Thursday, 30 April 2020

विभिन्न राज्यों में फंसे प्रवासी जो उत्तराखंड आना चाहते हैं इस लिंक पर क्लिक कर करें रजिस्ट्रेशन


 

देहरादून। अन्य राज्यों में फंसे प्रदेश के छात्रों, पर्यटकों, श्रद्धालुओं और अन्य नागरिकों की जल्द सुरक्षित घर वापसी हो सकेगी। राज्य सरकार को इस संबंध में केंद्रीय गृहमंत्रालय का आदेश मिल गया है। अब प्रदेश सरकार उसके अनुरूप आदेश जारी करेगी।  शासन ने स्पष्ट किया है कि चरणबद्ध तरीके से अन्य राज्यों में फंसे उत्तराखंड के नागरिकों को सुरक्षित घर लाया जाएगा।


मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि केंद्रीय गृहमंत्रालय ने अन्य राज्यों में फंसे लोगों की सुरक्षित घर वापसी का जिम्मा राज्यों को सौंप दिया है। केंद्र का आदेश राहत भरा है। राज्य आपस में तय करेंगे कि उनके यहां फंसे नागरिकों को कैसे वापस लाया जा सकता है। इसकी व्यवस्था बनाई जाएगी। प्रदेश सरकार सभी राज्यों में फंसे नागरिकों की सूची तैयार करेगी, उसके बाद उन राज्यों के साथ वार्ता कर आने जाने की व्यवस्था बनाई जाएगी। उत्तराखंड में भी कई राज्यों के लोग फंसे है, तो वहां की राज्य सरकारों को भी अवगत करवाया जाएगा। सरकार चरणबद्ध तरीके से हर राज्य के साथ मिलकर फंसे नागरिकों को सुरक्षित लाने और भेजने का प्रयास करेगी। घर पहुंचाने के बाद सभी को होम क्वांरटीन या जरूरत पड़ने पर संस्थागत क्वारंटीन करने के संबंध में जारी गाइडलाइन का भी अनुपालन होगा। प्रदेश सरकार ने अन्य राज्यों में फंसे उत्तराखंड के लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए नोडल अधिकारी तय किए हुए हैं। सचिव परिवहन शैलेश बगोली इस सारी व्यवस्था को देख रहे हैं। उनके साथ दो अन्य अधिकारियों को भी लगाया गया है। अभी तक इनका कार्य लोगों से संपर्क बनाकर उनकी समस्याओं के समाधान की मॉनिटरिंग करना था। अब उनकी वापसी के लिए बनाई जाने वाली व्यवस्था भी यही देखेंगे। 


घर वापसी के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरु हो गई है। जो भी प्रवासी बाहरी राज्यों से उत्तराखंड लौटना चाहते हैं उन सभी को स्मार्ट सिटी का फार्म भरना होगा। साथ ही इस लिंक 


  https://dsclservices.in/uttarakhand-migrant-registration.php   


पर अपना पूर्ण विवरण भरना होगा। उसके बाद इन लोगों को नोडल अधिकारियों की मदद से स्क्रीनिंग व जांच की जाएगी। यदि कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव निकली तो उन्हें उत्तराखंड लाया जाएगा।


http://smartcitydehradun.uk.gov.in


______________________________________________________


बाहरी प्रदेशों में फंसे उत्तराखंडवासियों की जल्द वापसी की तैयारी के निर्देश मुख्य सचिव को दिए हैं। मैं विश्वास दिलाता हूं, बाहर फंसा जो भी उत्तराखंडी अपने राज्य लौटना चाहता है, उसकी वापसी के लिए सभी मानकों के अनुसार उचित प्रबंध किए जाएंगे।


त्रिवेंद्र सिंह रावत मुख्यमंत्री उत्तराखंड



गूगल नवलेखा का रिवार्ड फार्म, क्लिक कर करें आवेदन


नवलेखा टीम आपको इस कॉन्टेस्ट में हिस्सा लेने के आमंत्रित करती है, आप भी अधिक से अधिक आर्टिकल क्रिएट कर इस रिवार्ड  प्रोग्राम में भाग ले सकते है, अधिक जानकारी के लिए  navlekha-support@google.com   पर मेल लिखे या नवलेखा टीम से संपर्क करें।

हम इस कॉन्टेस्ट में आपकी भागीदारी के लिए तत्पर हैं। अपनी भागीदारी की पुष्टि करने के लिए, कृपया इस लिंक पर रजिस्टर करें।



Wednesday, 29 April 2020

सेनिटाइजर और फेस मास्क वितरित किये

देहरादून। पब्लिक रिलेशन सोसाइटी ऑफ इंडिया(पीआरएसआई) देहरादून चैप्टर ने राज्यपाल, बेबी रानी मौर्या के सौजन्य से हमारे कोरोना वारियर्स-पुलिस कर्मियों जो कि दिन-रात समाज के हर व्यक्ति की कोरोना महामारी से बचाव हेतु अपना योगदान दे रहे हैं, को सेनिटाईजर और फेस मास्क वितरित किये, राजभवन से नितिन उपाध्याय व पीआरएसआई देहरादून चैप्टर से अनिल सती, सचिव, संजय भार्गव, आकाश शर्मा, अमन नैथानी व सुधीर राणा मौजूद रहे। देहरादून में तैनात यातायात निरीक्षक राजीव रावत एवं अन्य पुलिस कर्मी इस अवसर पर उपस्थित रहे। पीआरएसआई देहरादून चैप्टर के अध्यक्ष अमित पोखरियाल, कोषाध्यक्ष सुरेश भट्ट, संयुक्त सचिव राकेश डोभाल सहित अन्य सभी पदाधिकारियों ने सैनिटाइजर व फेस मास्क उपलब्ध कराने पर उत्तराखंड राजभवन को धन्यवाद प्रेषित किया है, और सभी लोगों को सरकारी गाइडलाइन को मानते हुए स्वस्थ व लाकडाउन पीरियड में अपने घरों पर रहने की सलाह दी है।

सर्वत्र टेक्नोलॉजीज ने ग्रामीण भारत में प्रदान की घरों पर कैश डिलीवरी की सुविधा

देहरादून। कोविड-19 कारण लागू लॉकडाउन के दौरान सर्वत्र टेक्नोलॉजीज के बहुउपयोगी पीएस साॅल्यूशन पूरे देश में, विशेषकर ग्रामीण भारत में निर्बाध बैंकिंग को संचालित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हंै। सर्वत्र 600 से अधिक बैंकों के लिए विभिन्न भुगतान प्लेटफार्मों पर नकदी निकासी, नकदजमा, धनहस्तांतरण, आदि जैसे निर्बाध सेवाओं को सुनिश्चित करने का दायित्व पूरी तरह से निभा रहा है। इनमें छोटे सहकारी बैंकों से लेकर एससीबी और डीसीसीबी तक शामिल हैं, जो 30 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैले हुए हैं। इनमें आईसीआईसीआई बैंक, आईडीबीआई बैंक, पंजाबनेशनल बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र जैसे बड़े बैंकों के अलावा नई पीढ़ी के स्माॅल फाइनेंस बैंक जैसे इक्विटास, जना और कैपिटल भी शामिल हैं।

सर्वत्र टेक्नोलॉजीज के चेयरमैन वल्लभ भंसाली ने कहा, ‘‘यह हमारे विश्वास और हमारी कोशिशों का ही नतीजा है कि हमने देश के ग्रामीण लोगों और बैंकों को शहरवासियों के समान किफायती कीमतों पर डिजिटल सेवाएं प्रदान की हंै। इन अर्थों में सर्वत्र में हम अपने को कोविड-19 के योद्धाओं के समान ही समझते हैं, जो कि अपने मजबूत एकीकृत और इंटरआॅपरेबल प्लेटफाॅर्म केमाध्यम से अपने लोगों को उनकी जरूरत के मुताबिक महत्वपूर्ण सेवाएं प्रदान कर रहे हैं । हमारा उद्देश्य समाज के सबसे निचले हिस्से में शीर्ष तकनीकों को पहुंचाना और दूरस्थ व्यक्ति के वित्तीय समावेश न में मदद करना है। ग्रामीण भारत में आज भी पर्याप्त बैंकिंग बुनियादी सुविधाओं की कमी है और साथ ही इनइला कों में एटीएम और पीओएस मशीनों की भी बेहद कमी है। सर्वत्र से पहले छोटे सहकारी बैंकों के लिए अपने स्वयं के विश्व-स्तरीय डेटासेंटर और भुगतान बुनियादी ढांचे को स्थापित करना मुश्किल था, क्योंकि इन सुविधाओं पर बहुत अधिक धनराशि खर्च करनी होती है । ऐसी सूरत में अपने पीएएस मॉडल के साथ, सर्वत्र नवीनतम भुगतान प्लेटफार्मों (डेबिटकार्ड, एटीएम, पीओएस, ई-कॉम, एईपीएस, बीबीपीएस, आईएमपीएस, यूपीआई, आदि) और डिजिटल भुगतान सेवाओं और ऐप्स की सुविधा प्रदान कर रहा है, जिन्हें तुरंत चालू करते हुए इनका उपयोग किया जा सकता है।  

एचडीएफसी बैंक हरिद्वार में मोबाइल एटीएम की तैनाती की

-मोबाइल एटीएम सुविधा सुबह 8 से दोपहर 1 बजे के बीच संचालित

 

हरिद्वार। एचडीएफसी बैंक ने आज हरिद्वार सिटी में लॉकडाउन के दौरान ग्राहकों की सहायता के लिए मोबाइल ऑटोमेटेड टेलर मशीन (एटीएम) की तैनाती की। मोबाइल एटीएम नकदी निकालने के लिए इलाके से बाहर जाने की आवश्यकता को कम करेगा। हरिद्वार शहर से पहले, बैंक ने मुंबई, नई दिल्ली, इलाहाबाद, कोयम्बटूर, चंडीगढ़, चेन्नई, पुणे, हैदराबाद, भुवनेश्वर, अहमदाबाद, बेंगलुरु, गुवाहाटी, जयपुर, रांची और इंदौर में ऐसे मोबाइल एटीएम तैनात किए हैं। हरिद्वार शहर में सभी स्थानीय नगरपालिका अधिकारियों के परामर्श से तैनाती के स्थानों की पहचान की जा रही है।

मोबाइल एटीएम एक निश्चित अवधि के लिए प्रत्येक स्थान पर चालू होगा। इस अवधि के दौरान, मोबाइल एटीएम एक दिन में सुबह 8 से 1 बजे के बीच 3-5 स्टॉप को कवर करेगा। इन मोबाइल एटीएम में कर्मचारियों और ग्राहकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एटीएम और स्वच्छता के लिए कतार में रहते हुए सामाजिक भेद को बनाए रखने के संदर्भ में सभी आवश्यक सावधानियां बरती जा रही हैं। अखिलेश रॉय, शाखा बैंकिंग प्रमुख, एचडीएफसी बैंक, प्रसार ने कहा इस कठिन समय के दौरान, हम हर किसी की मदद करना चाहते हैं। हमारे मोबाइल एटीएम सुविधा से हमारे ग्राहकों और आम जनता को आसानी से नकद निकासी और अन्य सुविधाओं तक पहुँच मिल जाएगी क्योंकि हम कोविद 19 प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए एक साथ खड़े हैं।

भाजपा का 10 लाख फेस कवर निर्माण का लक्ष्य

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर प्रदेश भाजपा ने फेस कवर निर्माण व वितरण के लिए युद्ध स्तर पर अभियान छेड़ दिया है। भाजपा के प्रदेश महामंत्री (संगठन) अजेय ने महानगर में विभिन्न स्थानों का भ्रमण कर मास्क निर्माण कार्य का जायजा लिया।

प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा जनता के नाम संदेश से लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधन में तक कोरोना वायरस से संक्रमण से बचने के लिए लगातार फेस कवर का उपयोग करने का आह्वान किया जा रहा है। आज मन की बात कार्यक्रम के दौरान एक बार फिर प्रधानमंत्री ने फेस कवर के इस्तेमाल को लेकर लोगों से आग्रह किया। प्रधानमंत्री के आग्रह के क्रम में भाजपा द्वारा प्रदेश भर में महिला कार्यकर्ताओं को फेस कवर निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी गई है। भाजपा के प्रदेश महामंत्री (संगठन) अजेय ने आज राजधानी में देहरादून में चल रहे कुछ फेस कवर निर्माण केंद्रों का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने फेस कवर को अपरिहार्य मानते हुए इसे सभ्य समाज की पहचान के रूप में बताया है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने प्रदेश में 10 लाख फेस कवर निर्माण का लक्ष्य रखा है। अकेले देहरादून महानगर के 1.5 लाख फेस कवर निर्माण किए जाने हैं। उन्होंने बताया कि राजधानी में अब तक लगभग 50,000 मास्क बन चुके हैं। उन्होंने प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी  के आह्वान पर फेस कवर निर्माण में जुटीं प्रदेश की सभी महिला कार्यकर्ताओं का धन्यवाद भी व्यक्त किया। इधर, भाजपा ने लॉक डाउन के दौरान जरूरतमदों की मदद के लिए चलाए जा रहे विशेष अभियान में शनिवार तक 16,66,195 भोजन पैकेटों का वितरण किया। इसके साथ ही 1,82,898 लाख सूखे राशन व अन्य जरूरी सामग्री के पैकेट वितरित किए हैं। पार्टी द्वारा प्रदेश में 28 मार्च से यह अभियान चलाया जा रहा है।

भाजपा प्रदेश संगठन ऑडियो व वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद स्थापित रहा

देहरादून। भाजपा द्वारा लॉक डाउन के दौरान चलाई जा रही विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा व कार्यकर्ताओं के साथ समन्वय के लिए संवाद की विस्तृत श्रृंखला शुरू की गई है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी अजेंद्र अजय ने बताया कि पार्टी द्वारा कोरोना संकट के दौरान जरूरतमंदों की मदद व अन्य कई गतिविधियां संचालित की जा रही हैं। इन गतिविधियों के संचालन की समीक्षा के लिए प्रदेश संगठन द्वारा ऑडियो व वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद स्थापित किया जा रहा है। 

पार्टी विधायकों से समन्वय के लिए बनाए गए विधान सभा समन्वयकों और जिलों में स्थापित कंट्रोल रूम के प्रमुखों से क्रमशः प्रदेश महामंत्री (संगठन) अजेय व महामंत्री कुलदीप कुमार द्वारा वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात की जा चुकी है। 29 अप्रैल को प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत गढ़वाल क्षेत्र व प्रदेश महामंत्री (संगठन) अजेय कुमाऊं क्षेत्र के विधायकों से चर्चा करेंगे। 30 अप्रैल को प्रदेश अध्यक्ष व महामंत्री (संगठन) सरकार में दायित्वधारियों, 1 मई को प्रदेश अध्यक्ष पार्टी के जिला समन्वयकों व वरिष्ठ जनों के साथ अलग-अलग संवाद करेंगे। 3 मई को प्रदेश अध्यक्ष व महामंत्री (संगठन) सभी जिला अध्यक्षों से बातचीत करेंगे। भाजपा मीडिया प्रभारी ने बताया कि इस ऑडियो व वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए निचली इकाई तक के कार्यों की समीक्षा की जाएगी। खास कर पीएम केयर व मुख्यमंत्री राहत कोष में सहयोग, भोजन पैकेट वितरण व मोदी किचन, आरोग्य सेतु एप डाउनलोड, फेस कवर निर्माण व वितरण, कोरोना वारियर्स के सम्मान, क्षेत्र के प्रतिष्ठित जनों से संवाद आदि को लेकर चर्चा की जाएगी।

------------------------------------------

सरस्वती विहार विकास समिति ने 425 भोजन के पैकेट वितरित किए

देहरादून। सरस्वती विहार विकास समिति अजबपुर खुर्द देहरादून द्वारा लगातार 30 दिनों से भोजन के पैकेट वितरित किए जा रहे हैं। मंगलवार को 425 खाने के पैकेट हरिद्वार बाईपास पुलिस चैकी के माध्यम से वितरित किए गए। समिति के अध्यक्ष पंचम सिंह बिष्ट ने कहा कि आज हमको खाने के पैकेट वितरण करते हुए एक महिना हो गया है जब हम लोगों ने शुरू किया था तो हमको  इसका अनुमान ही नहीं था कि यह पुनीत कार्य इतना लंबा चलेगा लेकिन सभी क्षेत्रवासियों का युवाओं का और मातृशक्ति का समिति को लगातार सहयोग मिल रहा है जिसके फलस्वरूप समिति इस अभियान को लगातार आगे बढ़ा रही है और रोजाना 300 से 400 भोजन के पैकेट  नेहरू कॉलोनी थाने के अंतर्गत वितरित किए जा रहे हैं और आगे भी इसी जोश के साथ यह कार्य किया जाएगा

         समिति के सचिव गजेंद्र भंडारी ने कहा कि इस अभियान में क्षेत्र के बुजुर्गों का महिलाओं का और युवा शक्ति का विशेष सहयोग मिल रहा है  समिति एक छोटी सी अपील कर रही है जिसको लोग बहुत ही गंभीरता से ले रहे हैं और इस अभियान में जुड़ रहे हैं श्री गजेंद्र भंडारी ने कहा कि  हम रोज की गतिविधियां अपने फेसबुक व व्हाट्सएप के माध्यम से अपडेट करते हैं जिसके फल स्वरुप मेरे कुछ दोस्त विदेश में रहते हैं और उन्होंने  समिति के इस पुनीत कार्य की सराहना की और इस अभियान से अपना अंशदान  भी दिया जिसमें सर्वप्रथम श्री अनिल नेगी मलेशिया से 10000 श्रपंकज खाली अमेरिका से 10000  प्रवीण मेहरा नोएडा से  रु 1500 है और भी कई दोस्तों ने अपना अंशदान देने की बात कही समिति इन सभी लोगों का आभार प्रकट करती है कि इस मुसीबत की घड़ी में वह लोग विदेशों में होते हुए भी अपने  प्रदेश के बारे में चिंतित है इसके साथ समिति उन नौजवान युवाओं का भी  आभार प्रकट करती है जो दिन रात इस अभियान को सफल बनाने में कड़ी मेहनत कर रहे हैं। इस अवसर पर समिति के अध्यक्ष पंचम सिंह बिष्ट सचिव गजेंद्र भंडारी वरिष्ठ उपाध्यक्ष बीएस चैहान उपाध्यक्ष कैलाश तिवारी कनिष्ठ मंत्री सुबोध मैठानी प्रचार सचिव सोहन सिंह रौतेला, क्षेत्रीय पार्षद विमल उनियाल, आशीष गुसाईं, दीपक काला, नितिन मिश्रा, पुष्कर सिंह गुसाईं, कैलाश रमोला, कमल भंडारी, दीपक रावत, विनोद पुंडीर फौजी भाई, अनिल गुसाईं, मुकेश पोखरियाल, उपेंद्र काला, कुलानंद पोखरियाल, दयाराम कंसवाल संतोष नेगी आदि उपस्थित रहे।

-------------------------------------------------

दीप्ति रावत ने अपने एक माह के वेतन का चेक सीएम को सौंपा

देहरादून। दर्जाधारी राज्यमंत्री उच्च शिक्षा उन्नयन सलाहकार समिति की उपाध्यक्ष दीप्ति रावत भारद्वाज ने कोरोना महामारी के चलते अपने एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में प्रदान किया। दीप्ति रावत भारद्वाज ने आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से भेंट कर अपने एक माह के वेतन का चेक उन्हें सौंपा।

विश्व प्रसिद्ध केदारनाथ धाम के कपाट खुले, प्रथम पूजा PM नरेन्द्र मोदी की ओर से की गयी


* आज प्रात: 6 बजकर 10 मिनट पर मेष लग्न में विधि-विधान से खुले कपाट


* मंदिर को ऋषिकेश के दानीदाता के सहयोग से भब्य रूप से 10 क्विंटल फूलों से सजाया गया था


* सीमित संख्या में देवस्थानम बोर्ड एवं प्रशासन-पुलिस सहित आवश्यक सेवाओं से जुड़े चुनिंदा लोग बने कपाट खुलने के साक्षी
* कोरोना महामारी से बचाव को देखते हुए शोसियल डिस्टेंस का ध्यान रखा गया


* चार धामों में अभी सरकारी एडवाइजरी के तहत यात्रा पर है रोक अभी केवल कपाट खोले गये है ताकि रावल/ पुजारी अपने स्तर पर नित्य पूजायें संपन्न करा सके  


केदारनाथ/ रूद्रप्रयाग । ग्यारहवें ज्योर्तिलिंग श्री केदारनाथ भगवान के कपाट इस यात्रा वर्ष में मेष लग्न, पुनर्वसु नक्षत्र में आज प्रातः 6 बजकर 10 मिनट पर विधि-विधान पूर्वक खुल गये हैं। प्रात: तीन बजे से ही कपाट खुलने की प्रक्रिया शुरू हो गयी थी। पुजारी शिवशंकर लिंग एवं वेदपाठी मंदिर के दक्षिण द्वार पूजन के बाद मुख्य मंदिर परिसर में प्रविष्ठ हुए। मुख्य द्वार पर कपाट खोलने की प्रक्रिया पूरी हुई। भैरवनाथ जी का आवाह्न किया गया। ठीक प्रात:6 बजकर 10 मिनट पर भगवान केदारनाथ जी के कपाट खोल दिये गये। कपाट खुलने के अवसर पर उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के अधिकारी बी.डी.सिंह, तहसीलदार जयबीर राम बधाणी एवं पुलिस चौकी प्रभारी मंजुल रावत मुख्य द्वार पर मौजूद थे। पुजारी शिवशंकर लिंग ने रूद्राभिषेक एवं जलाभिषेक पूजा संपन्न की भगवान केदारनाथ जी का जलाभिषेक किया गया। इस दौरान शोसियल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया।
कपाट खुलने के पश्चात सर्व प्रथम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से रूद्राभिषेक पूजा संपन्न की गयी। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित पर्यटन-धर्मस्व मंत्री सतपाल  महाराज ने श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुलने पर शुभकामनाएं दी है आशा प्रकट की है कि जल्द देश एवं विश्व से कोरोना का संकट समाप्त हो जायेगा तथा चार धाम यात्रा को गति मिलेगी। उल्लेखनीय है कि कोरोना से बचाव के मद्देनजर यात्राओं की अनुमति नहीं है अभी केवल कपाट खोले जा रहे है। ताकि धामों में पूजा अर्चना शुरू सके। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कपाट खुलने पर बधाई संदेश भेजा है। चारधाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष आचार्य शिव प्रसाद ‌ममगाई‌ ने केदारनाथ धाम के कपाट खुलने पर बधाई दी है।
पर्यटन-धर्मस्व सचिव दिलीप जावलकर ने यात्रा संबंधी ब्यवस्थाओं हेतु ब्यापक दिशा निर्देश जारी किये हैं।ताकि कोरोना महामारी की समाप्ति के पश्चात उच्च स्तरीय दिशानिर्देशों के तहत प्रदेश में चारधाम यात्रा को पटरी पर लाया जा सके। उल्लेखनीय है कि वुड स्टोन कंपनी ने केदारनाथ में बर्फ के ग्लेशियरों को काट कर मंदिर तक पहुंचने हेतु विषम परिस्थितियों में कार्यकर रास्ता बनाया। आयुक्त गढ़वाल / उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सीईओ रमन रविनाथ ने बताया कि मार्च महीने से ही प्रशासन ने बुड स्टोन कंपनी को केदारनाथ पहुंच़ने हेतु मार्ग बनाने को कहा गया था।कंपनी ने कपाट खुलने से पहले मार्ग तैयार कर दिया,जबकि अभी भी केदारनाथ में 4 से 6 फीटतक बर्फ देखी जा सकती है।  इन्हीं ग्लेशियरों को काटकर बनाये रास्तों से होकर भगवान केदारनाथ की पंच मुखी डोली पैदल मार्ग से गौरीकुंड से श्री केदारनाथ धाम पहुंची।  देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ ने जानकारी दी कि कपाट खुलने के उपलक्ष्य में ऋषिकेश के दानीदाता सतीश कालड़ा द्वारा श्री केदारनाथ मंदिर को 10 क्विंटल गैंदा, गुलाब एवं अन्य फूलों से सजाया गया था। रात्रि को मंदिर बिजली की रोशनी से जगमगा रहा था।
श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के दौरान पिछले वर्षों की  भांति सेना का बेंड शामिल नहीं हुआ। तथा बेहद सादगी पूर्वक मंदिर के कपाट खुले। बताया कि श्री केदारनाथ धाम के रावल भीमाशंकर लिंग उखीमठ में चौदह दिनों की क्वारंटीन में हैं अत:उनके प्रतिनिधि के तौर पर पुजारी शिवशंकर लिंग ने कपाट खुलने की संपूर्ण प्रक्रियाओं का निर्वहन किया। केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के साथ ही उत्तराखंड के चार में से तीन धामों के कपाट खुल गये है।श्री गंगोत्री-यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया के अवसर पर 26 अप्रैल को खुल चुके है जबकि श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 15 मई को खुलेंगे।


 



Tuesday, 28 April 2020

छुट्टियों के दौरान भी मिड डे मील का लाभ डीबीटी के माध्यम से छात्रों को मिलेगाः निशंक

देहरादून। शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने मंगलवार को सचिवालय में केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक द्वारा देश के सभी राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के शिक्षा मंत्रियों एवं सचिवों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई बैठक में प्रतिभाग किया। केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि विद्यालयों में छुट्टियों के दौरान भी मिड डे मील का लाभ डीबीटी के माध्यम से छात्र छात्राओं को उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने इसके लिए 957 करोड़ की राशि स्वीकृत की है। ज्ञताव्य हो कि गर्मियों की छुट्टियों के दौरान छात्र छात्राओं को मिड डे मील का लाभ नहीं मिलता था।

शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने कहा कि दूरदर्शन के माध्यम से राज्य में विभिन्न विषयों की कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। प्रदेश के छात्र छात्राएं इसका लाभ ले रहेहैं। उन्होंने केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री से प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों में कनेक्टिविटी में सुधार हेतु टेलीकॉम कंपनियों को निर्देशित करने का भी सुझाव दिया। उन्होंने कक्षा 1 से कक्षा 8 तक के लिए 4 हफ्ते का पाठयक्रम जारी करने पर केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इससे लॉक डाउन के मध्य विद्यालयों एवं बच्चों को सेलेक्टिव पाठयक्रम से काफी आसानी होगी। बैठक के उपरान्त शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने सचिव शिक्षा आर मीनाक्षी सुंदरम को निर्देश दिए कि प्रदेश के 4 बड़े जनपदों देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल एवं उधमसिंह नगर सहित सभी जनपदों के प्राइवेट स्कूलों पर एनसीईआरटी की पाठ्य पुस्तकों को सख्ती से लागू करवाया जाए। ऐसे स्कूलों पर सख्त कार्यवाही की जाए। उन्होंने सभी जनपदों से ऐसे स्कूलों पर भी सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं, जो स्कूल शुल्क बढ़ा रहे हैं अथवा अभिभावकों पर शुल्क जमा करने का दबाव बना रहे हैं। साथ ही शिक्षा मंत्री श्री पाण्डेय ने उन अधिकारियों की भी रिपोर्ट मांगी है जो अपने क्षेत्रों के प्राइवेट स्कूलों में एनसीईआरटी की पाठ्य पुस्तकें लागू करवाने में नाकाम रहे हैं। ऐसे अधिकारियों को नोटिस जारी करते हुए कठोर कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। इस अवसर पर सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम और डॉ0 मुकुल कुमार सती भी उपस्थित थे। 

वन गुर्जरों के उत्पादों को आंचल के माध्यम से प्रोसेस्ड किया जाए

-मुख्य सचिव ने दिए वन गुर्जरों और उनके पशुओं की संख्या का डाटा तैयार करने के निर्देश 

 

देहरादून। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने मंगलवार को सचिवालय में वन गुज्जरों के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ बैठक की। मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि प्रदेशभर में विभिन्न स्थानों में रह रहे वन गुज्जरों के परिवारों की संख्या, परिवार में सदस्यों की संख्या एवं उनके पशुओं की संख्या का डाटा शीघ्र तैयार कर लिया जाए ताकि वन गुज्जरों के राशन एवं पशुओं के चारे की उचित व्यवस्था की जा सके। उन्होंने कहा कि पशुपालन विभाग के माध्यम से पशुओं के चारे की व्यवस्था की जाएगी। वन गुज्जरों के उत्पादों को आंचल के माध्यम से प्रोसेस्ड किया जा सकता है। इसके लिए सभी सम्बन्धित विभाग मिलकर कार्य करें।

बैठक में मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि कोविड-19 के कारण वन गुज्जरों के ग्रीष्मकालीन प्रवास को पूर्णतः प्रतिबंधित रखा जाए। वन अधिकारियों एवं अन्य सम्बन्धित विभागों द्वारा वन गुज्जरों में कोविड-19 के संक्रमण को रोकने हेतु जागरूकता अभियान चलाया जाए। मुख्य सचिव ने सील किए गए वन गुज्जर क्षेत्र में राशन एवं पशुओं के चारे की उचित व्यवस्था के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि वन गुज्जरों के राशन एवं पशुओं के चारे की समस्या ना हो, इसकी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं। उन्होंने कहा कि वन गुज्जरों एवं उनके पशुओं का समय समय पर हेल्थ चेकअप किया जाए। इस अवसर पर प्रमुख सचिव आनन्द वर्धन, प्रमुख वन संरक्षक जयराज एवं सचिव पशुपालन आर मीनाक्षी सुंदरम भी उपस्थित थे।

20 अप्रैल से अभी तक 1171 उद्योगों को संचालन की अनुमति दी गईः सीएम 

-सीएम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सी.आई.आई की उत्तर भारत वर्चुअल कॉन्फ्रेंस में किया प्रतिभाग

 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सी.आई.आई. द्वारा आयोजित उत्तर भारत वर्चुअल कॉन्फ्रेंस में प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि कोरोना महामारी से भारत ही नहीं बल्कि विश्व की अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है। देश में औद्योगिक गतिरोध उत्पन्न हुआ है, इस कान्फ्रेंस से नई आशा एवं विश्वास का संचार होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि 22 मार्च से प्रदेश में लॉक डाउन हो गया था। प्रदेशवासियों एवं उद्योग जगत ने संयम से लॉक डाउन का पालन किया है। उत्तराखंड में अभी तक कोरोना के 51 पाजिटिव मामले आए हैं, जिसमें से 33 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। उत्तराखंड के पर्वतीय जिले कोरोना के प्रभाव से मुक्त हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि सी.आई.आई. समाज के सक्षम वर्ग का प्रतिनिधित्व करता है और ऐसे समय में सी.आई.आई अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन सरकार के साथ कन्धे से कन्धा मिलाकर कर रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में सी.आई.आई. की राज्य ईकाई निरन्तर राज्य सरकार के सम्पर्क में रही है। मुख्यमंत्री राहत कोष में भी उद्योग जगत के प्रतिनिधियों ने अहम योगदान दिया है।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि भारत सरकार के आदेश के बाद राज्य में उद्यमियों की सुविधा के लिए उद्योग के संचालन की अनुमति हेतु एकल खिड़की की व्यवस्था की गई है। इस व्यवस्था के माध्यम से 20 अप्रैल से अभी तक 1171 उद्योगों को संचालन की अनुमति दी गई है। लॉक डाउन की अवधि में कोविड-19 से सुरक्षा हेतु आवश्यक उपायों के दृष्टिगत आवश्यक वस्तुओं का उत्पादन करने वाली ईकाइयों को बंदी से मुक्त रखा गया है। राज्य में फार्मा तथा खाद्य पदार्थ उत्पादन की 1884 ईकाइयों के संचालन की अनुमति दी गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि आई.टी.सी, हिन्दुस्तान यूनिलीवर, नेस्ले, ब्रिटानिया व डाबर जैसे बड़े उद्योग अपना उत्पादन प्रारम्भ कर चुके हैं। ऑटो सेक्टर की टाटा मोटर्स, हीरो मोटोकॉर्प, अशोका ली लैंड व महिन्द्रा ने भी उत्पादन प्रारम्भ कराने के लिए पूरी तैयारी कर ली है। कोविड-19 आपदा से राज्य की आर्थिकी पर पड़ रहे दुष्प्रभावों के निराकरण के लिए प्रदेश की आर्थिकी को सुदृढ़ करने के विभिन्न उपायों एवं विकल्पों का त्वरित अध्ययन कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए सेवानिवृत्त आई.ए.एस अधिकारी इन्दु कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सिडकुल औद्योगिक क्षेत्रों में लीज, रेंट के भुगतान की अन्तिम तिथि 30 अप्रैल 2020 से बढ़ाकर 30 जून 2020 तक विस्तारित किया गया है। लम्बित जल संयोजन, उपयोग प्रभार, सीवर शुल्क आदि भुगतान करने की तिथि 31 मई 2020 तक, जल एवं वायु प्रदूषण नियंत्रण अधिनियम के तहत सहमति के स्वतः नवीनीकरण की तिथि 30 जून 2020 तक बढ़ाई गई है। इसके अलावा भवन एवं अन्य निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों को 2-2 हजार रूपये की वित्तीय सहायता दी गई है। मार्च से मई 2020 तक औद्योगिक और वाणिज्यिक श्रेणी के विद्युत उपभोक्ताओं से फिक्स्ड डिमाण्ड चार्ज के भुगतान में आस्थगन की सुविधा तथा विलम्ब से बिलों के भुगतान में लेट सरचार्ज में छूट एवं लॉक डाउन के दौरान विद्युत बिल भुगतान करने में असमर्थ रहने पर विद्युत संयोजन काटने पर रोक लगाई है। इस अवसर पर प्रमुख सचिव उद्योग मनीषा पंवार एवं उद्योग निदेशक सुधीर नौटियाल भी उपस्थित थे।

कोरोना वायरस के खिलाफ कोड-19 ऑनलाइन हैकथॉन के विजेताओं की घोषणा

देहरादून। भारत में कोरोना वायरस के खिलाफ हाल में सम्पन्न कोड 19 ऑनलाइन हैकथॉन में केरल के कन्नूर में गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के दो छात्रों अभिनंद सी और शिल्पा राजीव ने प्रथम पुरस्कार जीता। आईक्लारूम नामक उनके खास समाधान के लिए उन्हें प्रथम पुरस्कार के लिए चुना गया जो मिलेनियल पीढ़ी के लिए एक आधुनिक वर्चुअल क्लासरूम है। यह महामारी के समय में निर्बाध रूप से सीखने के लिए सोशल मीडिया-टाइप इंटरफेस के माध्यम से छात्रों को शिक्षकों से जोड़ता है। 72 घंटे के इस आयोजन की मेजबानी सिलिकॉन वैली स्थित मोटवानी जडेजा फैमिली फाउंडेशन ने की। इस प्रतियोगिता के दौरान अपने घरों में सुरक्षित रहते हुए हजारों नवोन्मेषकों और डेवलपर्स ने देश को कोरोना वायरस संकट से निबटने में मदद के लिए ओपन स्रोत समाधान तैयार करने के लिए प्रतिस्पर्धा की।

मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के छह छात्रों को कोविड के मरीजों की दूर से जांच करने वाला समाधान प्रस्तुत करने के लिए 5,000 डाॅलर का दूसरा पुरस्कार दिया गया। इन छात्रों का दावा है कि इस समाधान की मदद से स्वास्थ्य कर्मियों के लिए संक्रमण का जोखिम कम होगा। उन्होंने टेलीवाइटल नामक समाधान विकसित किया जो एक वेबकैम एवं ब्राउजर के माध्यम से दूर से ही मरीजों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल कर लेगा। तीसरे स्थान के पुरस्कार को तीन श्रेणियों में विभाजित किया गया था, जिनमें से तीन विजेता टीमों में से प्रत्येक को पुरस्कार राशि के रूप में 3,000 डाॅलर दिया गया। विजेता समाधानों में एक समाधान ‘‘सोलो क्वाइन्स’’ है जिसके तहत लोग अपने घर में रहते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए ‘‘सोलो क्वाइन्स’’ हासिल कर सकते हैं और विभिन्न मर्चेन्ट्स के पास इन सोलो क्वाइन्स को भुना सकते हैं। एक अन्य समाधान है कोविड-19 फैक्ट चेकर जिसकी मदद से फर्जी समाचारों की जांच की जा सकती है और इस तरह से कोविड-19 महामारी के बारे में किए जा रहे दुश्प्रचारों का पर्दाफाश करके प्रमाणिक एवं आधिकारिक वैज्ञानिक तथा जन स्वास्थ्य सूचना को फैलाने में मदद मिल सकती है। तीसरा समाधान है ग्रेप कम्युनिटी जो आसपास के दुकानदारों एवं आपूर्तिकर्ताओं के साथ लोगों को जोड़ने वाला सार्वजनिक प्लेटफार्म है। इसके अलावा, हैकथॉन में 10 सर्वश्रेष्ठ नवीन समाधानों में से प्रत्येक को 1,000 डाॅलर से सम्मानित किया गया। जानी-मानीे उद्यमी, निवेशक, परोपकारी और परिवर्तन की दूत तथा मोटवानी जडेजा फैमिली फाउंडेशन की संस्थापक जडेजा मोटवानी ने कहा, ’’“हम कोड 19 ऑनलाइन हैकथॉन के दौरान प्राप्त प्रविष्टियों की गुणवत्ता और सभी प्रतिभागियों के जबर्दस्त उत्साह को देखकर अभिभूत हो गए हैं। दुनिया भर से तथा भारत के विभिन्न हिस्सों के हैकरों तथा मेंटरों के समुदाय खास तौर पर युवा छात्र भारत को कोरोनावायरस से लड़ने में सक्षम बनाने के लिए एक साथ आए। मेरा मानना है कि इस हैकथॉन के दौरान विकसित गुणात्मक, ओपन-सोर्स परियोजनाएं भारत के समक्ष उत्पन्न कोरोना संकट की चुनौतियों को कम करने में मदद करेंगी। मुझे यह भी उम्मीद है कि विजेता टीमों को प्रदान की गई 34,000 डाॅलर की कुल पुरस्कार राशि उन्हें इन समाधानों को साकार करने तथा उन्हें बाजार में लाने के लिए मददगार साबित होगी।’’प्रथम पुरस्कार आईक्लासरूम को केरल के कन्नूर के गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के छात्र 19 वर्षीय अभिनव सी और 20 वर्षीय शिल्पा राजीव ने बनाया है। दूसरा पुरस्कार मरीज की संपर्करहित जांच के समाधान के तौर पर पेष टेलीवाइटल को मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के छह छात्रों की एक टीम ने बनाया है। इन छात्रों में जितिन सनी, जोएल जोगी जॉर्ज, रोहन राउत, रक्षित नायडू, मेघा बैद और शिवांगी शुक्ला शामिल हैं।

पौष्टिक आहार लेने पर गर्भवतियों से दूर रहेगा कोरोनाः डा. सुजाता 

-नींबू, सिरके या गर्म पानी से धोएं बाजार से आईं सब्जियां

-हल्दी, अदरक, लहसुन आदि का सेवन रखेगा कोरोना संक्रमण से दूर

 

देहरादून। संजय ऑर्थोपीडिक, स्पाइन एवं मैटरनिटी सेंटर की स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ, डॉ0 सुजाता संजय ने बताया कि “गर्भवती महिलाओं को उनके शरीर में होने वाले परिवर्तन से कुछ संक्रमण के खतरे बढ़ सकते हैं। क्योंकि इस दौरान मां सिर्फ अपना शरीर ही नहीं बल्कि अपनी इम्युनिटी पावर भी बच्चे के साथ बांट रही होती हैं। हालांकि इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है कि गर्भवती में आम जनता की तुलना में कोविड-19 से बीमार होने की संभावना ज्यादा है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव का एकमात्र जरिया सावधानी है। हमें उन सभी सलाहों को मानना चाहिए जो चिकित्सक बता रहे हैं तथा सरकार द्वारा जारी की गई है। गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है कि वो साफ-सफाई का खास ध्यान रखें। हर 1 घंटे में अपने हाथों को अच्छे से धोएं, इसके साथ ही वे सेनिटाइजर का भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

 गर्भवती महिलाओं को चाहिए कि वो लोगों से दूरी बनाकर रखेंजिन लोगों को सर्दी-जुकाम की शिकायत हो उनसे खासतौर पर दूरी बनाकर रखेंडॉ. सुजाता ने बताया कि, गर्भवस्था के समय महिलाओं को अपने भोजन में कार्बोहाइड्रेट, फैट, प्रोटीन, विटामिन, हाई फाइबर व मिनरल्स आदि को शामिल कर संतुलित भोजन का सेवन करना चाहिए। साथ ही प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ जैसे विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ, अखरोट, बादाम, सुपर फूड जैसे हल्दी, अदरख, लहसुन आदि का सेवन करना चाहिए। डॉ. सुजाता ने कहा, सफाई से बना हुआ ताजा खाना ही खाएं। फलों व सब्जियों को इस्तेमाल करने से पहले अच्छे से धो लें। गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत ज्यादा जरूरी है कि वो अपनी डाइट को अच्छी करें। इसके लिए वो अपनी डाइट में हरी सब्जियां, दूध, फल और दाल जैसी चीजें शामिल कर सकती हैं। अच्छे से अच्छा खाएं और स्वस्थ रहेंगर्भवती महिलाओं को प्रतिदिन 20-25 मिनट योग या साधारण इनडोर स्ट्रेचिंग व्यायाम या सरल योग व्यायाम करना चाहिए। ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं हर दिन कम से कम 7 से 8 गिलास पानी जरूर पिएं। ताकि आपका शरीर हाइड्रेट रहे। बेहतर है कि अगर गर्भवती महिलाएं पानी को उबालकर पिएं। कैफिन, एल्कोहॉल, तम्बाकू और अन्य नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए। यदि बुखार, खांसी या सांस लेने में कठिनाई हो तो देखभाल करें, स्वास्थ्य सुविधा जाने से पहले कॉल करके चिकित्सकीय सलाह का पालन करें। डॉ. सुजाता ने बताया, पहली तिमाही में पौष्टिक नाश्ते के साथ तीन बार भोजन करना चाहिए। साथ ही पांच मि0ग्रा0 की फोलिक एसिड की एक गोली रोजाना लेनी चाहिए। आयरन, कैल्शियम या अन्य किसी भी दवाई का सेवन पहली तिमाही में नहीं करना है। दूसरी और तीसरी तिमाही में दो पौष्टिक नाश्ते के साथ तीन बार भोजन करना चाहिए। साथ ही आयरन फोलिक एसिड (आईएफए) की रोजाना एक गोली का सेवन करना चाहिए जिससे प्रसव के बाद कुछ माह तक जारी करना चाहिए। दूसरी व तीसरी तिमाही में भोजन के बाद दो कैल्शियम की गोली का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। आयरन व कैल्शियम का सेवन एक साथ नहीं करना चाहिए। अपने डेली रूटीन का खास ध्यान रखें। समय पर सोएं और समय पर उठें। कम से कम 7 से 8 घंटे की नींद जरूर लें। ताकि आपकी दिन पर की थकान उतर सके।

बीएमडब्ल्यू इंडिया ने कोविड-19 के दौरान कॉन्टैक्टलेस एक्सपीरियंस प्रस्तुत किया

देहरादून। बीएमडब्ल्यू इंडिया ने भारत में अपने ग्राहकों के लिए एक अद्वितीय कॉन्टैक्टलेस अनुभव प्रस्तुत किया है। 02 अप्रैल 2020 को प्रस्तुत बीएमडब्ल्यू कॉन्टैक्टलेस एक्सपीरियंस प्रोग्राम द्वारा ग्राहक नई व प्रि-ओन्ड बीएमडब्ल्यू कारें खरीद सकेंगेए सर्विस बुक कर सकतें तथा भुगतान ऑनलाईन सुरक्षित रूप से कर सकेंगे।

मिस्टर आर्लिंडो टेक्सेराए प्रेसिडेंट यएक्टिंगद्धएबीएमडब्ल्यू ग्रुप इंडिया ने कहाए बीएमडब्ल्यू में हमारा हर काम ग्राहकों पर केंद्रित है। महामारी की वर्तमान परिस्थिति में हमने न्यू.एज डिजिटल टेक्नॉलॉजीज का इस्तेमाल कर अपनी व्यवसायिक प्रक्रियाओं को परिवर्तित किया है तथा अपने ग्राहकों को बेहतरीन सेवाएं देने के अनेक प्रभावशाली उपाय किए हैं। उद्योग के क्षेत्र में एक व्यापक पहल के तौर परए बीएमडब्ल्यू कॉन्टैक्टलेस एक्सपीरियंस ग्राहकों को अपने घर पर बैठकर बीएमडब्ल्यू की दुनिया को खोजने व अनुभव करने का नया तरीका प्रस्तुत करेगा। अप्रैल 2020 में इसके लॉन्च के बाद से हमने इस प्लेटफॉर्म पर ग्राहकों की संलग्नता, कॉन्फिगुरेशन के निवेदनों एवं वर्चुअल प्रोडक्ट प्रेजेंटेशन में काफी वृद्धि दर्ज की है। कोविड-19 की महामारी के बाद बिजनेस की डाइनामिक्स का विकास होने के साथ बीएमडब्ल्यू कॉन्टैक्टलेस एक्सपीरियंस प्रोग्राम हमारे नए व मौजूदा ग्राहकों को सेल्स व आफ्टरसेल्स सर्विसेस का सुगम अनुभव प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। ग्राहक जहां कहीं भी हों, हम उन्हें आनंद प्रदान करेंगे।

परमार्थ निकेतन में सनातन धर्म के ज्योर्तिधर और वेदान्त के प्रणेता आदि गुरू शंकराचार्य की जयंती मनाई गई 

-कोरोना वायरस से मुक्ति के लिये सोशल डिसटेंसिंग और लाॅकडाउन है रामबाण औषधिः स्वामी चिदानन्द सरस्वती

 

ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन में हिन्दू धर्म की सर्वोच्च पीठ के जगद्गुरू, सनातन धर्म के ज्योर्तिधर भारत की महान विभूति आदिगुरू शंकराचार्य जी की जयंती के अवसर पर सोशल डिसटेंसिंग का पालन करते हुये सभी संतों ने वेद मंत्रों से शंकराचार्य जी का पूजन किया। परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने लाॅकडाउन के पहले से परमार्थ निकेतन में निवास कर रहे भारत सहित विश्व के कई देशों के पर्यटकों और श्रद्धालुओं को अद्वैत परम्परा, सनातन धर्म और भारत के चार क्षेत्रों में स्थापित चार पीठों की गौरवमयी परम्परा और आध्यात्मिक महत्व के विषय में जानकारी प्रदान की।

 प्रातःकाल 6 बजे आदिगुरू शंकराचार्य जी का अभिषेक, हवन, विशेष पूजन और विश्व शान्ति से कोरोना से मुक्ति के लिये विशेष मंत्रों से जप किया गया। स्वामी जी ने कहा कि वर्तमान समय में पूरा विश्व कोरोना वायरस की चपेट में है, भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ’’दो गज दूरी जो है जरूरी’’ का मंत्र दिया है, उसका हम सभी देशवासियों को गंभीरता से पालन करना चाहिये क्योंकि इस वायरस से मुक्ति कि लिये सोशल डिसटेंसिंग ही रामबाण औषधि है। रामबाण से तात्पर्य 100 प्रतिशत सफलता प्रदान करने वाला प्रयोग। व्यक्ति जब अस्वस्थ होता है और जब सब चीजे फेल हो जाती है तब रामबाण औषधि ही काम करती है। लाॅकडाउन ही लक्ष्मण रेखा है, इस लाॅकडाउन की लक्ष्मण रेखा को मत लांघिये इसका पालन निष्ठा के साथ करे यह देश की अद्भुत तरीके से सेवा करने का एक अवसर है। कई बार सीमा पर जाकर लड़ाई नहीं लड़ी जाती बल्कि अपने घर के दरवाजे की सीमा रेखा न लांघना ही कोरोना पर विजय प्राप्त करना है इसलिये अपने घर में रहें और सुरक्षित रहंेे।

 स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने पूरे विश्व को और सनातन संस्कृति को अद्वैत का पारस पत्थर दिया जिसको छू कर सब कंचन बन जायें। इस पारस को छू कर जितने भी वाद-विवाद हैं सब समाप्त हो सकते है। अद्वैत ऐसा मंत्र है जो भारत ही नहीं पूरे विश्व को एक नई दिशा दे सकता हैं। उन्होेंने युवाओं से आह्वान किया कि पूज्य शंकराचार्य जी के जीवन को, उनके चरित्र को और उनके विचारों को जाने और समझें उन गुणों को आत्मसात करें।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने आदि गुरू शंकराचार्य जी द्वारा स्थापित ज्योतिर्मठ, शंृगेरी शारदा पीठ, द्वारिका पीठ, गोवर्धन पीठ के विषय में जानकारी देते हुये भारतीय हिन्दू दर्शन के गूढ़ रहस्यों पर प्रकाश डाला। स्वामी जी ने कहा कि सेवा, साधना और साहित्य का अद्भुत संगम है यह परम्परा। आदि गुरू शंकराचार्य जी ने छोटी सी उम्र में भारत का भ्रमण कर हिन्दू समाज को एक सूत्र मंे पिरोने हेतु चार पीठों की स्थापना की। कश्मीर से कन्याकुमारी तक, दक्षिण से उत्तर तक, पूर्व से पश्चिम तक पूरे भारत का भ्रमण कर एकता का संदेश दिया। उन्होने कहा कि एकरूपता हमारे भोजन में, हमारी पोशाक में भले ही न हो परन्तु हमारे बीच एकता जरूर होय एकरूपता हमारे भावों में हो, विचारों में हो ताकि हम सभी मिलकर रहें। किसी को छोटा, किसी को बड़ा न समझें, किसी को ऊँच और किसी को नीच न समझें ’’मानव मानव एक समान। सबके भीतर है भगवान। इस तरह की सारी दीवारों को तोड़ने के लिये तथा छोटी छोटी दरारों को भरने के लिये ही आदिगुरू शंकराचार्य जी ने पैदल यात्रा की। शंकराचार्य जी ने ब्रह्म वाक्य ’’ब्रह्म ही सत्य है और जगत माया’’ दिया। साथ ही सुप्रसिद्ध ग्रंथ ’ब्रह्मसूत्र’ का भाष्य किया, ग्यारह उपनिषदों तथा गीता पर भाष्य किया। शंकराचार्य जी ने वैदिक धर्म और दर्शन को पुनः प्रतिष्ठित करने हेतु अथक प्रयास किये। उन्होने तमाम विविधताओं से युक्त भारत को एक करने में अहम भूमिका निभायी। संस्कृत में संवाद कर उन्होने संस्कृत भाषा को समाज के सभी वर्गों से जोड़ा। आदिगुरू शंकराचार्य जी ने मठों और अखाड़ोें की स्थापना कर संन्यासियों और साधुओं को उनकी बौद्धिक, शारीरिक और यौगिक शक्ति से हिन्दू धर्म की रक्षा का जिम्मा सौंपा।

मधु जैन ने कोरोना वारियर्स को समर्पित किया अपना जन्मदिन, मास्क व सैनिटाइजर बांटे  

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ प्रकल्प की महानगर संयोजिका मधु जैन ने आज अपना जन्मदिन कोरोना वारियर्स के वीरों को समर्पित करते हुए मनाया। आज उन्होंने जिला अस्पताल में जाकर वहां के डॉक्टरों, स्टाफ नर्स, सुरक्षाकर्मी और सफाई कर्मचारियों को मास्क और सैनिटाइजर दिया। उन्होंने कहा यह लोग अपना घर-बार छोड़कर हम लोगों की सुरक्षा में लगे हुए हैं। मैं इन सबके लिए प्रार्थना करती हूं ये हमेशा स्वस्थ रहें। इस मौके पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ बीसी रमोला ने मधु जैन को जन्मदिन की बधाई देते हुए कहा कि आज आपने जो इन वीरों के लिए सोचा है वह बहुत नेक और सुंदर कार्य है आपने अपना जन्म दिवस कोरोना वारियर्स को समर्पित करके बहुत ही सुंदर विचार एवम भाव का प्रकट किया है। इस मौके पर मानवधिकार एवं सामाजिक संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सचिन जैन, भारतीय जनता पार्टी अंबेडकर नगर मंडल के मंडल अध्यक्ष विशाल गुप्ता, भारतीय जनता युवा मोर्चा महानगर मीडिया प्रभारी राहुल चैहान, अंबेडकर नगर मंडल के मंडल महामंत्री अरुण खरबंदा आदि लोग उपस्थित रहे। 

महाकाल पिपलेश्वर महादेव की विशेष पूजा अर्चना की 

हरिद्वार। उत्तराखंड के चारधाम में अक्षय तृतीया के अवसर पर गंगोत्री व यमुनोत्री के पट दैनिक विधिवत पूजा के लिए खोले जा चुके है, अब शिव चैदस के अवसर पर बाबा केदारनाथ के द्वार खोले जाने से उत्साहित सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने पूर्व कृषि उत्पादन मंडी समिति अध्यक्ष, भाजपा नेता संजय चोपड़ा के संयोजन में अलकनंदा घाट स्थित शिवालय महाकाल पिपलेश्वर महादेव की विशेष पूजा अर्चना के साथ दूध-अभिषेक किया।  भगवान सदाशिव से कामना की संसार से  अंतरराष्ट्रीय महामारी कोरोना वायरस का खात्मा हो और देश दुनिया पुनः खुशहाली की और अग्रसर हो और लोग अपना जीसान पूर्व की भांति व्यतीत करें।

वही साथ ही टैक्सी- मैक्सी महासंघ से जुड़ी उत्तराखंड की लगभग 560 मैक्सी-टैक्सी यूनियनों का प्रतिनिधित्व करते हुए हरिद्वार के सांसद, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक को पत्र लिखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्र सरकार से मांग की उत्तराखंड के समस्त मोटर व्यवसाय जोकि उत्तराखंड की चारधाम यात्रा तीर्थ यात्रियों के लिए संचालित ना होने से व्यवसायिक मार झेलने वाले  मैक्सी-टैक्सी विक्रम, ऑटो रिक्शा, बैटरी रिक्शा, बस संचालन इत्यादि समस्त व्यवसायिक टैक्सी वाहनों का 2020 का रोड टैक्स, पैसेंजर टैक्स, बीमा योजना, बैंको की किश्तों सहित चालको का उचित अनुदान दिए जाने की मांग को दोहराया।

इस अवसर पर पूर्व कृषि उत्पादन मंडी समिति अध्यक्ष, टैक्सी- मैक्सी महासंघ के संरक्षक संजय चोपड़ा ने कहा बाबा केदारनाथ बर्फानी के पूजा पाठ के लिए विधिवत रूप से द्वार खोले जा रहे है लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण के वजह से देश दुनिया के आम श्रद्धालु बाबा केदारनाथ की इस वर्ष 2020 की यात्रा का पुण्य अर्जित नही कर सकेंगे और उत्तराखंड की चारधाम यात्रा के संचालन से उत्तराखंड की सभी अर्थव्यवस्थाए व्यापारिक गतिविधियों के माध्यम से पूर्व से ही जीवन व्यापन होता चला आ रहा है इन सभी पहलुओं के दृष्टिगत उत्तराखंड के मोटर व्यवसाय के साथ-साथ सभी छोटे बड़े व्यापारों के दृष्टिगत केंद्र व राज्य सरकार को संतुलन के साथ उचित कदम उठाने की नितांत आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हरिद्वार के सांसद, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक हरिद्वार के सांसद है और चारधाम यात्रा पूर्व, काल से ही हरिद्वार, ऋषिकेश से प्रारंभ होती आयी है इसी के दृष्टिगत केन्द्र सरकार में चारधाम यात्रा से संबंधित सभी व्यापार वर्ग का पक्ष रख कर केंद्र सरकार के संरक्षण में महा अनुदान राशि केंद्र सरकार द्वारा घोषित कराने के लिए प्रयास करे ताकि लॉकडाउन की अवधि समाप्त होने के उपरांत उत्तराखंड का व्यापार पुनः संचालित हो सके। गंगा जल व दूध अभिषेक करते सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों लघु व्यापार एसो के भूपेंद्र राजपूत, धर्मशाला रक्षा समिति के पंडित चंद्रप्रकाश शर्मा, टैक्सी मैक्सी ट्रांसपोर्ट यूनियन के चंद्रकांत शर्मा, बंटी भाटिया, सूमो यूनियन के बलवीर सिंह, धर्मपाल सिंह, ट्रेवल एसो के उमेश पालीवाल, अरुण अग्रवाल, सरदार इकबाल सिंह, गोपाल चिंबर, देवेश गुप्ता, ओमप्रकाश भाटिया, पंडित मनीष शर्मा आदि ने सामाजिक दूरी के साथ विशेष पूजा अर्चना की।

शिक्षकों एवं छात्रों ने नर सेवा-नारायण सेवा के तहत दिया योगदान  

हरिद्वार। बीएचईएल ईएमबी बोर्ड द्धारा संचालित विद्या मंदिर इंटर कॉलेज सेक्टर 5बी, हरिद्वार के सेवानिवृत्त व वर्तमान में कार्यरत शिक्षकवर्ग एवं पूर्व छात्र-छात्राओं ने नर सेवा-नारायण सेवा की संस्कृति को चरितार्थ करते हुए विद्यालय परिवार की ओर से बीइंग भागीरथ संस्था को निर्धन भोजन सेवा तथा नंदी गौशाला के पशु भोजन हेतु 28,500 रु का अदृश्य योगदान दिया। साथ ही इसके अलावा 50 जरूरमंद परिवारों के लिए आपस में एकजुटता दिखा पुनः अदृश्य योगदान करते हुए लगभग 40,000 एकत्रित कर अगले 10 दिनों का कच्चा राशन उपलब्ध कराया। पूर्व शिक्षक डॉ नरेश मोहन व अशोक गौतम ने बताया कि यह सेवा यथासंभव आगे भी जारी रहेगी।

विद्या मंदिर सेक्टर 5बी में कार्यरत शिक्षकों पी के डोभाल व एन के पुंडीर ने बताया कि यह विद्यालय ष्वसुधैव कुटुम्बकमष् संस्कारों का पालन करने के लिए कृतसंकल्प है। बेंगलुरू से सेवानिवृत्त शिक्षिका  चित्रा एण्डले व फरीदाबाद से नीलम श्रीवास्तव ने बताया कि इस संकट के समय में भी हमारे आज्ञाकारी पूर्व छात्र-छात्राओं द्वारा बिना प्रसिद्धि के सेवा भाव से किया अदृश्य योगदान हमें गर्व महसूस कराता है।पूर्व शिक्षिका भागीरथी पंत व कुशल शर्मा ने सुझाव दिया कि ऐसे समय में हर विद्यालय के शिक्षकवर्ग व विद्यार्थियों को निर्धन व जरूरतमंदों की सहायता करनी चाहिए। इस भोजन सेवा को अपने शिक्षकवर्ग के सानिध्य एवं उनके आदेशों का पालन करते हुए वहीं के पूर्व छात्र- छात्राएं दीपाली गोयल, अर्चना शुक्ला, मंशा मिश्रा, पूनम बाजपेयी, संदीप खन्ना, रंजना चतुर्वेदी, अंशू शर्मा, अल्पना, कल्पना दीक्षित, अनिल रावत, दीपक भारद्वाज, नवीन गोयल, धनीराम, पुनीत गुप्ता, रचना ठुकराल, प्रिया रोहिला, रवींद्र अरोड़ा, मौसमी चक्रवर्ती, पारुल त्यागी, मानसी मिश्रा, रेणु, सरिता शर्मा, श्याम सिंह एवं शिवानी दत्ता आदि निरन्तर भोजन वितरण कर रहे हैं।

आम आदमी पार्टी ने दिया हरिद्वार एसडीएम को ज्ञापन 

हरिद्वार। आम आदमी पार्टी जिला हरिद्वार द्वारा विभिन्न वार्डो में वह के पार्षदों द्वारा राशन सामग्री वितरण में धांधली को लेकर ज्ञापन एस डी एम को दिया गया। जिस पर तत्काल कार्यवाही करते हुए एस डी एम द्वारा  तहसीलदार  को संबंधित जांच के लिए भेजा गया। जिस पर तहसीलदार द्वारा पूरे मामले की विस्तृत जांच का भरोसा देते हुए निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया।

आम आदमी पार्टी की जिला अध्यक्ष हेमा भण्डारी ने बताया कि कई हमारे  पास कई वार्डो से प्रशासन एवम स्थानीय पार्षद द्वारा वितरण कच्ची राशन सामग्री में पार्षद द्वारा मनमानी एवम धांधली की शिकायतें आ रही है। जिसमे प्रशासन द्वारा दी जा रही कच्चे  राशन कीट जरूरतमन्दों को उपलब्ध कराई जा रही है। परंतु कुछ वार्डो में पार्षद द्वारा द्वेष भावना के तहत अपने चहेतों को राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। जबकि सरकार द्वारा जारी निर्देशो अनुसार ऐसे लोग जिनके पास राशन कार्ड उपलब्ध नही है या बनने हेतु प्रस्तावित है। ऐसे व्यक्तियों को चिह्न्ति कर आधारकार्ड के तहत राशन वितरण कराया जाए। ऐसे व्यक्ति जो किराये पर है या किसी अन्य जनपद के ऐसे लोगो के नाम हटाकर स्थानीय पार्षदो एवम अपने चहेतों की लिस्ट स्थानीय प्रसाशन को सौपी जा रही है । जिससे बड़े पैमाने पर धांधली की शिकायतें आ रही है ।

जिला सचिव अनिल सती ने बताया की तहसीलदार से मिल इस बाबत पूरी जानकारी से उन्हें अवगत कराया गया और उनके द्वारा सकारात्मक रुख अखितयार कर  विस्तृत जांच कराने का भरोसा दिलाया गया। आम आदमी पार्टी जिला हरिद्वार संगठन को ऐसी कई शिकायतें कई वार्डो से आ रही है। जिसका समाधान नितांत आवश्यक है। आम आदमी पार्टी जिला हरिद्वार आपसे मांग करती है कृपया उपरोक्त मामले की गम्भीरता को देखते हुए संज्ञान लेकर त्वरित कार्यवाही करे।

श्रीराम नाम विश्व बैंक समिति 29 दिनों से जरूरतमंदों की सेवा में निरंतर अग्रसर  

हरिद्वार। श्रीराम नाम विश्व बैंक समिति के तत्वाधान में आज 29 वें दिन संस्था की ओर से 251 जरूरत मन्द मध्यमवर्गीय परिवारों को कच्चा राशन वितरित किया गया। संस्था के राष्ट्रीय महासचिव पंडित सुमित तिवारी ने बताया कि संस्था विगत 29 दिनों से जरूरतमंदों की सेवा में निरंतर अग्रसर है। इसलिए आज संस्था की ओर से 100 और जरूरतमंद लोगों को कच्चा राशन दिया गया है। 

उन्होंने बताया कि पिछले सप्ताह 151 परिवारों को कच्चा राशन उपलब्ध कराया गया था और आज उसी क्रम में 100 और जरूरत मन्द मध्यम वर्गीय परिवारों को कच्चा राशन वितरित किया गया है। इसी के साथ संस्था अब तक 251 परिवारों को कच्चा राशन उपलब्ध करवा चुकी है। सुमित तिवारी ने कहा कि विगत कई दिनों से हमें सूचना मिल रही थी की ज्वालापुर के जमालपुर कला, कडच्छ, आर्यनगर, रानीपुर मोड़, कनखल, उत्तरी हरिद्वार चिल्ला, हरिपुर आदि जगहों पर कुछ जरूरत मन्द मध्यम वर्गीय परिवार ऐसे है जिन्हें राशन की सख्त आवश्यकता है तथा वह अपनी पीड़ा किसी से बता भी नही सकते। क्योंकि संस्था द्वारा सोशल मीडिया पर विगत दिनों मध्यम वर्गीयों परिवारों की सहायता हेतु व उनकी पहचान गुप्त रखे जाने वाला प्रचार किया गया था। जिसके जरिये वह हमारे सम्पर्क में आये तथा अपनी पीड़ा व्यक्त की। संस्था द्वारा वस्तुस्थिति जानने पर श्री राम नाम विश्व बैंक समिति ने उन्हें कच्चा राशन उपलब्ध करवाया। संस्था की ओर से यह भी कहा गया कि कुछ दानदाताओं के सहयोग से यह कार्य 3 मई तक जारी रहेगा।

रामकृष्ण मिशन ने उपलब्ध करायी राशन किट

-भोजन पैकेट की संख्या को जल्द ही बढ़ाकर तीन हजार करने की योजनाः शिखर पालीवाल

 

हरिद्वार। लाॅकडाउन के होने के बाद से ही गरीब मजदूरों की सेवा में जुटे बीइंग भगीरथ के स्वयंसेवियों का अभियान लगातार तीसवें दिन जारी रहा। मंगलवार को गरीब जरूरतमंदों को भोजन पैकेट वितरण के साथ रामकृष्ण मिशन के सहयोग से राशन वितरण भी किया गया। बीइंग भगीरथ के संयोजक शिखर पालीवाल ने बताया कि रामकृष्ण मिशन द्वारा उपलब्ध करायी गयी राशन किट में आटा, दाल, चावल, मसाले, नमक, तेल, साबुन, आलू, प्याज आदि उपलब्ध कराए गए हैं। 

रामकृष्ण मिशन के परमाध्यक्ष स्वामी नित्यसुधानंद के सानिध्य व स्वामी दीपानंद के मार्गदर्शन में पिछले दस दिनों से लगातार बीइंग भगीरथ के स्वयंसेवी प्रतिदिन श्यामपुर कांगड़ी, लालजीवाला, भूपतवाला, आन्नेकी, हेत्तमपुर, नवोदय नगर, कांगड़ा घाट आदि में दो सौ परिवारों को राशन वितरण कर रहे हैं। नगर निगम के नाला गैंग के कर्मचारियों के परिवारों को भी राशन वितरित किया गया है। प्रत्येक परिवार को दस दिन का राशन दिया जा रहा है।  शिखर पालीवाल ने बताया वितरित किए जा रहे भोजन पैकेट की संख्या को जल्द ही बढ़ाकर तीन हजार योजना है । उन्होंने बताया कि जरूरतमंदों को भोजन पैकेट वितरित करने के साथ मास्क, सेनेटाइजर भी दिए जा रहे हैं। संगठन के स्वयंसेवी लोगों को कोरोना वायरस से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, हाथ धोने की आदत के प्रति भी जागरूक कर रहे हैं। सभी के सहयोग से ही कोरोना वायरस की वजह से उपजे इस संकट से निपटा जा सकता है। शिखर पालीवाल ने कहा कि समाज सेवा से अन्य लोगों को भी प्रेरणा मिल रही है। अन्य संस्थाएं भी सेवा के लिए आगे आ रही हैं। धर्मनगरी के विभिन्न क्षेत्रों में जरूरतमंदों की सेवा में जुटे कार्यकर्ता किसी को भी भूखा सोने नहीं दे रहे हैं। यह अभियान निंरतर तेजी के साथ बड़ा रूप ले रहा है। हितेश चैहान, शिवम चैहान, ब्रजेश चैहान, आशु, अतुल, विनीत चैहान, विनोद कुमार, शुभम विश्नोई, राहुल गुप्ता, अनिकेत गर्ग, संतोष साहू, ओमशरण गुप्ता, अंकित शर्मा, मोहित शर्मा, शुभम सैनी, कुणाल धवन, आदि सहित सभी स्वयंसेवी निरंतर सहयोग कर रहे हैं।

<no title>

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव द्वारा दिये गये निर्देशों के अनुपालन में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत लाॅक डाउन अवधि के दौरान जनपद में बनाये गये 16 राहत शिविरों  में ठहरे 425 व्यक्तियों का चिकित्सकों एवं परामर्शदाताओं द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण उपरान्त कांउसिलिंग प्रदान की गयी। कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत दिहाड़ीध्मजदूरी करने आये 4 श्रमिकों जिन्हे रा0इ0का0 निगम रोड सेलाकुई में बनाये गये राहत शिविर में ठहराया गया है, की साईकेट्रिक सपोर्ट टीम द्वारा रिवाइस्ड कांउसिलिंग की गयी। आज कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम हेतु नियुक्त विभिन्न कार्मिकों को संक्रमण से सुरक्षा के दृष्टिगत 128 एन-95 मास्क, 2935 ट्रिपल लेयर मास्क, 64 पी.पी.ई किट, 70 वीटीएम वाईल तथा 101 सेनिटाइजर उपलब्ध कराये गये।

कोरोना वायरस संक्रमण के संदिग्ध व्यक्तियों हेतु दैनिक सर्विलांस के आधार पर शिक्षकों, आशा कार्यकर्तियों  एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा अब तक कुल 385226 व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी का कार्य किया गया तथा उक्त व्यक्तियों में से पुनः आज 246250 व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी का कार्य किया गया एवं निगरानी के दौरान 4 व्यक्तियों में खांसी, जुकाम एवं बुखार आदि लक्षमण पाये जाने पर मेडिकल टीम को सन्दर्भित किया गया। इसी क्रम में आज 43 टीमों द्वारा दूरभाष के माध्यम से 253 व्यक्तियों से सम्पर्क कर सामुदायिक निगरानी का कार्य किया गया। आज कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत संदिग्ध 33 व्यक्तियों के सैंपल जांच हेतु भेजे गये हैं तथा 39 सैम्पल प्राप्त हुए जिनमें 1 व्यक्ति की रिपोर्ट पाजिटिव प्राप्त होने के फलस्वरूप जनपद में कोरोना पाजिटिव की संख्या 29 हो गयी है, जिनमें 15 व्यक्ति स्वस्थ हो गये हैं तथा वर्तमान में 14 व्यक्ति उपचाररत् हैं। कोरोना वायरस संक्रमण कोविड-19 की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु समस्त मेडिकल स्टोर पर बिना चिकित्सक के परामर्श की पर्ची के सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयों का विक्रय प्रतिबन्धित किये जाने के उपरान्त समस्त मेडिकल स्टोर स्वामियों द्वारा जनपद में कुल 140 व्यक्तियों को चिकित्सकीय पर्ची के आधार पर सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयां विक्रय की गयी।

कोरोना वाॅरियर चुने गए

देहरादून। लाॅक डाउन अवधि में सिविल सोसायटी व शासकीय विभागों द्वारा किये गये उत्कृष्ट कार्यों  के दृष्टिगत हर दिन कोरोना वारियर चुने जाते हैं। आज के कोरोना वाॅरियर रितू सहगल, प्रवीन चंद्र गोस्वामी व जसपाल सिंह चैहान चुने गए।  

कोरोना वाॅरियर (सिविल सोसायटी से) रितु सहगल महादेव एसोसिएट्स  देहरादून को चुना गया। वे लाॅक डाउन अवधि में निर्धन व्यक्तियों को भोजन पैकेट उपलब्ध करवाकर जिला प्रशासन को सहयोग प्रदान कर रहे हैं। कोरोना वाॅरियर (शासकीय विभाग से) प्रवीन चन्द्र गोस्वामी, सेवायोजन अधिकारी देहरादून चुने गए। 

कोरोना वाॅरियर जसपाल सिंह चैहान, जिला पर्यटन विकास अधिकारी देहरादून चुने गए। वे ‘‘दून हैप्पी मील्स’’ के माध्यम से जरूरतमंदो तक राशन व भोजन पंहुचवाने का कार्य कर रहे हैं।

6435 लोगों को  भोजन के पैकेट वितरित किये 

\देहरादून। विभिन्न स्वंयसेवी संस्थाओं ने जिला प्रशासन को सहयोग प्रदान करते हुए भोजन पैकेट उपलब्ध कराये, जिसमें मुख्यतः राधास्वामी सत्संग व्यास, गीता भवन, लोकायुक्त कार्यालय देहरादून, गुरूद्वारा श्री गुरू अंगद देव जी कांवली रोड, पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर समिति झण्डाबाजार, दून यूनिवर्सिटी, केतन आनन्द, रोशनी जन सेवा संस्थान डी.एल रोड चैक देहरादून, महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास परियोजना कार्यालय देहरादून, सत्य सांई सेवा संस्थान, ई-नेट सोल्यूशन ट्रांस्पोर्टनगर देहरादून, शिल्पा प्रोडक्शन,, ग्लोबल गाॅडमदर फाउंडेशन राजपुर रोड, अग्रवाल चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा भोजन के पैकेट उपलब्ध कराये गये। जनपद सदर क्षेत्रान्तर्गत कुल 6435 व्यक्तियों को  भोजन के पैकेट वितरित किये गये जिनमें, 1 वरिष्ठ नागरिक एवं 40 विद्यार्थी, दीपनगर में 1000, थाना पटेलनगर में 1000, चकशाह नगर में 1000, चैकी आराघर में 300, चैकी पटेलनगर में 550, धारा चैकी में 500, कारगी काली मन्दिर में 150, बंजारावाला में 130, मच्छी बाजार में 20, नवादा में 55, आईटी पार्क में 80, अजबपुर में 80, कौलागढ में 2, इन्दिरा नगर चैकी में 200, ट्रांस्टपोर्ट नगर में 250, नगर निगम में 250, बाईपास चैकी में 150, घण्टाघर में 40, किशननगर में 17, स्पोर्टस कालेज में 200, आईएसबीटी चैकी में 100, परेडग्राउण्ड में 20, चन्द्रबनी में 110, चैयला में 90, गौतमकुण्ड में 50, कावंली में 20 तथा ब्रहा्रमपुरी में 30 व्यक्तियों को भोजन के पैकेट वितरित किये गये।  

विभिन्न संस्थाओं ने जिला प्रशासन को उपलब्ध कराए मास्क

देहरादून। ‘‘दून हैप्पी मील्स’’ में संरचना समिति निरंजनपुर द्वारा 25 अन्नपूर्णा किट, 200 मास्क, 100 गलब्स एवं परफैक्ट वेल्यू शिमला बाईपास द्वारा 5 अन्नपूर्णा किट तथा राजेन्द्र राजपूत कारगी द्वारा 65 भोजन के पकैट उपलब्ध कराये गये। शिवालिक रेशमी ऊनी खादी वस्त्र कताई-बुनाई संस्थान देहरादून द्वारा 300 मास्क एवं माया खादी ग्रामोद्योग संस्थान देहरादून 500 मास्क जिला प्रशासन को उपलब्ध करवाये गये। जिला प्रशासन की टीम द्वारा स्वयं सेवी संस्थाओं के सहयोग से जनपद अन्तर्गत विकासखण्ड चकराता, विकासनगर, सहसपुर, रायपुर व डोईवाला एवं तहसील सदर में कुल 2523 निराश्रित पशुओं जिसमें 1824 श्वान, 640 गौवंश एवं 59 अन्य पशुओं को चारा व पशु आहार उपलब्ध कराया गया। जिला प्रशासन की टीम द्वारा विभिन्न सामाजिक संस्थाओं एवं व्यक्तियों के सहयोग से जनपद के विभिन्न स्थानों पर 3070 अन्नपूर्णा राशन किट वितरित की गयी कोतवाली दून में 700, थाना प्रेमनगर में 117, थाना रायपुर में 400, थाना कैन्ट में 100, थाना पटेलनगर में 900, तहसील सदर में 153, थाना बसन्त विहार में 400, थाना राजपुर में 50, थाना नेहरू कालोनी में 150, तहसील मसूरी में 100 अन्नपूर्णा किट वितरित किये गये।

जनपद के देहरादून शहरी क्षेत्र में  4 सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों के माध्यम से प्रति पैकेट रू0 50 की दर से 500 पैकेट विक्रय किया गया। इसी क्रम में जनपद के  विभिन्न चयनित स्थानों पर प्रशासन द्वारा अधिकृत 17 मोबाईल वैन के माध्यम से सस्ते दरों पर 87.36 क्विंटल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया। जिला पूर्ति विभाग द्वारा भगत सिहं कोलोनी में 40, मुस्लिम कालोनी, लक्खीबाग में 32, आजाद कालोनी में 39 तथा कारगीग्रान्ट में 14 गैस सिलेण्डर वितरित किये गये। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अन्तर्गत भगत सिंह कालोनी में 675, लक्खीबाग क्षेत्र में 659, आजाद कालोनी में 939 तथा कारगीग्रान्ट में 803 उपभोक्ताओं को खाद्यान उपलब्ध कराया गया। इसके अतिरिक्त 20 बीघा कालोनी ऋषिकेश में 1 मोबाईल वैन के माध्यम से खाद्यान एवं दैनिक उपयोग की आवश्यक सामग्री तथा 1 मोबाईल वैन से  फल-सब्जिया उपलब्ध कराई गई साथ आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराने हेतु डिमांड भी प्राप्त की गयी। दुग्ध विकास विभाग द्वारा आज भगत सिंह कालोनी, लक्खीबाग, कारगीग्रान्ट एवं आजाद कालोनी एवं 20 बीघा कालोनी ऋषिकेश में 1200 ली0 दूध विक्रय किया गया।  

जिले में 3612 श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया गया 

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया है कि जनपद में जो क्षेत्र कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत हाॅट स्पाॅट के रूप में चिन्हित किये गये हैं ऐसे क्षेत्रों में खाद्यान एवं दैनिक उपयोग की आवश्यक वस्तुओं की निरन्तर आपूर्ति की जा रही है। ऐसे क्षेत्रों में जनमानस को किसी प्रकार की कोई समस्या न हो इसके लिए जगह-जगह पर कन्ट्रोलरूम के नम्बर फ्लैश किये गये तथा पोस्टर भी लगाये गये हैं यदि किसी को कोई इमरजैंसी हो तो वे काॅल कर सकते है। जिलाधिकारी ने बताया कि हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों सेे आने वाले किसी भी रोगी का उपचार कोविड चिकित्सालय में ही किया जा रहा है तथा हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों से लाये जाने वाले रोगियांे के लिए स्पेशल एम्बुलेंस का उपयोग किया जाता है।

कोविड-19 के संक्रमण के दृष्टिगत जिला आपदा परिचालन केन्द्र देहरादून में जन सहायता हेतु स्थापित कन्ट्रोलरूम में कुल 95 काॅल प्राप्त हुई हैं, जिसमें, ई-पास हेतु 74, भोजन के लिए 2, राशन हेतु 16 एवं मेडिकल सहायता हेतु 2 एवं अन्य 1 काॅल प्राप्त हुई। जनपद में आज विभिन्न उद्योग गतिविधियों  हेतु 3 औद्योगिक प्रतिष्ठानों तथा विभिन्न औद्योगिक इकाईयों के कुल 351 कार्मिकों को पास निर्गत किये गये हैं। जनपद में मनरेगा कार्यों के अन्तर्गत आतिथि तक 403 निर्माण कार्य प्रारम्भ किये गये, जिनमें 3612 श्रमिकों को सैनिटाईजेशन एवं सामाजिक दूरी का अनुपालन करवाते हुए उक्त कार्य में योजित कर रोजगार उपलब्ध कराया गया। जनपद के चकराता, कालसी, विकासनगर, सहसपुर एवं डोईवाला विकासखण्ड की 18 ग्राम पंचायतों में आज कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम हेतु जनजागरूकता अभियान के साथ ही साफ-सफाई एवं सेनिटाईजेशन का कार्य किया गया। इसी क्रम में जनपद में बनाये गये राहत शिविरों में ठहराये गये व्यक्तियों में से आतिथि तक 85 व्यक्तियोंध् श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया गया। कोराना वायरस संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत 77 व्यक्तियों को प्रशिक्षण दिया गया जिसमें, त्रिशला जैन धर्मशाला विकासनगर एवं कलाउड वैडिंग प्वांईट हबर्टपुर में बनाये गये राहत शिविर में ठहराये गये व्यक्तियों को जिला होम्योपैथिक अधिकारी डाॅ जे.एल फिर्मल द्वारा प्रशिक्षण दिया गया। प्रधानमंत्री जनधन खाताधारकों द्वारा जनपद में विभिन्न बैंकों से 2706 लाभार्थियों द्वारा अपने जनधन खाते से धनराशि की निकासी की गयी। आज मोबाईल एटीएम वैन कारगीग्रान्ट क्षेत्र में जनसुविधा हेतु उपलब्ध रही। कल 29 अपै्रल 2020 मोबाईल एटीएम वैन लक्खीबाग एवं आजाद कालोनी में जनसुविधा हेतु उपलब्ध रहेगी।

मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए प्रदान की सहयोग राशि 

देहरादून। कोविड-19 के दृष्टिगत मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री राहत कोष हेतु कमल अरोड़ा एवं हरीश अरोड़ा साईं इंस्टिट्यूट, पी.वी.के. एसोसिएट राजपुर रोड देहरादून द्वारा रुपए 15,00,000-(पन्द्रह लाख), डॉ धन सिंह रावत, राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार द्वारा जनपद पौड़ी के विभिन्न संस्थाओं, वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली राज. आयुर्विज्ञान एवं शोध संस्थान श्रीनगर, गढ़वाल के संविदा कार्मिकों द्वारा (डॉ सी.एम.एस रावत प्राचार्य के माध्यम से) स्वेच्छा से 1 दिन के वेतन की धनराशि रुपए  4,14,612- (चार लाख चैदह हजार छः सौ बारह), जनपद पौड़ी में संचालित विभिन्न सहकारी समितियों द्वारा (एम.एल. टम्टा, जिला सहायक निबंधक सहकारी समितियां, पौड़ी के माध्यम से) रुपए 1,75,000-(एक लाख पिचहत्तर हजार), संपत सिंह रावत, अध्यक्ष, गढ़वाल मंडल बहु. सह. समिति लि. पौड़ी द्वारा रुपए 21,000-(इक्कीस हजार), डॉ धन सिंह रावत, राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार द्वारा जनपद पौड़ी के विभिन्न महानुभाव के माध्यम से रुपए 66,500-(छियासठ हजार, पांच सौ) की धनराशि का चेक सौंपा।

      इसी प्रकार महेश कुमार शर्मा, प्रधान, आर्य समाज मंदिर, धामावाला देहरादून द्वारा रुपए 1,60,000- (एक लाख साठ हजार), उत्तरांचल ई.एम.ई. कोर सेवानिवृत्त सैनिक संस्था, सरस्वती विहार, देहरादून द्वारा रुपए 1,11,111- (एक लाख ग्यारह हजार एक सौ ग्यारह), टी. डोर्जी, तिब्बतन सेटलमेंट ऑफिस, लाखनवाला, देहरादून द्वारा रुपए 83,602- (तिरासी हजार छः सौ दो), एच.पी. पुरोहित, से.नि. कैप्टन, प्रेमनगर देहरादून द्वारा रुपए 50,000-(पचास हजार), महावीर सिंह रांगड़, अध्यक्ष, गढ़वाल मंडल विकास निगम लि. देहरादून (राज्य मंत्री स्तर) द्वारा रुपए 50,000-(पचास हजार), दीप्ति रावत भारद्वाज, उपाध्यक्षा, उच्च शिक्षा उन्नयन समिति, (राज्यमंत्री स्तर) द्वारा रुपए 40,000 (चालीस हजार), अतर सिंह असवाल, (राज्यमंत्री स्तर) उत्तराखंड सरकार द्वारा रुपए 35,000-(पैंतीस हजार),विनोद कुमार, पूर्व सैनिक, उत्तराखंड सैनिक परिषद, संचालक मिलिट्री इक्विपमेंट, माजरी ग्रांट देहरादून द्वारा रुपए 21,000 (इक्कीस हजार) की धनराशि का चेक मुख्यमंत्री राहत कोष हेतु सौंपा।

बाहर निकले युवक को बनाया मुर्गा, पिटाई का वीडियो वायरल

पिथौरागढ़। लॉकडाउन के दौरान पुलिस का एक युवक को सजा देने का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। यह वीडियो एपीएस तिराहे का है। पुलिस लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर एक युवक को मुर्गा बनाकर उसकी लाठी से पिटाई कर रही है। यह वीडियो 15 दिन पुराना बताया जा रहा है।

लॉकडाउन के उल्लंघन को लेकर इनदिनों पुलिस की सख्ती के वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहे हैं। ऐसा ही एक वीडियो पिथौरागढ़ पुलिस का भी सामने आया है। पुलिस एक युवक को मुर्गा बनाकर लाठी से पीट रही है। जानकारी मिली है कि ये वीडियो एपीएस तिराहे में बनी पुलिस चेकपोस्ट का है। इस वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि पुलिस लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले युवक से सख्ती से पूछताछ कर रही है। इस दौरान पुलिस का एक सिपाही युवक पर लाठी बरसाना शुरू कर देता है। इसके बाद युवक को मुर्गा बनाया जाता है और चेक पोस्ट पर तैनात फॉरेस्ट गार्ड युवक को बेरहमी से पीट रहा है। 15 दिन बाद सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल होने पर पिथौरागढ़ पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है।

लॉकडाउन से श्रीनगर का बिजनेस हुआ चैपट, व्यापारियों को करोड़ों का नुकसान

श्रीनगर। कोरोना वायरस के कहर से श्रीनगर व्यापार सभा, होटल एसोसिएशन, टैक्सी एसोसिएशन सहित तमाम व्यापारों पर बुरा प्रभाव पड़ा है। लॉकडाउन के कारण व्यापारियों को करोड़ों का घाटा हो चुका है। व्यापारियों ने सरकार से मदद की गुहार लगाई है।

श्रीनगर गढ़वाल क्षेत्र का सबसे बड़ा बाजार और चारधाम यात्रा का केंद्र बिंदु है। श्रीनगर की अर्थव्यवस्था चारधाम यात्रा में आने वाले यात्रियों द्वारा चलती है। लेकिन, कोरोना वायरस के कारण यात्रा पर रोक लगी हुई है। इससे व्यापारियों का घाटा दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। श्रीनगर में संचालित होने वाले होटल और ढाबे ठप पड़े हुए हैं। श्रीनगर होटल एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष और व्यापार सभा श्रीकोट के अध्यक्ष नरेश नौटियाल ने बताया कि लॉकडाउन के कारण चारधाम यात्रा की बुकिंग अक्टूबर तक कैंसिल हो गई है। इस कारण होटल व्यवसाय की कमर टूट गई है। होटल संचालक ना तो किस्त दे सकेंगे और न ही लोगों को रोजगार। श्रीनगर में होटल व्यवसाय ही नहीं अपितु सर्राफा बाजार, फर्नीचर, बर्तन, कपड़ा व्यापारियों को भी घाटा हो रहा है। श्रीनगर में 750 पंजीकृत व्यापारी हैं। इनमें परचून व्यापारियों को छोड़ दिया जाए तो 550 दुकानें लॉकडाउन के चलते बंद हैं। व्यापार मण्डल के महामंत्री सुजीत अग्रवाल का कहना है कि व्यापारियों को 50 करोड़ से अधिक का घाटा हुआ है। इससे व्यापारियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं टैक्सी एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष महावीर बहुगुणा ने कहा कि लॉकडाउन के कारण प्रतिदिन 50 हजार का नुकसान हो रहा है। जिससे बैंकों की किस्त देना भी मुश्किल हो गया है।

रमजान में कर्फ्यू वाले क्षेत्र में 3 घंटे की ढील, घर तक पहुंचाया जाएगा सामान

नैनीताल। लॉकडाउन का उल्लंघन करने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न किए जाने पर जिलाधिकारी ने सख्त रुख अपना लिया है। इसी के चलते उन्होंने सभी अधिकारियों को लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही रमजान के मद्देनजर हल्द्वानी के वनभूलपुरा कर्फ्यू ग्रस्त क्षेत्रों में 3 घंटे की छूट और लोगों तक अति आवश्यक सामान पहुंचाने का भी निर्देश दिया है। जिलाधिकारी सविन बंसल ने कहा है कि शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में आवश्यक वस्तुओं की दुकानें सुबह 7 से दोपहर 1 बजे तक खोली जाएंगी। हल्द्वानी के वनभूलपुरा क्षेत्र में अभी भी कर्फ्यू जारी रहेगा, लेकिन रमजान को देखते हुए यहां सुबह 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक कर्फ्यू में ढील दी जाएगी। जिससे लोग आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी कर सकें। प्रशासन को निर्देशित किया है कि फल, सब्जी, राशन, दूध सहित आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई में किसी तरह की कोई दिक्कत न हो। जिलाधिकारी ने लोगों से अपील की है कि सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें और मास्क का प्रयोग करें. साथ ही दो पहिया वाहन पर केवल एक सवारी ही बैठे। कहीं पर भी भीड़-भाड़ इकट्ठा न करें. कोई व्यक्ति अगर इन नियमों का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ आपदा प्रबंधन की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

अपर जिलाधिकारी को प्रेषित किया ज्ञापन

उत्तरकाशी। लॉकडाउन के बीच भटवाड़ी ब्लॉक के मांडो क्षेत्र स्थित गंगा भागीरथी नदी तट में चल रहे खनन पर भाजपा सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के जिला संयोजक विजय प्रसाद बलूनी ने चिंता जाहिर की है। इस संबंध में उन्होंने मंगलवार को अपर जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर कार्रवाई करने की मांग की। इस दौरान उन्होंने बताया कि मांडो क्षेत्र में कई खच्चर वाले नदी तट से रेत, बजरी, पत्थर आदि का खनन कर रहे हैं। आलम यह है कि उक्त लोगों द्वारा भारी संख्या में खनन करने से नमामि गंगे के अंतर्गत बनी सुरक्षा दीवार भी क्षतिग्रस्त होने लगी है। जिस कारण मानसून सीजन में नदी का जल स्तर बढ़ने से तटीय क्षेत्रों में भू कटाव का खतरा बढ़ गया है। ऐसे में प्रशासन को मामले का संज्ञान लेते हुए तत्काल प्रभाव से अवैध खनन कार्य को बंद कराना चाहिए।

हनुमान मंदिर समिति ने सीएम राहत कोष में दी दो लाख रुपये की धनराशि 

उत्तरकाशी। कोरोना वायरस के खिलाफ चल रही जंग में जिले के धार्मिक संगठन भी लगातार सहयोग प्रदान कर रहे हैं। इसी क्रम में मंगलवार को श्री हनुमान मंदिर समिति ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दो लाख रुपये की धनराशि जमा कराई।

समिति के पदाधिकारियों ने गंगोत्री विधायक गोपाल रावत व डीएम डॉ. आशीष चैहान को धनराशि का चेक सौंपा। साथ ही भविष्य में भी हर संभव सहयोग प्रदान करने का भरोसा दिया। इस अवसर पर विधायक ने समिति का आभार प्रकट करते हुए अन्य लोगों से भी योगदान करने की अपील की। उन्होंने कहा कि केंद्र व राज्य की सरकारों द्वारा कोरोना वायरस को समाप्त करने के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है। लेकिन जनता के सामूहिक योगदान के बिना इस जंग में जीत हासिल नहीं हो सकती है। इसलिए सभी लोगों को अपने सामर्थ्य अनुसार योगदान करना चाहिए। इस मौके पर समिति के संस्थापक नेमचंद चंदोक, अध्यक्ष हरि सिंह राणा, विशालमणी मिश्रा, विनोद कालरा, राजेंद्र रावत, पारस मणी, वृंदा प्रसाद शास्त्री, चंद्रशेखर भट्ट, शंभू प्रसाद भट्ट आदि सदस्य मौजूद रहे।

पेश की ईमानदारी की मिसाल

पौड़ी। पौड़ी पुलिस के एक जवान ने ड्यूटी के दौरान मिले पर्स को उसके मालिक तक पहुंचाकर ईमानदारी की मिसाल पेश की है। उक्त व्यक्ति ने भी पुलिस के इस कार्य की जमकर सराहना की है। कांस्टेबल श्रीकृष्ण गोस्वामी की लॉकडाउन के दौरान धारा रोड में ड्यूटी लगी हुई थी। इसी दौरान उनको यहां पर रोड में एक पर्स गिरा हुआ मिला। पर्स में 5 हजार की धनराशि के साथ ही आधार कार्ड सहित कई जरूरी कागजात थे। कांस्टेबल गोस्वामी ने आस-पास लोगों से उक्त पर्स को लेकर पूछताछ की। जिस पर सर्किट हाउस निवासी गौरव सिंह ने उक्त पर्स को अपना बताया। पुलिस जवान ने गौरव सिंह को उनका पर्स सौंपा। गौरव सिंह ने पुलिस जवान के इस कार्य की सराहना करते हुए पुलिस का धन्यवाद दिया है।

नेताओं को भी होम क्वारंटाइन में रखने की उठाई मांग

पौड़ी। भारतीय राष्ट्रीय युवा कांग्रेस ने जिले के बाहर से आ रहे नेताओं, अधिकारियों व कर्मचारियों को भी 14 दिन के लिए होम क्वारंटाइन में रखने की मांग की है। उन्होंने इस बाबत डीएम पौड़ी को मेल भेजा है। डीएम को मेल के माध्यम से भेजे गए पत्र में भारतीय राष्ट्रीय युवा कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष आशीष नेगी, मोहित सिंह, आकाश रावत, अंकित सुंद्रियाल, शोभित ठाकुर, गोपाल नेगी, संजना गुजराल, दीपक नौटियाल, अमन आदि ने कहा है कि महामारी से निपटने के लिए सभी को सजग रहने की जरूरत है। कहा कि कई अधिकारी, कर्मचारी व नेता दूसरे जिलों से आ रहे है और जनता के बीच जा रहे है। इससे कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने का खतरा बना हुआ है। उन्होंने पौड़ी जिले में दूसरे जिलों से आ रहे अधिकारियों, कर्मचारियों व नेताओं को भी 14 दिन के लिए होम क्वारंटाइन में रखने की मांग की है।

विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

पौड़ी। पैठाणी थाना क्षेत्र के टीला गांव में एक विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। मृतक विवाहिता का 6 महीने पहले ही विवाह हुआ था। पुलिस प्रथम दृष्टया मामले को आत्महत्या से जोड़ कर देख रही है। हालांकि अभी तक किसी पक्ष ने भी इस संबंध में कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है। पुलिस का कहना कि मामले की जांच की जा रही है। सोमवार देर शाम पैठाणी क्षेत्र के टीला गांव में विवाहिता सरिता देवी (19) पत्नी मनोज आगरी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। थानाध्यक्ष पैठाणी रविंद्र सिंह ने बताया कि सरिता की जेठानी ने सरिता को घर में कमरे के अंदर दुपट्टे के सहारे लटके देखा। जिसकी सूचना उसने स्वजनों को दी। स्वजनों ने आनन फानन में सरिता को दुपट्टे के फंदे से उतार कर उपचार के लिए 108 के माध्यम से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खिर्सू ले गए जहां चिकित्सकों ने सरिता को मृत घोषित कर दिया। सरिता का 6 माह पूर्व ही मनोज से विवाह हुआ था। मनोज देहरादून में होटल में काम करता है। घटना के दौरान मनोज देहरादून ही था। थानाध्यक्ष ने बताया कि प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का लग रहा है। किसी पक्ष की ओर से इस संबंध में कोई शिकायत दर्ज नहीं की गई है। मौत की कारणों की जांच की जा रही है।

सीआरटी टीमों को बांटी थर्मल स्क्रीनिंग मशीनें

टिहरी। नगर पालिका क्षेत्र चंबा में कोरोना वायरस को लेकर बनाई गई सीआरटीटी(सिटी रिस्पांस टीम) टीमों को एक-एक थर्मल स्क्रीनिंग मशीन दी गई। मंगलवार को चंबा पालिकाध्यक्ष ने टीम के हेड को एक-एक थर्मल स्क्रीनिंग मशीन सौंपी। सीआरटीटी के नोडल अधिकारी ईओ एसपी जोशी ने बताया कि डीएम के निर्देश पर पालिका की ओर से तीन टीमें बनाई गई हैं। जो कि चंबा क्षेत्र में लगातार बाहर से आने वाले व्यक्तियों को क्वारटींन करने की प्रक्रिया में लगी हुई है। तीनों टीमों के हेड आयुर्वेदिक डॉक्टर हैं, तथा उनके साथ पैरामेडिकल स्टाफ व पालिका स्टाफ कार्य कर रहा है। ईओ ने बताया कि मंगलवार से ही पालिका क्षेत्र में आए हुए प्रवासियों का सर्वेक्षण भी शुरू किया जा रहा है। पालिकाध्यक्ष सुमना रमोला ने कहा कि पालिका क्षेत्र में कोरोनावायरस के खिलाफ जो फ्रेम तैयार किया गया था, उसके तहत और तीनों सीआरटी टीम तथा सैनिटाइजेशन और गोवंश के लिए बनाई गई टीम अपना काम बखूबी कर रही है। मौके पर डॉ. सत्यवीर रावत. डॉ. दिनेश जोशी डॉ. हरीश भट्ट. कृष्णा प्रसाद सेमवाल, राजवीर पंवार, जगदीश सकलानी, प्रशांत उनियाल, पवन सेमवाल, शरद पुंडीर, ओम प्रकाश तिवारी, दिनेश तिवारी, गबर बिष्ट, हरीश भट्ट, अनुज सजवाण, इंद्रेश कोठारी, सुरेश पंवार आदि मौजूद रहे।

मरीजों के घरों तक पहुंचा रहें कर्मचारी दवा

टिहरी। कोरोना माहमारी संक्रमण को रोकने लिए किए गए लॉकडाउन के बाद टीबी और एचआईवी जैसी बीमारियों से संक्रमित मरीजों के सामने दवा की दिक्कत न इसके लिए विभाग ने अलग से कर्मचारियों की तैनाती की गई है। ये कर्मचारी देवदूत बनकर मरीजों के घरों तक दवा पहुंचाने के काम में लगे हैं।

एनएचएम के अंतर्गत टीबी उन्मूलन कार्यक्रम में कार्यरत जिला मुख्यालय नई टिहरी में स्वास्थ्य विभाग में तैनात विनोद सेमवाल को जाखणीधार, जौनपुर, थौलधार और भिलंगना ब्लॉकों में पूर्व से टीबी और एचआईवी पोजिटीव मरीजों के घरों तक दवाइयां पहुंचाने की जिम्मेदारी मिली है। विनोद पिछले एक माह से यह जिम्मेदारी बखूबी निभा रहे हैं। वह चारों ब्लॉकों में टीबी और एचआईवी पॉजीटिव मरीजों के घर-घर जाकर उन्हें दवाइयां उपलब्ध करा रहे हैं। वे बताते है कि लॉकडाउन के चलते अब तक वह चारों ब्लॉकों में करीब 50 से 55 मरीजों के घरों में जाकर उन्हें दवाई उपलब्ध करा चुके हैं। विनोद बताते हैं कि उनके अलावा चार अन्य कर्मचारी भी इस कार्यक्रम में लगे हंै। जिन्हें मरीजों के घरों तक दवा पहुंचाने की जिम्मेदारी दी गई है। कहते है ऐसे वक्त में उन्हें जो जिम्मेदारी मिली उसका निर्वहन सभी को ईमानदारी से करना चाहिए। बताते है उनके परिजन देहरादून में रहते है कोरोना संक्रमण के चलते उनके परिजन हर समय उनकी चिंता करते हैं।

मस्लिम समुदाय ने सीएम राहत कोष में दिए 51 हजार रु

टिहरी। कोरोना महामारी से लड़ने और सरकार के सहयोग हेतु स्वयंसेवी संस्थानों साहित लोग भी बढ़चढ़ कर पीएम और सीएम राहत कोष में दान देकर अपनी भागीदारी निभा रहे हैं। टिहरी के मुस्लिम समुदाय ने भी सीएम राहत कोष में 51 हजार रुपये दान दिए हैं।

टिहरी जिले के मुस्लिम समुदाय और जामा मस्जिद इंतजामिया कमेटी टिहरी ने कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिए 51 हजार रुपये की धनराशि सीएम राहत कोष दान दी। कमेटी सदस्यों ने तहसील में जाकर धनराशि का चेक एसडीएम सदर पीआर चैहान को सौंपा। जामा मस्जिद कमेटी के पूर्व सदस्य मुशर्रफ अली ने कहा कि मुस्लिम समुदाय की ओर से प्रदेश सरकार को दिया गया सहयोग महामारी से लड़ने के काम आएगा। कहा सरकार और प्रशासन की ओर से जारी निर्देशों का समुदाय के लोग पूरा पालन कर रहें है, और रमजान के पवित्र महिनें की नमाज घरों में अदा कर कोरोना वायरस के खात्मे के साथ देश में अमन चैन की दुआ कर रहें हैं। मौके पर कमेटी कोषाध्यक्ष मुनव्वर हसन, अब्दुल वकार, असलम बेग आदि उपस्थित थे।

क्वॉरेंटाइन पूरा होने के बाद 14 लोगों की हुई घर वापसी

देहरादून। कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन के चलते देश के कोने-कोने में प्रवासी लोग फंस हुए हैं। सरकार धीरे-धीरे फंसे हुए लोगों को घर भेज रही है। इसी क्रम में उत्तराखंड सरकार पौंटा साहिब में क्वॉरेटाइन पूरा कर चुके लोगों को रोडवेज की बसों के जरिए देहरादून लाई। देहरादून से 14 लोगों को उनके घर टिहरी और उत्तरकाशी भेजा गया। बस में लोगों ने बताया कि उन्हें कागजी प्रक्रिया के लिए घंटों से रोका गया।

दरअसल, हरियाणा और पंजाब से आ रहे 14 लोगों को उत्तराखंड-हिमाचल प्रदेश की सीमा पौंटा साहिब के राहत शिविर में क्वॉरेंटाइन में रखा गया था। एक महीने का क्वॉरेंटाइन पूरा होने के बाद उत्तराखंड सरकार, परिवहन निगम की बसों के जरिए इन्हें घर पहुंचा रही है। इसी कड़ी में 14 लोगों को लेकर एक बस देहरादून पहुंची। इस बस में 2 लोग टिहरी जिले और 12 उत्तरकाशी जिले के शामिल थे। इस बस में सवार लोगों को उत्तराखंड परिवहन निगम ने सुबह 11 बजे नई टिहरी पहुंचा दिया। किन्तु बस सवार लोगों का आरोप है कि प्रशासन की धीमी कार्य प्रणाली के चलते इन लोगों को दो-तीन घंटे तक बस में बैठे रहना पड़ा। कागजी कार्रवाई करने में जिला प्रशासन की लेट-लतीफी भी देखने को मिली।

एम्स में एक और महिला कोरोना पाजिटिव पाई गई, संक्रमितसें कर संख्या 52 हुई

देहरादून। एम्स ऋषिकेश में भर्ती एक महिला में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। अब राज्य में संक्रमित मामलों की कुल संख्या 52 हो गई है। बताया गया कि उक्त महिला 22 अप्रैल से एम्स में भर्ती है।

संक्रमित महिला नैनीताल की रहने वाली है। एम्स ऋषिकेश में कोरोना संक्रमण का यह दूसरा मामला है। इससे पहले एक नर्सिंग ऑफिसर में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। स्वास्थ्य महानिदेशक अमिता उप्रेती ने इस मामले की पुष्टि की है। देहरादून जिले में सोमवार को कुल तीन मरीज अस्पताल से डिस्चार्ज हुए थे। इसमें सेना अस्पताल में भर्ती संक्रमित महिला डॉक्टर भी शामिल हैं, जबकि दो मरीज दून अस्पताल से घर भेजे गए। इसके अलावा हरिद्वार जनपद में भी दो संक्रमित मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गई है। उत्तराखंड के हरिद्वार मेला अस्पताल में भर्ती सात कोरोना पॉजिटिव में से पांच मरीज पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं। प्रदेश में अब तक 33 मरीज ठीक हो चुके हैं।

 

बाहर फंसे राज्य के लोगों को लाने की व्यवस्था करें सरकारः प्रीतम

देहरादून। राज्य के बाहर फंसे राज्य वासियों की वापसी पर सरकार को गम्भीरता से काम करने की जरूरत है। कांग्रेस द्वारा शुरू की गयी देवभूमि एप पर बड़ी संख्या में लोगों ने मदद की गुहार लगायी है। यह बात आज कांग्रेस भवन में आयोजित एक पत्रकार वार्ता में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कही। उन्होंने बताया कि सिर्फ चार दिनों में राज्य के साढ़े आठ हजार लोगों ने अपनी घर वापसी के लिए सम्पर्क किया है। 

उन्हांेने कहा कि लाकडाउन के कारण देश के विभिन्न राज्यों में फंसे इन लोगों को कैसे वापस बुलाया जाये इसके लिए सरकार को कार्ययोजना तैयार करनी चाहिए। प्रीतम सिंह ने कहा कि इन लोगों ने अपने पते और फोन नम्बर के साथ उत्तराखण्ड आने की अपील की है। सरकार को यह आंकड़ा और इसका पूरा ब्यौरा उपलब्ध कराकर वह मुख्यमंत्री से इस बारे में वार्ता करेंगे कि वह उनकी घर वापसी की योजना को क्रियान्वित करें। पत्रकार वार्ता में स्कूलों द्वारा ली जाने वाली तीन महीने की फीस माफ करने की मांग भी उन्हांेेने उठायी। उनका कहना है कि जब स्कूलों में पढ़ाई नहीं हो रही है तो फिर फीस क्यों ली जा रही है। साथ ही उन्होंने शिक्षकों के वेतन न दिये जाने पर भी आपत्ति जताई। उनका कहना है कि जब गृह मंत्रालय की गाइडलाइन के अनुसार सभी कर्मचारियों के वेतन न काटने की बात कही गयी है तो फिर शिक्षकों को लाकडाउन के चलते स्कूल बंद रहने के दौरान का वेतन दिया जाना चाहिए।

केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री ने आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि पर दिया बल 

देहरादून। केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं भूतल मंत्री नितिन गडकरी के वीडियो कांफ्रेंसिंग बैठक में प्रदेश की स्थिति में चर्चा करते हुए आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि पर बल दिया गया। बैठक में स्वच्छता और शारीरिक दूरी पर बल देते 5 निर्देशो के पालन करने को कहा गया। अनिवार्य रूप से मास्क लगाना,सेनेटाइजर का प्रयोग,लेबर कैम्प में फूड और सेफ्टी की व्यवस्था, एक मीटर की शारीरिक दूरी बनाना,लेबर ट्रांसपोर्ट के समय सोशल डिस्टेंसिंग।

बैठक मे आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिये राज्य ट्रांसपोर्टर एसोशिएशन से वार्ता की जाएगी। इस सम्बंध में अधिकारियों के साथ बैठक कर निगरानी व्यस्था की समीक्षा की जाएगी। बैठक में कहा गया कि कोरोना के युद्ध को जितना है तथा आर्थिक गतिविधियों में भी सफलता प्राप्त करनी है। सचिवालय परिसर में हुई इस बैठक में कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक, एवं यशपाल आर्य, अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश ,सचिव शैलेश बगोली, सचिव अरविंद ह्यांकी, निदेशक खनन डॉ. मेहरबान सिंह बिष्ट इत्यदि प्रमुख अधिकारी उपस्थित थे।

मुनिकीरेती सीमा पर पुलिस ने बढ़ाई सख्ती

ऋषिकेश। तीर्थनगरी ऋषिकेश में कोरोना पॉजिटिव का मामला सामने आने के बाद टिहरी जिले का मुनिकी रेती थाना भी अलर्ट हो गया है। पुलिस ने जिले की सभी सीमाओं पर पहले से ज्यादा सख्ती बढ़ा दी है। मुनिकी रेती थाना क्षेत्र में सभी सीमाओं में अनुमति पास के साथ बैरियर पर थर्मल स्क्रीनिंग और मेडिकल चेकअप के बाद ही प्रवेश मिल सकेगा।

 ऋषिकेश एम्स के हेल्थकेयर स्टाफ में कोरोना पॉजिटिव का मामला सामने आया था। कोरोना पॉजिटिव मामला आने के बाद पूरे शहर में हड़कंप मचा हुआ है. इसे देखते हुए ऋषिकेश से सटे टिहरी जिले का मुनिकीरेती थाना भी अलर्ट हो गया है। सुबह के समय टिहरी सीमा में कई दर्जन लोगों का आवश्यक सेवा के लिए आना होता है। इन सभी लोगों का मेडिकल चेकअप होने के चलते लंबी-लंबी लाइनों में खड़े नजर आए। वहीं, अब सभी पुराने अनुमति पास अमान्य होंगे, जिसके लिए दोबारा अप्लाई करना आवश्यक है। अपर पुलिस अधीक्षक उत्तम सिंह नेगी ने बताया कि मुनिकी रेती सीमा पर प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति के लिए अनुमति पास अनिवार्य था, लेकिन ऋषिकेश में कोरोना पॉजिटिव का मामला मिलते ही ऋषिकेश-मुनिकी रेती थाने की सीमा पर प्रवेश पर ज्यादा सख्ती की गई है। अब अनुमति के साथ-साथ थर्मल स्क्रीनिंग भी अनिवार्य है। तभी व्यक्ति को सीमा के अंदर प्रवेश मिल सकेगा।

बाबा केदार की डोली पहुंची केदारधाम, 29 अप्रैल को खुलेंगे कपाट

रुद्रप्रयाग। बाबा केदार की डोली केदारनाथ धाम पहुंच चुकी है। 29 अप्रैल को बाबा केदार के कपाट खोले जाने हैं। जिसके लिए केदारनाथ मंदिर को विशेष फूलों से सजाया गया है। जहां प्रकृति ने कपाट खोलने के लिए बाबा केदार को बर्फ से सजाया है तो वहीं इंसानों ने बाबा केदार के मंदिर का गेंदे के फूलों से श्रृंगार किया है।

 अभी फिलहाल दो लोग ही केदारधाम में मौजूद हैं। बुधवार सुबह 6.10 पर बाबा केदारनाथ के कपाट खोले जाएंगे, जिसकी सभी तैयीरियां पूरी कर ली गई हैं।

मिली जानकारी के अनुसार बाबा केदार की डोली सोमवार को देर सायं केदारनाथ पहुंच गई। इस मौके पर शाम भगवान की पूजा अर्चना की गई। इस दौरान पौराणिक रीति रिवाज के साथ पूजा की गई। केदारनाथ धाम के कपाट खुलने से पूर्व डोली यात्रा केदारनाथ पहुंच गई है। कोरोना महामारी के चलते यह पहला मौका है जब डोली एक दिन पहले ही केदारनाथ पहुंच गई। इससे पूर्व डोली एक ही दिन में गौरीकुंड से सीधे केदारनाथ पहुंचती थी। सोमवार को गौरीकुंड में सुबह पूजा अर्चना के बाद बाबा केदार की पंचमुखी डोली ने भीमबली के लिए प्रस्थान किया। हल्की बारिश और बर्फबारी के बीच डोली देर सायं केदारनाथ पहुंची। डोली को भीमबली रुकना था लेकिन मौसम खराब होने के चलते डोली सीधे केदार धाम पहुंच गई। डोली की रात्रि पूजा अर्चना की गई। अब बुधवार 29 अप्रैल को सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर बाबा केदार के कपाट खोल दिए जाएंगे। इस मौके पर प्रशासन के अधिकारी और डोली यात्रा में पास प्राप्त लोग ही मौके पर मौजूद थे।  

पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवाने बड़ी संख्या में पहुंच रहे मजदूर

देहरादून। बिहार सरकार से डाकघर में खुले खाते में आर्थिक मदद की आस लगाए श्रमिक तड़के तीन बजे से पोस्ट ऑफिस में इंडियन पोस्ट पेमेंट बैंकिंग (आईपीपीबी) का खाता खुलवाने पहुंच रहे हैं।

अभी तक विभागीय अधिकारियों ने बिहार सरकार की तरफ से खाते में पैसे भेजने की जानकारी से इनकार किया है। मंगलवार तड़के तीन बजे से घंटाघर स्थित जीपीओ में खाता खुलवाने के लिए श्रमिकों की लाइन लगनी शुरू हो गई। समय के साथ-साथ श्रमिकों की संख्या भी बढ़ती गई। दोपहर एक बजे तक खाते खोले जा रहे हैं।

प्रवर डाक अधीक्षक, देहरादून मंडल अनुसूया प्रसाद चमोला ने कहा कि श्रमिकों को बिहार से परिचितों ने वहां की सरकार से आर्थिक मदद देने की बात कही है, जिसके बाद ये लोग खाता खुलवाने पहुंच रहे हैं। विभाग ने बिहार के अधिकारियों से संपर्क साधा। बताया गया है कि उन्हें ऐसी किसी योजना की जानकारी नहीं है।

भूटिया ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा निर्धन नेपाली नागरिक के उपचार हेतु आर्थिक सहायता उपलब्ध कराए जाने के लिए अध्यक्ष गोरखा कल्याण परिषद टी. डी भूटिया ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया है। श्री भूटिया ने बताया कि नेपाली मूल के जीत बहादुर मगर को दिल की बीमारी के उपचार हेतु एमसीसी हार्ट हॉस्पिटल धर्मपुर में भर्ती किया गया था, उनका यहां कोई नाते रिश्तेदार न होने तथा निर्धन होने के कारण मुख्यमंत्री से उनके उपचार हेतु अनुरोध करने पर मुख्यमंत्री ने 95 हजार की धनराशि स्वीकृत की। श्री भूटिया ने इस कठिन समय में मदद के लिए मुख्यमंत्री के विशेष कार्याधिकारी जे.सी खुल्बे एवं अन्य अधिकारियों का भी आभार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि इलाज के दौरान ही जीत बहादुर की मृत्यु हो गई थी।

प्रेमचंद सोनकर व उनके सहयोगी जरूरतमंद लोगों को करा रहे हैं भोजन

देहरादून। लाक डॉउन के चलते परेशान निर्धन, गरीब तथा जरुरतमंदों की कठिनाइयों को देखते हुए उत्तरांचल अपराध निरोधक समिति के आजीवन सदस्य प्रेमचंद सोनकर द्वारा चुक्खु मौहल्ले क्षेत्र में भोजन और खाद्यान्न का वितरण किया जा रहा है। चुक्खू मोहल्ले में प्रेमचंद सोनकर और उनके साथ अनेक समाज सेवियांे द्वारा भोजन वितरण किया जा रहा है। 

इस मौके पर समाजसेवी उत्तरांचल अपराध निरोधक कमेटी देहरादून के जिला सचिव गुरजीत सिंह, तिलकराज सोनकर भोजन वितरण करते हुए कहा कि हम लोगों के द्वारा जितना भी संभव हो सकेगा उतनी मदद करेंगे, जरूरतमंदों को भूखा नहीं रहने दिया जाएगा। इस प्रकार जरुरतमंदों की निस्वार्थ सेवा करते हुए प्रेमचंद सोनकर ने बताया कि भोजन वितरण जैसे कार्य हेतु उन्होंने शासन-प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन से भी आवश्यक अनुमति लेकर ही भोजन वितरण किया जाएगा।        वहीं दूसरी ओर आनंद सोनकर ने बताया कि ऐसी महिलाएं जो लोगों के घरों में झाड़ू चैके का काम कर रही और इस समय उनका काम भी बंद होने से उन्हें जीवन यापन भारी पड़ रहा है, को तथा दिहाड़ी  मजदूरों को भोजन की व्यवस्था हमारे द्वारा की जा रही है। इस प्रकार निस्वार्थ सेवा करने वाले प्रेमचंद सोनकर तथा उनकी टीम को उत्तरांचल अपराध निरोधक समिति के प्रदेश चैयरमेन दिनेश जैन, अन्य पदाधिकारियों में कृष्णा शर्मा तथा सीमा भाटिया, कोषाध्यक्ष सरोज बाला तथा योगेश अग्रवाल- प्रदेश महासचिव, तथा जिला सचिव गुरुजीत सिंह ने बधाई दी है। उत्तरांचल अपराध निरोधक समिति के प्रदेश महासचिव योगेश अग्रवाल ने बताया कि समिति के आजीवन सदस्य प्रेम चंद सोनकर लाक डाउन के दौरान विगत कई दिनों से अपने घर पर ही भोजन पकड़वाकर जरुरतमंदों की निस्वार्थ सेवा कर रह हैं।     

सेनिटाइजर और फेस मास्क वितरित किये

देहरादून। पब्लिक रिलेशन सोसाइटी ऑफ इंडिया(पीआरएसआई) देहरादून चैप्टर ने राज्यपाल, बेबी रानी मौर्या के सौजन्य से हमारे कोरोना वारियर्स-पुलिस कर्मियों जो कि दिन-रात समाज के हर व्यक्ति की कोरोना महामारी से बचाव हेतु अपना योगदान दे रहे हैं, को सेनिटाईजर और फेस मास्क वितरित किये, राजभवन से नितिन उपाध्याय व पीआरएसआई देहरादून चैप्टर से अनिल सती, सचिव, संजय भार्गव, आकाश शर्मा, अमन नैथानी व सुधीर राणा मौजूद रहे। देहरादून में तैनात यातायात निरीक्षक राजीव रावत एवं अन्य पुलिस कर्मी इस अवसर पर उपस्थित रहे। पीआरएसआई देहरादून चैप्टर के अध्यक्ष अमित पोखरियाल, कोषाध्यक्ष सुरेश भट्ट, संयुक्त सचिव राकेश डोभाल सहित अन्य सभी पदाधिकारियों ने सैनिटाइजर व फेस मास्क उपलब्ध कराने पर उत्तराखंड राजभवन को धन्यवाद प्रेषित किया है, और सभी लोगों को सरकारी गाइडलाइन को मानते हुए स्वस्थ व लाकडाउन पीरियड में अपने घरों पर रहने की सलाह दी है।

सर्वत्र टेक्नोलॉजीज ने ग्रामीण भारत में प्रदान की घरों पर कैश डिलीवरी की सुविधा

देहरादून। कोविड-19 कारण लागू लॉकडाउन के दौरान सर्वत्र टेक्नोलॉजीज के बहुउपयोगी पीएस साॅल्यूशन पूरे देश में, विशेषकर ग्रामीण भारत में निर्बाध बैंकिंग को संचालित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हंै। सर्वत्र 600 से अधिक बैंकों के लिए विभिन्न भुगतान प्लेटफार्मों पर नकदी निकासी, नकदजमा, धनहस्तांतरण, आदि जैसे निर्बाध सेवाओं को सुनिश्चित करने का दायित्व पूरी तरह से निभा रहा है। इनमें छोटे सहकारी बैंकों से लेकर एससीबी और डीसीसीबी तक शामिल हैं, जो 30 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैले हुए हैं। इनमें आईसीआईसीआई बैंक, आईडीबीआई बैंक, पंजाबनेशनल बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र जैसे बड़े बैंकों के अलावा नई पीढ़ी के स्माॅल फाइनेंस बैंक जैसे इक्विटास, जना और कैपिटल भी शामिल हैं।

सर्वत्र टेक्नोलॉजीज के चेयरमैन वल्लभ भंसाली ने कहा, ‘‘यह हमारे विश्वास और हमारी कोशिशों का ही नतीजा है कि हमने देश के ग्रामीण लोगों और बैंकों को शहरवासियों के समान किफायती कीमतों पर डिजिटल सेवाएं प्रदान की हंै। इन अर्थों में सर्वत्र में हम अपने को कोविड-19 के योद्धाओं के समान ही समझते हैं, जो कि अपने मजबूत एकीकृत और इंटरआॅपरेबल प्लेटफाॅर्म केमाध्यम से अपने लोगों को उनकी जरूरत के मुताबिक महत्वपूर्ण सेवाएं प्रदान कर रहे हैं । हमारा उद्देश्य समाज के सबसे निचले हिस्से में शीर्ष तकनीकों को पहुंचाना और दूरस्थ व्यक्ति के वित्तीय समावेश न में मदद करना है। ग्रामीण भारत में आज भी पर्याप्त बैंकिंग बुनियादी सुविधाओं की कमी है और साथ ही इनइला कों में एटीएम और पीओएस मशीनों की भी बेहद कमी है। सर्वत्र से पहले छोटे सहकारी बैंकों के लिए अपने स्वयं के विश्व-स्तरीय डेटासेंटर और भुगतान बुनियादी ढांचे को स्थापित करना मुश्किल था, क्योंकि इन सुविधाओं पर बहुत अधिक धनराशि खर्च करनी होती है । ऐसी सूरत में अपने पीएएस मॉडल के साथ, सर्वत्र नवीनतम भुगतान प्लेटफार्मों (डेबिटकार्ड, एटीएम, पीओएस, ई-कॉम, एईपीएस, बीबीपीएस, आईएमपीएस, यूपीआई, आदि) और डिजिटल भुगतान सेवाओं और ऐप्स की सुविधा प्रदान कर रहा है, जिन्हें तुरंत चालू करते हुए इनका उपयोग किया जा सकता है।  

एचडीएफसी बैंक हरिद्वार में मोबाइल एटीएम की तैनाती की

-मोबाइल एटीएम सुविधा सुबह 8 से दोपहर 1 बजे के बीच संचालित

 

हरिद्वार। एचडीएफसी बैंक ने आज हरिद्वार सिटी में लॉकडाउन के दौरान ग्राहकों की सहायता के लिए मोबाइल ऑटोमेटेड टेलर मशीन (एटीएम) की तैनाती की। मोबाइल एटीएम नकदी निकालने के लिए इलाके से बाहर जाने की आवश्यकता को कम करेगा। हरिद्वार शहर से पहले, बैंक ने मुंबई, नई दिल्ली, इलाहाबाद, कोयम्बटूर, चंडीगढ़, चेन्नई, पुणे, हैदराबाद, भुवनेश्वर, अहमदाबाद, बेंगलुरु, गुवाहाटी, जयपुर, रांची और इंदौर में ऐसे मोबाइल एटीएम तैनात किए हैं। हरिद्वार शहर में सभी स्थानीय नगरपालिका अधिकारियों के परामर्श से तैनाती के स्थानों की पहचान की जा रही है।

मोबाइल एटीएम एक निश्चित अवधि के लिए प्रत्येक स्थान पर चालू होगा। इस अवधि के दौरान, मोबाइल एटीएम एक दिन में सुबह 8 से 1 बजे के बीच 3-5 स्टॉप को कवर करेगा। इन मोबाइल एटीएम में कर्मचारियों और ग्राहकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एटीएम और स्वच्छता के लिए कतार में रहते हुए सामाजिक भेद को बनाए रखने के संदर्भ में सभी आवश्यक सावधानियां बरती जा रही हैं। अखिलेश रॉय, शाखा बैंकिंग प्रमुख, एचडीएफसी बैंक, प्रसार ने कहा इस कठिन समय के दौरान, हम हर किसी की मदद करना चाहते हैं। हमारे मोबाइल एटीएम सुविधा से हमारे ग्राहकों और आम जनता को आसानी से नकद निकासी और अन्य सुविधाओं तक पहुँच मिल जाएगी क्योंकि हम कोविद 19 प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए एक साथ खड़े हैं।

भाजपा का 10 लाख फेस कवर निर्माण का लक्ष्य

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर प्रदेश भाजपा ने फेस कवर निर्माण व वितरण के लिए युद्ध स्तर पर अभियान छेड़ दिया है। भाजपा के प्रदेश महामंत्री (संगठन) अजेय ने महानगर में विभिन्न स्थानों का भ्रमण कर मास्क निर्माण कार्य का जायजा लिया।

प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा जनता के नाम संदेश से लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधन में तक कोरोना वायरस से संक्रमण से बचने के लिए लगातार फेस कवर का उपयोग करने का आह्वान किया जा रहा है। आज मन की बात कार्यक्रम के दौरान एक बार फिर प्रधानमंत्री ने फेस कवर के इस्तेमाल को लेकर लोगों से आग्रह किया। प्रधानमंत्री के आग्रह के क्रम में भाजपा द्वारा प्रदेश भर में महिला कार्यकर्ताओं को फेस कवर निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी गई है। भाजपा के प्रदेश महामंत्री (संगठन) अजेय ने आज राजधानी में देहरादून में चल रहे कुछ फेस कवर निर्माण केंद्रों का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने फेस कवर को अपरिहार्य मानते हुए इसे सभ्य समाज की पहचान के रूप में बताया है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने प्रदेश में 10 लाख फेस कवर निर्माण का लक्ष्य रखा है। अकेले देहरादून महानगर के 1.5 लाख फेस कवर निर्माण किए जाने हैं। उन्होंने बताया कि राजधानी में अब तक लगभग 50,000 मास्क बन चुके हैं। उन्होंने प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी  के आह्वान पर फेस कवर निर्माण में जुटीं प्रदेश की सभी महिला कार्यकर्ताओं का धन्यवाद भी व्यक्त किया। इधर, भाजपा ने लॉक डाउन के दौरान जरूरतमदों की मदद के लिए चलाए जा रहे विशेष अभियान में शनिवार तक 16,66,195 भोजन पैकेटों का वितरण किया। इसके साथ ही 1,82,898 लाख सूखे राशन व अन्य जरूरी सामग्री के पैकेट वितरित किए हैं। पार्टी द्वारा प्रदेश में 28 मार्च से यह अभियान चलाया जा रहा है।

भाजपा प्रदेश संगठन ऑडियो व वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद स्थापित रहा

देहरादून। भाजपा द्वारा लॉक डाउन के दौरान चलाई जा रही विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा व कार्यकर्ताओं के साथ समन्वय के लिए संवाद की विस्तृत श्रृंखला शुरू की गई है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी अजेंद्र अजय ने बताया कि पार्टी द्वारा कोरोना संकट के दौरान जरूरतमंदों की मदद व अन्य कई गतिविधियां संचालित की जा रही हैं। इन गतिविधियों के संचालन की समीक्षा के लिए प्रदेश संगठन द्वारा ऑडियो व वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद स्थापित किया जा रहा है। 

पार्टी विधायकों से समन्वय के लिए बनाए गए विधान सभा समन्वयकों और जिलों में स्थापित कंट्रोल रूम के प्रमुखों से क्रमशः प्रदेश महामंत्री (संगठन) अजेय व महामंत्री कुलदीप कुमार द्वारा वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात की जा चुकी है। 29 अप्रैल को प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत गढ़वाल क्षेत्र व प्रदेश महामंत्री (संगठन) अजेय कुमाऊं क्षेत्र के विधायकों से चर्चा करेंगे। 30 अप्रैल को प्रदेश अध्यक्ष व महामंत्री (संगठन) सरकार में दायित्वधारियों, 1 मई को प्रदेश अध्यक्ष पार्टी के जिला समन्वयकों व वरिष्ठ जनों के साथ अलग-अलग संवाद करेंगे। 3 मई को प्रदेश अध्यक्ष व महामंत्री (संगठन) सभी जिला अध्यक्षों से बातचीत करेंगे। भाजपा मीडिया प्रभारी ने बताया कि इस ऑडियो व वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए निचली इकाई तक के कार्यों की समीक्षा की जाएगी। खास कर पीएम केयर व मुख्यमंत्री राहत कोष में सहयोग, भोजन पैकेट वितरण व मोदी किचन, आरोग्य सेतु एप डाउनलोड, फेस कवर निर्माण व वितरण, कोरोना वारियर्स के सम्मान, क्षेत्र के प्रतिष्ठित जनों से संवाद आदि को लेकर चर्चा की जाएगी।

सरस्वती विहार विकास समिति ने 425 भोजन के पैकेट वितरित किए

देहरादून। सरस्वती विहार विकास समिति अजबपुर खुर्द देहरादून द्वारा लगातार 30 दिनों से भोजन के पैकेट वितरित किए जा रहे हैं। मंगलवार को 425 खाने के पैकेट हरिद्वार बाईपास पुलिस चैकी के माध्यम से वितरित किए गए। समिति के अध्यक्ष पंचम सिंह बिष्ट ने कहा कि आज हमको खाने के पैकेट वितरण करते हुए एक महिना हो गया है जब हम लोगों ने शुरू किया था तो हमको  इसका अनुमान ही नहीं था कि यह पुनीत कार्य इतना लंबा चलेगा लेकिन सभी क्षेत्रवासियों का युवाओं का और मातृशक्ति का समिति को लगातार सहयोग मिल रहा है जिसके फलस्वरूप समिति इस अभियान को लगातार आगे बढ़ा रही है और रोजाना 300 से 400 भोजन के पैकेट  नेहरू कॉलोनी थाने के अंतर्गत वितरित किए जा रहे हैं और आगे भी इसी जोश के साथ यह कार्य किया जाएगा

         समिति के सचिव गजेंद्र भंडारी ने कहा कि इस अभियान में क्षेत्र के बुजुर्गों का महिलाओं का और युवा शक्ति का विशेष सहयोग मिल रहा है  समिति एक छोटी सी अपील कर रही है जिसको लोग बहुत ही गंभीरता से ले रहे हैं और इस अभियान में जुड़ रहे हैं श्री गजेंद्र भंडारी ने कहा कि  हम रोज की गतिविधियां अपने फेसबुक व व्हाट्सएप के माध्यम से अपडेट करते हैं जिसके फल स्वरुप मेरे कुछ दोस्त विदेश में रहते हैं और उन्होंने  समिति के इस पुनीत कार्य की सराहना की और इस अभियान से अपना अंशदान  भी दिया जिसमें सर्वप्रथम श्री अनिल नेगी मलेशिया से 10000 श्रपंकज खाली अमेरिका से 10000  प्रवीण मेहरा नोएडा से  रु 1500 है और भी कई दोस्तों ने अपना अंशदान देने की बात कही समिति इन सभी लोगों का आभार प्रकट करती है कि इस मुसीबत की घड़ी में वह लोग विदेशों में होते हुए भी अपने  प्रदेश के बारे में चिंतित है इसके साथ समिति उन नौजवान युवाओं का भी  आभार प्रकट करती है जो दिन रात इस अभियान को सफल बनाने में कड़ी मेहनत कर रहे हैं। इस अवसर पर समिति के अध्यक्ष पंचम सिंह बिष्ट सचिव गजेंद्र भंडारी वरिष्ठ उपाध्यक्ष बीएस चैहान उपाध्यक्ष कैलाश तिवारी कनिष्ठ मंत्री सुबोध मैठानी प्रचार सचिव सोहन सिंह रौतेला, क्षेत्रीय पार्षद विमल उनियाल, आशीष गुसाईं, दीपक काला, नितिन मिश्रा, पुष्कर सिंह गुसाईं, कैलाश रमोला, कमल भंडारी, दीपक रावत, विनोद पुंडीर फौजी भाई, अनिल गुसाईं, मुकेश पोखरियाल, उपेंद्र काला, कुलानंद पोखरियाल, दयाराम कंसवाल संतोष नेगी आदि उपस्थित रहे।

दीप्ति रावत ने अपने एक माह के वेतन का चेक सीएम को सौंपा

देहरादून। दर्जाधारी राज्यमंत्री उच्च शिक्षा उन्नयन सलाहकार समिति की उपाध्यक्ष दीप्ति रावत भारद्वाज ने कोरोना महामारी के चलते अपने एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में प्रदान किया। दीप्ति रावत भारद्वाज ने आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से भेंट कर अपने एक माह के वेतन का चेक उन्हें सौंपा।

छुट्टियों के दौरान भी मिड डे मील का लाभ डीबीटी के माध्यम से छात्रों को मिलेगाः निशंक

देहरादून। शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने मंगलवार को सचिवालय में केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक द्वारा देश के सभी राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के शिक्षा मंत्रियों एवं सचिवों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई बैठक में प्रतिभाग किया। केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि विद्यालयों में छुट्टियों के दौरान भी मिड डे मील का लाभ डीबीटी के माध्यम से छात्र छात्राओं को उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने इसके लिए 957 करोड़ की राशि स्वीकृत की है। ज्ञताव्य हो कि गर्मियों की छुट्टियों के दौरान छात्र छात्राओं को मिड डे मील का लाभ नहीं मिलता था।

शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने कहा कि दूरदर्शन के माध्यम से राज्य में विभिन्न विषयों की कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। प्रदेश के छात्र छात्राएं इसका लाभ ले रहेहैं। उन्होंने केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री से प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों में कनेक्टिविटी में सुधार हेतु टेलीकॉम कंपनियों को निर्देशित करने का भी सुझाव दिया। उन्होंने कक्षा 1 से कक्षा 8 तक के लिए 4 हफ्ते का पाठयक्रम जारी करने पर केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इससे लॉक डाउन के मध्य विद्यालयों एवं बच्चों को सेलेक्टिव पाठयक्रम से काफी आसानी होगी। बैठक के उपरान्त शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने सचिव शिक्षा आर मीनाक्षी सुंदरम को निर्देश दिए कि प्रदेश के 4 बड़े जनपदों देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल एवं उधमसिंह नगर सहित सभी जनपदों के प्राइवेट स्कूलों पर एनसीईआरटी की पाठ्य पुस्तकों को सख्ती से लागू करवाया जाए। ऐसे स्कूलों पर सख्त कार्यवाही की जाए। उन्होंने सभी जनपदों से ऐसे स्कूलों पर भी सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं, जो स्कूल शुल्क बढ़ा रहे हैं अथवा अभिभावकों पर शुल्क जमा करने का दबाव बना रहे हैं। साथ ही शिक्षा मंत्री श्री पाण्डेय ने उन अधिकारियों की भी रिपोर्ट मांगी है जो अपने क्षेत्रों के प्राइवेट स्कूलों में एनसीईआरटी की पाठ्य पुस्तकें लागू करवाने में नाकाम रहे हैं। ऐसे अधिकारियों को नोटिस जारी करते हुए कठोर कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। इस अवसर पर सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम और डॉ0 मुकुल कुमार सती भी उपस्थित थे। 

वन गुर्जरों के उत्पादों को आंचल के माध्यम से प्रोसेस्ड किया जाए

-मुख्य सचिव ने दिए वन गुर्जरों और उनके पशुओं की संख्या का डाटा तैयार करने के निर्देश 

 

देहरादून। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने मंगलवार को सचिवालय में वन गुज्जरों के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ बैठक की। मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि प्रदेशभर में विभिन्न स्थानों में रह रहे वन गुज्जरों के परिवारों की संख्या, परिवार में सदस्यों की संख्या एवं उनके पशुओं की संख्या का डाटा शीघ्र तैयार कर लिया जाए ताकि वन गुज्जरों के राशन एवं पशुओं के चारे की उचित व्यवस्था की जा सके। उन्होंने कहा कि पशुपालन विभाग के माध्यम से पशुओं के चारे की व्यवस्था की जाएगी। वन गुज्जरों के उत्पादों को आंचल के माध्यम से प्रोसेस्ड किया जा सकता है। इसके लिए सभी सम्बन्धित विभाग मिलकर कार्य करें।

बैठक में मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि कोविड-19 के कारण वन गुज्जरों के ग्रीष्मकालीन प्रवास को पूर्णतः प्रतिबंधित रखा जाए। वन अधिकारियों एवं अन्य सम्बन्धित विभागों द्वारा वन गुज्जरों में कोविड-19 के संक्रमण को रोकने हेतु जागरूकता अभियान चलाया जाए। मुख्य सचिव ने सील किए गए वन गुज्जर क्षेत्र में राशन एवं पशुओं के चारे की उचित व्यवस्था के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि वन गुज्जरों के राशन एवं पशुओं के चारे की समस्या ना हो, इसकी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं। उन्होंने कहा कि वन गुज्जरों एवं उनके पशुओं का समय समय पर हेल्थ चेकअप किया जाए। इस अवसर पर प्रमुख सचिव आनन्द वर्धन, प्रमुख वन संरक्षक जयराज एवं सचिव पशुपालन आर मीनाक्षी सुंदरम भी उपस्थित थे।

20 अप्रैल से अभी तक 1171 उद्योगों को संचालन की अनुमति दी गईः सीएम 

-सीएम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सी.आई.आई की उत्तर भारत वर्चुअल कॉन्फ्रेंस में किया प्रतिभाग

 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सी.आई.आई. द्वारा आयोजित उत्तर भारत वर्चुअल कॉन्फ्रेंस में प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि कोरोना महामारी से भारत ही नहीं बल्कि विश्व की अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है। देश में औद्योगिक गतिरोध उत्पन्न हुआ है, इस कान्फ्रेंस से नई आशा एवं विश्वास का संचार होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि 22 मार्च से प्रदेश में लॉक डाउन हो गया था। प्रदेशवासियों एवं उद्योग जगत ने संयम से लॉक डाउन का पालन किया है। उत्तराखंड में अभी तक कोरोना के 51 पाजिटिव मामले आए हैं, जिसमें से 33 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। उत्तराखंड के पर्वतीय जिले कोरोना के प्रभाव से मुक्त हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि सी.आई.आई. समाज के सक्षम वर्ग का प्रतिनिधित्व करता है और ऐसे समय में सी.आई.आई अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन सरकार के साथ कन्धे से कन्धा मिलाकर कर रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में सी.आई.आई. की राज्य ईकाई निरन्तर राज्य सरकार के सम्पर्क में रही है। मुख्यमंत्री राहत कोष में भी उद्योग जगत के प्रतिनिधियों ने अहम योगदान दिया है।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि भारत सरकार के आदेश के बाद राज्य में उद्यमियों की सुविधा के लिए उद्योग के संचालन की अनुमति हेतु एकल खिड़की की व्यवस्था की गई है। इस व्यवस्था के माध्यम से 20 अप्रैल से अभी तक 1171 उद्योगों को संचालन की अनुमति दी गई है। लॉक डाउन की अवधि में कोविड-19 से सुरक्षा हेतु आवश्यक उपायों के दृष्टिगत आवश्यक वस्तुओं का उत्पादन करने वाली ईकाइयों को बंदी से मुक्त रखा गया है। राज्य में फार्मा तथा खाद्य पदार्थ उत्पादन की 1884 ईकाइयों के संचालन की अनुमति दी गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि आई.टी.सी, हिन्दुस्तान यूनिलीवर, नेस्ले, ब्रिटानिया व डाबर जैसे बड़े उद्योग अपना उत्पादन प्रारम्भ कर चुके हैं। ऑटो सेक्टर की टाटा मोटर्स, हीरो मोटोकॉर्प, अशोका ली लैंड व महिन्द्रा ने भी उत्पादन प्रारम्भ कराने के लिए पूरी तैयारी कर ली है। कोविड-19 आपदा से राज्य की आर्थिकी पर पड़ रहे दुष्प्रभावों के निराकरण के लिए प्रदेश की आर्थिकी को सुदृढ़ करने के विभिन्न उपायों एवं विकल्पों का त्वरित अध्ययन कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए सेवानिवृत्त आई.ए.एस अधिकारी इन्दु कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सिडकुल औद्योगिक क्षेत्रों में लीज, रेंट के भुगतान की अन्तिम तिथि 30 अप्रैल 2020 से बढ़ाकर 30 जून 2020 तक विस्तारित किया गया है। लम्बित जल संयोजन, उपयोग प्रभार, सीवर शुल्क आदि भुगतान करने की तिथि 31 मई 2020 तक, जल एवं वायु प्रदूषण नियंत्रण अधिनियम के तहत सहमति के स्वतः नवीनीकरण की तिथि 30 जून 2020 तक बढ़ाई गई है। इसके अलावा भवन एवं अन्य निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों को 2-2 हजार रूपये की वित्तीय सहायता दी गई है। मार्च से मई 2020 तक औद्योगिक और वाणिज्यिक श्रेणी के विद्युत उपभोक्ताओं से फिक्स्ड डिमाण्ड चार्ज के भुगतान में आस्थगन की सुविधा तथा विलम्ब से बिलों के भुगतान में लेट सरचार्ज में छूट एवं लॉक डाउन के दौरान विद्युत बिल भुगतान करने में असमर्थ रहने पर विद्युत संयोजन काटने पर रोक लगाई है। इस अवसर पर प्रमुख सचिव उद्योग मनीषा पंवार एवं उद्योग निदेशक सुधीर नौटियाल भी उपस्थित थे।

नगर पालिका ने कराया एक्सपायरी कीटनाशक का छिड़काव, मुकदमा दर्ज

रुड़की। मंगलौर नगर पालिका की तरफ से इलाके में किये गये एक्सपायरी डेट की कीटनाशक दवाओं के छिड़काव का मामला गरमाया हुआ है। एक्सपायरी डेट की कीटनाशक दवाओं के छिड़काव को लेकर मंगलौर के सभासदों ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट से शिकायत की थी। मंगलौर सेक्टर मजिस्ट्रेट की तरफ से मामले की जांच की जा रही है।

रुड़की के मंगलौर में शिकायत करने वाले सभासदों ने मंगलौर नगर पालिका के चेयरमैन और अधिशासी अधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग उठाई थी। साथ ही मांग पूरी न होने पर धरना-प्रदर्शन की चेतावनी भी दी गयी थी। सेक्टर मजिस्ट्रेट ने मंगलौर कोतवाली में नगर पालिका के खिलाफ एक्सपायरी दवाई के इस्तेमाल करने के संबंध में तहरीर दी है। तहरीर के आधार पर अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच मंगलौर चैकी इंचार्ज को सौंपी गई है। एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह ने बताया कि सभासदों की तरफ से एक्सपायरी कीटनाशक दवाओं के छिड़काव का मामला संज्ञान में लाया गया है। जिसके बाद विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है।

भूमिहीन गरीबों को दे रहे हैं राहत

उत्तरकाशी। कोरोना महामारी की लड़ाई में देश-प्रदेश के कई लोग किसी न किसी रूप में अपना योगदान दे ही रहे हैं। पुरोला के ग्रामीण भी इस संकट की घड़ी में अपने सामर्थ्य के अनुसार राशन जमा कर अपना योगदान दे कर नई मिसाल कायम कर रहे हैं। जहां विकासखंड पुरोला क्षेत्र के कई ग्रामीणों ने अपने प्रधानों के आह्वानों पर चावल, आटा, नमक, तेल जमा कर प्रशासन को सौंपा। सोमवार को प्रधान संगठन ने प्रखंड के सभी गांवों से एकत्रित खाद्यान जिसमें 837 किलो चावल, 240 किलो आटा, 48 किलो तेल व 50 किलो नमक प्रशासन को सौंपा। संगठन के अध्यक्ष अरविंद पंवार ने बताया कि देश इस समय बहुत ही संकट की घड़ी से गुजर रहा और इस समय हम सब का कर्तव्य बनता है कि अपने सामर्थ्य के अनुसार योगदान दें। उन्होंने बताया कि हमारे क्षेत्र में कई बाहरी लोग जो रोजी रोटी के लिए यहां पर आये थे, किंतु लॉकडाउन की वजह से यहीं पर फंस गए हैं और अब उनके पास खाने का संकट पैदा हो गया है, तो हमारा कर्तव्य बनता है कि हमारे क्षेत्र में इस प्रकार लोग भूखे न रहें। कहा कि इन सब परेशानियों को देखते हुए ग्रामीणों की मदद से रसद इकठ्ठी कर प्रशासन को सौंपा गया। वहीं उपजिलाधिकारी आईएएस मनीष कुमार ने संगठन के इस कार्य को सभी के लिए प्रेरणादायक बताया और कहा कि संकट की इस घड़ी में ग्रामीणों द्वरा दी गयी। यह मदद असहाय लोगो के लिए बहुत बड़ी मदद साबित हो रही है।ं

पुलिस ने की अफीम खेती नष्ट

उत्तरकाशी। पुरोला के मटियाली छानी में राजस्व पटवारी की सूचना व एसडीएम पुरोला के निर्देश पर पुलिस ने सोमवार को नौगांव मोटर मार्ग हुडोली के समीप मटियाली छानी में अवैध अफीम पोस्त की खड़ी फसल नष्ट किया। वहीं 11 उत्पादकों के विरुद्ध एनडीपीएस एक्ट के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया है।राजस्व उप निरीक्षक उपेंद्र राणा ने रविवार को उपजिलाधिकारी पुरोला को तहसील मुख्यालय से लगभग 8 किमी पुरोला-नौगांव मोटर मार्ग पर हुडोली के समीप मटियाली छानी में खेतों में प्रतिबंधित अफीम की खेती उगानें की सूचना दी। जिस पर उपजिलाधिकारी मनीष कुमार ने थाना पुलिस को प्रतिबंधित अफीम खेती नष्ट करनें के निर्देश दिये। सोमवार को चैकी प्रभारी चंद्रशेखर नौटियाल के नेतृत्व में पुलिस टीम ने मटियाली छानी में 0.137 हेक्टेयर फसल नष्ट कर मटियाली गांव के 11 लोगों अजयपाल सिंह पुत्र नौनिहाल सिंह, सुमित्रा देवी पत्नी अबल लाल, केदार सिंह पुत्र कुंदन सिंह, पिनाठिया पुत्र जबर सिंह, कृपाल सिंह पुत्र रणजोर सिंह, संदीप सिंह पुत्र सुमन प्रसाद, तारी देवी पत्नी श्यामलाल, जीत सिंह लाखीराम, प्रेम सिंह पुत्र गंगा सिंह, भजन सिंह पुत्र रतन सिंह, रमेश पुत्र दुर्गू के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। हालांकि ग्रामीणों ने कहा कि गांव में कोई भी अफीम की खेती नही करते हैं केवल घरेलू उपयोग हेतु पोस्त को त्यौहार व मेलों में विभिन्न पहाड़ी पकवानों के रूप में किया जाता है। चैकी प्रभारी चंद्रशेखर नौटियाल ने बताया कि उपजिलाधिकारी के निर्देश पर हुडोली के समीप मटियाली छानी में प्रतिबंधित अफीम पोस्त की 0.137 हेक्टेयर फसल नष्ट कर 11 ग्रामीणों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज कर दिया गया है।

पोस्टर, बैनर, कार्टून से कर रहे जागरूक

पौड़ी। राठ महाविद्यालय पैठाणी के बीएड के छात्र-छात्राएं ऑनलाइन पोस्टर, बैनर, कार्टून बनाकर लोगों को लॉक डाउन का पालन करने और कोरोना वायरस से बचने को लेकर जागरूक कर रहे है। सोशल मीडिया पर इन पोस्टर व बैनरों को डालकर लोगों को लॉक डाउन व सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने की अपील की जा रही है। साथ ही लोगों को जागरूक भी किया जा रहा है। इसमें महाविद्यालय के प्रो. अरविंद कुमार ने भी छात्र-छात्राओं को सहयोग किया। लोगों को बीएड की छात्रा सोनाली अग्रवाल, सूरज, प्रवीन कोठियाल, अमित बिष्ट, अनिशा पंवार, कुलवीर, शालिनी बड़थ्वाल, वर्षा, सोनाली बहुगुणा, रूचि गोस्वामी, दीपिका, शिवानी, सरोज, रविंद्र पोस्टर, बैनर व कार्टून बनाकर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने को लेकर जागरूक कर रहे है।

मेडिकल कॉलेज को कोरोना जांच की मिली मंजूरी

श्रीनगर। सरकार द्वारा गढ़वाल के लिए कोविड 19 जांच हेतु मेडिकल कॉलेज को बनाये गये मुख्य केन्द्र में अब कोरोना सैंपल की जांच हो पायेगी। जिसके लिए पीजीआई चढ़ीगढ़ एवं आईसीएमआर से श्रीनगर मेडिकल कॉलेज की कोरोना लैब में जांच हेतु मंजूरी मिल गई है। जिससे अब गढ़वाल क्षेत्र से संदिग्ध व्यक्ति की कोरोना सैंपल जांच श्रीनगर मेडिकल कॉलेज में हो पायेगी। इससे प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के समय और बजट की बचत हो पायेगी। राजकीय मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सीएमएस रावत ने बताया कि मेडिकल कॉलेज में स्थापित कोरोना जांच लैब में कोरोना जांच सैंपल हेतु मंजूरी मिल गई है। अब मेडिकल कॉलेज की लैब में ही कोरोना सैंपल की जांच हो पायेगी। विदित है कि कुछ दिनों पूर्व श्रीनगर मेडिकल कॉलेज से माइक्रोबॉयोलॉजी की विभागाध्यक्ष के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम प्रशिक्षण हेतु पीजीआई चंडीगढ़ गई थी। प्रशिक्षण लेकर श्रीनगर मेडिकल कॉलेज पहुंचकर राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने जांच लैब का विविधत उद्घाटन किया था। जिसके बाद पीजीआई से कुछ सैंपल यहां जांच के लिए भेजे गये थे। सैंपल की जांच सही पाये जाने के बाद पीजीआई से मंजूरी मिली है। श्रीनगर मेडिकल कॉलेज में कोरोना संदिग्ध मरीज का सैंपल की जांच अब आसानी से हो पायेगी। इससे जहां गढ़वाल भर से आने वाले सैंपल की जांच मेडिकल कॉलेज में होगी। वहीं प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को सैंपल भेजे जाने हेतु मैदानी क्षेत्रों की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी।

फेडरेशन कर रहा जरूरतमंदों की मदद

पौड़ी। एससी-एसटी एम्प्लाइज फेडरेशन द्वारा भी कोरोना महामारी में चलते जरूरतमंदों की मदद करने का सिलसिला जारी है। फेडरेशन अभी तक कई ब्लाकों में 72 परिवारों की मदद कर चुका है। फेडरेशन के पदाधिकारियों का कहना है कि आगे भी जरूरतमंदों की मदद करने का अभियान जारी रहेगा। फैडरेशन के जिलाध्यक्ष जीएस कौंडल ने बताया कि अभी तक फेडरेशन पौड़ी ब्लाक में 40, कल्जीखाल में 10, कोट में 11 जरूरतमंदों को खाद्यान्न सामग्री के पैकेट देकर उनकी मदद कर चुका है। फेडरेशन द्वारा अभी जरूरतमंदों की सूची बनाने के साथ ही विभिन्न ब्लाकों से जरूतमंदों की जानकारी जुटाई जा रही है। कहा कि आगे भी कई ब्लाकों में जरूरतमंदों की मदद की जाएगी।

 

मास्क बनाकर आर्थिकी मजबूत करने का प्रयास

पौड़ी। कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के कारण काम धंधे ठप होने से क्यार्क गांव की महिलाओं ने आर्थिक मंदी से उबरने के लिए होममेड मास्क बनाने का निर्णय लिया है। क्यार्क गांव की महिलाएं स्कूली बच्चों के साथ मिलकर होममेड मास्क बना रही है। इन महिलाओं को मेडिकल स्टोरों से मास्क की डिमांड भी मिलने लगी है। महिलाओं का कहना है कि मास्क निर्माण से वह लॉकडाउन में परिवार की आर्थिक स्थिति सुधार करने के लिए प्रयास कर रही हैं। पौड़ी ब्लाक के क्यार्क गांव की महिलाएं परिवार की आर्थिक स्थिति बेहतर बनाने के लिए आगे आई हैं। महिलाओं का कहना है कि लॉकडाउन के चलते निजी व्यवसाय करने वाले लोगों का आर्थिक स्थिति पर प्रभाव पड़ा है। जिसे सुधारने के लिए वह घर पर मास्क बना कर मेडिकल स्टोर में बेचेंगे। इसके लिए गांव की 13 महिलाओं ने स्कूली बच्चों के साथ मिल कर होममेड मास्क बनाने का कार्य शुरू कर दिया है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता नीमा रावत ने बताया कि मास्क बनाने के लिए बाजार से कपड़ा खरीदा गया है। मास्क पंचायत घर में बनाए जा रहे हैं। मास्क बनाते समय सफाई व सोशल डिस्टेंस का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। नीमा रावत ने बताया कि उनकी प्राथमिकता है कि होममेड मास्क दुकानों मे मिलने वाले अन्य मास्कों से किफायती दाम पर उपलब्ध कराए जाएं। महिलाएं दिन में दो घंटे मास्क बनाने का कार्य रही हैं। इस दौरान कम से कम 200 मास्क तैयार किए जा रहे हैं। इसके अलावा महिलाए घर व खेती के कार्यों को भी कर रही हैं। इन महिलाओं ने अपनी ग्राम पंचायत में निशुल्क मास्क वितरित किए हैं। जो महिलाएं मशीन चलाना नहीं जानती उन्हें भी प्रशिक्षित किया जा रहा है। मास्क बेचने के लिए महिलाएं स्वास्थ्य विभाग सहित अन्य सरकारी विभागों व मेडिकल स्टोंरों से संपर्क कर रही हैं।

तीर्थपुरोहितों ने की आवासों व सामान की सुरक्षा किए जाने की मांग

टिहरी। श्री बदरीश युवा पुरोहित संगठन ने डीएम चमोली से बदरीनाथ धाम में तीर्थपुरोहितों के आवासों व वहां रखे गए सामान को पूरी सुरक्षा दिये जाने की मांग की है। युवा तीर्थपुरोहितों के अनुसार विगत कई वर्षों से कपाट खुलने से पूर्व बदरीनाथ धाम में चोरी की घटनाएं सामने आयी हैं। लॉकडाउन की स्थिति में यहां चोरी की घटनाएं बढ़ने की आशंका है। श्री बदरीश युवा पुरोहित संगठन सचिव श्रीकांत बडोला ने डीएम चमोली को ज्ञापन प्रेषित किया। ज्ञापन में बदरीनाथ धाम में कपाट बन्दी के समय होने वाली बर्फबारी से तीर्थपुरोहितो के आवासों को होने वाली क्षति का हवाला दिया गया है। संगठन सचिव का कहना है कि भारी बर्फवारी से हर साल धाम में कई आवास क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। इससे वहां रखे गए सामान के चोरी होने की सम्भावना बन जाती है। कपाट खुलने पर भारी बर्फवारी से टूटे घरों मे काफी सामान तीर्थपुरोहितों को गायब मिलता है। बदरीनाथ धाम में मुख्य तीर्थपुरोहित के तौर पर देवप्रयागवासियों के 75 फीसदी आवास हैं। नारायण पर्वत के अधिकांश हिस्से मे तीर्थपुरोहितों के पुस्तैनी बसावट हैं। जबकि नर पर्वत पर भी उनके पचास फीसदी निवास हैं। ऐसे में बर्फवारी से सबसे अधिक नुकसान तीर्थपुरोहितों को ही उठाना पड़ता है। श्री बदरीश युवा पुरोहित संगठन के अनुसार कोरोना के चलते देवप्रयाग से तीर्थपुरोहितों का बदरीनाथ धाम जाना अभी संभव नहीं है। मगर बदरीनाथ धाम में कई तरह से आवाजाही धीरे-धीरे बढ़ने लगी है। जिसको देखते तीर्थपुरोहितों में अपने आवासों व वहां रखे गए सामान की सुरक्षा को लेकर भी चिंता बढ़ने लगी है। संगठन ने डीएम चमोली से धाम में लॉकडाउन की स्थिति मे उनके आवासों व सामान की पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था बनाये जाने की मांग की है।

Featured Post

कोरोना काल के पश्चात राफ्टिंग का प्रारंभ होना बेहद सुखदः महाराज

ऋषिकेश। पर्यटन व्यवसाय से जुड़े 15 हजार लोगों को पर्यटन विभाग की ओर से अब तक 7 करोड़ की धनराशि वितरित की जा चुकी है। उक्त बात गंगा नदी राफ...