॉडर्न स्कूल, सीजेएम, कैम्ब्रिज स्कूल, समर वैली स्कूल, एमकेपी पीजी कॉलेज और दून विश्वविद्यालय सहित कई देहरादून के स्कूलों के छात्रों से पंजीकरण प्राप्त हुए हैं। वर्चुअल एरा एक डिजिटल क्विज आयोजन मंच है जिसका उद्देश्य छात्रों को क्विज, आभासी कार्यशालाओं और लाइव सत्रों के माध्यम से सीखने की नई दिशा प्रदान करना है। इस मंच का मुख्य फोकस नवोदित छात्रों के लिए एक मजबूत नींव बनाने के साथ-साथ उन्हें कौशल विकसित करने में मदद करना है।


महाविद्यालयों को हाईटेक बनाया जाएगा, छात्रावास की सुविधा भी मुहैया कराई जाएगी

देहरादून। प्रदेश के महाविद्यालयों को हाईटेक बनाये जाने के साथ-साथ उनमें छात्रावास की सुविधा भी मुहैया कराई जायेगी। खासकर अनुसूचित जाति और जनजाति क्षेत्रों में स्थित महाविद्यालयों में छात्रावास की सुविधा प्रदान करने के लिए संबंधित महाविद्यालयों से प्रस्ताव मांग कर उन्हें शीघ्र भारत सरकार को भेजा जाय। इस बात के निर्देश उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ. धन सिंह रावत ने विधानसभा में उच्च अधिकारियों को दी।  
विधानसभा स्थित कार्यालय कक्ष में आयोजित उच्च शिक्षा विभाग, समाज कल्याण एवं अल्पसंख्यक कल्याण की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए डाॅ. धन सिंह रावत ने कहा कि राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में स्थित महाविद्यालयों में छात्र-छात्राओं को छात्रावास की समुचित सुविधाएं नहीं मिल पाती हैं। इस समस्या को देखते हुए निदेशक उच्च शिक्षा को निर्देशित किया गया है कि अनुसूचित जाति एवं जनजाति बाहुल्य क्षेत्रों में स्थित महाविद्यालयों के प्राचार्यों से तत्काल छात्र-छात्राओं हेतु छात्रावास के प्रस्ताव तैयार कराये जाय तथा स्वीकृति हेतु राज्य सरकार के माध्यम से केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्रालय एवं अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण मंत्रालय भारत सरकार को जल्द से जल्द भेजे जाय।
बैठक में पौड़ी जनपद के अंतर्गत अपने विधानसभा क्षेत्र की समाज कल्याण विभाग की योजनाओं, छात्रवृघ्त्ति वितरण एवं स्पेशल कम्पोनेंट प्लान की समीक्षा करते हुए डाॅ0 रावत ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में पाबौं, खिर्सू तथा थलीसैंण विकासखंडों लगभग 40 प्रस्ताव स्पेशल कम्पोनेंट प्लान (एससीपी) के तहत भेजे गये थे समाज कल्याण विभाग की लापरवाही के चलते इनमें से एक भी प्रस्ताव स्वीकृत नहीं हुआ। इस पर उन्होंने असंतोष व्यक्त करते हुए विभाग के उच्चाधिकारियों से जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्यवाही किये जाने हेतु पत्र भेजने की बात कही। बैठक में विभागीय अधिकारियों ने प्रस्ताव स्वीकृत न होने के लिए खंड विकास अधिकारी एवं विकासखंडों अवर अभियंताओं को जिम्मेदार ठहराते हुए बताया कि डीपीआर गलत बनने के कारण समय रहते प्रस्ताव स्वीकृत नहीं हो पाये। अधिकारियों ने कहा कि वर्ष 2020-21 के लिए उक्त विकासखंडों से जो भी प्रस्ताव आयेंगे उन पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। बैठक में निदेशक उच्च शिक्षा प्रो0 कुमकुम रौतेला, अपर सचिव समाज कल्याण सुरेश चंद्र जोशी, अपर निदेशक जनजाति कल्याण योगेन्द्र रावत, जिला समाज कल्याण अधिकारी पौड़ी सुनीता अरोड़ा, जिला समाज कल्याण अधिकारी देहरादून एवं नोडल अधिकारी आईटी सेल हेमलता पाण्डेय सहित कई अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।


धीरेंद्र प्रताप 2 सितंबर को मसूरी में 1 घंटे का सांकेतिक धरना देंगे

देहरादून। उत्तराखंड कांग्रेस के उपाध्यक्ष और चिन्हित राज्य आंदोलनकारी समिति के केंद्रीय मुख्य संरक्षक धीरेंद्र प्रताप 2 सितंबर को मसूरी जाएंगे। वे वहां पर मसूरी शहीद कांड के शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित करेंगे। इस मौके पर वे उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलन कारियों की सरकार द्वारा की जा रही उपेक्षा के विरुद्ध 1 घंटे का सांकेतिक धरना भी शहीद स्थल पर देंगे।उनके साथ आंदोलनकारी समिति की महिला शाखा की प्रमुख सावित्री नेगी समिति के संरक्षक जयप्रकाश उत्तराखंडी व अन्य आंदोलनकारी भी धरना देंगे ।और सरकार से मांग करेंगे कि वह पिछले 3 वर्षों से रुकी आंदोलनकारियों के चिन्हिकरण की प्रक्रिया तुरंत शुरू करें। आंदोलनकारियों को 10ः आरक्षण दे। मुजफ्फरनगर कांड के दोषियों को सजा दिलाने हेतु एक आयोग का गठन करें और 10ः आरक्षण हेतु राज्यपाल से हस्ताक्षर करा आंदोलनकारियों के आरक्षण का अधिकार बहाल करें।


क्वारेंटीन सेंटरों में 4572 लोगों की कांउसिलिंग की गयी

देहरादून। कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत जनपद के बनाये गये विभिन्न क्वारेंनटीन सेन्टरों में कांउसिलिंग टीम द्वारा निरन्तर क्वारेंनटीन किये गये व्यक्तियों की कांउसिलिंग की जा रही है, जिसके अन्तर्गत आज 5 व्यक्तियों की कांउसिलिंग की गयी तथा माह जून से अब-तक कुल 4572 व्यक्तियों की कांउसिलिंग की गयी है।  
कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु समस्त मेडिकल स्टोर पर बिना चिकित्सक के परामर्श की पर्ची के सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयों का विक्रय प्रतिबन्धित किये जाने के उपरान्त समस्त मेडिकल स्टोर स्वामियों द्वारा जनपद में कुल 94 व्यक्तियों को चिकित्सकीय पर्ची के आधार पर सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयां विक्रय की गयी।
कोविड-19 संक्रमण से सुरक्षा के दृष्टिगत विभिन्न राजकीय चिकित्सालयों के चिकित्सकोंध्कार्मिको हेतु 350 एन-95, 1400 ट्रिपल लेयर मास्क, 35 पीपीई किट, 25 वीटीएम वायल, 130 सेनिटाइजर, 50 सर्जिकल ग्लब्स, 3500 एग्सामिनेशन ग्लब्स वितरित किये गये।  
जनपद डेंगू मलेरिया उन्मूलन अभियान के अन्तर्गत आज आशा कार्यकत्रियों एवं फैसिलिटेटर्स की  टीम द्वारा चन्दरनर क्षेत्र में 66 घरों का भ्रमण किया गया जिसमें से 15 घरों में मच्छर का लार्वा पाया गया तथा 309 कंटेनर की जांच की गयी, जिनमें 25 कंटेनर में मच्छर का लार्वा पाया गया टीमों के द्वारा सभी जगह पाया गया लार्वा नष्ट करते हुए जनमानस को स्वास्थ्य शिक्षा हेतु डेंगू ,मलेरिया एवं कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव हेतु जागरूक किया गया तथा जागरूकता पंपलेट वितरित किए गए। जिलाधिकारी  द्वारा दिये गये निर्देशों के अनुपालन में आज जनपद के विभिन्न क्षेत्रों में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने पर 112 व्यक्तियों के चालान किये गये। आज जनपद के विभिन्न स्थानों में अधिकृत 12 मोबाईल वैन के माध्यम से 114 क्वीन्टल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया। दुग्ध विकास विभाग द्वारा कन्टेंनमेंन्ट जोन क्षेत्र में 44 ली0 दूध विक्रय किया गया।
जनपद में विभिन्न विकासखण्डवार मनरेगा कार्यों के अन्तर्गत आतिथि तक 2550 निर्माण कार्य प्रारम्भ किये गये, जिनमें 31331 श्रमिकों को सैनिटाईजेशन एवं सामाजिक दूरी का अनुपालन करवाते हुए उक्त कार्य में योजित कर रोजगार उपलब्ध कराया गया। वायुसेवा के माध्यम से जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट पर पंहुचे 321 प्रवासी व्यक्तियों को स्वास्थ्य जांच उपरान्त जनपद में क्वारेंनटीन किया गया है। जनपद के जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट से विभिन्न प्रदेशों के 242 व्यक्तियों को गंतव्यों हेतु भेजा गया। देहरादून रेलवे स्टेशन से दिल्ली हेतु 309 व्यक्ति गये। कोविड-19 के संक्रमण के दृष्टिगत जिला आपदा कन्ट्रोलरूम में 22 काल प्राप्त हुई, सभी काल पास हेतु प्राप्त हुई।


देहरादून जिले में 106 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पाॅजिटिव पाई गई

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत प्राप्त हुई रिपोर्ट में 106 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त हुई है। आज जनपद में 216 व्यक्ति कोविड-19 संक्रमण के उपचार के पश्चात स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए हैं। वर्तमान में जनपद में 658 व्यक्ति उपचाररत हैं। इसके अतिरिक्त जनपद में आज कुल 820 व्यक्तियों के सैम्पल लिये गये।
आशा कार्यकर्तियों द्वारा जनपद देहरादून अन्तर्गत बनाये गये विभिन्न कन्टेंनमेंट जोन में व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी का कार्य किया जा रहा है जिसके अन्तर्गत 2124 व्यक्तियों का फाॅलोअप किया गया है। अन्य राज्यों से जनपद में पंहुचे कुल 405 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण के उपरांत क्वारेंनटीन किया गया। जिला प्रशासन द्वारा होम क्वारेंनटीन किये गये व्यक्तियों की लगातार दूरभाष के माध्यम से सर्विलांस किया जा रहा है आज जनपद में कुल 4738 व्यक्तियों का दूरभाष के माध्यम से सर्विलांस किया गया तथा अब-तक कुल 61728 व्यक्तियों का दूरभाष के माध्यम से सर्विलांस किया गया है। जनपद में आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा विकासखण्ड सहसपुर एवं डोईवाला क्षेत्र में 88897 व्यक्तियों का सर्विलांस किया गया।


जनसुनवाई कार्यक्रम में डीएम ने सुनीं जनशिकायतें

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में जिला कार्यालय में जनसुनवाई में प्राप्त शिकायतों के त्वरित गति से निस्तारण करने को लेकर जनता मिलन कार्यक्रम का आयोजित हुआ। इस अवसर पर 15 फरियादियों द्वारा अपनी शिकायतें, समस्यांए प्रस्तुत की गई, जिनमें अधिकांश शिकायतें शस्त्र लाईसेंस, जल निकासी, साफ-सफाई, मार्ग निर्माण, गिरासू भवन, बेटे के विरूद्ध शिकायत, बन्द नाला खोले जाने, स्कूल फीस, वेतन आहरण कराये जाने को लेकर प्राप्त हुई।
जनसुनवाई के दौरान जावेद, भूपेन्द्र बोरा, रणजीत सिंह, के.बी चन्द, विनय कुमार एवं तेजेन्द्र सिंह द्वारा शस्त्र लाईसेंस दिलाये जाने को लेकर मांग उठाई गई, जिस पर जिलाधिकारी ने शस्त्र अनुभाग को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। मेहूवाला निवासी धर्मपाल सिंह ने क्षेत्र में जल निकासी किये जाने का मामला उठाया, इस पर जिलाधिकारी ने तहसीलदार सदर को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये। लीला शर्मा द्वारा उनके क्षेत्र में मार्ग निर्माण एवं साफ-सफाई के सम्बन्ध में शिकायत की जिस पर जिलाधिकारी ने नगर निगम के साथ ही उप जिलाधिकारी सदर को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये। जनसुनवाई में मेजर रणवीर सिंह ने अपने बेटे के विरूद्ध परेशान किये जाने की शिकायत की गई, जिस पर उप जिलाधिकारी सदर को आपसी सुलह अथवा बेदखली का मामला दर्ज कराने के निर्देश दिये। करनपुर के इरशाद अहमद द्वारा गिरासू भवन में दुकान ठीक करने के सम्बन्ध में अपनी समस्या रखी जिस पर जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी को मौका मुआवना कर आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये। मनोज गौड़ द्वारा होटल निर्माण एक्शटेंशन के सम्बन्ध में अपना मामला रखा इस पर जिलाधिकारी ने डीएलआरसी को पत्रावली प्रस्तुत करने के निर्देश दिये हैं,  मीरा देवी द्वारा भवन को पीछे बंद नाला खोले जाने की समस्या बताई, इस पर जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी सदर को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए। जनसुनवाई के तहत् इन्द्रेश अस्पताल के डाॅ बानी द्वारा अस्पताल द्वारा वेतन न दिए जाने की शिकायत की इस पर जिलाधिकारी ने अस्पताल प्रबन्धन से वार्ता करने हेतु अपर जिलाधिकारी प्रशासन को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए हैं। बंजारावाला के देवेन्द्र शर्मा द्वारा स्कूल प्रबन्धन द्वारा फीस के सम्बन्ध में अपनी समस्या रखी जिस पर जिलाधिकारी ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। इस दौरान खड़क माफ, तहसील डोईवाला के प्रतिनिधियों द्वारा बन्दोबस्त को लेकर अपनी समस्या रखी, जिस पर जिलाधिकारी ने क्षेत्रीय काश्तकारों को उनकी भूमि का बन्दोबस्त निर्धारित मापदण्ड के आधार पर  किये जाने का आवश्वासन दिया।


रेलवे निजीकरण के विरोध में हरिद्वार नॉर्दर्न रेलवे मैन्स यूनियन ने विरोधी नीतियों के बारे में प्रदर्शन किया।

हरिद्वार। नॉर्दर्न रेलवे मैन्स यूनियन ने निजीकरण व न्यू पेंशन स्कीम के विरोध में हरिद्वार टिकट चेकिंग के साथीयों के साथ  व परिचालन के साथियों के साथ कैरिज एंड वैगन डिपों, हरिद्वार में  रेल कर्मचारियों को सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के बारे में प्रदर्शन किया। कैरिज एंड वैगन डिपों, हरिद्वार में  रेल कर्मचारियों को सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के बारे में संबोधित करते नार्दर्न रेलवे मैन्स यूनियन के कॉमरेडस शाखा सचिव अजय तोमर व कॉमरेड  श्याम सुंदर आनंद ने सभी कर्मचारियों से एकजूट होकर निजीकरण के विरुद्ध लड़ाई लड़ने को कहा।
उन्होंने कहा कि यदि अपने अस्तिव को बचाना है,रेल को बिकने से बचाना है ,तो संगठित होकर ही लड़ना होगा।
कॉमरेड दुर्गेश खन्ना ने कहा कि किसी भी सरकार उपक्रम को घाटे में दिखाकर बेचने की सरकार की मजदूर विरोधी नीति का हर रेलवे कर्मचारी हर सम्भव विरोध करेगा।उन्होंने कहा कि निजीकरण के कारण जब सरकारी नोकरी ही नही बचेगी तो देश की भावी पीढ़ी युवाओं को सरकारी नोकरी के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ेगा। इसलिए रेल को वचाने के लिए सभी युवाओं को और समाज को आगे आना होगा। कामरेड मोहित व कॉमरेड आकाश कश्यप ने कहा छच्ै को रद्द करके पुरानी पेन्शन स्कीम की बहाली होनी चाहिए। इस अवसर पर नरमू नेता संजय यादव ,दिलीप गुप्ता,प्रीतम,राम कैलाश मीना,विनोद मीना,त्रिलोकचंद,रोहित,आशा राम,आनंद तिवारी,उमेश,मयंक, कुसुमलता,मांघी,राजेश मीना, संजय,मुनीश रॉय, मनीष कश्यप,आदि मौजूद थे।


लघु व्यापार एसोसिएशन ने तीन सूत्रीय मांगों को लेकर निगम प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन  

हरिद्वार। फुटपाथ के कारोबारी रेडी पटरी, हाथ-ठेली, फेरी-टोकरी के (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों के सामूहिक संगठन लघु व्यापार एसोसिएशन के प्रांतीय अध्यक्ष संजय चोपड़ा की अगुवाई में अपने निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार चंडी चैराहे से पोस्ट ऑफिस तक अपनी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर ठेली रैली निकालकर सामाजिक दूरी के साथ नगर निगम प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए जोरदार प्रदर्शन किया।
प्रदर्शनकारी लघु व्यापारियों ने अपनी तीन सूत्रीय मांगों को दोहराते हुए (हरिद्वार) नगर निगम प्रशासन पर प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर योजना के तहत रेडी पटरी के (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों को 10-10 हजार की कर्ज के रूप में सहायता राशि दिए जाने की प्रक्रिया पर लापरवाही का आरोप लगाया। लघु व्यापारियों ने नगर निगम प्रशासन पर यह भी आरोप लगाया कि पूर्व के प्रस्तावित तीन वेंडिंग जोन, जिनमे रेडी पटरी के (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यपारियो का पंजीकरण व सारी प्रक्रिया पूरी होने के बावजूद भी नगर निगम प्रशासन द्वारा दरकिनार किया जा रहा है। लघु व्यापारियों ने यह भी मांग दोहराई नगर निगम प्रशासन द्वारा फेरी समिति की बैठक बुलाकर लघु व्यापारियों की समस्या का समाधान किया जाना चाहिए था लेकिन नगर निगम प्रशासन की कार्यशैली निराशा जनक है।
इस अवसर पर लघु व्यापार एसो. के प्रांतीय अध्यक्ष संजय चोपड़ा ने कहा हरिद्वार नगर निगम क्षेत्र में फुटपाथ के कारोबारी रेडी पटरी लगाकर अपने परिवार का पालन-पोषण करने वाले लघु व्यापारियों की एक बहुत बड़ी तादात है। जिनका कारोबार कोरोना महामारी के चलते आर्थिक रूप से प्रभावित हुआ है। जिन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए भारत सरकार के संरक्षण में प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर योजना के तहत 10-10 हजार की कर्ज राशि सहायता के रूप में दिए जाने के लिए भारत सरकार द्वारा दिन-प्रतिदिन समीक्षायें की जा रही है। लेकिन हरिद्वार नगर निगम प्रशासन द्वारा आत्मनिर्भर योजना में धीमी रफ्तार से रेडी पटरी के (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों को योजना का लाभ नही मिल पा रहा है जोकि औचित्यपूर्ण नही है।  चोपड़ा ने कहा नगर निगम प्रशासन द्वारा सर्वे के आधार पर लगभग ढाई से तीन हजार रेडी पटरी के (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों का सर्वे किया जा चुका है, सर्वे के आधार पर राज्य फेरी नीति नियमावली का संरक्षण नियम अनुसार रेडी पटरी के लघु व्यापारियों को ना दिया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है। नगर निगम प्रशासन से अपनी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर ठेली रैली निकालते लघु व्यापारियों में वीरेंद्र सिंह, मोहनलाल, छोटेलाल शर्मा, रमेश कुमार, रवि शर्मा, ओमप्रकाश भाटिया, धर्मपाल कश्यप, तस्लीम अहमद, भगवान दास, गौरव गुप्ता, विजय गुप्ता, मोतीराम, बालकिशन, प्रमोद जाटव, सुरेंद्र रावत, खुशीराम, सरदार दर्शन सिंह, सुमन गुप्ता, मुन्नी देवी, सुमित्रा देवी, आशा देवी, मंजू देवी, निशा अरोड़ा, बबिता बिष्ट आदि प्रमुख रूप से शामिल रहे।


प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने द्वाराहाट के दुष्कर्मी भाजपा विधायक महेश नेगी के खिलाफ मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा    

हरिद्वार। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम सिंह के निर्देशानुसार द्वाराहाट के दुष्कर्म आरोपी  भाजपा विधायक महेश नेगी के खिलाफ उत्तराखंड की भाजपा सरकार द्वारा अब तक कोई कार्यवाही ना करने के खिलाफ महानगर कांग्रेस कमेटी हरिद्वार ने भगत सिंह चैक पर प्रदर्शन कर सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भी प्रेषित किया।
 प्रदेश महासचिव डॉक्टर संजय पालीवाल ने कहा कि भाजपा दुष्कर्मी विधायक द्वारा लगातार दो वर्ष से महिला का शारीरिक शोषण किया गया। उसको अपने बच्चे की मां तक बना दिया। इस सबके बाद भी उत्तराखंड सरकार विधायक की इस कुकृत्य की जांच कराने को तैयार नहीं है। इससे ज्यादा और भाजपा का कितना स्तर गिरेगा।
महानगर अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने कहा कि भाजपा का बेटी बचाओ नारा बिल्कुल सही था। अब भाजपा से अपनी बेटियों को बचाने का वक्त आ गया है।अबला नारी भागी फिर रही है। न्याय के लिए परंतु उसको न्याय नहीं मिल रहा उल्टा उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी चल रही है। उसको मानसिक रूप से लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है। कार्यक्रम में पूर्व विधायक राम यश सिंह,हाजी नईम कुरैशी, यशवंत सैनी,अमरदीप रोशन, हाजी रफीखान रवि कश्यप, सतीश कुमार प्रदेश महामंत्री, शुभम अग्रवाल,बीएस तेजियान,कैलाश प्रधान, श्याम सिंह,विशाल राठौड़, पार्षद मेहरबान खान, शाहनवाज कुरेशी, चैधरी बलजीत सिंह, अशोक उपाध्याय, दिनेश पुंडीर, सविता सिंह,सुषमा सहगल, नीलम शर्मा,गार्गी राय, वेद रानी, नीलम धीमान, संतोष पांडे, अरशद ख्वाजा, अनिल शर्मा, मनोज जाटव, जगदीप असवाल, नवीन शर्मा, राजेश चैहान, शिव कुमार जोशी, अवधेश सैनी, सुधांशु जोशी, आफताब कुरेशी, तीरथ पाल रवि, सुनील कुमार सिंह अशोक साहू, इलियास खान, हितेश चैहान, मनजीतसिंह,आदि अनेक कार्यकर्ता उपस्थित रहे।


साप्ताहिक बंदी पर कीटनाशक दवाइयों एवं सेनेटाइज का छिड़काव करें नगर निगमः सेठी  

हरिद्वार। महानगर व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष सामाजिक कार्यकर्ता सुनील सेठी ने खड़खड़ी में बैठक कर जिला प्रसाशन से एक दिन की साप्ताहिक बंदी पर बाजार बंद रखकर कीटनाशक दवाइयों एव सेनेटाइज के छिड़काव की मांग करते हुए कहा कि व्यापारी एक दिन के बाजार बंद रखने पर जिला प्रसाशन के साथ है। व्यापारी जिला प्रसाशन को कोरोना काल में व्यापार न होने के बावजूद पहले भी सहयोग करते आये है। लेकिन अब लगातार फैलते डेंगू ओर हरिद्वार में बढ़ते कोरोना मरीजो को देखते हुए प्रसाशन को नगर निगम को निर्देशित कर हर साप्ताहिक बंदी के दिन बाजारों गली वार्डो में कीटनाशक दवाइयों एव सेनेटाइज का छिड़काव करवाया जाना चाहिए। जिससे हरिद्वार नगर में तेजी से बढ़ते कोरोना एवं डेंगू की रफ्तार को रोकने में नियंत्रित किया जा सके। जिस प्रकार कोरोना ओर डेंगू के मरीज हरिद्वार जिले में बढ़ते जा रहे है वो चिंता का विषय है। जल्द से जल्द प्रसाशन को कुछ कड़े कदम उठाने पड़ेंगे वरना परिणाम ओर भी घातक होंगे। संरक्षक भूदेव शर्मा एवं धर्मपाल प्रजापति ने संयुक्त रूप से कहा कि जिस प्रकार सरकारी विभागों,पुलिस कर्मियों ,स्वास्थ्यकर्मियों एवं कई अधिकारियों के भी संक्रमित होने की खबरे आ रही है और मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। कल एक पुलिस कर्मी ने भी कोरोना से अपनी जान गवा दी। उससे पता चलता है कि स्थिति विस्फोटक होती जा रही है। महानगर व्यापार मंडल कोरोना ओर डेंगू रोकथाम में जिला प्रसाशन को हर सम्भव सहयोग के साथ मांग करता है कि  बंदी के दिन सेनेटाइज ओर कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव युद्ध स्तर पर करवाया जाना सुनिशित करें। बैठक में मुख्य रूप से खड़खडेश्वर व्यापार मंडल अध्यक्ष राजेश सुखीजा, विनोद गिरी ,नरेश गिरी,दीपक मेहता, सोनू सुखीजा, योगेश अरोड़ा, रवि कुमार,गणेश शर्मा, प्रीतम कुमार, राजेश शर्मा, मनीष धीमान, विशाल मलिक, अरुण शर्मा, शुभम सुखीजा,राजू कुमार उपस्तिथ रहे।


बीएचईएल में स्वच्छता पखवाड़े का ऑनलाइन हुआ समापन

हरिद्वार। बीएचईएल हरिद्वार में 16 से 31 अगस्त तक मनाए जा रहे स्वच्छता पखवाड़े का वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से समापन हुआ। इस उपलक्ष्य में सीएसआर विभाग द्वारा प्रभाग में एक समारोह का आयोजन किया गया । कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बीएचईएल हरिद्वार के कार्यपालक निदेशक संजय गुलाटी थे।  
इस ऑनलाइन कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए संजय गुलाटी ने कहा कि बीएचईएल द्वारा आयोजित इस स्वच्छता पखवाड़े का मूल उद्देश्य साफ -सफाई के प्रति समाज में जागरूकता पैदा करना है । उन्होंने सिंगल यूज प्लास्टिक समेत सभी प्रकार के प्लास्टिक कचरे के समुचित निस्तारण हेतु पर विशेष बल दिया । स्वच्छता पखवाड़े के दौरान बीएचईएल कर्मचारियों के लिए विभिन्न ऑनलाइन निबंधए क्विज आदि प्रतियोगिताएं आयोजित की गईए जिनके विजेताओं को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पुरस्कृत किया गया।
उल्लेखनीय है कि इस पूरे पखवाड़े के दौरान प्रभाग में स्वच्छता सम्बंधी विभिन्न गतिविधियों का भी आयोजन किया गया। इनमें बीएचईएल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक डाण् नलिन सिंघल के संदेश का प्रसारणए स्वच्छता शपथए 5.एस प्रणाली का प्रचार.प्रसारए सिंगल यूज प्लास्टिक के प्रयोग को बंद करने सम्बंधी संदेशए सार्वजनिक स्थानों पर डस्ट बिन लगाने तथा फैक्ट्री परिसर एवं उपनगरी में विभिन्न स्थानों पर साफ.सफाई कार्यक्रम आदि शामिल रहे। इन अवसरों पर अनेक महाप्रबंधक यूनियन एवं एसोसिएशन के पदाधिकारी तथा कर्मचारी आदि उपस्थित थे।


महिला ने खुद को लगाई आग

देहरादून। देहरादून में त्यागी रोड पर एक महिला ने खुद को आग लगा दी। फिलहाल, महिला को कोरोनेशन अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। महिला 50 प्रतिशत से ज्यादा जल गई है। बताया गया कि जब उसने खुद को आग लगाई उस वक्त उसकी गोद में एक बच्चा भी था, जो छिटककर नीचे गिर गया था और उसे कोई नुकसान नहीं पहुंचा।  
दरअसल, ये महिला सुबह से ही क्षेत्र में घूम रही थी। बताया जा रही कि उसने एक दुकान में नाश्ता भी किया था। इसके बाद अचानक खुद को आग लगा दी। इससे मौके पर अफरा-तफरी मच गई। दुकानदारों ने पानी डालकर किसी तरह आग को बुझाया और पुलिस और एंबुलेंस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने एंबुलेंस के जरिए महिला को अस्पाल में भर्ती कराया। आग लगाने के दौरान महिला ने बच्चे को भी गोद में रखा हुआ था। हालांकि फिर बच्चा छिटककर नीचे जा गिरा। वो पूरी तरह से सुरक्षित है।


कोरोना पाॅजिटिव मिलने के बाद नगर निगम को किया गया सैनिटाइज

देहरादून। नगर निगम में तैनात होमगार्ड में कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद हड़कंप मचा हुआ है। एहतियातन निगम को सैनेटाइज किया गया। साथ ही काम से आने वाले बाहरी लोगों के लिए निगम को एक दिन के लिए बंद रखा गया है। गौर हो कि नगर निगम कार्यालय के कर्मचारी और अधिकारियों में कोरोना वायरस के मामले सामने आ रहे हैं। सबसे पहले नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग के निरीक्षक में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई थी। जिसके बाद उप नगर आयुक्त के कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि होने के बाद पूरे नगर निगम को बंद करके सैनिटाइज किया गया था। वहीं, इस बार नगर निगम में तैनात होमगार्ड की कोरोना वायरस की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसे देखते हुए निगम को आम जनता के लिए आज बन्द किया गया है। नगर आयुक्त विनय शंकर पांडे ने बताया कि नगर निगम में तैनात होमगार्ड में कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद सोमवार को नगर निगम कार्यालय में सैनिटाइजेशन का कार्य किया गया। सोमवार को कार्यालय आम जनता के लिए बंद रहा।


अधिकारियों की बेरूखी से विधायक खफा

देहरादून। उत्तराखंड में बीजेपी के कुछ विधायक इन दिनों सरकार की कार्यप्रणाली को लेकर नाखुश दिखाई दे रहे हैं। विधायक आवास पर पिछले कुछ दिनों से लगातार बीजेपी के विधायक अपने क्षेत्रों की समस्याओं को लेकर लामबंद हैं। मामला हाईकमान तक पहुंचाने की तैयारी चल रही है। इन दिनों बीजेपी के कुछ विधायक सरकार की कार्यप्रणाली और अधिकारियों की बेरुखी को लेकर बेहद खफा दिखाई दे रहे हैं।
पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और बीजेपी विधायक बिशन सिंह चुफाल, सुरेंद्र सिंह जीना, पूरन सिंह फर्त्याल और विनोद कंडारी समेत कुछ दूसरे विधायक भी अपने क्षेत्र में अधिकारियों की कार्यप्रणाली से नाखुश हैं। इस मामले पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को शिकायत करने के बाद अब इन विधायकों ने पार्टी हाईकमान को भी इसकी शिकायत करने का मन बना लिया है। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और विधायक बिशन सिंह चुफाल ने बताया कि अब चुनावी वर्ष है और अधिकारी विधायकों की बातों को नजरअंदाज कर रहे हैं। विकास कार्य पूरी तरह ठप हो गए हैं। जबकि विधायकों को अब चुनाव से पहले लोगों को अपने किए गए वादों के अनुसार जवाब देना है। चुफाल ने कहा कि उन्होंने अपनी इस शिकायत को मुख्यमंत्री के सामने रख दिया है। यदि मुख्यमंत्री भी उनकी बातों को नहीं सुनते हैं तो उनके पास एकमात्र रास्ता हाईकमान तक जाने का है।


महिला ने की पति की गला घोटकर हत्या, महिला गिरफ्तार

देहरादून। कैंट थाना क्षेत्र में एक महिला ने अपने पति की गला घोट कर हत्या कर दी। इसके बाद उसने लोगों को बताया कि उसके पति ने आत्महत्या की है। 28 अगस्त की घटना में सोमवार को पुलिस ने काजल नाम की महिला को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपी महिला के खिलाफ संबधित धाराओं में मामला दर्ज किया है।
है। दून के थाना कैंट स्थित विंदाल कॉलोनी में 28 अगस्त को सेंटरिंग कारीगर की आत्महत्या मामले में नया मोड़ आया है। पत्नी ने पति की गला घोंटकर हत्या की थी। पुलिस ने महिला के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। शक के आधार पर पुलिस ने युवक का पोस्टमार्टम करवाया था। पोस्टमार्टम में हत्या की पुष्टि हुई है। वहीं, पुलिस पूछताछ में महिला ने भी अपना गुनाह कबूल कर लिया है। इंस्पेक्टर कैंट विद्या भूषण नेगी ने बताया कि महिला और उसके पति राम पुकार झा में अक्सर झगड़ा रहता था। 28 अगस्त को जब महिला ने बताया कि उसके पति ने आत्महत्या की है तो उसे कोरोनेशन ले जाया गया। कोरोनेशन अस्पताल में ही डॉक्टरों और पुलिस को संदेह हुआ कि यह आत्महत्या नहीं हो सकती है। इसके बाद शव का पोस्टमार्टम कराया गया तो साफ हुआ कि मृत्यु का कारण आत्महत्या नहीं, बल्कि दम घुटना है यानी महिला ने उसे गला दबाकर मार डाला। महिला को गिरफ्तार किया गया तो उसने उस रात की सारी बात उगल दी। उसने कहा कि उसका पति रोज शराब पीकर उसे मारता-पीटता था। इससे तंग आकर उसने उसे मार डाला। पुलिस ने आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया है।


डाक्टरांे ने दी हड़ताल की चेतावनी

देहरादून। कोरोना से परेशान प्रदेशवासियों को अब एक नई दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। मामला डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल से जुड़ा हुआ है। स्वास्थ्य विभाग के कोरोना वॉरियर्स अब अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर जाने की चेतावनी दे रहे हैं। डॉक्टरों ने विरोध कार्यक्रम की रूपरेखा भी तैयार कर ली है।
इस मुश्किल दौर में सरकारी डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ ने विरोध का बिगुल फूंका है। प्रदेशभर के डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर जाने का मन बना चुके है। डॉक्टरों के इस फैसले से सरकार की चिंता बढ़ना भी लाजमी है। डॉक्टरों की तीन मांगें हैं। डॉक्टरों ने सरकार के उस फैसले का विरोध किया है, जिसमें हर महीने एक दिन का वेतन काटा जा रहा है। डॉक्टरों की दूसरी मांग है कि मुख्यमंत्री ने घोषणा की थी कि पीजी करने वाले डॉक्टर को पूरी तनख्वाह दी जाएगी, लेकिन उसका आदेश अभी तक जारी नहीं किया गया है। इसके अलावा विभिन्न मामलों में डॉक्टरों को जिम्मेदार ठहराने वाले और जिलाधिकारी से नीचे के अधिकारियों द्वारा अस्पतालों में हस्तक्षेप करने के मामले शामिल हैं। प्रांतीय चिकित्सा स्वास्थ्य सेवा संघ के महासचिव डॉक्टर मनोज वर्मा ने स्पष्ट किया है कि यदि उनकी मांगें नहीं मानी गई तो वे सितंबर से काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। उसके बाद डॉक्टर वीआरएस (स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति स्कीम) भी लेंगे। इसके बाद भी मांग पूरी न होने पर सामूहिक इस्तीफा भी चिकित्सक देने को तैयार हंै। एक तरफ जहां डॉक्टरों एक सितंबर से अपना आंदोलन शुरू करने जा रहे हैं।


किराएदार ने दी फांसी लगाकर अपनी जान

देहरादून। थाना रायपुर के अंतर्गत सोमवार सुबह सुमन पुरी कॉलोनी में किराए के मकान में रह रहे व्यक्ति ने अपने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतक के दोस्त ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। सूचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल की। पुलिस को मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला। जिसके चलते आत्महत्या के कारणों की जांच की जा रही है। साथ ही मृतक के परिजनों को भी सूचित किया जा चुका है।
पुलिस ने बताया फांसी लगाने वाले व्यक्ति का नाम विजय सरकार (45) था, जो कि मालू का मांझी पारा, पश्चिम बंगाल का रहने वाला था। विजय मेलों में किताबें बेचने का काम करता था। लॉकडाउन के बाद से ही वह कनक सिनेमा हॉल के पास चाय की दुकान चला रहा था। सोमवार को सुबह विजय अपने कमरे के बाहर करीब 6.30 बजे से 7 बजे तक टहल रहा था। उसके बाद उसने अपने कमरे में जाकर पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली। 9 बजे करीब विजय का दोस्त सुरेश को घटना की जानकारी मिली। जिसके बाद घटना की जानकारी पुलिस को दी गई। रायपुर थाना प्रभारी अमरजीत ने बताया कि मौके से कोई भी सुसाइड नोट नहीं मिला है। जिसके कारण आत्महत्या के कारणों की जांच की जा रही है। मृतक के परिजनों को भी घटना की जानकारी दे दी गई है।


द इंडियन परफॉर्मिंग राइट सोसाइटी ने आईपीआरएस 2.0 का अनावरण किया

देहरादून। भारत में लेखकों, संगीतकारों एवं म्यूजिक पब्लिशर्स का प्रतिनिधित्व करने वाली एकमात्र कॉपीराइट संस्था, द इंडियन परफॉर्मिंग राइट सोसाइटी लिमिटेड ने कॉपीराइट संस्थाओं के लिए दुनिया के सबसे उन्नत ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल आरंभ करने की घोषणा की है। पर्याप्त मात्रा में निवेश के साथ-साथ कनाडा के डेटाक्लेफ द्वारा विकसित अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग करते हुए, आईपीआरएस अपने सदस्यों तथा लाइसेंसधारकों के लिए अधिकतम पारदर्शिता सुनिश्चित करेगा। संगीत की लाखों रचनाओं के आधिकारिक डेटाबेस तथा स्केलेबल प्रोसेसिंग की असीमित क्षमता के साथ, यह सशक्त प्रणाली सोसाइटी के सदस्यों को इस श्रेणी में लाभ कमाने के सर्वश्रेष्ठ अवसर प्रदान करेगी।
अपने सदस्यों को पहले से ज्यादा अधिकार प्रदान करने एवं पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए, आईपीआरएस की ओर से एक पोर्टल को लॉन्च किया जा रहा है, जहां प्रत्येक सदस्य अपनी व्यक्तिगत जानकारी को एडिट कर सकता है, अपनी रचनाओं की सूची तक पहुँच सकता है, संशोधन के लिए अनुरोध कर सकता है, नए पंजीकरण को प्रस्तुत कर सकता है, रॉयल्टी की अच्छी तरह निगरानी कर सकता है तथा रॉयल्टी के भुगतान का इतिहास देख सकता है। आईपीआरएस 2.0 में लाइसेंसिंग की अत्याधुनिक व्यवस्था भी शामिल है। आईपीआरएस ने यूट्यूब, स्पॉर्टिफाई, अमेजन म्यूजिक, फेसबुक, ऑल्ट बालाजी और ओला जैसे कई बड़े ब्रांडों, डिजिटल संगीत कंपनियों तथा ओटीटी प्लेटफार्म के साथ रणनीतिक साझेदारी की है, जिससे इसके सदस्यों के लिए राजस्व के नए रास्ते खुल गए हैं। अपने स्केलेबल सिस्टम के साथ, यह संस्था एक क्वाड्रिलियन (1000 ट्रिलियन) डेटा को एकदम सटीक तरीके से प्रोसेस कर सकती है तथा सभी प्रसारणों और डिजिटल प्लेटफार्मों पर रॉयल्टी हेतु अनुरोध कर सकती है।


जीएसटी को लेकर केन्द्र सरकार पर अपने वादे से पलटने का लगाया आरोप

देहरादून। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने केन्द्र सरकार पर अपने वादे से पलटने का आरोप लगाते हुए राज्यों के भरोसे पर कुठाराघात किया है। प्रीतम सिह ने कहा कि केन्द्र सरकार ने जीएसटी लागू करते समय कहा गया था कि जिन राज्यों को जी.एस.टी. लागू होने के बाद नुकसान होगा तो उसकी भरपाई केन्द्र सरकार द्वारा की जायेगी। परन्तु अब केन्द्र की मोदी सरकार अपने इस वादे से पलट गई है।
वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने राज्यों के उस भरोसे को तोड़ते हुए जीएसटी से होने वाले नुकसान की भरपाई करने से साफ इनकार कर दिया है। जीएसटी लागू होने के बाद हर वित्तीय वर्ष में उत्तराखण्ड को 2241 करोड़ का घाटा हो रहा है अब केन्द्र सरकार अपने वादे से पलट गई है जिससे राज्य को वित्तीय संकट से गुजरना पड़ रहा है। प्रीतम सिंह ने राज्य सरकार की सुस्ती पर आरोप लगाते हुए कहा कि एक तरफ जहां राज्य आपदा से जूझ रहा है, दूसरी तरफ किसानों की बदहाली से जूझ रहा है, तीसरी तरफ बेरोजगारी के दंश को झेल रहा है। कर्मचारियों को वेतन और पेंशन देने के लिए भी बाजार से कर्ज लेना पड़ रहा है, ऐसे में जीएसटी से होने वाले 2241 करोड़ रूपये के घाटे के लिए केन्द्र सरकार के सामने मजबूत पैरवी क्यों नहीं की जा रही है?
प्रीतम सिंह ने आरोप लगाया कि एक तरफ जहां राज्य सरकार ने अभी तक किसानों के ऋण माफी का वादा नहीं निभाया है वहीं दूसरी ओर अति वृष्टि और ओलावृष्टि से हुए नुकसान का भी मुआबजा किसानों को नही दिया है। श्री प्रीतम सिंह ने केन्द्र सरकार को भी आढे हाथों लेते हुए कहा कि जो केन्द्र सरकार जीएसटी से होने वाले नुकसान के लिए आज राज्य सरकारों को ऋण लेने की नसीहत दे रही है अच्छा होता यदि केन्द्र सरकार स्वयं ऋण लेकर राज्य सरकारों को होने वाले नुकसान की भरपाई करने का अपना वादा निभाती। उन्होने कहा कि भारत सरकार की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राज्यों को बकाया जीएसटी के मुआवजे के भुगतान करने में अपनी असमर्थता जताई है। दरअसल, कोविड-19 महामारी के चलते वित्तीय वर्ष 2020-21 में जीएसटी वसूली में 2.35 लाख करोड़ रूपये की कमी होने का अनुमान है। इस कड़ी में केन्द्र सरकार पर राज्यों की करीब 3 लाख करोड़ रूपये की देनदारी है। सवाल ये उठता है कि वित्त मंत्री के क्षतिपूर्ति देने ने हाथ खड़े करने से राज्यों में गंभीर वित्तीय संकट तो खड़ा नहीं हो जाएगा?
गौरतलब है कि जीएसटी परिषद की 41वी बैठक गुरुवार को हुई थी। जिसमें कर वसूली, राजस्व घटने से पैदा हुए वित्तीय संकट से उबरने के उपायों पर मैराथन चर्चा हुई।  वित्त मंत्री ने कोरोना महामारी के हालात में राज्यों को उनके जीएसटी से होने वाले नुकसान की भरपाई की बकाया रकम अदा करने में असमर्थता जताई। उन्होंने राज्यों को  बाजार से पूंजी जुटाने या फिर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आर.बी.आई) से उधार लेने के 2 विकल्प सुझाये। सीतारमण के इस सुझाव का केवल गैर एनडीए शासित राज्यों ने विरोध किया है परन्तु उत्तराखण्ड जैसे राज्यों ने इसके विरोध में कोई आवाज नहीं उठाई। राज्यों के वित्तमंत्रियों द्वारा उठाये गये सवाल पर निर्मला सीतारमण ने अटॉर्नी जनरल की कतिपय कानूनी राय का हवाला देते हुए कहा कि केंद्र राज्यों को मुआवजा देने के लिए बाध्य नहीं है। प्रीतम सिंह ने कहा कि केंद्र के मुआवजा देने से मना करने पर संघीय ढांचे में टकराव बढ़ने के आसार हैं। जीएसटी का मुआवजा नहीं मिलने से कोरोना महामारी की मार झेल रहे राज्यों में वित्तीय संकट पैदा हो सकता है। कहने की जरूरत नहीं है कि अगर गिने-चुने राज्य छोड़ दें तो ज्यादातर में वित्तीय प्रबंधन बहुत अच्छा नहीं है। अगर केंद्र से जीएसटी क्षतिपूर्ति की बकाया रकम का भुगतान नहीं मिला तो हालात और खराब हो जाएंगे।


परवेयर इंडिया ने हल्द्वानी में किया रिटेल कियोस्क लॉन्च

हल्द्वानी। ऑरलैंडो, अमेरिका आधारित एक वैश्विक प्रीमियम होमवेयर और डायरेक्ट सेलिंग ब्रांड, टपरवेयर को अपने उत्पाद की सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता और नए एवं कार्यात्मक डिजाइनों के लिए काफी पसंद किया जाता है। ब्रांड ने मल्टी-चैनल बिक्री रणनीति को अपनाने के लिए बदलते बाजार और उपभोक्ता प्रक्षेपवक्र को अपनाया है। तब से, ब्रांड ने अपने डायरेक्ट सेलर्स को एक्सक्लूसिव ब्रांड आउटलेट लॉन्च करने का लाभ दिया और रिटेल चैनल को अपनाने के लिए प्रासंगिक प्रशिक्षण दिया। कोविड महामारी के इस मुश्किल समय के दौरान भी, ब्रांड ने अपने भागीदारों, सेल्स फोर्स और फ्रेंचाइजी की सहायता के लिए विभिन्न पहल की और वित्तीय सहायता एवं राहत प्रदान की। रिटेल उपस्थिति के साथ, ब्रांड ने पिछले साल आधिकारिक तौर पर ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस में भी प्रवेश किया और उस चैनल पर भी इसे उत्साहजनक प्रतिक्रिया मिली। गति को आगे बढ़ाने के लिए, ब्रांड अब हल्द्वानी में अपनी तरह का पहला रिटेल कियोस्क लॉन्च करने के साथ, उत्तर भारत में अपने पदचिह्न को मजबूत कर रहा है। इस लॉन्च के साथ, टपरवेयर आउटलेट की राष्ट्रीय गणना 58 तक पहुंच गई है। यह भारत में ब्रांड का पहला कियोस्क स्टोर है और उत्तराखंड में इसका दूसरा आउटलेट है। सामंजस्यपूर्ण मल्टी-चैनल दृष्टिकोण को अपनाने के साथ, टपरवेयर ने नए युग के उपभोक्ताओं के साथ अपने सम्बन्ध को गहरा कर दिया है। ब्रांड प्रासंगिक बना हुआ है और कोविड के इन परीक्षण समय में भी बेहद उपयोगी साबित हुआ है।


उत्तराखंड के समाजसेवी विनोद बछेती मयूर विहार दिल्ली भाजपा जिला अध्यक्ष नियुक्त

देहरादून। दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभालने के बाद आदेश गुप्ता ने पहली संगठनात्मक नियुक्ति करते हुए 14 जिलों के जिला अध्यक्षों और 250 मंडल अध्यक्षों की सूची जारी की है। जिस मे दो सौ नए चेहरों को मौका दिया गया है। जिसमें उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में जन्में समाजसेवी विनोद बछेती को मयूर विहार दिल्ली के जिला अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई है। जिसके बाद उत्तराखंड वासियों में खुशी की लहर है। इस दौरान कई जगहों पर विनोद बछेती को फूलों की माला पहनाकर उनका स्वागत किया गया।
विनोद बछेती की दिल्ली-एनसीआर में उत्तराखंड समाज के साथ-साथ तमाम दूसरे समाज के लोगों की बीच में सामाजिक, सांस्कृतिक एवं राजनैतिक पटल पर सौहार्दपूर्ण पहचान रही है। दिल्ली में उत्तराखंडी प्रवासियों पर होने वाले उत्पीड़न के खिलाफ खड़े होकर आवाज उठाना एवं उन्हें न्याय दिलाने की दिशा में निरंतर संघर्षरत रहने में विनोद बछेती की भूमिका अग्रणीय रहती है। विनोद बछेती की मेहनत और संघर्षों को देखते हुए दिल्ली भाजपा ने समाजसेवी विनोद बछेती को मयूर विहार दिल्ली के जिला अध्यक्ष जिम्मेदारी दी है जिसका प्रवासी उत्तराखंडियों ने स्वागत किया है। बता दें कि विनोद बछेती पिछले 24 वर्षों से भारतीय जनता पार्टी से जुड़े है। उन्होंने 1994 में पार्टी की सदस्यता ली थी। उनकी मेहनत और पार्टी की प्रति कर्तव्य निष्ठाता को देखते हुए उन्हें 1997 में समिति अध्यक्ष न्यू अशोक नग-त्रिलोकपुरी मंडल की जिम्मेदारी दी गई थी। इसी के साथ विनोद बछेती को 2002 में उत्तराखंड प्रकोष्ठ का मंडल अध्यक्ष बनाया गया। साथ ही बछेती पूर्वी दिल्ली नगर-निगम में शिक्षा समिति के सदस्य भी हैं। इस पद पर रहते हुए बछेती पूर्वी दिल्ली के नगर निगम के स्कूलों में कई महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं। उन्हें लोकसभा चुनाव 2019 के चुनाव में संचलान समिति का सदस्य भी बनाया गया था। सामाजिक पटल की बात करें तो विनोद बछेती उत्तराखंड एकता मंच के संस्थापक सदस्य एवं संयोजक भी है।
----------------------------------------------------------


राज्यमंत्री राजकुमार पुरोहित ने कियसा सत्या फाउंडेशन के कार्यालय का उद्घाटन



देहरादून। राजकुमार पुरोहित अध्यक्ष उत्तराखंड राज्य खनिज विकास परिषद (दर्जाधारी राज्य मंत्री) द्वारा सोमवार को सत्या फाउंडेशन वेलफेयर ट्रस्ट के कार्यालय का उद्घाटन किया गया। मुख्य अतिथि का स्वागत सत्या फाउंडेशन वेलफेयर ट्रस्ट की सत्या देवी, नंदेश्वर सिंह अध्यक्ष उदय सिंह, दीपिका द्वारा पुष्पगुछ देकर किया गया।
कार्यक्रम में मंच संचालन कर रहे प्रमोद नौटियाल द्वारा सत्या फाउंडेशन वेलफेयर ट्रस्ट के माध्यम से किये गये कार्यो के बारे मे बताया कि संस्था किस प्रकार जरुरत मंद लोगो की सहायता में सदैव तत्परता से लगे रहते है। मुख्य अथिति राजकुमार पुरोहित द्वारा समाज में संस्था हेतू जनसेवा के कार्यो के विषय में अवगत कराया, साथ ही मुख्यमंत्री द्वारा जारी सरकार की जन उपयोगी योजनाओं जैसे रोजगार, महिला सशक्तिकरण, निर्बल वर्ग से संबद्व अन्य योजनाओं के बारे में बताते हुये कहा कि प्रदेश सरकार दिन रात जनहित के कार्यो में लगी है। कार्यालय उदघाटन के अवसर पर लोगों को हैंड सेनेटाईजर भी बांटे गये।
इस अवसर पर सत्या फाउंडेशन वेलफेयर ट्रस्ट के कार्यकारणी सदस्यों में मनजीत सिंह नेगी, सचिव संदीप जनधारी, शिव सिंह नेगी, मोनिका नेगी, संगीता, ऋषभ आदि उपस्थित रहे।


राज्यमंत्री राजकुमार पुरोहित ने कियसा सत्या फाउंडेशन के कार्यालय का उद्घाटन



देहरादून। राजकुमार पुरोहित अध्यक्ष उत्तराखंड राज्य खनिज विकास परिषद (दर्जाधारी राज्य मंत्री) द्वारा सोमवार को सत्या फाउंडेशन वेलफेयर ट्रस्ट के कार्यालय का उद्घाटन किया गया। मुख्य अतिथि का स्वागत सत्या फाउंडेशन वेलफेयर ट्रस्ट की सत्या देवी, नंदेश्वर सिंह अध्यक्ष उदय सिंह, दीपिका द्वारा पुष्पगुछ देकर किया गया।
कार्यक्रम में मंच संचालन कर रहे प्रमोद नौटियाल द्वारा सत्या फाउंडेशन वेलफेयर ट्रस्ट के माध्यम से किये गये कार्यो के बारे मे बताया कि संस्था किस प्रकार जरुरत मंद लोगो की सहायता में सदैव तत्परता से लगे रहते है। मुख्य अथिति राजकुमार पुरोहित द्वारा समाज में संस्था हेतू जनसेवा के कार्यो के विषय में अवगत कराया, साथ ही मुख्यमंत्री द्वारा जारी सरकार की जन उपयोगी योजनाओं जैसे रोजगार, महिला सशक्तिकरण, निर्बल वर्ग से संबद्व अन्य योजनाओं के बारे में बताते हुये कहा कि प्रदेश सरकार दिन रात जनहित के कार्यो में लगी है। कार्यालय उदघाटन के अवसर पर लोगों को हैंड सेनेटाईजर भी बांटे गये।
इस अवसर पर सत्या फाउंडेशन वेलफेयर ट्रस्ट के कार्यकारणी सदस्यों में मनजीत सिंह नेगी, सचिव संदीप जनधारी, शिव सिंह नेगी, मोनिका नेगी, संगीता, ऋषभ आदि उपस्थित रहे।


ई-लोक अदालत 12 सितंबर को

देहरादून। उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, नैनीताल के तत्वाधान में उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति नैनीताल एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देहरादून द्वारा 12 सितम्बर (द्वितीय शनिवार) को प्रातः 10 बजे से सांय 04 बजे तक समस्त न्यायालय जिला मुख्यालय, वाह्य न्यायालयों विकासनगर, ऋषिकेश, डोईवाला, चकराता में ई-लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें विभिन्न प्रकृति के वादों का निस्तारण सुलह-समझौते के आधार पर किया जायेगा।
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिवध्सिविल जज(सी0डि0) नेहा कुशवाहा ने आॅनलाईन ई-लोक अदालत के क्रम में अवगत कराया है कि इसमें फौजदारी के शमनीय वाद, मोटर दुर्घटना प्रतिकर वाद, परिवार वाद, 138 एन0आई0एक्ट वाद, वैवाहिक वाद, प्री लीटिगेशन वाद के अलावा बैंक एवं ऋण वसूली से सम्बन्धित वाद का निस्तारण ई-लोक अदालत में किया जायेगा। उन्होंने बताया कि ई-लोक अदालत में सुलह-समझौते से निस्तारण हेतु 500 से अधिक आवेदन फरियादियों द्वारा प्रस्तुत किये गये हैं। उन्होंने सर्वसाधारण  से अनुरोध किया है कि जो भी व्यक्ति अपने वादों को ई-लोक अदालत के माध्यम से निस्तारित करवाना चाहते हैं वह आगामी 04 सितम्बर तक सम्बन्धित न्यायालय में स्वयं या अधिवक्ता के माध्यम से आॅनलाईन आवेदन कर अपने वाद नियत करवा सकते हैं। उन्होंने ई लोक अदालत के सम्बन्ध में अधिक जानकारी के लिए सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, फौजदारी न्यायालय परिसर देहरादून के दूरभाष नम्बर 0135-2520873, ई-मेल एवं टोल फ्री नम्बर-18001804000 से सम्पर्क स्थापित कर सकते हैं।    


संदीप की आत्महत्या देवभूमि उत्तराखंड पर बड़ा कलंकः रविन्द्र सिंह आनन्द



देहरादून।  उत्तराखंड आम आदमी पार्टी ने सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि संदीप ने बेरोजगारी से तंग आकर की थी। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर वायरल एक ऑडियो में संदीप द्वारा यह बताया गया कि संदीप को यह नहीं लगता कि त्रिवेंद्र सरकार के रहते हुए उसे नौकरी मिल पाएगी जिस कारण उसका जीवन बहुत विकट हो गया है और अब जीवन का निर्वाह नहीं कर पा रहा है जिस कारण वह आत्महत्या कर रहा है।
आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविन्द्र सिंह आनन्द ने आरोप लगाया है कि बेरोजगार संदीप की आत्महत्या के लिए सरकार जिम्मेदार है और सरकार किसी को रोजगार नहीं दे रही है और मुख्यमंत्री बेरोजगारी के आंकड़े को छुपाते हैं इसलिए सरकार को चाहिए कि वह इन चीजों पर ध्यान दें और इसकी जो हत्या हुई है। उसके लिए उसकी जिम्मेदारी लें आत्महत्या के लिए सीधे सीधे आम आदमी पार्टी ने सरकार को जिम्मेदार ठहराया है और कहा है कि भविष्य में इस तरह की घटनाएं नहीं होनी चाहिए इससे हमारे उत्तराखंड पर काला टीका लगता है उन्होंने कहा कि विश्व भर में प्रसिद्ध देव भूमि उत्तराखंड जहां आकर लोग अपने आप को स्ट्रेस फ्री महसूस करते हैं वही यहां के बेरोजगार युवक आत्महत्या करने को मजबूर है उन्होंने सरकार को चेताया कि यदि इस प्रकार की घटनाएं जल्द ना रुकी तो वे उत्तराखंड के बेरोजगारों के साथ मिलकर सड़कों पर उतरेंगे उन्होंने कहा कि सूत्रों के अनुसार प्रदेश में लगभग 30,000 से 40,000 सरकारी रिक्त पद है जिन्हें सरकार द्वारा नहीं भरा जा रहा कहां की यदि इन पदों पर नियुक्ति सरकार द्वारा कर दी जाए तो बेरोजगारों को बहुत आराम मिलेगा उन्होंने आगे कहा कि उत्तराखंड में जो प्रवासी भाई आए हैं वह भी सरकार की ओर बड़ी मायूसी से देख रहे हैं लेकिन सरकार अपने झूठे वादों और योजनाओं को प्रचारित प्रसारित कर रही है।


Sunday, 30 August 2020

धृतराष्ट्र बन आंखें बंद हैं टीएसआर, बैकडोर से अपनों का बेड़ा पार



-बेरोजगार सड़कों पर आत्महत्या को मजबूर,नेताओं के बच्चों को बैक डोर एंट्रीः रविन्द्र सिंह आनन्द

देहरादून। भारतीय चिकित्सा परिषद उत्तराखंड में प्रांतीय रक्षक दल एवं युवा कल्याण विभाग के जरिए हुई चार नियुक्तियों के मामले में पूरी तरह अनियमितता बरती गई।  जुलाई में भारतीय चिकित्सा परिषद के रजिस्ट्रार की ओर से युवा कल्याण विभागों में आउट सोर्स के जरिए 4 पदों पर नियुक्ति की मांग भेजी गई थी । विभाग ने इनमें एक लेखाकार एक चतुर्थ श्रेणी और 2 पद पर सुरक्षाकर्मी के नाम तय कर भेज दिए ,इन्हें चिकित्सा परिषद की ओर से नियुक्ति दे दी गई । अब यह सवाल उठता है कि इन नीतियों में धांधली की गई है ।इनमें लेखाकार के लिए, महापौर की बेटी श्रेया उनियाल जबकि एक अन्य पद पर परिषद के रजिस्ट्रार के करीबी को नियुक्ति दी गई है,जो सरासर यहां के बेरोजगारों के साथ  त्रिवेंद्र सरकार का बहुत बड़ा छलावा है।
उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सरकार ने हाल ही में रोजगार वर्ष मनाना शुरू किया है. वे अपनी पीठ झूठे आंकड़ों के जरिये थपथपाने का जश्न मनाने से नहीं चूकती. जबकि ये सभी जानते हैं कि उत्तराखंड के कितने भाई-बहन नौकरी की आस में दर-दर भटकने और आन्दोलन करने को मजबूर हैं. हमारे प्रदेश के नौजवानों ने डबल इंजन की सरकार पर इसलिए भरोसा नहीं जताया था कि वे नेताओं के बच्चों की बैक डोर से एंट्री करवा सके. ऋषिकेश से विधायक और विधानसभा अध्यक्ष  प्रेम चन्द्र अग्रवाल जी ने दो साल पहलेय पूर्व सैनिकों या उनके आश्रितों को नियुक्ति देने के लिए बनाई गई संस्था उपनल से अपने बेटे पीयूष को नियम विरुद्ध तरीके से नौकरी दिलवाई थी. गैर सैनिक परिवारों से जुड़े लोगों की नियुक्ति पर रोक के बावजूद पियूष अग्रवाल, जल संस्थान में सहायक अभियंता के पद पर तैनात कर दिए जाते हैं. सरकार का बेरोजगार नौजवानों का मजाक बनाने का सिलसिला लगातार जारी है  यह कहना है आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविन्द्र सिंह आनन्द का उन्होंने आगे कहा देहरादून के महापौर सुनील उनियाल गामा की बेटी को भारतीय चिकित्सा परिषद में लेखाकार के पद पर नियुक्ति दे दी गई. एक तरफ कोरोना काल में लोगों की नौकरियां चली गई,कई युवाओं के रोजगार खत्म हो गए वहीं बेरोजगारों के लिए कोई नई नियुक्तियां नहीं हो रही हैं जबकि . देहरादून के महापौर गामा जी की बेटी अपने पिता के रसूख से पीआरडी एवं युवा कल्याण विभाग के माध्यम से  आसानी से नौकरी पा जाती है. श्रेया उनियाल को भारतीय चिकित्सा परिषद में लेखाकार के पद बैकडोर नियुक्ति दी गई. कैसे ? क्या ये प्रदेश के लाखों बेरोजगारों के साथ भद्दा मजाक नहीं है?
बेरोजगारों के साथ त्रिवेंद्र सरकार क्या खेल खेल रही है इसे हमारे भाई-बहन बखूबी समझ रहे हैं. राज्य की जवानी बर्बादी की कगार पर ले आई है प्रदेश की बीजेपी सरकार. बेरोजगार आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं. हाल ही में चमोली के एक बेरोजगार युवक ने हताशा में आत्महत्या की और उसके लिए त्रिवेंद्र सरकार को जिम्मेदार माना,उसके बाद भी ये सोई सरकार नहीं जाएगी और उसके तुरंत बाद अपने चहेतों को नौकरी देकर उस युवक के साथ साथ ,लाखों बेरोजगारों के साथ भद्दा मजाक किया है। ये सरकार धृतराष्ट्र की तरह आँखें बंद कर अपनों पर ज्यादा मेहरबान बनी बैठी है. मामला यहीं खत्म नहीं होता बेटी तो बेटी,महापौर सुनील उनियाल गामा की धर्मपत्नी सालों से विधानसभा में अटैच है और मोटी तनख्वाह पा रही हैं. वे विधानसभा में भी कम ही दर्शन देती हैं.  त्रिवेंद्र राज में उनके चहेते ,मौज कर रहे आम आदमी सड़कों पर विवश है। वाह रेे त्रिवेंद्र सरकार !
 ये सवाल बार बार उठता है बीजेपी की करनी और कथनी में अंतर क्यूं है ?  बीजेपी सरकार दोहरा चरित्र क्यों दिखा रही है ? अपनों के लिए सारे नियम ताक पर रख दिए जाते हैं और बेरोजगार नौनिहालों को छोड़ दिया जाता है आत्मनिर्भर बनने के लिए.आम आदमी पार्टी, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से इस नियुक्ति को जल्द से जल्द रद्द करने की मांग करती है अगर  सरकार जल्द से जल्द इस निर्णय पर बैकफुट पर नहीं आती तो आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता आगे आकर प्रदेश के लाखों बेरोजगारों के साथ उनके हकों के लिए ,सड़कों पर उतरेंगे,मेयर के घर का घेराव करेंगे, मुख्यमंत्री को सोई नींद से जगाने के लिए मुख्यमंत्री आवास पर भी प्रदर्शन करेंगे। सरकार के इशारों पर ,इस बैकडोर नियुक्ति में पीआरडी हम भारतीय  चिकित्सा परिषद की भी मिलीभगत  है इसलिए आम आदमी पार्टी पीआरडी के खिलाफ भी प्रदर्शन करेंगे। इस दौरान पार्टी की वरिष्ठ नेत्री उमा सिसोदिया भी उपस्थित रही।


राज्य के ग्रोथ सेंटरों में महिलाएं बहुत अच्छा काम कर रहीः सीएम



देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने उत्तराखण्ड के विकास में महिला शक्ति की भूमिका“ विषय पर आयोजित वेबिनार में प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य निर्माण से लेकर राज्य के विकास में हमारी माताओं-बहनों का बहुत महत्वपूर्ण योगदान रहा है। बङी संख्या में महिला स्वयं सहायता समूह बेहतरीन काम कर रहे हैं। राज्य में स्थापित किये गये ग्रोथ सेंटरों में महिलाएं बहुत अच्छा काम कर रही हैं। महिला शक्ति की भागीदारी के बिना राज्य की आर्थिकी में सुधार की कल्पना नहीं की जा सकती। राज्य सरकार, महिला कल्याण और महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के लिए अनेक योजनाएं संचालित कर रही है। कोविड-19 के दौरान आशा, आंगनबाङी कार्यकत्रियों, महिला चिकित्साकर्मियों और महिला पुलिस कर्मियों ने जो काम किया उसकी जितनी सराहना की जाए कम है। महिला शक्ति के सहयोग से ही आत्मनिर्भर उत्तराखण्ड सम्भव है।  
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक क्षेत्र में तकनीकी के उपयोग को बढ़ावा दिया जा रहा है। ई-ऑफिस, ई-कैबिनेट, सीएम डैशबोर्ड, सीएम हेल्पलाईन सुशासन की दिशा में बङा कदम है। स्कूलों में वर्चुअल क्लासेज प्रारंभ की गई है। टेलीमेडिसीन, टेलीरेडियोलाजी बहुत उपयोगी सिद्ध हो रही है। हर गांव को इंटरनेट से जोङने पर काम चल रहा है। पिछले तीन वर्ष में उत्तराखण्ड फिल्म शूटिंग के केन्द्र के रूप मे उभर कर सामने आया है। राज्य को बेस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट का अवार्ड मिला है। वेबिनार में माता मंगला जी, विधायक ऋतु खण्डूड़ी, अपर मुख्य सचिव राधा रतूङी, सचिव सौजन्या, पेटीएम की सीनियर वाईस प्रेसीडेंट रेणु सती, लेखिका अद्वैता काला, क्रिकेटर एकता बिष्ट सहित विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत महिलाओं ने प्रतिभाग किया।


धृतराष्ट्र बन आंखें बंद हैं टीएसआर, बैकडोर से अपनों का बेड़ा पार



-बेरोजगार सड़कों पर आत्महत्या को मजबूर,नेताओं के बच्चों को बैक डोर एंट्रीः रविन्द्र सिंह आनन्द

देहरादून। भारतीय चिकित्सा परिषद उत्तराखंड में प्रांतीय रक्षक दल एवं युवा कल्याण विभाग के जरिए हुई चार नियुक्तियों के मामले में पूरी तरह अनियमितता बरती गई।  जुलाई में भारतीय चिकित्सा परिषद के रजिस्ट्रार की ओर से युवा कल्याण विभागों में आउट सोर्स के जरिए 4 पदों पर नियुक्ति की मांग भेजी गई थी । विभाग ने इनमें एक लेखाकार एक चतुर्थ श्रेणी और 2 पद पर सुरक्षाकर्मी के नाम तय कर भेज दिए ,इन्हें चिकित्सा परिषद की ओर से नियुक्ति दे दी गई । अब यह सवाल उठता है कि इन नीतियों में धांधली की गई है ।इनमें लेखाकार के लिए, महापौर की बेटी श्रेया उनियाल जबकि एक अन्य पद पर परिषद के रजिस्ट्रार के करीबी को नियुक्ति दी गई है,जो सरासर यहां के बेरोजगारों के साथ  त्रिवेंद्र सरकार का बहुत बड़ा छलावा है।
उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सरकार ने हाल ही में रोजगार वर्ष मनाना शुरू किया है. वे अपनी पीठ झूठे आंकड़ों के जरिये थपथपाने का जश्न मनाने से नहीं चूकती. जबकि ये सभी जानते हैं कि उत्तराखंड के कितने भाई-बहन नौकरी की आस में दर-दर भटकने और आन्दोलन करने को मजबूर हैं. हमारे प्रदेश के नौजवानों ने डबल इंजन की सरकार पर इसलिए भरोसा नहीं जताया था कि वे नेताओं के बच्चों की बैक डोर से एंट्री करवा सके. ऋषिकेश से विधायक और विधानसभा अध्यक्ष  प्रेम चन्द्र अग्रवाल जी ने दो साल पहलेय पूर्व सैनिकों या उनके आश्रितों को नियुक्ति देने के लिए बनाई गई संस्था उपनल से अपने बेटे पीयूष को नियम विरुद्ध तरीके से नौकरी दिलवाई थी. गैर सैनिक परिवारों से जुड़े लोगों की नियुक्ति पर रोक के बावजूद पियूष अग्रवाल, जल संस्थान में सहायक अभियंता के पद पर तैनात कर दिए जाते हैं. सरकार का बेरोजगार नौजवानों का मजाक बनाने का सिलसिला लगातार जारी है  यह कहना है आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविन्द्र सिंह आनन्द का उन्होंने आगे कहा देहरादून के महापौर सुनील उनियाल गामा की बेटी को भारतीय चिकित्सा परिषद में लेखाकार के पद पर नियुक्ति दे दी गई. एक तरफ कोरोना काल में लोगों की नौकरियां चली गई,कई युवाओं के रोजगार खत्म हो गए वहीं बेरोजगारों के लिए कोई नई नियुक्तियां नहीं हो रही हैं जबकि . देहरादून के महापौर गामा जी की बेटी अपने पिता के रसूख से पीआरडी एवं युवा कल्याण विभाग के माध्यम से  आसानी से नौकरी पा जाती है. श्रेया उनियाल को भारतीय चिकित्सा परिषद में लेखाकार के पद बैकडोर नियुक्ति दी गई. कैसे ? क्या ये प्रदेश के लाखों बेरोजगारों के साथ भद्दा मजाक नहीं है?
बेरोजगारों के साथ त्रिवेंद्र सरकार क्या खेल खेल रही है इसे हमारे भाई-बहन बखूबी समझ रहे हैं. राज्य की जवानी बर्बादी की कगार पर ले आई है प्रदेश की बीजेपी सरकार. बेरोजगार आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं. हाल ही में चमोली के एक बेरोजगार युवक ने हताशा में आत्महत्या की और उसके लिए त्रिवेंद्र सरकार को जिम्मेदार माना,उसके बाद भी ये सोई सरकार नहीं जाएगी और उसके तुरंत बाद अपने चहेतों को नौकरी देकर उस युवक के साथ साथ ,लाखों बेरोजगारों के साथ भद्दा मजाक किया है। ये सरकार धृतराष्ट्र की तरह आँखें बंद कर अपनों पर ज्यादा मेहरबान बनी बैठी है. मामला यहीं खत्म नहीं होता बेटी तो बेटी,महापौर सुनील उनियाल गामा की धर्मपत्नी सालों से विधानसभा में अटैच है और मोटी तनख्वाह पा रही हैं. वे विधानसभा में भी कम ही दर्शन देती हैं.  त्रिवेंद्र राज में उनके चहेते ,मौज कर रहे आम आदमी सड़कों पर विवश है। वाह रेे त्रिवेंद्र सरकार !
 ये सवाल बार बार उठता है बीजेपी की करनी और कथनी में अंतर क्यूं है ?  बीजेपी सरकार दोहरा चरित्र क्यों दिखा रही है ? अपनों के लिए सारे नियम ताक पर रख दिए जाते हैं और बेरोजगार नौनिहालों को छोड़ दिया जाता है आत्मनिर्भर बनने के लिए.
आम आदमी पार्टी, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से इस नियुक्ति को जल्द से जल्द रद्द करने की मांग करती है अगर  सरकार जल्द से जल्द इस निर्णय पर बैकफुट पर नहीं आती तो आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता आगे आकर प्रदेश के लाखों बेरोजगारों के साथ उनके हकों के लिए ,सड़कों पर उतरेंगे,मेयर के घर का घेराव करेंगे, मुख्यमंत्री को सोई नींद से जगाने के लिए मुख्यमंत्री आवास पर भी प्रदर्शन करेंगे। सरकार के इशारों पर ,इस बैकडोर नियुक्ति में पीआरडी हम भारतीय  चिकित्सा परिषद की भी मिलीभगत  है इसलिए आम आदमी पार्टी पीआरडी के खिलाफ भी प्रदर्शन करेंगे। इस दौरान पार्टी की वरिष्ठ नेत्री उमा सिसोदिया भी उपस्थित रही।


अपने विधायक महेश नेगी को बचा रही है भाजपाः उमा सिसोदिया



देहरादून। आम आदमी की पूर्व प्रदेश संगठन मंत्री उमा सिसोदिया ने भाजपा पर दुष्कर्म व शारीरिक शोषण के आरोपी अपने विधायक को बचाने का आरोप लगाते हुये विधायक महेश सिंह नेगी के डीएनए टेस्ट व उन्हें पार्टी से निलंबित करने की मांग की है।
मीडिया को जारी एक बयान में उमा सिसोदिया ने कहा कि प्रदेश की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार बेशर्म हो गई है और लगातार अपने बिगड़ैल विधायकों को बचाने में लगी हुई है, चाहे वो उत्तराखण्ड को गाली देने वाले कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन हो या महेश नेगी।  
उन्होंने कहा कि महेश नेगी प्रकरण में यह स्पष्ट है कि पुलिस आरोपी विधायक को बचाने के लिये सरकार के दबाव में काम कर रही है और पीड़िता के पक्ष में किसी भी प्रकार की कार्यवाही पुविस द्वारा नहीं की गई है। पीड़िता व उसके परिजनों द्वारा विधायक के डीएनए टेस्ट किये, जाने की मांग पर कोई सुनवाई नहीं की जा रही है। उमा सिसोदिया ने कहा कि भाजपा का चाल-चरित्र और चेहरा हमेशा से ही महिला विरोधी रहा है। अपने दुष्कर्मी नेताओं को बचाने के लिये भाजपा हमेशा आगे बढ़कर सामने आती रही है फिर चाहे वो कुलदीप सेंगर हो, स्वामी चिन्मयानंद हो, साक्षी महाराज हो या फिर महेश नेगी। उन्होंने कहा कि मातृशक्ति के बलिदान से बने उत्तराखण्ड में महिलाओं का अपमान व शोषण किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। आम आदमी पार्टी महिला शक्ति की अस्मिता की रक्षा के लिये सड़क से सदन तक संघर्ष जारी रखेगी।


विकास इको टेक की 75 करोड़ के निवेश की तैयारी



हरिद्वार। बीएसई तथा एनएसई में सूचीबद्ध, विकास इकोटेक लिमिटेड विभिन्न उद्योगों में प्रवेश की ओर भी बढ़ रही है। विकास इकोटेक एक इंटीग्रेटेड-स्पेशियलिटी उत्पाद समाधान प्रदान करने वाली कम्पनी है, जो कि उत्कृष्ट गुणवत्ता वाले इको फ्रेंडली रबर प्लास्टिक कंपाउंड्स और एडिटिव्ज का उत्पादन करती है। कम्पनी द्वारा यह सूचना प्रदान की गई है कि इसके बोर्ड ने कम्पनी के लिए फार्मास्युटिकल्स, एपीआई और कैमिकल उद्योग में मौजूद संभावनाओं के मद्देनजर कम्पनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स (कम्पनी के निदेशकों के समूह) द्वारा नियुक्त एक्सपर्ट कमेटी द्वारा  तैयार रिपोर्ट को मंजूरी दे दी है। उल्लेखनीय है कि इस विशेषज्ञ कमेटी को व्यवसायिक विस्तार के हिसाब से व्यवसायिक संभावनाओं की पहचान के मूल्यांकन के लिए नियुक्त किया गया था। इसके साथ ही कम्पनी ने आने वाले 2 सालों में नए उद्योगों में या ऑर्गेनिक अथवा इनऑर्गेनिक दोनों तरीकों से वृद्धि के लिए एक रणनीतिक साझेदारी के जरिये 75 करोड़ रुपये के निवेश का निर्णय किया है। विकास इकोटेक ने हाल ही में यह घोषणा भी की थी कि कोविड-19 के वर्तमान संकट के बावजूद, कम्पनी ने अपने फ्लैगशिप उत्पाद, इकोफ्रेंडली ‘ऑर्गेनिक पीवीसी स्टेबलाइजर्स’ को यूनाइटेड स्टेटस ऑफ अमेरिका (दुनिया का सबसे बड़ा ऑर्गेनोशन मार्केट) को बिना किसी बाधा के निरन्तर एक्सपोर्ट किया। गौरतलब है कि कम्पनी ने यूएसए में सबसे बड़े स्पेशियलिटी कैमिकलध् ऑर्गेनोशन स्टेबलाइजर डिस्ट्रीब्यूटर  के साथ टाई अप किया है।


जिले में मनरेगा कार्यों के अन्तर्गत 2532 निर्माण कार्य प्रारम्भ किये गए

देहरादून। कोविड-19 संक्रमण से सुरक्षा के दृष्टिगत विभिन्न राजकीय चिकित्सालयों के चिकित्सकों व कार्मिको हेतु 176 एन-95, 600 ट्रिपल लेयर मास्क, 100 पीपीई किट, 150 वीटीएम वायल, 42 सेनिटाइजर, 1400 एग्सामिनेशन गलब्स वितरित किये गये।  
जिलाधिकारी  द्वारा दिये गये निर्देशों के अनुपालन में आज जनपद के विभिन्न क्षेत्रों में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने पर 296 व्यक्तियों के चालान किये गये। दुग्ध विकास विभाग द्वारा कन्टेंनमेंन्ट जोन क्षेत्र में 48 ली0 दूध विक्रय किया गया।
जनपद में विभिन्न विकासखण्डवार मनरेगा कार्यों के अन्तर्गत आतिथि तक 2532 निर्माण कार्य प्रारम्भ किये गये, जिनमें 31054 श्रमिकों को सैनिटाईजेशन एवं सामाजिक दूरी का अनुपालन करवाते हुए उक्त कार्य में योजित कर रोजगार उपलब्ध कराया गया। वायुसेवा के माध्यम से जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट पर पंहुचे 467 प्रवासी व्यक्तियों को स्वास्थ्य जांच उपरान्त जनपद में क्वारेंनटीन किया गया है। जनपद के जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट से विभिन्न प्रदेशों के 315 व्यक्तियों को गंतव्यों हेतु भेजा गया। काठगोदाम से देहरादून रेलवे स्टेशन पर 250 व्यक्ति पंहुचे तथा देहरादून रेलवे स्टेशन से दिल्ली हेतु 377 तथा काठगोदाम हेतु 304 व्यक्ति गये। कोविड-19 के संक्रमण के  दृष्टिगत जिला आपदा कन्ट्रोलरूम में 12 काल प्राप्त हुई, सभी काल पास हेतु प्राप्त हुई।


कोरोना जांच के लिए देहरादून में 1181 लोगों के सैम्पल लिये गये

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत प्राप्त हुई रिपोर्ट में 49 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त हुई है। आज जनपद में 121 व्यक्ति कोविड-19 संक्रमण के उपचार के पश्चात स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए हैं। वर्तमान में जनपद में 769 व्यक्ति उपचाररत हैं। इसके अतिरिक्त जनपद में आज कुल 1181 व्यक्तियों के सैम्पल लिये गये।
आशा कार्यकर्तियों द्वारा जनपद देहरादून अन्तर्गत बनाये गये विभिन्न कन्टेंनमेंट जोन में व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी का कार्य किया जा रहा है जिसके अन्तर्गत 2124 व्यक्तियों का फाॅलोअप किया गया है। अन्य राज्यों से जनपद में पंहुचे कुल 463 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण के उपरांत क्वारेंनटीन किया गया। जिला प्रशासन द्वारा होम क्वारेंनटीन किये गये व्यक्तियों की लगातार दूरभाष के माध्यम से सर्विलांस किया जा रहा है आज जनपद में कुल 4806 व्यक्तियों का दूरभाष के माध्यम से सर्विलांस किया गया तथा अब-तक कुल 61257 व्यक्तियों का दूरभाष के माध्यम से सर्विलांस किया गया है। कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत जनपद के बनाये गये विभिन्न क्वारेंनटीन सेन्टरों में कांउसिलिंग टीम द्वारा निरन्तर क्वारेंनटीन किये गये व्यक्तियों की कांउसिलिंग की जा रही है, जिसके अन्तर्गत आज 4 व्यक्तियों की कांउसिलिंग की गयी तथा माह जून से अब-तक कुल 4567 व्यक्तियों की कांउसिलिंग की गयी है।  


कांग्रेस देहरादून में अब 1 सितम्बर को करेगी धरना-प्रदर्शनः विजय सारस्वत

देहरादून। उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के आह्वान पर द्वाराहाट विधायक दुष्कर्म प्रकरण में राज्य सरकार के दबाव में कार्रवाई न किये जाने के विरोध में कांग्रेस द्वारा विधायक पर दुष्कर्म का मामला दर्ज करते हुए शीघ्र डी.एन.ए. जांच कराये जाने की मांग को लेकर 31 अगस्त को प्रदेशभर के जिला मुख्यालयों में धरना-प्रदर्शन किया जायेगा। प्रदेश महामंत्री संगठन विजय सारस्वत ने बताया कि प्रदेश मुख्यालय, देहरादून में प्रदेश किसान कांग्रेस द्वारा आयोजित कार्यक्रम के मद्नेरजर देहरादून मंे प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में होने वाला धरना-प्रर्शन अब 1 सितम्बर को प्रातः 11ः00 बजे आयोजित किया जायेगा।
विजय सारस्वत ने कहा कि जिला मुख्यालयों में होने वाले धरना-प्रदर्शन कार्यक्रम पूर्व निर्धारित कार्यक्रमानुसार 31 अगस्त को आयोजित किये जायेंगे।


भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक स्थगित, प्रदेश अध्यक्ष के स्वस्थ होने पर होगी

देहरादून। भाजपा प्रदेश कार्यसमिति जो 31 अगस्त को होनी थी स्थगित कर दी गई है। भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ देवेंद्र भसीन ने बताया कि कार्यसमिति की बैठक को प्रदेश अध्यक्ष बंशी धर भगत की अस्वस्थता के कारण स्थगित किया गया है। श्री भगत कोरोना पॉजिटिव होने के कारण यहाँ चिकित्सालय में भर्ती हैं। प्रदेश कार्यसमिति की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष ही करते हैं। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए कार्यसमिति बैठक स्थगित करने का निर्णय लिया गया। अब कार्यसमिति की बैठक श्री भगत के स्वस्थ होने पर की जाएगी।


महानगर के सभी 913 बूथों पर सुनी गई PM मोदी के मन की बात


देहरादून। भाजपा महानगर देहरादून के कार्यकर्ताओं द्वारा आज सभी 913 बूथों पर प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम मन की बात को सुना गया। महानगर भाजपा ने इस कार्यक्रम हेतु 913 वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को प्रभारी बनाया था जो अपने-अपने  बूथों के कार्यकर्ताओं से वार्ता कर इस कार्यक्रम का फीडबैक लेकर संगठन को देंगे ताकि भविष्य में इस कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं के  सुझावों को सम्मिलित किया जा सके। महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट ने आज नेहरू कॉलोनी  बूथ पर कार्यकर्ताओं के साथ कार्यक्रम में सम्मिलित होने के पश्चात कहा की भाजपा के सभी कार्यकर्ता प्रधानमंत्री के मन की बात कार्यक्रम से प्रेरणा लेते हैं और राष्ट्र के प्रति  अपने कर्तव्य के लिए खुद को तैयार करते  है। मन की बात को प्रदेश स्तर से लेकर बूथ स्तर तक के हजारों कार्यकर्ताओं ने सुना।


जयंती पर याद किए गए संस्कृत पुरुष डा. वाचस्पति मैठाणी, ऑनलाइन सम्मेलन व विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित



देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। शिक्षाविद एवं संस्कृत शिक्षा के पूर्व निदेशक संस्कृत पुरुष स्व डॉक्टर वाचस्पति मैठाणी की 71 वीं जयंती पर संस्कृत में रोजगार के अवसर विषय पर एक ऑनलाइन सम्मेलन कार्यक्रम का आयोजन किया गया।  वहीं, देवभूमि प्राथमिक संस्कृत विद्यालय सारथी विहार देहरादून, मां नंदा विहार नवादा देहरादून एवं बालिका स्नातकोत्तर संस्कृत महाविद्यालय सेंदुल, टिहरी गढ़वाल में श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। वेबीनार गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल शामिल हुए। इस मौके पर उन्होंने कहा कि संस्कृत के प्रति मेरा अगाध लगाव है इसी कारण मैंने शपथ भी संस्कृत में ही ली। संस्कृत भाषा विश्व की भाषाओं की जननी है। संस्कृत भाषा से हमारी संस्कृति जिंदा रहेगी। डॉ वाचस्पति मैठाणी ने संस्कत भाषा के उत्थान के लिए जो अतलनीय कार्य किया वह चिर स्मरणीय रहेगा। संस्कत भाषा के उत्थान से ही देश का उत्थान होगा। संस्कृत भाषा से रोजगार की अपार संभावनाएं हैं इसे नकारा नहीं जा सकता। स्मृति मंच के संरक्षक पूर्व मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने कहा कि डॉ वाचस्पति मैठाणी मानव नहीं बल्कि संस्कृत भाषा के उत्थान के महामानव थे ऐसे व्यक्ति के जीवन से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए। संस्कृत भाषा में रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। संस्कत भाषा रोजगार का महा समद्र है इसमें वही पार पाएगा जो समद्र में तैरना जानेगा। कार्यक्रम के अध्यक्ष उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो देवी प्रसाद त्रिपाठी ने कहा कि संस्कृत भाषा के उन्नयन के लिए डॉ वाचस्पति मैठाणी के जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए।विशिष्ट अतिथि संस्कृत अकादमी के उपाध्यक्ष प्रो प्रेम चंद्र शास्त्री ने कहा कि संस्कृत भाषा के उत्थान के लिए मैं विगत 40 वर्षों में कार्य कर रहा है। संस्कृत अकादमी संस्कृत भाषा के उत्थान के लिए कार्यशील है। डॉ वाचस्पति मैठाणी के द्वारा संस्कृत के उत्थान के लिए किए गए योगदान को भुलाया नहीं जा सकता।समाजसेवी  सुमित्रा धूलिया ने कहा कि कोई भी व्यक्ति कितनी भाषाएं जान ले किंतु अगर उसका चरित्र निर्माण नहीं है तो सब व्यर्थ है । संस्कृत भाषा व्यक्ति के चरित्र निर्माण की मुख्य धुरी है। दिल्ली विश्वविदयालय में गांधी भवन के निदेशक प्रो. रमेश चन्द्र भारदवाज ने नई शि शक्षा नीति में संस्क को महत्व दिया गया हैकहा कि विश्व कल्याण की भावना संस्कृत के प्रत्येक ग्रंथ का अध्ययन करने पर महसूस होती है। उन्होंने कहा कि डॉ मैठाणी ने देव भूमि उत्तराखंड में कई संस्कृत शिक्षण संस्थानों की स्थापना कर समाज को संस्कृत के प्रति लगन पैदा करने के लिए एक नई दिशा प्रदान की। कार्यक्रम का संचालन श्री बद्रीनाथ संस्कृत महाविद्यालय के प्रधानाचार्य विनोद प्रसाद बेंजवाल ने किया। इस अवसर पर आयुर्वेद गौरव वन औषधि विद्यापति श्रीलंका डा मायाराम उनियाल, राजघाट नई दिल्ली से प्रसिद्ध सर्वोदय विचारक विजय कुमार हांडा, उत्तराखंड संस्कृत अकादमी के शोध अधिकारी डॉ हरीश गुरुरानी, उत्तराखंड संस्कृत शिक्षक प्रधानाचार्य संघ के प्रांतीय अध्यक्ष डॉ राम भूषण बिजल्वाण, साहित्यकार एवं समाजसेवी शंभू शरण रतूड़ी, संस्कृत भारती मेरठ परिक्षेत्र की ज्योति शर्मा आदि ने डॉ वाचस्पति मैठाणी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम के संरक्षक मंडल के सदस्य कैलाशपति मैठाणी ने डॉ वाचस्पति मैठाणी की 71 वी जयंती के अवसर पर आयोजित की जा रही अखिल भारतीय संस्कृत सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता, गीता श्लोक उच्चारण प्रतियोगिता आदि के बारे में जानकारी प्रदान की। मंच के सदस्य कमलापति मैठाणी ने इस कार्यक्रम के तकनीकी सहयोग के लिए उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय की मीनाक्षी सिंह, एकता, आलोक पति मैठाणी एवं परोक्ष एवं अपरोक्ष रूप से उपस्थित सभी आगंतुकों का धन्यवाद ज्ञापित किया। 


जयंती पर याद किए गए संस्कृत पुरुष डा. वाचस्पति मैठाणी, ऑनलाइन सम्मेलन व विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित

 



देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। शिक्षाविद एवं संस्कृत शिक्षा के पूर्व निदेशक संस्कृत पुरुष स्व डॉक्टर वाचस्पति मैठाणी की 71 वीं जयंती पर संस्कृत में रोजगार के अवसर विषय पर एक ऑनलाइन सम्मेलन कार्यक्रम का आयोजन किया गया।  वहीं, देवभूमि प्राथमिक संस्कृत विद्यालय सारथी विहार देहरादून, मां नंदा विहार नवादा देहरादून एवं बालिका स्नातकोत्तर संस्कृत महाविद्यालय सेंदुल, टिहरी गढ़वाल में श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। वेबीनार गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल शामिल हुए। इस मौके पर उन्होंने कहा कि संस्कृत के प्रति मेरा अगाध लगाव है इसी कारण मैंने शपथ भी संस्कृत में ही ली। संस्कृत भाषा विश्व की भाषाओं की जननी है। संस्कृत भाषा से हमारी संस्कृति जिंदा रहेगी। डॉ वाचस्पति मैठाणी ने संस्कत भाषा के उत्थान के लिए जो अतलनीय कार्य किया वह चिर स्मरणीय रहेगा। संस्कत भाषा के उत्थान से ही देश का उत्थान होगा। संस्कृत भाषा से रोजगार की अपार संभावनाएं हैं इसे नकारा नहीं जा सकता। स्मृति मंच के संरक्षक पूर्व मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने कहा कि डॉ वाचस्पति मैठाणी मानव नहीं बल्कि संस्कृत भाषा के उत्थान के महामानव थे ऐसे व्यक्ति के जीवन से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए। संस्कृत भाषा में रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। संस्कत भाषा रोजगार का महा समद्र है इसमें वही पार पाएगा जो समद्र में तैरना जानेगा। कार्यक्रम के अध्यक्ष उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो देवी प्रसाद त्रिपाठी ने कहा कि संस्कृत भाषा के उन्नयन के लिए डॉ वाचस्पति मैठाणी के जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए।विशिष्ट अतिथि संस्कृत अकादमी के उपाध्यक्ष प्रो प्रेम चंद्र शास्त्री ने कहा कि संस्कृत भाषा के उत्थान के लिए मैं विगत 40 वर्षों में कार्य कर रहा है। संस्कृत अकादमी संस्कृत भाषा के उत्थान के लिए कार्यशील है। डॉ वाचस्पति मैठाणी के द्वारा संस्कृत के उत्थान के लिए किए गए योगदान को भुलाया नहीं जा सकता।समाजसेवी  सुमित्रा धूलिया ने कहा कि कोई भी व्यक्ति कितनी भाषाएं जान ले किंतु अगर उसका चरित्र निर्माण नहीं है तो सब व्यर्थ है । संस्कृत भाषा व्यक्ति के चरित्र निर्माण की मुख्य धुरी है। दिल्ली विश्वविदयालय में गांधी भवन के निदेशक प्रो. रमेश चन्द्र भारदवाज ने नई शि शक्षा नीति में संस्क को महत्व दिया गया हैकहा कि विश्व कल्याण की भावना संस्कृत के प्रत्येक ग्रंथ का अध्ययन करने पर महसूस होती है। उन्होंने कहा कि डॉ मैठाणी ने देव भूमि उत्तराखंड में कई संस्कृत शिक्षण संस्थानों की स्थापना कर समाज को संस्कृत के प्रति लगन पैदा करने के लिए एक नई दिशा प्रदान की। कार्यक्रम का संचालन श्री बद्रीनाथ संस्कृत महाविद्यालय के प्रधानाचार्य विनोद प्रसाद बेंजवाल ने किया। इस अवसर पर आयुर्वेद गौरव वन औषधि विद्यापति श्रीलंका डा मायाराम उनियाल, राजघाट नई दिल्ली से प्रसिद्ध सर्वोदय विचारक विजय कुमार हांडा, उत्तराखंड संस्कृत अकादमी के शोध अधिकारी डॉ हरीश गुरुरानी, उत्तराखंड संस्कृत शिक्षक प्रधानाचार्य संघ के प्रांतीय अध्यक्ष डॉ राम भूषण बिजल्वाण, साहित्यकार एवं समाजसेवी शंभू शरण रतूड़ी, संस्कृत भारती मेरठ परिक्षेत्र की ज्योति शर्मा आदि ने डॉ वाचस्पति मैठाणी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम के संरक्षक मंडल के सदस्य कैलाशपति मैठाणी ने डॉ वाचस्पति मैठाणी की 71 वी जयंती के अवसर पर आयोजित की जा रही अखिल भारतीय संस्कृत सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता, गीता श्लोक उच्चारण प्रतियोगिता आदि के बारे में जानकारी प्रदान की। मंच के सदस्य कमलापति मैठाणी ने इस कार्यक्रम के तकनीकी सहयोग के लिए उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय की मीनाक्षी सिंह, एकता, आलोक पति मैठाणी एवं परोक्ष एवं अपरोक्ष रूप से उपस्थित सभी आगंतुकों का धन्यवाद ज्ञापित किया। 


दिव्यांग बच्चों के लिए संचालित मंगलदीप विद्यालय की मदद को कई लोग आगे आए          


अल्मोड़ा। जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया के विशेष प्रयासों से दिव्यांग बच्चों के लिए संचालित मंगलदीप विद्यालय की मदद को कई लोग आगे आ रहे हैं। इस कढी में शनिवार को एक वेबिनार के माध्यम से कई लोगों ने विद्यालय की मदद के लिए। ’’र्बीइंग उत्तराखण्डी’’ सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर आयोजित इस वेबिनार के माध्यम से अनेक लोगों ने प्रतिभाग किया। इस वेबिनार का मुख्य उद्देश्य मनोरमा जोशी द्वारा संचालित मंगदीप स्कूल के बारे में लोगों को बताना और उनकी संस्था का सहयोग करना था।
  वेबिनार में जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने सुश्री जोशी के प्रयासों और उनके द्वारा संचालित स्कूल की जानकारी दी। उन्होने कहा कि जिला प्रशासन स्कूल के लिए हर सम्भव प्रयास सहयोग करता है। उन्होने कहा कि यह वेबिनार फण्ड रेजिंग के उददेश्य से आयोजित किया गया और कहा कि मुझे विश्वास है कि लोग इस संस्था से जुडकर स्कूल की मदद को आगे आएंगे। वेबिनार में मंगलदीप स्कूल की फाउन्डर मनोरमा जोशी ने भी प्रतिभाग किया। अपने विचार व्यक्त करते हुये उन्होने कहा कि इस स्कूल को चलाने में उन्हे बहुत कठिनाइयों को सामना करना पड़ा। लेकिन उनके दृढ निश्चय ने एक दिन स्कूल खोलकर ऐसे दिव्यांग बच्चों को शिक्षा देने का काम किया जो समाज की मुख्य धारा से पिछड़ रहे थे। उन्होने बताया यह विद्यालय 6 बच्चों से शुरू हुआ और आज लगभग 45 बच्चे पढ़ रहे है। लगभग 100 से अधिक बच्चे अपनी पढाई पूरी कर चुके हैंै। यहां के बच्चों ने विशेष ओलंपिक में प्रतिभाग ही नही किया बल्कि 03 मेडल भी प्राप्त किये हैं। वहीं स्कूल की आर्थिक मदद के लिए एक विशेष कैंपन चलाने वाले एथलीट विनय साह ने भी वेबिनार में अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया के आग्रह पर उनके द्वारा यह कैंपन शुरू की गयी है। जिसमें वे कई स्थानों में दौड़ के माध्यम से लोगों को सहयोग के लिए प्रेरित कर रहे हैं। उन्होने बताया कि यह कैम्पन 23 अगस्त से शुरू हुयी है जो 2 सितंबर तक चलेगी। श्री साह ने कहा कि उनका प्रयास रहेगा की वे अधिक से अधिक फण्ड एकत्रित कर स्कूल को सहयोग करें। इस दौरान रेडक्रास के बी0एस0 मनकोटी ने भी अपने विचार व्यक्त किये। इस अवसर पर सूचना विज्ञान अधिकारी अमित लाम्बा, डा0 विद्या कर्नाटक आदि भी उपस्थित रहे।


क्रांतिवीर स्व० विपिन चंद्र त्रिपाठी के आदर्शों और विचारों को आत्मसाथ करें आज की पीढ़ीः यूकेडी



देहरादून। उक्रांद के शिल्पी, थिंकटैंक, पूर्व अध्यक्ष व पूर्व विधायक स्व० विपिन चंद्र त्रिपाठी (विपिन दा)की 16 पुण्यतिथि पार्टी कार्यालय 10 कचहरी रोड़ देहरादून में श्रद्धांजलि देते हुये गोष्ठी का आयोजन करके विपिन दा को याद किया गया। गोष्ठी में दल के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष ए पी जुयाल,वरिष्ठ नेता किशन सिंह मेहता, वरिष्ठ नेता ओमी उनियाल, के एन डोभाल, बहादुर सिंहः रावत,शांति प्रसाद भट्ट,राजेन्द्र प्रसाद बड़ोनी,जब्बर सिंह पावेल,उत्तम रावत,किरण रावत कश्यप, विजय बौड़ाई, ने गोष्ठी में विपिन दा को याद करते हुए याद किया।
वक्ताओं ने कहा कि स्व०विपिन त्रिपाठी जी के आदर्शों और संघर्षों को कभी भुलाया नही जा सकता है। वन आंदोलन से लेकर नशा नही रोजगार दो। ताड़ीखेत में मजदूरों के आंदोलन को आगे बढ़ाया। इमरजेंसी के दौरान सरकार के खिलाफ अपने पाक्षिक अखबार द्रोणाचल पहरी में लिखा, उनके अखबार को सरकार ने प्रबंधित करके प्रेस सील कर दी तथा इमरजेंसी के दौरान 24 महीने जेल रहे।उक्रांद के शिल्पी कहे जाने वाले विपिन दा ने राज्य आंदोलन के दौरान कार्यक्रमो को आगे ले गये। उन कार्यक्रमों का बखूबी सफल संचालन किया। वक्ताओं ने कहा कि पार्टी का अनुशासन के साथ राज्य परख नीतियों को बनाने में अहम भूमिका रही है। विपिन दा गैरसैंण को स्थायी राजधानी के कट्टर समर्थक रहे अपनी विधायक काल के दौरान विधानसभा सदन में गैरसैण में राजधानी बनाने का 500 करोड़ का बजट रखा। उनके ओजस्वी भाषणों को कभी भुलाया नही जा सकता है। विपिन दा ने हमेशा अपने मूल्यों से समझौता नही किया। दल के मुख्य रणनीतिकार की भूमिका विपिन दा की रहती थी।उन्ही के प्रयासों से द्वाराहाट में इंजीनियरिंग कॉलेज, पोलटेक्निक और आई टी आई बनी थी। विपिन दा ने 22 वर्ष की उम्र में आंदोलन में कूद गये थे।ताउम्र विपिन दा का संघर्ष अंतिम सांस तक रहा। कार्यक्रम का संयोजक सुनील ध्यानी ने किया। इस अवसर पर लताफत हुसैन, रेखा मिंया,प्रताप कुँवर,अशोक नेगी,राजेन्द्र बिष्ट, राजेश्वरी रावत,किरण रावत,सीमा रावत,नवीन भदूला,किरण रावत कश्यप,मनोज वर्मा,पीयूष सक्सेना,विजेंदर रावत,हिम्मत नेगी,गजेंद्र रावत,दीपक रावत,पंकज पैन्यूली,महेंद्र जोशी,सुमन सिंह राणा, आदि थे।


कोरोना पॉजिटिव महिला ने हंगामा खड़ा किया

श्रीनगर गढ़वाल। श्रीनगर में एक कोरोना पॉजिटिव महिला ने हंगामा खड़ा कर दिया। जांच रिपोर्ट आने के बाद जब स्वास्थ्य विभाग की टीम और पुलिस महिला को लेने पहुंची तो महिला ने इसका विरोध शुरू कर दिया।
स्वास्थ्य विभाग की टीम महिला से बार-बार एंबुलेंस में बैठने का अनुरोध करती रही लेकिन महिला घर बाहर खड़ी होकर हंगामा करती रही। महिला का कहना था कि वे उसे जेल में डाल देंगे। काफी देर समझाने के बाद भी जब महिला नहीं मनी तो पुलिस ने डांटकर महिला को एंबुलेंस में बैठाया। श्रीनगर में आज 19 लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं जिसमें दो बच्चे और एक पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। 


दून मेडिकल अस्पताल में कोरोना संक्रमित पुलिस कांस्टेबल समेत दो लोगों की मौत

देहरादून। राजकीय दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कोरोना संक्रमित पुलिस कांस्टेबल समेत दो लोगों की मौत हो गई। अस्पताल प्रशासन के अधिकारियों के मुताबिक, बड़ोवाला विकासनगर देहरादून निवासी 42 वर्षीय युवक उत्तराखंड पुलिस में कांस्टेबल था। वर्तमान में उसकी तैनाती हरिद्वार जिले में थी। उसकी तबीयत बिगड़ने पर परिजनों ने बल्लूपुर चैक के समीप स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां से कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर कांस्टेबल को शनिवार देर रात दून अस्पताल रेफर किया गया। जहां उपचार के दौरान पुलिस कांस्टेबल की मौत हो गई। वहीं, रानीपुर मोड़ निवासी 64 वर्षीय बुजुर्ग को परिजनों ने 17 अगस्त को राजकीय दून मेडिकल अस्पताल में भर्ती कराया था। विशेषज्ञ डॉक्टरों की देखरेख में बुजुर्ग का उपचार चल रहा था। हालत गंभीर होने पर बुजुर्गों आईसीयू में भर्ती किया गया था। उपचार के दौरान बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया।


प्रसंस्करण, विपणन, पैकेजिंग व प्रशिक्षण योजनाओं की जानकारी दी



अल्मोड़ा। एकीकृत आजीविका सहयोग परियोजना अल्मोड़ा विकासखण्ड हवालबाग के शीतलाखेत में जनजातीय परिवारों के उत्पादकों के उत्पादांें को बेहतर मूल्य हेतु भारत सरकार की जनजातीय मंत्रालय की संस्था (ट्राइफेड) के माध्यम से विपणन करने हेतु जनजातीय परिवारों के साथ एक सूक्ष्म गोष्ठी आयोजित की गई। इस दौरान ंजिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया, ट्राईफेड के प्रतिनिधि चमन सिंह, प्रभागीय परियोजना प्रबन्धक, कैलाश चन्द्र भट्ट एवं मुख्य उद्यान अधिकारी टी एन पाण्डे, आई.एल.एस.पी.टीम से सहायक प्रबन्धक प्रदीप सिंह गुसाईं, राजेश मठपाल व खाद्य तकनीकी विशेषज्ञ शमशेर अली, आजीविका समन्वयक अर्जुन सिंह एवं क्षेत्र के स्थानीय लोगांें द्वारा प्रतिभाग किया गया।
ट्राईफेड के प्रतिनिधि चमन द्वारा गोष्ठी में जनजातीय परिवारों एव ंउत्पादक समूहों से संवाद किया गया। जनजातीय परिवारों एवं उत्पादक समूहों द्वारा ट्राईफेड के प्रतिनिधि को स्थानीय कृषि उपज सेब, राजमा, किवी, मूली, ककड़ी, सब्जियों एवं गैर कृषि उत्पाद जैसे दन, कालीन, पूजासन, योगा मैट आदि के सम्बन्ध में जानकारी उपलब्ध कराई। इस क्रम में ट्राईफेड के प्रतिनिधि द्वारा ट्राइफेड की योजनाओं के सम्बन्ध मंे अवगत कराया। उनके द्वारा अवगत कराया गया कि ट्राइफेड द्वारा जनजातीय परिवारों के बेहतर आय एवं आजीविका अवसर हेतु उनके द्वारा उत्पादित व निर्मित स्थानीय उपज एवं उत्पादों के बेहतर मूल्य में विपणन हेतु पूरे भारत में ट्राइब्स ब्राण्ड नाम से 127 आउटलेट का संचालन किया जा रहा है।जनजातीय परिवारों एव ंसमूहों के दक्षता विकास हेतु प्रसंस्करण, विपणन, पैकेजिंग व प्रशिक्षण योजनाओं की जानकारी दी गई। उनके द्वारा अवगत कराया गया कि इसके अतिरिक्त ट्राइफेड द्वारा 150-200 परिवारों के समूह को वन-धन विकास केन्द्र के रूप मे ंस्थापित भी है, जिसे ट्राइफेड के माध्यम से वित्तीय सहयोग प्रदान किया जाता है।
जिलाधिकारी द्वारा गोष्ठी में अवगत कराया गया कि गत माह सचिव, जनजातीय मंत्रालय, भारत सरकार व प्रबन्ध निदेशक, ट्राईफेड के साथ आहूत विडियोकान्फ्रेंसिंग के उपरान्त यह बैठक की गयी है । इस क्रम मे ंजिलाधिकारी महोदय द्वारा अवगत कराया गया कि वर्तमान में ट्राईफेड, जनजातीय परिवारों द्वारा निर्मित उत्पादों का विपणन अपने आउटलेट के साथ-साथ आॅन लाइन स्वयं की वेबसाइट के माध्यम से किया जा रहा है, जिससे उत्पादको ंको उनके उत्पाद हेतु स्थानीय बाजार की तुलना मे ंआजीविका संवर्द्धन हेतु बेहतर मूल्य प्राप्त होगा। उन्होने बताया कि जनपद में ट्राईफेड के माध्यम से वन-धन केन्द्र स्थापित करने हेतु ट्राईफेड एवं शासन को प्रस्ताव प्रेषित किया जा रहा है। इससे पूर्व जिलाधिका ने उद्यान विभाग के कार्यक्रम नेशनल एप्पल मिशन के अन्तर्गत लगाये गये केे सेब के बगीचे का निरीक्षण किया।  मुख्य उद्यान अधिकारी टी0एन0 पाण्डे ने जानकारी देते हुये बताया कि महेन्द्र नेगी द्वारा एक एकड़ में सेब का बाग नेशनल एप्पल मिशन के अन्तर्गत विकसित किया है। इस बाग में मार्च 2019 में एक हजार सेब के पौधे लगाये गये हैं। इनमें जैरोमाइन, गेल गाला, सुपर चीफ, हनी क्रीप्स आदि वैरायटी के पौधे लगाये गये हैंै। जिलाधिकारी ने सम्पूर्ण सेब के बगीचे का अवलोकन किया और श्री नेगी की तारीफ करते हुये कहा कि उनके द्वारा बहुत अच्छी मेहनत इस बगीचे में की गयी है। यह स्वरोजगार की ओर बेहतर कदम है।


सचिव सूचना प्रौद्योगिकी ने निर्माणाधीन उत्तराखण्ड निवास का किया निरीक्षण



नई दिल्ली/देहरादून। सचिव सूचना एवं प्रौद्योगिकी, लोक निर्माण व राज्य संपत्ति रमेश कुमार सुधांशु द्वारा आज नई दिल्ली स्थित निर्माणाधीन उत्तराखण्ड निवास का निरीक्षण किया गया। सचिव श्री सुधांशु द्वारा परियोजना प्रबंधन को निर्देश दिये कि उत्तराखण्ड निवास का निर्माण कार्य गुणवत्ता के साथ ही तय समय सीमा पर पूर्ण हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए। इसके साथ ही सदन के रखरखाव एवं सौंदर्यीकरण का कार्य भी जल्दी ही पूरा किया जाए। उत्तराखण्ड निवास का निर्माण कार्यदायी संस्था उत्तराखण्ड पेयजल निगम, देहरादून द्वारा किया जा रहा है।
       इसके साथ ही सचिव श्री सुधांशु ने निर्माणाधीन उत्तराखण्ड सदन के निकट स्थित नवनिर्मित असम भवन का भी भ्रमण कर भवन निर्माण की गुणवत्ता एवं व्यवस्था का जायजा लिया। इस अवसर पर परियोजना प्रबंधन राकेश तिवारी, सहायक अभियन्ता के0एस0 सिंह, अपर सहायक अभियंता अरविन्द सैनी, उत्तराखण्ड सदन के वरिष्ठ व्यवस्थाधिकारी रंजन मिश्रा उपस्थित थे।


गणपति विसर्जन को गया युवक नदी में सेल्फी लेते हुए बहा, आठ किमी दूर मिला शव



देहरादून। मालदेवता क्षेत्र में गणपति विसर्जन के लिए गया युवक नदी में बह गया। हादसा उस वक्त हुआ जब युवक पानी के बीच सेल्फी ले रहा था। इसी दौरान पानी के तेज बहाव में उसका पैर फिसल गया। पुलिस ने डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद आठ किलोमीटर दूर से उसका शव बरामद किया। शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवा दिया है। 
पुलिस के अनुसार रविवार शाम करीब चार बजे मालदेवता के पास किसी के बहने की सूचना मिली थी। पुलिस मौके पर पहुंची तो लोगों से जानकारी ली गई। यह क्षेत्र टिहरी जनपद का है। लोगों ने बताया कि वे सब टर्नर रोड निवासी हैं और यहां गणपति विसर्जन के लिए आए हुए थे। उनके साथ शुभम (22) पुत्र पूरण सिंह भी आया हुआ था। अचानक वह यहां से आगे पानी में सेल्फी लेने लगा। इसी बीच उसका पैर पानी में फिसल गया। लोगों ने उसे काफी तलाशने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं मिला। 
इस बीच पुलिस ने जरूरी उपकरणों के साथ युवक को पानी में तलाशा गया, मगर वह नहीं मिला। इस बीच स्थानीय लोगों को भी इसकी सूचना दी। कुछ लोगों ने बताया कि उन्होंने रायपुर स्टेडियम से आगे पुल के नीचे एक युवक को बहते हुए देखा है। इस पर पुलिस वहां पहुंची और वहां से भी करीब एक किलोमीटर दूर शव बरामद किया गया। इस तरह करीब डेढ़ घंटे में शव आठ किलोमीटर दूर पहुंच गया। सोमवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द किया जाएगा।


कदम फाउंडेशन ट्रस्ट मुश्किलों घड़ी में कर रहा गरीबों की मदद



हरिद्वार। कोरोना वायरस महामारी के चलते मानव प्रजाति का भविष्य अनिश्चितता के दौर से गुजर रहा है। ऐसे में कदम फाउंडेशन ट्रस्ट सामाजिक संस्था मानवता की हर संभव सहायता हेतु पूर्ण सहयोग दिया जा रहा है । अप्रैल माह से  लगातार जरुरतमंद परिवारों हेतु। जरुरत के समान परिवार को प्रदान किया गया है तथा जरूरतमंद लोगो गरीब व विधवा दिव्यांग, मजदूरी करने वालों के परिवारो को राशन एवं बिस्कुट, कपड़े धोने का साबुन, शैंपू, नहाने का साबुन, मास्क , सैनीटाईजर, वीम बार, टूथपेस्ट, सर्फ  उपलब्ध  कराया गया । कदम फाउंडेशन नर सेवा नारायण सेवा को मानते हुए पुनीत उद्देश्य से  काम कर रही है कदम फाउंडेशन अध्यक्ष नवीन राजवंश का कहना है प्रत्येक जरूरतमंद परिवारों को जरूरत की वस्तुएं उपलब्ध कराना ही एकमात्र उद्देश्य है। निरंतर कदम फाउंडेशन ट्रस्ट कार्य में सच्ची निष्ठा से लगी हुई अलग अलग स्थानों में संस्था गरीब जरूरतमंद लोगों की राशन वितरित कर रही हैं। संस्था का एक ही उद्देश्य है कोई भी गरीब परिवार भूखा ना सोए एवं सभी घर की जरुरत किसी वस्तुए एक गरीब परिवार को मिल सके। कार्यक्रम में सहयोग रहा आलोक गिरी महाराज, डॉ एम. आर. वैध, मोतीराम , टेलीकॉम एडवाइजरी कमेटी सदस्य भारत सरकार  अरविंद श्रीवास्तव, मनोज गौतम, वरिष्ठ समाज सेवी जगदीश लाल पाहवा, राज वर्मा ,आशु वर्मा, मनोज कुमार रावत, अनिल चैहान, रिंकी राजपूत ,पुलकित गर्ग दिनेश राणा , रवि बुद्धा, महेंद्र कुमार, नवीन चैहान, मनु शिवपुरी, मनीष चैहान, सुरेंद्र ठाकुर ,डॉ महेंद्र राणा, विनित तिवारी, अतुल कुमार बीडी शर्मा ,तरुण शर्मा, नितिन शर्मा ,अजय पोखरियाल, अर्क शर्मा, सुभाष जायसवाल, दीपेश गर्ग, शुभम अग्रवाल, देवी बुद्धा, सुमन चैहान, सुमित सिंघल ,दीपक छाचर, आशीष गॉड व्योम कुमार का कार्यक्रम में सहयोग रहा।


दो सितम्बर को दुकानों पर काला झण्डे लगाने को लेकर बनाई रणनीति



हरिद्वार। प्रदेश व्यापार मण्डल की एक बैठक एक रेस्टोरेंट मे आहुत की गई। बैठक मे 2 सितम्बर को प्रदेश व्यापार मण्डल के अपील पर कोरोना काल के बिजली-पानी व स्कूल की फीस माफ ना किए जाने के विरोध मे अपनी दुकानो मे काला झंडा लगने की अपील की गई और सरकार से तत्काल इस पर निर्णय लेने की माँग की गई।
बैठक को सम्बोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष संजीव चैधरी ने कहा की सरकार व्यापारियो की बात तक सुनने को तैयार नही है। आज व्यापारी के सुख दुख मे सरकार कही खड़ी देखाइ नहीं दे रही है। व्यापारी के परिवार सड़कों पर आ गए है ऐसे मे अब आंदोलन के अलावा व्यापारी के पास कोई रास्ता नहीं बच रहा है। एक व्यापार मण्डल तो सरकार के प्रवक्ता की तरह काम कर रहा है। आज तक एक बार भी इस व्यापारी मण्डल ने व्यापारियों की आवाज नहीं उठाई है। बस सरकार के एक विभाग की तरह ये लोग सड़कों पर सरकार की तारिफ करते नजर आ रहे है। हम सरकार के विरोध मे नही है पर आज सरकार ने व्यापारियों को उनके हाल पर छोड़ कर गलत किया है और आज भी सरकार हमारी माँगो पर गम्भीर हो कर निर्णय ले हम भी सरकार का साथ देंगे पर इस समय हम सभी आंदोलन को मजबूर है। व्यापार मण्डल किसी पार्टी या सरकार का ना साथी है ना विरोधी ! बस व्यापारी हित होना चाहिए।
बैठक में पूर्व शहर अध्यक्ष आदेश मारवाड़ी,शहर अध्यक्ष श्रवण गुप्ता,महामंत्री राम अरोरा,शहर अध्यक्ष कनखल जातींन,हर की पैड़ी अध्यक्ष सर्वेश्वरमूर्ति भट्ट,रावली महदुद अध्यक्ष सरदार कोमल सिंह,जिला उपाध्यक्ष सुनील प्रजापति,गंगा शरण चंदेरिया,अशोक गिरी,संदीप मेहता व मास्टर सतीश शर्मा,जिला कोषाध्यक्ष अजय अरोरा,शहर कोषाध्यक्ष नरेश शर्मा,मनीष जैन,अनुज गुप्ता,रोहित गिरी,आशुतोष वर्मा,गौरव मेहता,अजय गिरी,मनोज सिरोही,रिकी अरोरा,सुमित शर्मा,दीपचंद,राजीव गिरी,प्रणव कुमार चंद्र्शेखर गोस्वामी व हेमन्त कुमार उपस्तिथत रहे।


गुजरात के मुख्यमंत्री ने पत्र लिखकर जाने हरिद्वार के गुज्जु परिवार के हालचाल

हरिद्वार। गुजरात से लगभग डेढ हजार किमी दूर हरिद्वार में गुजरात के दो सौ से अधिक परिवार बसते हैं। सिडकुल सहित विभिन्न क्षेत्रों में नौकरीपेशा एवं व्यवसाय से जुड़े हैं। इन गुजराती परिवार ने हरिद्वार गुज्जू परिवार के नाम से एक संगठन बनाया है। समय-समय पर गरीब परिवार एवं जरूरतमंदों की सेवा सुश्रूषा करना संगठन का प्रमुख कार्यों में से एक हैं। गुज्जू परिवार सदैव से अपनी माटी एवं सरकार के साथ जुड़े रहते हैं।
यही कारण गुज्जु परिवार देश-विदेश में जहाँ कहीं भी रहते हैं गुजरात सरकार उनके हर सुख-दुःख में भागीदारी अनुभव करता है। इसका ताजा उदाहरण आज गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने अपने जन्मदिन पर एक भावनात्मक पत्र भेजकर इस खुशी के मौके पर हरिद्वार गुज्जू परिवार को याद किया। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि गुजरात सरकार अपने प्रत्येक नागरिकों के साथ जो जहाँ हैं, सदैव साथ खड़ा है। उल्लेखनीय है कि देशभर में निवास करने वाले अप्रवासी गुजरातियों के लिए नॉन रेसिडेंसल गुजराती (एनआरजी) फाउडेंशन का गठन किया है, जो सीधे गुजरात सरकार के अधीन काम करता है।
हरिद्वार गुज्जू परिवार के प्रमुख राजेशभाई पाठक ने बताया कि गुजरात से बाहर रहते हुए प्रत्येक गुजराती परिवार अपनी संस्कृति को बचाये रखने के लिए संकल्पित है। गुजरात के मुख्यमंत्री श्री रूपाणी ने अपने ६३वें जन्मदिन के मौके पर हम लोगों को याद किया है, यह हमें अपनी मिट्टी से और निकट ले आया है। आज पत्र प्राप्त होने पर गुज्जू समाज के अग्रणी रमेशभाई ठाकर, राजेशभाई प्रजापति, पवनभाई दवे, लक्ष्मणभाई, डोलीबेन देसाई, मिलनभाई, लहरभाई, मोण्टूभाई आदि ने प्रसन्नता व्यक्त की है।  


हरिद्वार के एडीएम (एफ) हुए कोरोना पॉजिटिव



हरिद्वार। बढ़ते कोरोना संकमण के बीच कोरोना की मार अब हरिद्वार जिला प्रशासन में भी हो गई है। फ्रंट लाइनर के रूप में कार्यरत हरिद्वार के अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) के के मिश्रा भी कोरोना पॉजिटिव हो गए है। श्री मिश्रा रोशनबाद स्थित अपने आवास पर है।
जानकारी के अनुसार एडीएम के के मिश्रा ने  कल बुखार आने पर अपना कोरोना वायरस के लिए परीक्षण कराया था। जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। साथ ही उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों का भी टेस्ट कराया था,भगवान के आशीर्वाद से उन सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है। श्री मिश्रा ने अपने सभी सहयोगियों और लोगो से अपील की है कि पिछले सप्ताह में जो भी लोग उनके संपर्क आए है, वे कृपया अपना परीक्षण करवा ले और अपने को होम आईशोलेट कर ले। उन्होंने कहा कि वह सभी के आशीर्वाद से पुनः सभी  बीच होंगे।


Saturday, 29 August 2020

प्रवासी उत्तराखण्डवासियों के लिए सुनहरा मौका वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना




देहरादून, (गढ़ संवेदना)। आज पूरा विश्व कोरोना जैसी जानलेवा बीमारी से लड़ रहा है जिससे हमारा देश भी अछूता नहीं है। इसीलिए कोविड 19 महामारी को ध्यान में रखते हुए उत्तराखंड सरकार प्रदेश के युवाओं के लिए रोजगार के अधिक अवसर जुटाने पर फोकस कर रही है। कोरोना की वजह से राज्य के बाहर काम करने वाले प्रवासी अब अपने राज्य में आने लगे हैं जो राज्य में रोजगार तलाश रहे हैं। महामारी के दौरान सरकार की स्कीमों का लाभ अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के लिए प्रदेश के उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद द्वारा वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा रखी गयी है।
उत्तराखण्ड में क्रियान्वित यह स्वरोजगार योजना जहाँ पर्यटन से सम्बन्धित अवस्थापना एवं परिवहन सुविधाओं के विकास में सहायक है वहीं स्थानीय लोगों को स्वरोजगार प्रदान कर स्वावलम्बी बनाने की दशा में भी उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद की एक महत्वपूर्ण उपलब्धि सिद्व हो रही है। इस योजना में बस/टैक्सी परिवहन सुविधाओं का विकास, मोटर गैराजध्वर्कशाप निर्माण, फास्टफूड सैन्टर की स्थापना, साधना कुटीरध्योग ध्यान केन्द्रों की स्थापना, 8-10 कक्षीय मोटेलनुमा आवासीय सुविधाओं की स्थापना, स्थानीय प्रतीकात्मक वस्तुओं के विक्रय केन्द्रों की स्थापना, साहसिक क्रियाकलापों हेतु उपकरणों का क्रय, टैन्टेज आवासीय सुविधाओं का विकास, क्याकिंगध्नाव का क्रय एवं संचालन, लॉन्ड्री की स्थापना, बेकरी स्थापना, स्मरणीय वस्तु युक्त संग्रहालय की स्थापना, फ्लोटिंग होटल का निर्माण, पर्यटन हेतु टेरेन बाइक्स, कैरावैनध्मोटर होम टूरिज्य, एंगलिंग उपकरणों का क्रय, स्टार गेंजिग एवं बर्डवांचिग हेतु उपकरणों का क्रय, ट्रैकिंग उपकरणों सूट, जैकेट इत्यादि को किराये पर उपलब्ध कराये जाने हेतु केन्द्रो की स्थापना, हर्बल टूरिज्म के लिए उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद द्वारा स्वरोजगार दिया जा रहा है। उत्तराखण्ड के युवाओं के लिए इस योजना के अन्तर्गत प्रदेश के मार्गों पर संचालन हेतु पच्चास बसोंध्इलैक्ट्रि बसों को खरीदकर अपना रोजगार शुरू करने का सुनहरा अवसर है। योजना के अंतर्गत बस खरीदने में 50 प्रतिशत तक सब्सिडी या स्वरोजगार योजना में अधिकतम 15 लाख तक सब्सिडी मिल सकेगी। इसके अतिरिक्त अन्य स्वरोजगार के लिए पर्वतीय क्षेत्रों में अधिकतम 15 लाख या 33 प्रतिशत तथा मैदानी क्षेत्रों में अधिकतम 10 लाख या 33 प्रतिशत की सब्सिडी दोनों में से जो भी कम हो दी जायेगी।


दीनदयाल उपाध्याय होम स्टे योजना


उत्तराखण्ड में आने वाले देशी-विदेशी पर्यटकों को अभूतपूर्व अनुभव प्रदान करने के साथ ही स्थानीय लोगों की खुशहाली के लिए उत्तराखण्ड सरकार द्वारा दीनदयाल उपाध्याय होम स्टे योजना शुरू की गई है। अब राज्य के स्थानीय व प्रवासी अपने घर को पर्यटकों के विश्राम स्थल के रूम में उपयोग कर अपनी आर्थिक स्थिति को बेहतर कर सकते हैं। स्थानीय व प्रवासी लोगों को स्वरोजगार उपलब्ध कराते हुए उनकी आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाना ही सरकार का उद्देश्य है। देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों को राज्य के व्यंजनों, संस्कृति, ऐतिहासिक धरोहरों तथा पारम्परितध्पहाड़ी शैली से परिचित कराना है। सरकार का लक्ष्य पूरे प्रदेश में 2020 तक 5000 होम स्टे विकसित करना है।
स्वरोजगार की दृष्टि से होम-स्टे के रूप में प्रयोग होने वाला भवन पूर्णतः आवासीय होना चाहिए जिसमें भवन स्वामी अपने परिवार के साथ निवास करता हो तथा पर्यटकांे या अतिथियों के खाने-पीने की व्यवस्था पूर्ण रूप स्वयं भवन स्वामी करता हो। होम-स्टे में अतिथियों के लिए एक से छः कमरों के व्यवस्था होनी चाहिए। होम-स्टे खुलने के लिए विभाग में पहले उसका पंजीकरण करना होगा। होम स्टे द्वारा अर्जित धनराशि पर गृह आवास के रूप में पंजीकरण के पश्चात् पहले तीन वर्षों तक राज्य वस्तु एवं सेवा कर की धनराशि विभाग द्वारा अदायगी की जायेगी। इसके साथ ही बिजलीध्पानीध्भवन के कर आदि शुल्क को संबंन्धित विभागों द्वारा अव्यवसायिक दरों पर वसूल किया जा सकेगा। राजकीय सहायता की धनराशि का लाभ प्राप्त करने हेतु नये होम-स्टे विकसित करने के अतिरिक्त पुराने भवनों की आन्तरिक साज-सज्जा, उनका विस्तारध्नवीनीकरणध्सुधार एवं शौचालयों के नवनिर्माण या उच्चीकरण आदि के लिए भी योजना का लाभ अनुमान्य रखा गया है। इसके साथ ही पारम्परिकध्पहाड़ी शैली में निर्मितध्विकसित भवनों को प्राथमिकता दी जायेगी। राजकीय सहायता के रूप में नए कक्षों के निर्माण हेतु प्रतिकक्ष 60 हजार रूपये की धनराशि सुविधा के साथ तथा पूर्व से निर्मित कक्षों के साज-सज्जा हेतु 25 हजार रूपये प्रतिकक्ष अधिकतम 6 कक्षों तक के लिए आवेदनकर्ता को आवश्यक दस्तावेजों के उपरान्त किया जायेगा। कोरोना महामारी में जो भी उत्तराखण्डवासी होमस्टे योजना के तहत अपना रोजगार शुरू करना चाहता है उसके लिए पर्यटन विभाग ने अधिकतम 10 लाख रूपये तक की सब्सिडी रखी है। प्रत्येक योजना उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद द्वारा संचालित की जा रही है, भविष्य में होमस्टे मोबाइल ऐप लॉन्च करके होमस्टे सेक्टर को बढ़ावा देने की योजना बनायी जा रही हैं। स्वरोजगार के लिए लाभार्थियों का चयन जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित समिति द्वारा किया जाता है, इस समिति में मुख्य विकास अधिकारी, पर्यटन विभाग के अधिकारी, अग्रणी बैंक प्रबन्धक, महाप्रबन्धक जिला उधोग केन्द्र, परिवहन विभाग का प्रतिनिधि सदस्य के रूप में सम्मिलित होते हैं इन योजनाओं का लाभ लेने के लिए लिंक 


 http://vcsgscheme.uk.gov.in  


पर जाकर अपना रजिस्टेªशन आॅनलाईन करें।



Featured Post

जवानों की शहादत का कोई मोल नहीं है केंद्र सरकार की नजरों मेंः मोर्चा

-देश की एजेंसियों को विरोधियों को कमजोर करने व चुनावी षड्यंत्र के काम से हटाए सरकार -उत्तराखंड के जवानों की दिनों-दिन हो रही शहादत पर...