Sunday, 31 May 2020

कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव निकली



देहरादून। उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज समेत 22 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इससे पहले शनिवार को उनकी पत्नी अमृता रावत कोरोना पॉजिटिव पाई गईं थी, जिसके बाद उनके सैंपल लिए गए थे। रविवार को मिली रिपोर्ट में महाराज, उनके दो बेटे और बहुएं भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उनके एक बेटे की रिपोर्ट पर संशय होने पर सैंपल दोबारा लिया जा सकता। वहीं, कर्मचारियों के सैंपल में 17 लोग पॉजीटिव पाए गए हैं, जबकि बारह की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। इनमें छह की जांच दोबारा की जाएगी।


कैबिनेट मंत्री महाराज की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अब कैबिनेट के साथ ही कई अधिकारियों को भी क्‍वारंटाइन किए जाने की संभावना है। कैबिनेट मंत्री महाराज 29 मई को कैबिनेट की बैठक में शामिल हुए। सरकार के प्रवक्‍ता और कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि अब स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की जो भी गाइडलाइन होगी, मंत्री और अधिकारी उसका अनुपालन करेंगे। उल्लेखनीय है कि गत दिवस पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज की पत्नी पूर्व मंत्री अमृता रावत की रिपोर्ट कोरोना पाॅजीटिव निकली थी। अमृता रावत को ऋषिकेष एम्स में भर्ती कराया गया है। 


 


Saturday, 30 May 2020

गुलदार ने बच्चे को बनाया निवाला, क्षेत्र में दहशत 

गोपेश्वर। भ्याड़ी गांव के मजेटी तोक में गुलदार चार साल के एक नेपाली मूल के बच्चे को उठा ले गया। ग्रामीणों ने बच्चे की खोजबीन की, लेकिन कहीं भी नहीं मिल सका। शुक्रवार सुबह घटनास्थल से करीब 400 मीटर दूर जंगल में बच्चे का सिर बरामद हो पाया। बच्चे के धड़ को गुलदार खा गया था। घटना के बाद से क्षेत्र में दहशत बनी है।

नायब तहसीलदार सुरेंद्र सिंह देव ने बताया कि बीती रात करीब 7.30 बजे नेपाली मूल के प्रेम बहादुर का चार वर्षीय पुत्र रमेश जैसे ही घर के बाहर आया, वहां पहले से ही घात लगाकर बैठे गुलदार ने उस पर हमला कर दिया और जंगल में भाग गया। शोरगुल सुनकर आसपास के ग्रामीण मौके पर पहुंचे और बच्चे की खोजबीन में जुट गए। सूचना पर वन विभाग के कर्मचारी र्मौके पर पहुंचे। शुक्रवार सुबह घटनास्थल से 400 मीटर दूर बच्चे का सिर बरामद हुआ। बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। वनक्षेत्राधिकारी बीएस परमार ने कि कहा कि बच्चे के परिजनों को तत्काल कुछ राशि देकर मुआवजे के लिए आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। कहा कि क्षेत्र में वनकर्मियों की गश्त बढ़ाकर पिंजरा लगाने की कार्रवाई की जा रही है। ग्राम पंचायत त्यूला के प्रधान नंदन सिंह रमोला ने बताया कि क्षेत्र में गुलदार का आतंक काफी समय से था। अब तक वह कई पालतू पशुओं को अपना निवाला बना चुका है।

05 लाख 26 हजार रु की धनराशि सीएम राहत कोष में दी

देहरादून। कोविड-19 के दृष्टिगत मुख्यमंत्री राहत कोष हेतु जितेन्द्र आनन्द, दि आढ़ती एसोसियेशन (रजि.) फ्रूट एंड वेजिटेबल न्यू सब्जी मण्डी निरंजनपुर, देहरादून के माध्यम से विभिन्न महानुभावों द्वारा 05 लाख 26 हजार रूपये की धनराशि सौंपी गई।

 

 

देहरादून जिले में 57 लोगों की जांच रिपोर्ट कोरोना पाॅजिटिव मिली 

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया है आज कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत 227 सैम्पल जाचं हेतु भेजे गये तथा 116 सैम्पल प्राप्त हुए जिनमें सभी 57 व्यक्तियों की जांच रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त होने के फलस्वरूप जनपद में कोरोना पाॅजिटिव संक्रमितों की संख्या 147 हो गयी है, जिनमें 44 व्यक्ति स्वस्थ हो गये हैं तथा वर्तमान में 97 व्यक्ति उपचाररत् हैं एवं 3 व्यक्ति अन्य प्रदेश के हैं।  

विज्ञप्ति जारी किये जाने तक अन्य राज्यों से आने वाले कुल 227 व्यक्तियों की सैम्पलिंग संकलित की गयी जिनमें, दून अस्पताल में 9, श्री महन्त इन्दिरेश में 30 तथा सैन्य अस्पताल में 3, हिमालय अस्पताल में 3, आशारोड़ी में 23, रायवाला में 4, बिधोली में 110, निरंजनपुर मण्डी में 13, आईटीआई कालेज में 32, सैम्पल शामिल हैं। इसके अतिरिक्त 86 व्यक्तियों की रैण्डम सैम्पलिंग की गयी जिसमें महाराणा प्रताप स्पोर्टस कालेज रायपुर में 10, निरंजनपुर मण्डी में 76 सैम्पल शामिल हैं।

जनपद में आज आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा कुल 42698 व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी की की गयी। इसी प्रकार आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा जनपद में होम क्वारेंटीन किये गये कुल 564 व्यक्तियों की निगरानी का कार्य किया गया। इसी क्रम में अन्य राज्यों से जनपद में पंहुचे कुल 1178 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण एवं सैम्पल प्राप्त करने के उपरांत संस्थागत क्वारेंटाइन किया गया। इसके अतिरिक्त आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों 4 टीमों द्वारा देहरादून शहर कन्टेंमेंट जोन में 78 व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी का कार्य किया, जिसमें कन्टेंमेंट जोन गुरूरोड गांधीग्राम में 1 व्यक्ति को सर्दी, जुकाम, बुखार के लक्षण पाये जाने पर मेडिकल टीम को सन्दर्भित कर दिया गया।

कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत लाॅक डाउन अवधि के दौरान जनपद में बनाये गये 2 राहत शिविरों में ठहरे हुए 20 व्यक्तियों का चिकित्सकों एवं परामर्शदाताओं द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण उपरान्त कांउसिलिंग प्रदान की गयी। कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत दिहाड़ीध्मजदूरी करने आये 9 श्रमिकों जिन्हे जैनधर्मशाला  में  बनाये गये राहत शिविर में ठहराया गया है, की साईकेट्रिक सपोर्ट टीम द्वारा रिवाइस्ड कांउसिलिंग की गयी। आज विभिन्न ड्यूटियों में तैनात कार्मिकों को 147 एन-95 मास्क,  5120 ट्रीपल लेयर मास्क, 54 पीपीई किट, 50 वीटीएम वायल, 200 सेनिटाईजर, 1045 सर्जिकल गलब्स, 1000 एग्सामिनेशन गलब्स  वितरित किये गये। कोरोना वायरस संक्रमण कोविड-19 की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु समस्त मेडिकल स्टोर पर बिना चिकित्सक के परामर्श की पर्ची के सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयों का विक्रय प्रतिबन्धित किये जाने के उपरान्त समस्त मेडिकल स्टोर स्वामियों द्वारा जनपद में कुल 112 व्यक्तियों को चिकित्सकीय पर्ची के आधार पर सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयां विक्रय की गयी।

जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट पर पहंुचे 102 प्रवासियों को होटलों में संस्थागत क्वारेंटीन किया गया

देहरादून। वायु सेवा के माध्यम से जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट पर पंहुचे प्रवासी 102 व्यक्तियों को जिसमें जनपद रूद्रप्रयाग के 5, चमोली के 4, उत्तकाशी के 2, पौड़ी गढवाल के 3, हरिद्वार के 2 तथा  उत्तरप्रदेश के  5 एवं दिल्ली के 1 व जनपद देहरादून के 80 व्यक्त्यिों को  स्वास्थ्य जांच उपरान्त जनपद में प्रशासन द्वारा अधिग्रहित विभिन्न होटल में संस्थागत क्वारेंटीन किया गया है। इसी प्रकार जनपद के जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट से विभिन्न प्रदेशों के 161 व्यक्तियों को गंतव्यों हेतु भेजा गया।

जनपद के  विभिन्न चयनित स्थानों पर प्रशासन द्वारा अधिकृत 12 मोबाईल वैन के माध्यम से सस्ते  दरों पर 94.50 क्विंटल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया। जिला प्रशासन की टीम द्वारा जनपद के ऋषिकेश नगर निगम क्षेत्र में अवस्थित आशुतोष नगरध्बैराज रोड ऋषिकेश में खाद्य एवं दैनिक उपयोग की आवश्यक सामग्री उपलब्ध करवाई गयी। जिलापूर्ति विभाग कन्टेंनमेंट आशुतोष नगरध्बैराज रोड ऋषिकेश में 2 गैस सिलेण्डर वितरित किये गये। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अन्तर्गत आशुतोष नगर बैराज रोड में 499 उपभोक्ताओं को खाद्यान उपलब्ध कराया गया। दुग्ध विकास विभाग द्वारा गुरू रोड पटेलनगर में 20, ई.डब्लू.एस ब्लाक एमडीडीए में 25, सेवलाकला कन्टेंमेंट जोन में 20 ली0 आशुतोष नगर में ऋषिकेश में 30 ली0, बैराज कालोनी में 40 ली0, डांडीपुर मौहल्ला में 10, रेसकोर्स नेगी तिराहा में 10 ली0, कुल 155 ली0 दूध विक्रय किया गया। जिला प्रशासन की टीम द्वारा स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से जनपद अन्तर्गत विकासखण्ड चकराता, विकासनगर, सहसपुर, रायपुर व डोईवाला एवं तहसील सदर में कुल 961 निराश्रित पशुओं जिसमें 568 श्वान, 353 गौवंश एवं 40 अन्य पशुओं को चारा व पशु आहार उपलब्ध कराया गया।

कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डाॅ ए.के डिमरी, एवं जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी जी.सी कण्डवाल द्वारा यातायात आयुक्त कार्यालय के 35 कार्मिकों,  ओयो फ्लैगशिफ क्वारेंटीन सेन्टर में 6, होटल कमला पैलेस में 6, होटल अभिनंदन भानियावाला में 5, होटल इन्द्रलोक में 14 व्यक्तियों सहित कुल 66 व्यक्तियों को  प्रशिक्षण दिया गया । जनपद में विभिन्न विकासखण्डवार मनरेगा कार्यों के अन्तर्गत आतिथि तक 1070 निर्माण कार्य प्रारम्भ किये गये, जिनमें 14838 श्रमिकों को सैनिटाईजेशन एवं सामाजिक दूरी का अनुपालन करवाते हुए उक्त कार्य में योजित कर रोजगार उपलब्ध कराया गया।

देहरादून से 48 लोगों को विभिन्न जिलों में भेजा गया

देहरादून। जनपद देहरादून स्थित महाराणा प्रताप स्पोर्टस कालेज रायपुर से विभिन्न जनपदों के 48 व्यक्तियों को 2 बसों के माध्यम से सम्बन्धित जनपदों में भेजा गया, जिसमें, नैनीताल के 1, पिथौरागढ के 4, चम्पावत के 2, उधमसिंहनगर के 10, बागेश्वर के 2, हरिद्वार के 12, पौड़ी के 17 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण एवं थर्मल स्क्रीनिंग के उपरान्त सम्बन्धित जनपदों हेतु भेजा गया। इसी प्रकार जनपद देहरादून से 4 वाहनों ध् बसों के माध्यम से मुजफ्फरनगर उत्तरप्रदेश के 34, हिमाचल प्रदेश के 6 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण उपरान्त सम्बन्धित प्रदेशों में भेजा गया तथा मध्यप्रदेश के 55 व्यक्तियों को हरिद्वार तक भेजा गया। आज जनपद देहरादून रेलवे स्टेशन से 1152 व्यक्तियों को विशेष टेªन के माध्यम खगड़ड़िया बिहार  भेजा गया है। इसी प्रकार कल 30 मई 2020 को बेतिया बिहार हेतु एक श्रमिक स्पेशल टेªन चलाई जायेगी।

क्वारेंटीन सेंटरों में सामने आई खामियों को तत्काल ठीक करने के डीएम ने दिए निर्देश 

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया कि जनपद में बनाये गये क्वारेंटीन सेटर में उचित व्यवस्थाएं बनाई जा रही हैं, इसके लिए जनपद स्तरीय अधिकारियों को विभिन्न क्वारेंटीन सेटर का निरीक्षण कर फीडबैक प्राप्त करने के साथ ही सामने आई खामियों को तत्काल ठीक करने के निर्देश दिये गये। जिलाधिकारी द्वारा स्वयं भी क्वोरंटीन सेन्टर में ठहराये गये व्यक्तियों से दूरभाष पर वार्ता कर फीडबैक प्राप्त की जा रही है। इसी क्रम में आज जिलाधिकारी द्वारा संस्थागत क्वारेंटीन किये गये व्यक्तियों से कुशलक्षेम प्राप्त की गयी, जिसमें अग्रसेन होस्टल, एफ.टी.आई , होटल गढवाल टेरेस मसूरी, जीएमडी होस्टल, गुरूरामराय पब्लिक स्कूल बाम्बेबाग शामिल है।  जिला प्रशासन द्वारा क्वारेंटीन सैन्टरों में आवश्यक सामग्री यथा टूथ पेस्ट, टूथ ब्रश, नहाने का साबुन, कपड़े धोने का साबुन, हेयर आयल, के साथ ही ऐसे दम्पति जिनके साथ छोटेे बच्चे हैं को पौष्टिक आहार, फल, बिस्कुट, दूध आदि सामग्री पंहुचाई जा रही है। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को क्वारेंटीन सेन्टरर्स में ठहराये गये व्यक्तियों हेतु विभिन्न मासिकध्पाक्षिकध्साप्ताहिक ज्ञानवर्धक पत्रिकाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि वर्तमान में जो भी कोविड-19 संक्रमित व्यक्ति चिन्हित हो रहे हैं वे विशेष क्षेत्र से या अन्य राज्यों से यात्रा कर यहां पंहुचे हैं। उन्होने वर्तमान स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए जनमानस से पूर्ण  सावधानी बरतते हुए संयम के साथ रहने का अनुरोध किया है। जिलाधिकारी ने जनमानस से अनुरोध किया है कि यदि किसी के पड़ोस में, पहचान में कोई व्यक्ति कोविड-19 संक्रमित हुआ है, अथवा निकट  क्षेत्र में क्वारेंटीन  किया गया है,  ऐसे व्यक्तियो एवं उनके परिजनों से सौहार्द्धपूर्ण व्यवहार करते हुए उनका मनोबल बढाने में सहयोग प्रदान करें।

आपसी संघर्ष में गुलदार की मौत

पौड़ी। पौड़ी गढ़वाल वन प्रभाग के नागदेव रेंज में आपसी संघर्ष में एक गुलदार की मौत हो गई है। वन विभाग ने सरपंच की सूचना में शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवा लिया है। वन विभाग के नागदेव रेंज में ल्वाली क्षेत्र ल्वाली-कालेश्वर रोड के समीप जोगड़ी गाड के किनारे एक मादा गुलदार का शव मिला।

ग्राम पंचायत गहड़ की सरपंच राजेश्वरी देवी ने गुलदार के शव की सूचना वन विभाग को दी। विभाग ने मौके पर पहुंच शव को कब्जे में लिया। मुख्यालय नागदेव रेंज में डाक्टरों की एक टीम ने शव का पोस्टमार्टम किया। वन क्षेत्राधिकारी नागदेव रेंज अनिल भट्ट ने बताया कि गुलदार के आपसी संघर्ष में एक सवा साल का गुलदार मृत मिला है। उन्होंने बताया कि शव का पोस्टमार्टम कर लिया गया है।

गुलदार ने हमला कर दो युवकों को घायल किया 

उत्तरकाशी। उत्तरकाशी के पुरोला विकासखंड पुरोला के रामा एवं बेस्टी गांव के पास दो अलग-अलग घटनाओं में गुलदार ने हमला कर दो युवकों को घायल कर दिया। गंभीर हालत को देखते हुए एक को हायर सेंटर रेफर किया गया है। वन विभाग ने गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाने की तैयारी शुरू कर दी है। शुक्रवार सुबह करीब दस बजे रामा गांव निवासी लोकेश बिष्ट (28) पुत्र मोहन सिंह गांव के पास पंताल तोक में अपने खेत में हल लगा रहा था। इतने में गुलदार ने उस पर हमला कर दिया। आसपास मौजूद लोगों के शोर मचाने पर गुलदार भाग गया। कुछ ही देर बाद इस गुलदार ने पास के बेस्टी गांव में गाय चराने जंगल में गए अरविंद (21) पुत्र शूरवीर लाल पर हमला कर उसे घायल कर दिया। ग्रामीणों की मदद से दोनों घायलों को तत्काल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पुरोला पहुंचाया गया। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डा. पंकज ने बताया कि अरविंद को हल्की चोटें आयी हैं। उसे प्राथमिक उपचार के बाद घर भेज दिया गया है। जबकि लोकेश को गंभीर चोटें आने की वजह से हायर सेंटर रेफर किया गया है। टौंस वन प्रभाग के एसडीओ रविंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि क्षेत्र में गुलदार के हमले की शिकायत मिलते ही घटना स्थल पर वन विभाग की टीम को भेजा गया है। गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाया जा रहा है।

प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 716 पहुंची 

देहरादून। राज्य में शुक्रवार को कोरोना का कहर टूट पड़ा। प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 716 हो गई है। अधिकतर नये केस दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों से ही जुड़े हैं।

शुक्रवार शाम को 114 नए कोरोना के मरीज सामने आने से एक ही दिन में कुल संक्रमितों की संख्या 208 पहुंच गई थी। प्रदेशभर में कुल 208 कोरोना वायरस के मरीजमिलने से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 716 पहुंच गई है। प्रदेश में पहली बार एक ही दिन में इतनी बड़ी संख्या में मरीज सामने आए हैं। चिंता की बात है कि प्रदेश के सभी 13 जिले कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। दस मरीज आज ठीक भी हुए। इस समय राज्य में एक्टिव कोरोना केस की संख्या 505 है। कुल ठीक हुए मरीजों की संख्या 89 पहुंच गई है। शुक्रवार को 1439 सैंपल जांच को भेजे गए। अभी तक कुल 20636 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। 4758 सैंपल की रिपोर्ट का अभी इंतजार किया जा रहा है। अभी 33650 मरीजों को संस्थागत क्वारंटाइन किया गया है। इस समय राज्य में मरीजों का डबलिंग रेट 3.87 दिन पहुंच गया है। जबकि रिकवरी रेट घट कर 14.78 प्रतिशत पहुंच गया है। जो करीब दस दिन पहले 60 प्रतिशत से भी अधिक था। अभी तक कुल लिए गए सैंपल में 2.82 प्रतिशत सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 

राज्य कैबिनेट ने लिए कई अहं निर्णय, अधिकारियों व कर्मचारियों का महीने में एक दिन का वेतन कटेगा

-पूरा प्रदेश आरंेज जोन में होने से एक जिले से दूसरे जिले में जाने वाले लोगों को संस्थागत क्वारंटीन नहीं होना पड़ेगा

-दायित्वधारियों से प्रतिमाह पांच दिन का वेतन सीएम राहत कोष में जमा किया जाएगा

 

देहरादून। राज्य कैबिनेट की बैठक में कई अहं निर्णय लिए गए हैं। त्रिवेंद्र कैबिनेट कर्मचारियों को कोरोना महामारी को लेकर भत्तों में कटौती से राहत दी है। प्रदेश में किसी भी कर्मचारी का भत्ता नहीं काटा जाएगा, लेकिन मुख्य सचिव से लेकर निचले स्तर तक के सभी कर्मचारियों का महीने में एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा किया जाएगा। पेंशनरों को इससे बाहर रखा गया है। वहीं, पूरा प्रदेश ऑरेंज जोन में होने से एक जिले से दूसरे जिले में जाने वाले लोगों को संस्थागत क्वारंटीन नहीं होना पड़ेगा।

शुक्रवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में आयोजित कैबिनेट की बैठक में यह निर्णय लिया गया है। इस दौरान कोरोना की रोकथाम को लेकर कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। सरकार ने निर्णय लिया कि दायित्वधारियों से प्रतिमाह पांच दिन का वेतन सीएम राहत कोष में जमा किया जाएगा। एक जनपद से दूसरे जनपद में जाने वाले लोगों को भी पास की सुविधा में रियायत दी है। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करते ही पास मान्य हो जाएगा। कैबिनेट में निर्णय लिया गया कि प्रदेश में कोरोना सैम्पलिंग बढ़ाने के लिए उत्तर प्रदेश व अन्य राज्यों की तर्ज पर उत्तराखंड में प्राइवेट लैब से टेस्टिंग कराई जाएगी। इसके लिए कंपनियों का चयन चार दिन के भीतर टेंडर के माध्यम से किया जाएगा। प्राइवेट लैब में सैंपल जांच का खर्चा सरकार वहन करेगी। प्रदेश मे पंचायती राज एक्ट में अध्यादेश लाकर सरकार ने संशोधन किया है। जिसमें जिला पंचायत अध्यक्ष, क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष और पंचायत प्रधान के खाली पदों पर निर्वाचित सदस्यों को छह माह के लिए नामित किया जाएगा। इसका अधिकार जिलाधिकारियों को दिया गया है। वहीं जिन पंचायतों में दो तिहाई सदस्यों के पद खाली हैं, वहां पंचायत के किसी बुद्धिजीवी वरिष्ठ नागरिक को सदस्य पद पर नामित किया जाएगा। इसके अलावा कैबिनेट ने मुख्यमंत्री एकीकृत बागवानी विकास योजना को मंजूरी दे दी है। इस योजना में बीज पर मिलने वाले 50 प्रतिशत अनुदान से वंचित किसानों को भी सरकार विभागीय बजट से अनुदान देगी। साथ ही कोल्ड स्टोर लगाने पर 50ः और रेफ्रिजरेटर वैन पर भी 50 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा। कैबिनेट ने फैसला लिया कि उद्योगों और व्यापारिक प्रतिष्ठानों में कार्यरत कर्मचारी महामारी से प्रभावित होने से क्वारंटीन किया जाता है तो नियोक्ता को 28 दिन का वेतन देना होगा। मंत्रिमंडल ने मुख्यमंत्री एकीकृत बागवानी विकास योजना को मंजूरी दे दी है। इसके तहत उन किसानों को भी बीज आदि की खरीद पर 50 प्रतिशत अनुदान मिलेगा, जो केंद्र की योजना से वंचित हैं। विभागीय बजट से ही अनुदान देने का प्रावधान रहेगा। ऐसे में पहले आओ पहले पाओ पर किसानों को लाभ दिया जाएगा।

बागावानी को छोड़कर अन्य किसानों को अनुदान की व्यवस्था रहेगा। इसके अलावा कोल्ड स्टोरेज (30 मी.टन) बनाने और रेफ्रिजरेटेड वैन खरीद पर 50 प्रतिशत का अनुदान सरकार देगी। सरकार ने कारखानों में यूनियन बनाने के लिए प्रावधानों में संशोधन किया है। श्रम सुधार अधिनियम के तहत कारखाने में अगर सौ कर्मचारी काम कर सकते हैं तो दस प्रतिशत एकत्रित होकर यूनियन बना सकते हैं। ऐसे में दस यूनियनें उस फैक्टरी में हो सकती हैं। सरकार ने दस प्रतिशत पर एक यूनियन के प्रावधान को बढ़ाकर तीस प्रतिशत पर एक यूनियन कर दिया है।

अजीत जोगी के निधन पर उत्तराखंड कांग्रेस ने किया शोक व्यक्त

देहरादून। उत्तराखंड कांग्रेस के अध्यक्ष प्रीतम सिंह और नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर इंदिरा हृदयेश ने छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निधन पर गहरा दुख और शोक व्यक्त किया है। प्रीतम सिंह और डॉक्टर इंदिरा हिरदेश की ओर से उक्त बयान को जारी करते हुए कांग्रेस महामंत्री संगठन विजय सारस्वत और उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने कहा है कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रहते हुए अजीत जोगी ने राज्य के विकास के लिए कई महत्वपूर्ण कार्य किए थे। 

कांग्रेस नेताओ ने  कहा है कि वह एक अधिकारी के रूप में भी लोकप्रिय अधिकारी थे। उन्होंने कहा कि उनके निधन से छत्तीसगढ़ ने एक बहुत ही प्रतिभाशाली नेता खो दिया है। उत्तराखंड कांग्रेस के कई अन्य शीर्ष नेताओं हीरा सिंह बिष्ट दिनेश अग्रवाल मंत्री प्रसाद नैथानी  राजेंद्र भंडारी  रंजीत रावत एसपी सिंह इंजीनियर ने भी अजीत जोगी को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है।

पूर्व पीएम चैधरी चरण सिंह को भारतरत्न से सम्मानित किए जाने की मांग

देहरादून। उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भूतपूर्व प्रधानमंत्री और किसानों के मसीहा स्वर्गीय चैधरी चरण सिंह को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने की मांग की है। धीरेंद्र प्रताप ने उनकी पुण्यतिथि पर जारी एक बयान में आज यहां कहा कि स्वर्गीय चैधरी चरण सिंह ने आजीवन देश के किसानों के लिए अपना जीवन लगाया और सदैव ईमानदारी और सादगी के प्रतीकष् रहे .अब समय आ गया है कि देश उनके बारे में सोचें और देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से उन्हें सम्मानित करके देश की 135 करोड़ जनता को यह संदेश दे कि ष्ईमानदारी और शिष्टाचारष्किसी भी देश को आगे ले जाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है और हमें जीवन से बेईमानी और भ्रष्टाचार को दूर करना होगा। तभी हम भारत राष्ट्र को दुनिया की सबसे शक्तिशाली ताकत बना सकेंगे। 

हरेला पर 16 जुलाई को वृहद स्तर पर पौधारोपण किया जाएगाः सीएम 

देहरादून। सचिवालय में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने हरेला पर्व पर वृक्षारोपण के संबंध में बैठक लेते हुए कहा कि हरेला पर्व के अवसर पर 16 जुलाई को वृहद स्तर पर वृक्षारोपण किया जायेगा। कोविड-19 के कारण वृक्षारोपण के स्वरूप में परिवर्तन किया जायेगा। इस बार ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक मात्रा में वृक्षारोपण किया जायेगा। सामाजिक दूरी का पालन करते हुए जिला मुख्यालयों में भी वृक्षारोपण करेंगे। हरेला पर्व पर संबंधित जिलों के मंत्रियों द्वारा अपने-अपने जिलों में वृक्षारोपण कार्यक्रम की शुरूआत की जायेगी।

     मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि हरेला पर्व उत्तराखण्ड की सांस्कृतिक परम्परा का प्रतीक है। यह पर्व प्रकृति प्रेम तथा पर्यावरण संरक्षण का संदेश देता है। जुलाई माह में वन विभाग द्वारा भी व्यापक स्तर पर वृक्षारोपण किया जायेगा। इस अवसर पर वन एवं पर्यावरण मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत, कृषि मंत्री सुबोध उनियाल, प्रमुख सचिव आनन्द वर्द्धन, प्रमुख वन संरक्षक जयराज, अपर सचिव उदयराज आदि उपस्थित थे।

ऑटो रिक्शा यूनियन के पदाधिकारियों ने आम आदमी पार्टी की सदस्यता ली

-ऑटो रिक्शा यूनियन के हित में कार्य के लिए प्रतिबद्धः रविंद्र सिंह आनंद 

 

देहरादून। देहरादूंन जनपद से ऑटो रिक्शा के 1200 साथियो से भी अधिक ऑटो चालकांे ने अपने मुख्य ऑटो चालक नेताओं के माध्यम से आम आदमी पार्टी की विधिवत सदस्य्ता ग्रहण की। आम आदमी पार्टी के विधानसभा कैंट क्षेत्र के आफिस में पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविन्द्र सिंह आनन्द, प्रदेश संगठन मंत्री डीके पाल के नेतृत्व में व प्रदेश मीडिया प्रभारी डॉक्टर राकेश काला, व पार्टी के पूर्व दूंन महानगर अध्यक्ष अशोक सेमवाल उपस्तिथि में हजारो ऑटो चालकों के नेताओ ने उत्तराखंड आम आदमी पार्टी को मजबूत करने का संकल्प लिया इस दौरान रविंद्र आनंद ने कहा की आम आदमी पार्टी ऑटो चालकों की हर मांग व मुद्दों पर उनके साथ खड़ी है और उनके हित में किसी आंदोलन को लड़ने से भी पीछे नही हटेगी। इस अवसर पर 25 से ज्यादा ऑटो चालक नेताओ का पार्टी के प्रदेश संगठन मंत्री डीके पाल एवं प्रदेश प्रवक्ता रविंद्र सिंह आनंद ने पार्टी की टोपी व माला पहनाकर उनका स्वागत किया। इस दौरान मनिंदर सिंह बिष्ट, खुर्शीद अहमद, हरि ओम कक्कड़, नानू अहमद ,गौरव कुमार, असलम, संदीप, जाकिर, नवीन सिंह चैहान आदि उपस्थित थे।

डोली यात्रा के पड़ावों पर भक्त गंगा दशहरा को मौमाता को खिलाएंगे फल व करेंगे पौधारोपण   

देहरादून। श्री विश्वनाथ माँ जगदीशिला की डोली इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण पूरे प्रदेश में भ्रमण करने के बजाय केवल विशोन पर्वत पर ही 1 जून को गंगा दशहरा के दिन गंगा स्नान करके एवं हवन में भागीदारी करके अपने स्थान ग्राम सभा ढुंग बजियालगांव में रहेगी।

पूर्व मंत्री एवं यात्रा संयोजक मंत्री प्रसाद नैथानी ने बताया कि पूरे प्रदेश में जहां-जहां पर भी डोली यात्रा का कार्यक्रम आयोजित किया जाता रहा है इस वर्ष उन सभी स्थानों पर गंगा दशहरा के दिन आयोजक भक्त गौमाता को फल खिलाएंगे साथ ही कोरोना महामारी के कारण पूरे विश्व में मृत हुए लोगों की आत्मा की शांति के लिए संपूर्ण उत्तराखंड में श्री विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली के आयोजन स्थलों पर पौधारोपण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम सभी प्रार्थना करें कि बाबा विश्वनाथ मां जगदीशिला पूरे विश्व को कोरोना महामारी से मुक्ति प्रदान करे एवं कोरोना योद्धाओं को शक्ति प्रदान करे एवं चिरायु रखे।

432 प्रवासियों को लेकर खगड़िया के लिए रवाना हुई ट्रेन


 

हरिद्वार। प्रवासियों को लेकर शुक्रवार को हरिद्वार से खगड़िया के लिए ट्रेन देहरादून से रवाना हुई। जिसमें हरिद्वार से  432 यात्रियों को उनके गृह जनपद भेजा गया। जिनमे कोटद्वार के 277 यात्री भी हरिद्वार से भेजे गए। इससे पूर्व प्रशासन के आलाअधिकारियों ने स्टेशन की व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

शुक्रवार को हरिद्वार से 432 प्रवासियों को लेकर दोपहर 2 बजकर 45 मिनट पर खगड़िया के लिए ट्रेन रवाना हुई। इस दौरान प्रशासन की ओर से प्रवासियों को भोजन, पानी आदि उपलब्ध करवाया गया। इस दौरान जिलाधिकारी सी रविशंकर, एसएसपी अबुदई सेंथिल कृष्णराज एस, अपर जिला अधिकारी केके मिश्रा, एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय, एएसपी, सीओ सिटी, एएसपी रेलवे, एसीएमओ, स्टेशन अधीक्षक, रेडक्रास सोसायटी के सचिव डा. नरेश चैधरी आदि मौजूद रहे।

कवि बेकल की अस्थियां गंगा में प्रवाहित


 

हरिद्वार। साहित्यकार, कवि और लेखक डॉ. ताराचंद पाल बेकल की अस्थियां हरकी पैड़ी स्थित अस्थि प्रवाह घाट पर उनके पुत्र डॉ. तरुण कुमार पाल, पौत्र सात्विक व सिदार्थ ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ गंगा में प्रवाहित कीं। विदित हो कि दो दिन पूर्व उनका निधन नोएडा के एक अस्पताल में हो गया था। वह 92 वर्ष के थे।

मूलरूप से हरिद्वार, ज्वालापुर के रहने वाले डॉ. ताराचंद पाल बेकल महाकवि गीतकार गोपाल दास नीरज, बाल कवि बैरागी, कन्हैया लाल नंदन आदि के समकालीन थे। जिनके साथ उन्होंने कई राष्ट्रीय कवि सम्मेलनों में काव्य पाठ का मंच साझा किया और हिंदी भाषा पुरस्कार के अलावा अनेक संस्थाआंे द्वारा श्री बेकल को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर हल्द्वानी से उनके समधी मोहन पाल, गोपाल पाल, नेहा पाल, अशोक पाल ज्वालापुर से एसपी पाल, राजबहादुर, विक्रांत पाल, एसके धारिया, आनन्द धारिया आदि ने अंतिम श्रंद्धांजलि दी। 

आप नेता ने सीएम से 51 मंदिरों का अधिग्रहण करने वाले अधिनियम को वापस लेने का किया आग्रह 

हरिद्वार। आम आदमी पार्टी उत्तराखंड के नेता व प्रदेश मीडिया सह प्रभारी अभिषेक बहुगुणा ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से हाल ही में देवभूमि उत्तराखंड के 51 मंदिरों का अधिग्रहण करने वाले अधिनियम को वापस लेने का आग्रह किया। मंदिरों के अधिग्रहण को अवैध करार देते हुए उन्होंने अपने एक पत्र में  मुख्यमंत्री से कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा जो 51 मंदिरों का अधिग्रहण करने वाला अधिनियम लाया गया है वह देवभूमि की समस्त जनता और उसकी भक्तिभाव एवं निष्ठा पे प्रहार है। मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में उन्होंने कहा की उत्तराखंड भाजपा सरकार ने राज्य के लगभग सभी मंदिरों को संभालने के लिए कानून लाया है और मुख्यमंत्री को बोर्ड का अध्यक्ष भी बनाया है। जब से सरकार ने बिल लाने का फैसला किया है, तब से देवभूमि के पुजारियों में व्यापक आक्रोश है क्योंकि ये नई प्रणाली उनकी भूमिका और कर्तव्यों को बदल देगी जो वे और उनके परिवार दशकों से करते आ रहे हैं। यह कदम न केवल अवैध है अपितु देवभूमि की भक्तिवादी नीव पे लालच का प्रहार है एवं जन विचारधारा के खिलाफ होने के साथ साथ सुप्रीम कोर्ट के (सुब्रमण्यम स्वामी बनाम तमिलनाडु राज्य) के फैसले के भी खिलाफ है, जिसमे सर्वोच्च न्यायालय ने स्पष्ट रूप से कहा है कि संविधान के अनुच्छेद 25 के तहत सरकार किसी भी मंदिर के प्रशासन को नहीं ले सकती है, सिवाय संक्षिप्त अवधि के वो भी तब जब मंदिर के धन की हेराफेरी का कोई मामला सामने आया हो।

बहुगुणा ने कहा की देवभूमि उत्तराखंड के मामलों में, बद्रीनाथ मंदिर या केदारनाथ मंदिर या किसी अन्य 49 मंदिरों के मामले में धन के ऐसे दुरुपयोग का कोई दस्तावेजीकरण नहीं है और इसलिए उत्तराखंड सरकार द्वारा लाया ये अधिनियम असंवैधानिक है। आप नेता अभिषेक बहुगुणा ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा कि “यह अधिनियम हम सभी प्रदेशवासियों के लिए एक बड़ी शर्मिंदगी है और इस मामले में हमारा रुख यह है कि मंदिरों का प्रशासन भक्तों द्वारा किया जाना चाहिए न कि सरकार द्वारा। उन्होंने कहा की 2019 में भाजपा शाषित राज्य सरकार द्वारा पारित यह अधिनियम, चार धाम सर्किट से संबंधित 51 से अधिक मंदिरों को अपने नियंत्रण में लेने का इरादा रखता है जिसमे सरकार की मंदिरों के खजाने पे बैठी कोई दुरमंशा की बू आती है जो की बहुत ही खतरनाक है, क्योंकि यह अधिनियम सरकार को पुजारियों, स्थानीय ट्रस्टों द्वारा वर्तमान में मंदिरों के नियंत्रण में सक्षम बनाता है और नए अधिनियम में कहा गया है कि सांसद, विधायक और राज्य सरकार द्वारा नियुक्त प्रतिनिधि मंदिरों को चलाएंगे। अधिनियम के अनुसार, देवस्थानम बोर्ड का प्रमुख राज्य का मुख्यमंत्री होगा, और कई सरकारी अधिकारियों को प्रशासन में रखा जाता है। अधिनियम कहता है, यदि मुख्यमंत्री हिंदू नहीं है, तो सबसे वरिष्ठ हिंदू मंत्री बोर्ड का प्रमुख होगा। 

आप नेता अभिषेक बहुगुणा ने कहा की मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से निवेदन है की इस काले कानून को वापस लेने का निर्देश जल्द जारी करें ऐसा न करने की स्तिथि में यह स्पष्ट हो जायेगा की  उत्तराखंड की ये भाजपा सरकार अपने किसी लोभ की पूर्ति हेतु हिंदुत्व का मुखोटा पहने देवभूमि उत्तराखंड को छल रही है एवं राज्य के मंदिरों को एक तुगलकी फरमान द्वारा जबरदस्ती अपने कब्जे में ले लेना चाहती है,  ऐसी स्तिथि में आम आदमी पार्टी उत्तराखंड जनता के साथ किये जा रहे छल एवं मंदिरों के इस अधिग्रहण के खिलाफ प्रदेश भर में जनजागरण करेगी एवं देवभूमि में किये जा रहे ऐसे असंवेधानिक कार्य के खिलाफ मजबूती से लड़ेगी और जरूरत पड़ने पर आंदोलन भी करेगी।

कोरोना के बढ़ते मरीजों को देखते हुए बाजार खुलने का समय बढ़ाना उचित निर्णय नहीं 


 

हरिद्वार। महानगर व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष सामाजिक कार्यकर्ता सुनील सेठी ने बाजार में अनावश्यक ढील बढ़ाने और लोकडाउन में छूट देने के निर्णय को उचित नही मानते हुए जिला प्रसाशन हरिद्वार से अपील की है कि समय अवधि को अनावश्यक बढ़ाया जाना उचित नही है जो समय चल रहा है उसे भी कम किया जाना चाहिए था। जब कोरोना के मरीज लगातार बढ़ रहे हो तो सरकार को जल्दबाजी में ऐसे निर्णय न लेकर  व्यापारियों के टैक्स माफी , बिजली पानी के बिलो में माफी के साथ राहत पैकेज की घोषणा करना उचित कदम उठाना चाहिए था। सबसे पहले मंदिरों को खोलना चाहिए ।शिवशक्ति व्यापार मंडल अध्यक्ष विपिन शर्मा ने कहा कि जब यात्री ही नही ओर अनावश्यक सामान खरीदने के पैसे जनता के पास नही तो बाजारों में ढील देकर सिर्फ मरीजो को बढ़ाने के अलावा कुछ नही । समयावधि कम से कम 7 से 1 होनी चाहिए थी ओर अगर ऐसे ही फैसले करने है तो फिर बॉर्डर , पर्यटन लघु व्यापार सबकुछ खोल देना चाहिए लोकडाउन पूर्ण समाप्त कर देना चाहिए ।हम सरकार से मांग करते है कि उत्तराखण्ड को महाराष्ट न बनने दे। खड़खडेश्वर व्यापार मंडल अध्यक्ष राजेश सुखीजा, एवं नई बस्ती व्यापार मंडल अध्यक्ष राहुल बंसल ने संयुक्त रूप से कहा कि अन्य प्रदेशों में आज हालात खराब है ओर उत्तराखण्ड में पिछले 1सप्ताह से मरीज लगातार बढ़ रहे है अगर ऐसा ही चलता रहा तो नुकसान ज्यादा उठाना पड़ सकता है । बाकी अब सरकार के निर्णय से व्यापारियों को अपनी ओर समाज की सुरक्षा के लिए स्वयं ही आत्मनिर्भर बनना पड़ेगा  और अगर ऐसा ही करना है तो पर्यटन को भी खोल देना चाहिए। वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से ज्वालापुर व्यापार अध्यक्ष विनय श्रोत्रिय, जागृति व्यापार मंडल अध्यक्ष नाथीराम सैनी, मायापुर व्यापार मंडल अध्यक्ष जितेंद्र चैरसिया, ऋषिकुल अध्यक्ष दीपक पांडेय, संजय मेहता,अनूप मेहता, पंकज बंसल, मनोज चैहान, दीपक मेहता,राहुल चैहान, पंकज माटा, मनोज कुमार आदित्य, रमन सिंह, तरुण व्यास, प्रीतम सिंह से वार्ता कर राय जानी।

कोरोना वायरस जनित वैश्विक महामारी में पतंजलि योगपीठ की सेवापरक गतिविधियाँ जारी


 

-पतंजलि की गुणवत्तायुक्त औषधियां रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कारगरः आचार्य बालकृष्ण महाराज

 

हरिद्वार। कोरोना वायरस के संक्रमण से आज पूरे विश्व में हाहाकार मचा है। केन्द्र सरकार तथा सभी राज्य सरकारें इसकी रोकथाम के लिए भरसक प्रयास कर रही हैं। किन्तु यह केवल सरकार का ही दायित्व नहीं है, देश की सामाजिक संस्थाओं को भी आगे आकर सरकार का साथ देना होगा। इस महामारी से मुकाबला करने के लिए पतंजलि योगपीठ की आर्थिक सहायता तथा स्वास्थ्यपरक सेवाएँ निरंतर जारी हैं।

 इसी कड़ी में पतंजलि ने मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. सरोज नैथानी तथा उनके अंतर्गत स्वास्थ्य कर्मचारियों की उपस्थिति में जिला अस्पताल तथा हरिद्वार स्थित कोरंटाइन व आइसोलेशन केंद्रों पर औषधियों का निःशुल्क वितरण किया जिसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली गिलोय घनवटी, तुलसी घनवटी, अश्वगंधा कैप्सूल, श्वसारी वटी तथा अणु तेल आदि सम्मिलित हैं। इस अवसर पर आचार्य बालकृष्ण महाराज ने कहा कि यह वायरस हमारे श्वसन तंत्र को प्रभावित करता है जिससे श्वासगत व्याधियाँ तेजी से बढ़ती हैं। अनुसंधान से स्पष्ट है कि यह वायरस बच्चों, बुजुर्गों तथा कम इम्यूनिटी पॉवर वाले व्यक्तियों पर ज्यादा प्रभाव डालता है, अतः इससे बचने या इसके प्रभाव को कम करने के लिए हमें अपनी इम्यूनिटी पॉवर (रोग प्रतिरोधक क्षमता) को बढ़ाना होगा। उन्होंने बताया कि पतंजलि की गुणवत्तायुक्त औषधियाँ रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कारगर हैं। पतंजलि अनुसंधान संस्थान में भी आयुर्वेदिक औषधियों द्वारा चूहों पर सफल परीक्षण किया जा चुका है।

क्वारंटीन सेंटरों को लेकर कांग्रेस राजनीति कर रहीः भाजपा 

देहरादून। भाजपा ने क्वारंटीन सेंटरों को लेकर कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप लगाया है। भाजपा ने कहा कि क्वारंटीन सेंटरों में व्यवस्थाएं चुस्त - दुरुस्त रखने के संबंध में प्रदेश सरकार की ओर से जिलों को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी अजेंद्र अजय ने कहा कि उत्तराखंड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से 4 मई को जारी कार्यालय आदेश में सभी जिलों को क्वारंटीन सेंटरों की व्यवस्था को लेकर विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए गए थे। इस आदेश में स्पष्ट लिखा गया था कि विद्यालय, पंचायत घर, अन्य सामुदायिक स्थान में क्वारंटीन किए जाने की स्थिति में व्यय की प्रतिपूर्ति राज्य आपदा मोचन निधि (एसडीआरएफ) से मानकों के अनुरूप ग्राम प्रधान सुसंगत अभिलेखों के साथ जिलाधिकारी को आवेदन कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने के लिए प्रदेश सरकार ने ग्राम प्रधानों के साथ ग्राम सभा में अवस्थित सरकारी विद्यालय में कार्यरत शिक्षकों या अन्य कार्मिकों की तैनाती सुनिश्चित की और व्यवस्थाओं में होने वाले व्यय को मुख्यमंत्री राहत कोष से वहन करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा सभी जिला अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि क्वारंटीन सेंटरों में सभी सुविधाओं का ध्यान रखा जाए। यदि कार्मिकों की आवश्यकता है तो आउटसोर्सिंग से ले लिए जाएं। यही नहीं वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुरूप ग्राम पंचायतों को जारी धनराशि में पंचायतें 20 फीसद राशि कोरोना महामारी से बचाव पर खर्च कर सकती हैं।

मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये का मुआवजा दे सरकारः प्रीतम सिंह

देहरादून। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को पत्र लिखकर उत्तराखण्ड के ग्रामीण एवं पर्वतीय क्षेत्रों में कोरोना महामारी के चलते प्रवासी नागरिकों की वापसी पर उनके लिए बनाये गये क्वारेटाइन सैन्टरों की बदहाली तथा अव्यवस्थाओं के चलते हुई ग्रामीणों की मौत पर चिन्ता प्रकट करते हुए मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रूपये का मुआबजा दिये जाने की मांग की है।

उपरोक्त जानकारी देते हुए प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना ने बताया कि मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष श्री प्रीतम सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार की गाईड लाईन के अनुरूप उत्तराखण्ड सरकार द्वारा अपने राज्य के प्रवासी नागरिकों की घर वापसी के लिए प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी गई है जिसके चलते बडी संख्या में लोग अपने घरों को वापस आने शुरू हो गये हैं तथा प्रदेश के ग्रामीण एवं पर्वतीय जनपदों में प्रवासी नागरिकों की वापसी पर उन्हें गांव के विद्यालयों में बने अस्थायी क्वारेंटाइन सैन्टर में रखा जा रहा है परन्तु इन क्वारेंटाइन सैन्टरों में व्यवस्थाओं के नाम पर कुछ भी नहीं है। ग्रामीण क्षेत्रों में बनाये गये इन क्वारेंटाइन सैन्टरों में पीने के पानी तथा शौचालय तक की कोई व्यवस्था नहीं है।

उन्होंने कहा कि पर्वतीय जनपदों के ग्रामीण क्षेत्रों में बनाये गये कोरेन्टाइन सैन्टरों में बदहाली एवं बद इंतजामी के हालात ऐसे हैं कि जनपद नैनीताल के बेतालघाट कोरेन्टाइन सैन्टर में एक 4 वर्ष की बच्ची की जहरीले सांप के काटने से मृत्यु हो गई, जनपद पौडी गढ़वाल के बीरोंखाल ब्लाक के बिरगणा गांव तथा पाबौ ब्लाक के पीपली गांव के क्वारेंटाइन सैन्टरों में उपचार न मिलने के कारण दो युवकों की मौत हो गई, जनपद चम्पावत में लधिया घाटी के बालातडी गांव में छात्रा की होम क्वारेंटाइन में मौत तथा उत्तरकाशी में क्वारेंटाइन सैन्टर में उपचार न मिलने के कारण एक युवक को देहरादून भेजा गया परन्तु उपचार से पूर्व उसकी मौत हो गई। वहीं रूद्रपुर में एक लडकी की लाश तीन दिन तक कोरोना रिपोर्ट के इंतजार में सड़ती रही। इसके अलावा विकासखण्ड द्वारीखाल के जसपुर गंाव में संदीप कुमार नामक युवक जिसे घर वापसी पर 6 दिन के लिए क्वारेंटाइन किया गया था, ने आर्थिक तंगी के चलते आत्म हत्या कर ली। ये सभी घटनायें राज्य सरकार की लापरवाही एवं क्वारेंटाइन सैन्टरों की बदहाली एवं बदइंतजामी की कहानी बयां करते हैं तथा इससे ऐसा लगता है कि कोरोना महामारी की बजाय क्वारेंटाइन सैन्टरों में बद इंतजामी के चलते लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ रहा है। मेरे द्वारा पूर्व में भी राज्य सरकार से आग्रह किया गया था कि बाहर से आने वाले प्रवासियों के क्वारेंटाइन की व्यवस्था बेस कैम्पों में ही की जानी चाहिए तथा बेस कैम्पों में संख्या बढ़ने की स्थिति में जिला, तहसील अथवा ब्लाक मुख्यालयों में क्वारेंटाइन सैन्टर बनाये जाने चाहिए। प्रीतम सिंह ने मुख्यमंत्री से मांग की कि प्रवासी नागरिकों के लिए बनाये गये क्वारेंटाइन सैन्टरों की व्यवस्था सुधारी जाये तथा सभी मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रूपये मुआबजे के रूप में दिये जाएं।

Friday, 29 May 2020

अमेजन ने केडीपी पेन टू पब्लिश 2019 कॉन्टेस्ट के विजेताओं की घोषणा की

देहरादून। अमेजन ने आज किंडल डायरेक्ट पब्लिशिंग (केडीपी) पेन टू पब्लिश 2019 कॉन्टेस्ट के विजेताओं की घोषणा की है। इस प्रतियोगिता का यह तीसरा वर्ष है और इसकी संकल्पना स्व-प्रकाशित लेखकों के असाधारण काम को पहचान देने के लिये की गई थी। यह कॉन्टेटस्ट  हिन्दी, अंग्रेजी और तमिल भाषाओं में लॉन्गण फॉर्मेट और शॉर्ट-फॉर्मेट कैटेगरीज में विभिन्न विधाओं के लेखकों की साहित्यिक उत्कृष्टता को पहचान देता है। लॉन्ग-फॉर्मेट कैटेगरी के लिये प्रत्येक भाषा में विजेता प्रविष्टियों को 5 लाख रुपये का नगद पुरस्कार, एक मर्चेंडाइजिंग डील और पैनेलिस्ट्स से मार्गदर्शन का अवसर मिला है। 

प्रथम उपविजेताओं में से प्रत्येक को 1 लाख रुपये का नगद पुरस्कार, जबकि द्वितीय उपविजेताओं में से प्रत्येक को 50,000 रुपये का नगद पुरस्कार मिला है। शॉर्ट-फॉर्मेट कैटेगरी के लिये विजेताओं को 50,000 रुपये प्रदान किए गए और प्रथम और द्वितीय उपविजेताओं को क्रमशः 25,000 रुपये और 10,000 रुपये मिले। अमोल गुरवारा, कंट्री मैनेजर, किंडल कंटेंट इंडिया- अमेजन ने कहा, ‘‘अमेजन के किंडल डायरेक्ट पब्लिशिंग को भारतीय लेखकों से लगातार शानदार रिस्पांयस मिल रहा है और हमने पेन टू पब्लिश कॉन्टेस्ट के नवीनतम संस्करण में भी यही देखा, जहाँ हमें हिन्दी, अंग्रेजी और तमिल भाषाओं में 10,000 से अधिक प्रविष्टियाँ मिलीं। जीवन के विभिन्न क्षेत्रों से आने वाले लेखकों को देखना भी रोचक था, इनमें ब्लॉगर्स, कॉर्पोरेट पेशेवर, गृहिणियाँ शामिल थीं। हम सभी विजेताओं को बधाई देते हैं तथा उनसे और भी अच्छी कहानियों की उम्मीद करते हैं। इस कॉन्टेस्ट के विजेताओं में से एक, रजनीश चतुर्वेदी ने चर्चा करते हुए कहा, ‘‘केडीपी पेन टू पब्लिश कॉन्टेस्ट आकांक्षी लेखकों को अपनी प्रतिभा दर्शाने के लिए एक शानदार मंच उपलब्ध  कराता है। यह अवार्ड बताते हैं कि यदि किसी में प्रतिभा है और उसके पास बताने के लिए कोई कहानी है, तो वे दुनिया भर के पाठकों तक अपने कार्य को ले जा सकते हैं। मैं इसके लिए अमेजन की पूरी टीम का शुक्रगुजार हूं। यह प्रतियोगिता पहले ही आगामी हिंदी लेखकों के बीच बहुत लोकप्रिय हो चुकी है। केडीपी प्रकाशन को आसान बनाता है, उपन्यास लिखने के बाद उसके प्रकाशन में बस कुछ मिनट ही लगते हैं।

भाजपा ने कांग्रेस के स्पीक अप इंडिया अभियान को पूरी तरह पूरी तरह से फ्लॉप बताया

देहरादून। भाजपा ने कांग्रेस के स्पीक अप इंडिया अभियान को पूरी तरह पूरी तरह से फ्लॉप बताया। भाजपा ने कहा कि कांग्रेस को इस अभियान का नाम स्पीक अप इंडिया की जगह फ्लॉप डाउन कांग्रेस रखना चाहिए था।

भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी अजेंद्र अजय ने कहा कि कांग्रेस का फेसबुक लाइव के माध्यम से केंद्र व प्रदेश सरकार को घेरने का प्रयास औंधे मुंह गिर गया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी कोरोना संकट में लगातार केंद्र और प्रदेश सरकार पर अनर्गल आरोप लगाकर संकीर्ण राजनीति कर रही है। कांग्रेस नेता सरकार को घेरने के लिए हर हथकंडा अपना रहे हैं। कांग्रेस फेसबुक लाइव के माध्यम से सरकार के विरुद्ध दुष्प्रचार का व्यापक स्तर पर अभियान छेड़ना चाहती थी। मगर जनता ने कांग्रेस के झूठे व भ्रामक अभियान को नकार दिया। भाजपा मीडिया प्रभारी अजेंद्र ने उत्तराखंड कांग्रेस के आधिकारिक फेसबुक पेज के स्क्रीनशॉट भी जारी किए। उन्होंने कहा कि सत्य को प्रमाण की जरूरत नहीं होती है। उत्तराखंड कांग्रेस के फेसबुक पेज पर शेयर किए गए पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के वीडियो को मात्र 51 लोगों ने पसंद किया, 14 लोगों ने कमेंट व 10 लोगों ने शेयर किया। इसी प्रकार श्री राहुल गांधी के वीडियो पर मात्र 19 लाइक, 1 कॉमेंट व 2 लोगों द्वारा शेयर किया गया। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के लाइव वीडियो पर 113 लाइक, 21 कमेंट व 9 लोगों द्वारा शेयर किया गया। प्रियंका गांधी के वीडियो को तो मात्र 8 ही लाइक मिल सके।

दाइवा ने रेड जोन्स में टीवी की सेल्स एवं सर्विस सेवायें फिर से बहाल कीं, उत्पादन भी शुरू 

देहरादून। दाईवा टीवी ने कंटेंनमेंट जोन्स को छोड़कर रेड जोन्स सहित अपने सभी रिटेल स्टोर्स पर टीवी की अपनी रेंज की बिक्री फिर से शुरू कर दी है। लॉकडाउन में ढील दिये जाने के बाद सरकार के निर्देशों के अनुरूप ये सेवायें बहाल की गई हैं। दाईवा द्वारा इसके सभी प्रमुख रिटेल स्टोर्स में 32 से 65 इंच में विभिन्न रेंज की टीवी, एचडी, एफएचडी और 4के स्मार्ट टीवी और 24-40 इंच के एचडी रेडी एलईडी टीवी की बिक्री की जाती है। कंपनी इस सप्ताह 43 इंच के अपने नये फुल एचडी टीवी को भी लॉन्च करेगी।

कंपनी ने टीवी की सर्विस और रिपेयर के लिये फील्ड सर्विस भी शुरू कर दी है। इसके साथ ही ग्राहकों के लिये झंझटमुक्त  इंस्टॉ्लेशन की सुविधा सहित ढेरों नई पहलें भी की जा रही हैं। रेड जोन्स में टीवी की बिक्री शुरू करने के बारे में बताते हुये दाईवा टीवी के संस्थापक अर्जुन बजाज ने कहा, ’’कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिये लॉकडाउन लगाया जाना एक जरूरी कदम था और साथ ही चरणबद्ध तरीके से जारी लॉकडाउन की मौजूदा प्रक्रिया भी अपने आप में काफी महत्वपूर्ण है। रिटेल बाजारों के खुलने से हमें चैनल कॉन्फिडेंस को फिर से जगाने और इस मुश्किल समय में उनके मनोबल को बढ़ाने में मदद मिलेगी। इससे इकोसिस्टम में कारोबारी निरंतररता भी सुनिश्चित होगी।’’उन्होंने कहा, ‘‘टीवी अब लग्जरी की चीज नहीं रह गई है। सिनेमा हॉल्स् और मॉल्स के पिछले कुछ महीनों से बंद रहने की वजह से टीवी ही मनोरंजन का एकमात्र साधन है। ओटीटी की खपत बढ़ने के साथ टीवी देखने वालों की संख्या में और भी इजाफा हुआ है। हमें स्मार्ट टीवी की मांग में बढ़ोत्तरी की उम्मीम है और हम मांग के आधार पर अपने उत्पादन को बढ़ाने की तैयारी कर रहे हैं। हमने कंटेनमेंट जोन्स को छोड़कर बाकी सभी जोन्स में अपना कामकाज फिर से शुरू कर दिया है और संचालन के दौरान सामाजिक सावधानियों का सख्ती से पालन कर रहे हैं। हम यह भी ध्यान रख रहे हैं कि ग्राहकों तक उनके ऑर्डर्स को सुरक्षित तरीके से पहुंचाया जाये और टीवी को पूरी सावधानी एवं सुरक्षा के साथ इंस्टॉल किया जा सके। इस बीच, 2 महीनों के लॉकडाउन के बाद, दाईवा टीवी ने भारत में अपनी उत्पापदन इकाईयों को फिर से शुरू कर दिया है। इसके साथ ही, कंपनी सरकार की गाइडलाइंस का पालन भी कर रही है और अपने कर्मचारियों की सुरक्षा का पूरा ख्याल रख रही है।

मोदी सरकार ने देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में निर्णायक कदम उठायाः भगत 

देहरादून। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि मोदी सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के रूप में देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में एक निर्णायक कदम उठाया है।

श्री भगत वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पार्टी के विधायकों से संवाद कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के समय पूरा विश्व भारी असमंजस के दौर से गुजर रहा है और आर्थिक दुश्वारियों को लेकर विकसित देशों में तक चिंता जताई जा रही है। वहीं भारत में प्रधानमंत्री श्री मोदी ने दृढ़ इच्छाशक्ति व मजबूत इरादों के बल पर देश को इन तमाम परिस्थितियों से उबारने के लिए व्यापक स्तर पर बड़े निर्णय लिए हैं। 

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने गरीब कल्याण योजना व आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत 20 लाख करोड़ रुपए का पैकेज घोषित कर समाज के सभी वर्गों को राहत प्रदान की है। उन्होंने कहा कि 30 मई को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूर्ण हो रहा है। अपने कार्यकाल में मोदी सरकार ने ऐतिहासिक व अभूतपूर्व कार्य किए हैं। उन्होंने विधायकों से मोदी सरकार के एक वर्ष के कार्यकाल के अवसर पर केंद्र की उपलब्धियों को लोगों तक पहुंचाने को कहा। उन्होंने वर्तमान परिस्थितियों के मद्देनजर विधायकों को डिजिटल तकनीक का अधिक से अधिक उपयोग करने और अधिक से अधिक लोगों तक संवाद स्थापित करने को कहा। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि इस संकट के समय में भी कांग्रेस राजनीति करने से बाज नहीं आ रही है। कांग्रेस लगातार दुष्प्रचार कर जनता को भ्रमित करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने पार्टी विधायकों से कांग्रेस के दुष्प्रचार का मुंहतोड़ जवाब देने को कहा।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने सीएम राहत कोष में 50 करोड़ रु का चेक दिया

देहरादून। कोविड-19 के दृष्टिगत उत्तराखण्ड प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने मुख्यमंत्री राहत कोष हेतु 50 करोड़ रूपये का चेक दिया। यह चेक मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को प्रमुख सचिव आनन्द वर्द्धन ने सौंपा।

भारतीय बाजार के लिये अपनी प्रतिबद्धता का आश्वासन दिया

देहरादून। ऑटो एक्सपो-द मोटर शो 2020 के 15वें संस्करण में भव्य प्रदर्शन करने वाले वैश्विक ऑटो निर्माता जीडब्ल्यूएम ने आज अपनी भारतीय सहायक कंपनी के लिये श्री जेम्स यांग को प्रेसिडेन्ट नियुक्त करने की घोषणा की है। कंपनी ने अपनी भारतीय अनुषंगी के लिये श्री पारकर शी को प्रबंध निदेशक भी नियुक्त किया है। श्री जेम्स यांग को शोध एवं विकास, परियोजना एवं विपणन प्रबंधन जैसे क्षेत्रों में समृद्ध अनुभव प्राप्त है और वे भारत में शोध एवं विकास, संयंत्र एवं औद्योगिक परिचालन पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित करें और पूरे जीडब्ल्यूएम इंडिया प्रोजेक्ट का नेतृत्व करेंगे।

इस नियुक्ति के बारे में जीडब्ल्यूएम की भारतीय अनुषंगी के प्रेसिडेन्ट जेम्स यांग ने कहा, ‘‘मुझे खुशी है कि मुझे ऐसे महत्वपूर्ण मोड़ पर परिचालन का नेतृत्व करने का मौका मिला है और मैं सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता के उत्पाद प्रदान करने की दिशा में हमारे द्वारा काम किये जाने की उम्मीद करता हूँ और साथ ही अधिक रोजगार, व्यवसाय और आर्थिक व्यवहार्यता बनाने की आशा भी करता हूँ।’’ उन्होंने यह भी कहा कि, ‘‘जीडब्ल्यूएम के लिये भारत बहुत महत्वपूर्ण है और आसियान क्षेत्र में चीजों की संपूर्ण योजना में एक महत्वपूर्ण भागीदार भी है। हमने तालेगांव संयंत्र और शोध एवं विकास सुविधा में निवेश के साथ भारतीय बाजार के लिये प्रतिबद्धता दिखाई है।’’

श्री पारकर शी को समृद्ध वैश्विक अनुभव है और उन्होंने इंडिया प्रोजेक्ट में शामिल होने से पहले मध्य पूर्व, अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में जीडब्ल्यूएम के व्यवसाय के विस्तार में बड़ा योगदान दिया है। वे भारत में जीडब्ल्यूएम के वाणिज्यिक परिचालन के लिये उत्तरदायी होंगे।

--------------------------------------------------------

लोकल पर वोकल के कार्यक्रम के तहत भाजयुमो कार्यकर्ताओं ने खरीदे मिट्टी के बर्तन

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर लोकल पर वोकल के कार्यक्रम के तहत भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कुंदन लटवाल के आह्वान पर भारतीय जनता युवा मोर्चा महानगर देहरादून द्वारा स्वदेशी वस्तुओं के बढ़ावा देने के लिए कुम्हारों के द्वारा निर्मित मिट्टी के बर्तन खरीदे। इस मौके पर कैंट विधायक एवं पूर्व विधानसभा अध्यक्ष हरबंस कपूर का आशीर्वाद भी युवा मोर्चा को मिला। उन्होंने कहा कि विदेशी वस्तुओं का उपयोग कर हम आर्थिक रूप से गुलाम होते जा रहे हैं। अगर हम देश में  देसी वस्तुओं का उपयोग करते हैं तो हमारा पैसा अपने देश में ही रहेगा जो देश के उत्थान के काम आता है। उन्होंने युवा मोर्चा के कार्यकर्ता जनता से अपील करें कि स्वदेशी वस्तुओं को अपनाएं। स्वदेशी वस्तुओं के उपयोग से देश में उन्नति होगी। इस मौके पर भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष सचिन गुप्ता ने स्वदेशी वस्तुओं से होने वाले फायदे के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा हम स्वदेशी वस्तुओं का प्रयोग करके देशभक्त होने का परिचय भी देते हैं, चीन द्वारा निर्मित वस्तुओं को खरीद कर हम चीन को मजबूत बना रहे हैं जो कि हमारे लिए दिन प्रतिदिन संकट खड़ा करता रहता है। इस मौके पर भारतीय जनता युवा मोर्चा जिला उपाध्यक्ष राजकुमार तिवारी ने युवाओं से आह्वान किया कि स्वदेशी अभियान के अंतर्गत हम अपने आस-पड़ोस लोगों को भी स्वदेशी चीजें खरीदने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। भारतीय जनता युवा मोर्चा के मंडल अध्यक्ष अभिषेक शर्मा, महानगर सह मीडिया प्रभारी राहुल चैहान, रंजीत सेमवाल, कुलदीप विनायक, आशीष शर्मा, मीडिया प्रभारी सूरज बिष्ट, विकास बेनीवाल आदि उपस्थित रहे। 

Thursday, 28 May 2020

विभिन्न दानदाताओं ने सीएम राहत कोष में 9,03,824 की राशि जमा कराई 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को कोविड- 19 के दृष्टिगत मुख्यमंत्री राहत कोष हेतु उत्तराखण्ड प्राविधिक शिक्षा परिषद रूड़की द्वारा 21,00,000 (रुपये इक्कीस लाख मात्र) की सहयोग धनराशि, ओमप्रकाश अपर मुख्य सचिव व अध्यक्ष उत्तराखण्ड प्राविधिक शिक्षा परिषद रूड़की के माध्यम से सौंपी गई। विभिन्न दानदाताओं द्वारा 9,03,824 (रुपये नौ लाख तीन हजार आठ सौ चैबीस मात्र ) की सहयोग राशि बंशीधर भगत प्रदेश अध्यक्ष, भारतीय जनता पार्टी के माध्यम से सौंपी गई।

      इसके साथ ही अन्य महानुभवों अरविन्द पयाल, प्रदेश महामंत्री, स्वजल कर्मचारी संघ (स्वजल संगठन) द्वारा 1,40,000 (रुपये एक लाख चालीस हजार मात्र), बसंती बिस्ट, लोक जागर गायिका, बी0-52, सेक्टर-02 डिफेन्स काॅलोनी, देहरादून द्वारा 1,00,000 (रुपये एक लाख मात्र), मोहन सिंह चैहान, अध्यक्ष, क्षेत्रिय चेतना मंच कल्याण संस्था, देहरादून द्वारा कुल 2,00,000(रुपये दो लाख मात्र), जिसमें 1,00,000 (रुपये एक लाख मात्र),  मुख्यमंत्री राहत कोष हेतु तथा पीएम केयर हेतु 1,00,000 (रुपये एक लाख मात्र) की धनराशि शामिल है।

      इसके साथ ही पांचवी गढ़वाल राईफल्स के सेवानिवृत्त सैनिकों द्वारा कुल 2,03,384 (रुपये दो लाख तीन हजार तीन सौ चैरासी मात्र) की धनराशि श्री जयपाल सिंह, सेवानिवृत्त सैनिक 1ध्112 झेवारेडी शिमला बाईपास रोड़ देहरादून के माध्यम से सौंपी गई, जिसमें 1,03,384(रुपये एक लाख तीन हजार तीन सौ चैरासी मात्र) मुख्यमंत्री राहत कोष हेतु तथा पीएम केयर हेतु 1,00,000 (रुपये एक लाख मात्र) की धनराशि शामिल है। स्वामी विजयानन्द सरस्वती, स्वामी सत्य चैतन्य, स्वामी विश्व चैतन्य जी, लेफिटनेन्ट जनरल अश्विनी कुमार, एडवोकेट आर0एस0राघव जी एवं अरविन्द पाण्डेय द्वारा मुख्यमंत्री राहत कोष हेतु विभिन्न उपकरणों का योगदान दिया, जिसमें (225)-पी0पी0किट, (175)-एन-95 मास्क, (750)- सेनेटाईजर, (4000)- मास्क शामिल है।

मौसम विभाग ने पर्वतीय क्षेत्रों में ओलावृष्टि और मैदानी क्षेत्र में तेज हवाएं चलने की चेतावनी दी

देहरादून। उत्तराखंड के कुछ पहाड़ी क्षेत्रों में लोगों को गर्मी व उमस से मामूली राहत मिल सकती है। मौसम केंद्र ने राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में ओलावृष्टि और आकाशीय बिजली चमकने का आसार जताया है। वहीं, मैदानी क्षेत्रों में तेज हवा चल सकती है, जिसकी रफ्तार 60 से 70 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है। मौसम केंद्र की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार प्रदेश के ज्यादातर पहाड़ी क्षेत्रों में हल्के बादल छाये रह सकते हैं। विशेषकर उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर और पिथौरागढ़ जिलों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

गरज और चमक के साथ होने वाली बारिश से अधिकतम और न्यूनतम तापमान में कमी आने की उम्मीद है। वहीं, दूसरी ओर मैदानी क्षेत्रों में 60 से 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चल सकती है। मौसम केंद्र निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि एक-दो दिन में लोगों को कुछ राहत मिल सकती है। हालांकि फिलहाल तेज बारिश का अनुमान नहीं है। कुछ इलाकों को छोड़कर ज्यादातर में हल्की से मध्यम बारिश ही होने की संभावना है। दिनभर झुलसाने वाली गर्मी और उमस के बाद शाम को चली तेज हवा ने लोगों को राहत दी। राजधानी और आसपास के ज्यादातर इलाकों में काफी देर तक ठंडी हवा चलती रही। इससे तापमान में गिरावट आई और शाम को उमस भी काफी कम रही। मौसम विभाग ने आज हल्के बादल छाये रहने का अनुमान जताया है। बुधवार को राजधानी दून और आसपास के अधिकांश क्षेत्रों में आसमान साफ रहा और तेज धूप निकल आई। इससे सुबह ही गर्मी और उमस काफी अधिक बढ़ गई। इसके बाद दोपहर तक तेज धूप खिली रही और अधिकतम तापमान में लगातार इजाफा होता रहा। मौसम में गर्मी और उमस बढ़ने के कारण लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी। घर के अंदर भी उमस से लोगों को काफी दिक्कत हुई। दोपहर बाद से ज्यादातर क्षेत्रों में हवा चलने लगी, जिससे गर्मी और उमस कुछ कम हुई। शाम के समय कुछ क्षेत्रों में तेज हवा के साथ हल्की बूंदाबांदी भी हुई। हालांकि बारिश की उम्मीद कर रहे लोगों की आशा पूरी नहीं हुई और कुछ ही देर में आसमान एक बार फिर साफ हो गया। शाम को तेज हवा और हल्की बूंदाबांदी से अधिकतम तापमान में काफी कमी आई।

राष्ट्रीय दृष्टि दिव्यांगजन सशक्तिकरण संस्थान में वेब-संगोष्ठी आयोजित 

देहरादून। भाषा और संप्रेषण के महत्व को समझने, इसकी कठिनाईयों को दूर करने तथा भाषा संप्रेषण कला के प्रति संवेदनशीलता लाने के लिए राष्ट्रीय दृष्टि दिव्यांगजन सशक्तिकरण संस्थान, देहरादून में आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय, पटना तथा ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ स्पीच एंड हियरिंग,मैसूर (कर्नाटक) के सहयोग से राष्ट्रीय दृष्टि दिव्यांगजन सशक्तिकरण संस्थान में एक दिवसीय वेब-संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर संस्थान के निदेशक नचिकेता राउत ने अपने स्वागत संबोधन में भाषा की विषय वस्तु के संदर्भ अपने विचार व्यक्त करते हुए भाषा संप्रेषण की उपयोगिता पर प्रकाश डाला। उन्होंने वर्तमान के इस वैश्विक आपाततकाल में वेबीनार को संप्रेषण का एक सशक्त माध्यम बताया। आज डिजिटल संप्रेषण की आवश्यकता महसूस की जाने लगी है और संस्थान इस संप्रेषण को बड़े स्तर पर अपनाने की ओर निरंतर अग्रसर है।

    आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार प्रो० राजीव रंजन ने सभी प्रतिभागियों, सधानसेवियों, विशिष्ट वक्ताओं का स्वागत किया और कहा कि मुझे प्रसन्नता है  कि इस कोविड-19 महामारी की विकट परिस्थिति में भी हम सबने मिलकर इस महत्वपूर्ण विषय का चयन किया है। मैं इंजीनियरिंग क्षेत्र से हूँ पर हमारे क्षेत्र में भी भाषा संप्रेषण की महत्वपूर्ण भूमिका है द्य अब यदि मुझे किसी भी वैज्ञानिक सूचना का आदान प्रदान करना है तो मेरा सही संप्रेषण तभी संभव होगा जब मेरी भाषा पर पकड़ होगी  और तभी समझ का विकास हो सकेगा  वैज्ञानिक भी अपनी समझ को भाषा के साथ ही सँजोये रख सकते हैं द्य जैसे रोबोटिक्स का ज्ञान हो, या किसी मशीन की कार्यप्रणाली, इसे समझने के लिए भाषा और संवाद महत्वपूर्ण है। प्रो0 पुष्पावती- निदेशक ऑल इंडिया इन्स्टीट्यूट आफ स्पीच एंड हियरिंग, मैसूर ने सभी को इस विकट परिस्थिति में वेबीनार आयोजित करने के लिए बधाई दी और इस तरह के आयोजनों की महत्ता पर प्रकाश डाला।  

         वेबीनार में प्रथम वक्ता डॉ० ज्ञानदेवमणित्रिपाठी, डीन,शिक्षाशास्त्र,आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय, पटना भाषा का विकास और शिक्षा पर विचार व्यक्त करते हुए  उन्होंने कहा कि  भाषा एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। प्रो०निरंजन सहाय, हिंदी भाषा विभाग, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी ने भाषा और संप्रेषण की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा भाषा कई बार भेद भाव भी करती है जैसे हम कहते हैं कि चपरासी आया और साहब आ रहे हैं, उन्होंने कहा कि ऐसे भेदभाव भी हम सबको दूर किए जाने चाहिए। प्रो० एस. पी. गोस्वामी,  स्पीच पैथोलॉजी विभाग,अखिल भारतीय वाक श्रवण संस्थान, मैसूर ने अपने वक्तव्य में मस्तिष्क में हुई क्षति  से  भाषा पर पड़ने वाले विपरीत प्रभावों  के बारे में बताया और साथ ही कुछ सुझाव भी दिए। आकलन और प्रतिपूर्ति के लिए समय निर्धारित किया गया था जिसमें प्रतिभागियों ने विशेष उत्साह दिखाया। वेबीनार के सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद करते हुए आयोजन सचिव डॉ०पंकज कुमार ने कहा कि भाषा एक बृहद संप्रत्यय है और इसे समझना बाहर कठिन है। भाषा अर्जित करने की क्षमता जन्मजात होती है। लेकिन भाषा का सृजन मानसिक प्रक्रियाओं से किया जाता है। इस कार्य के लिए मानव के संवेदी अंग मस्तिष्क तथा अन्य सम्बन्धित अंग सहायक होते हैं, किंतु यदि किसी सामवेदी अंग में बाधा उत्पन्न होती है तो मस्तिष्क की प्रोसेसिंग में बाधा उत्पन्न होती है। इस कड़ी में हुए क्षति की क्षतिपूर्ति की जानी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि आज के संदर्भ में वेबिनार की बढ़ती आवश्यकता और प्रतिभागियों के उत्साह को देखते हुए भविष्य में और भी वेबीनार आयोजित किए जाएंगे।

उत्तराखंड के जंगलों में भीषण आग लगने की फेक न्यूज सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई

देहरादून। कोरोना संकट के बीच उत्तराखंड के जंगलों में लगी भीषण आग की खबरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही हैं। कई लोगों ने इसकी फोटो अपने ट्वीटर और फेसबुक एकाउंट पर शेयर की हैं। इसमें कहा जा रहा है कि आग लगने के कारण उत्तराखंड जंगल की 71 हेक्टेयर जमीन पूरी तरह से बर्बाद हो गई है।

यह भी दावा किया जा रहा है कि इस आग से दो लोगों की जान गई है और कई जानवरों की मौत हुई है। लोग सोशल मीडिया पर तस्वीरें पोस्ट कर दावा कर रहे हैं कि पिछले चार दिनों से उत्तराखंड के जंगल आग में जल रहे हैं, लेकिन कोई इसकी सुध लेने वाला नहीं है। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी ऐसी खबरें पूरी तरह से झूठी हैं। इसके बाद सोशल मीडिया पर ही जबरदस्त तरीके से ऐसी फेक न्यूज का खंडन शुरू हो गया। खुद वन मंत्री हरक सिंह भी मैदान में उतर गए। उन्होंने साफ किया कि सोशल मीडिया पर उत्तराखंड के नाम से जो जंगल की आग की फोटो-वीडियो वायरल हो रहे हैं, उनमें कुछ पुराने और कुछ विदेशों के हैं।

गौशाला में आग लगने से दो मवेशी जिंदा जले

अल्मोड़ा/देहरादून। अल्मोड़ा के द्वाराहाट में एक गौशाला में आग लगने से दो मवेशी जिंदा जल गए। द्वाराहाट विकास खंड के गनोली ग्रामसभा नार्गाजुन में बुधवार के दोपहर अचानक गौशाला में आग लग गई। इस दौरान आग से दो भैंस जिंदा जल गईं। गनीमत रही कि गौशाला घरों से दूर थी, वरना आग घर तक भी फैल सकती थी। ग्रामीणों ने किसी तरह आग पर काबू पाया। ग्रामीणों ने बताया कि गनोली गांव में अचानक लोगों ने गौशाला से धुआं निकलता देखा। पता चला कि गंव से 300 मीटर दूरी ललित राम एवं डुगंर राम की गौशाला में आग धधकी हुई थी। लोगों ने पानी डालकर आग पर काबू पाया लेकिन तब तक भैंसे जल चुकी थीं।

विधायक महेश नेगी एवं ग्रामीणों ने तत्काल पशु विभाग एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों को फोन किया। राजस्व विभाग के उपनिरीक्षक शेखर चन्द्र टीम के साथ मौके पर पहुंचे। वहीं पोस्टमार्टम के लिए भी डॉक्टर को सूचित कर दिया गया। आग के कारणों का पता नहीं चल सका है। वहीं देहरादून जिले के चकराता तहसील क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम मझगांव की गड़ावका छानी में एक दो मंजिला लकड़ी का मकान आग लगने से राख हो गया। आग की चपेट में आने से मकान में रखा सामान भी जल गया। पीड़ित ने तहसील प्रशासन से मुआवजे की गुहार लगाई है। गनीमत रही कि आगजनी के दौरान घर में कोई नहीं था। आग के कारणों का पता नहीं चल पाया है। छानी में मझगांव निवासी केशवराम का दो मंजिला लकड़ी का मकान है। बीते मंगलवार की शाम को वह पशुओं को छानी में बांध कर सोने के लिए गांव स्थित दूसरे मकान में चले गए। देर रात करीब 10रू30 बजे उनके छानी स्थित घर के पास रहने वाले लोगों ने मकान से धुंआ उठता देखा। उन्होंने घटना की जानकारी मकान स्वामी को दी। लोगों ने आग पर काबू पाने की खासा कोशिश की, लेकिन हवा ने आग को और भड़का दिया। जिससे चंद मिनटों में ही पूरा मकान आग की चपेट में आ गया। समय रहते लोगों ने छानी में बंधे पशुओं को खोल दिया। पीड़ित ने बताया कि आग लगने से मकान में रखा राशन, एलईटीवी, बिस्तर और बर्तन सब कुछ जलकर खाक हो गया। वहीं, तहसीलदार कुंवर सिंह नेगी ने बताया कि मामले में संबंधित राजस्व निरीक्षक से रिपोर्ट मांगी गई है। विभागीय प्रावधानों के अनुसार पीड़ित को मुआवजा दिया जाएगा।

---------------------------------

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की आंदोलन की चेतावनी कांग्रेस की हताशा को दर्शाताः मुन्ना सिंह चैहान  

देहरादून। भाजपा के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता मुन्ना सिंह चैहान ने कहा कि कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने आज अपनी प्रेस वार्ता में जो बातें कही वह कांग्रेस की हताशा को दर्शाता है। जब कांग्रेस आंदोलन की बात करती है तो कांग्रेस पलटकर यह जरूर देखले कि जो परिवर्तन यात्रा कांग्रेस ने चकराता से प्रारंभ की उसने विकासनगर पहुँचने तक दम तोड़ दिया था। यही हस्र उनकी इस यात्रा का होने वाला है। कोरोना महामारी के इस दौर में कांग्रेस हरसंभव प्रयास कर रही है कि अफवाहें फैलाकर लोगों को गुमराह किया जाए पहले तो कांग्रेस अपने किसी ऐप के प्रचार प्रसार करते हुए कहती रही कि हमारे पास 15000 प्रवासियों की सूची है लेकिन जब प्रदेश सरकार ने अभी तक 2 लाख प्रवासियों को लाने का काम भी कर दिया तथा लगभग 5 लाख तक का रजिस्ट्रेशन हो गया तो कांग्रेस प्रदेश सरकार व मुख्यमंत्री की सराहना करने की बजाए यह कह रही है कि यह काम हमारे कारण हुआ है।

 इससे बड़ी बचकाना बात और क्या हो सकती है। प्रदेश सरकार ने स्वास्थ्य सुविधाओं को जिस जबर्दस्त तरीके से बढ़ाने का काम किया उसी का नतीजा है कि बड़े पैमाने पर संक्रमित प्रवासियों को प्रदेश में आने के बावजूद अभी तक जो 2-3 मौतें हुई उसे भी चिकित्सक कोरोना से हुई मौत परिभाषित नहीं करते है और देश में इस दृष्टि से उतराखंड शानदार प्रदर्शन करने वाले राज्यों में है परंतु कांग्रेस मे इतना नैतिक साहस भी नहीं है कि वह राज्य सरकार की इस उपलब्धि की सराहना करती । इतना ही नहीं मैने आज से लगभग 10 दिन पूर्व भी आँकड़ों जारी कर कहा था कि लगभग 28000 लोगों के क्वारंटाइन की सुविधा सरकारी सृजित कर चुकी है। आज तारीख तक इसको और कई गुना बढ़ाया जा चुका है। त्रिवेंद्र रावत सरकार का यह इबाल है कि उन्होंने सभी प्रवासियों को लाने का निर्णय लिया है परन्तु कांग्रेस अभी भी उसी गुजरात फोबिया में फँसी है ओर कहती है कि गुजरात के तीर्थ यात्रियों को गुजरात क्यों भेजा ? यह सोच भी  बेहद शर्मनाक है। जहॉ  तक कोविड 19 के इस दौर से गरीबों को राहत देने का प्रश्न है तो केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार ने निम्न सुविधाओं को गरीबों और प्रवासियों को देना प्रारंभ कर चुकी है। 80 करोड़ लोगों को पाँच किलो मुफ्त राशन प्रति माह  दिया जा रहा है। सभी उज्ज्वला गैस कनेक्शन पर 3 माह तक मुफ्त गैस। वृद्धावस्था,विधवा विकलांग तथा किसान पेंशन का तीन माह का एडवांस भुगतान। प्रवासी भाई बहन जो अपने घरों को लौटे और जिन्हे रिटर्निस कहा गया है उन्हें बिना किसी राशन कार्ड के मुफ्त राशन की व्यवस्था की गई है। सभी प्रवासियों को मनरेगा से जोड़ा गया है कि चाहे उनके पास कारड है नहीं है। किसानों के खातों में किसान सम्मान निधि का एडवांस भुगतान। श्रम विभाग के द्वारा जिन श्रमिकों का रजिस्ट्रेशन है उन सभी श्रमिकों का खाते में 1000 रुपया सरकार जमा कराया जा चुका है और आगे भी सहायता का सिलसिला जारी है। जनधन खाता धारक सभी माताओं बहनों को भी पाँच या 5 सौ रुपया प्रतिमाह की सहायता प्रदान की जा रही है। कांग्रेस का यह कहना है कि सभी प्रवासियों के खातों में थी 10000 नकघ्द जमा कराओ और 7500 प्रतिमाह उनको दो ने उसी राजनीतिक सोच के दिवालियेपन के पुनरावर्ती है जो राहुल गांधी ने लोक सभा चुनाव के पूर्व कहा था कि सभी बेरोजगारों के खातों में कांग्रेस 72 हजार रुपया हर साल जमा करेगी। जिसके लिए देश की जनता ने लोक सभा चुनाव में उनके मुँह पर करारा तमाचा मारा।

हम कांग्रेस पार्टी से पूछना चाहते हैं कि जब जब देश में या प्रदेश में कोई आपदा आयी तो उनकी केंद्र की और राज्यों की सरकार ने गरीबों के खातों में कौन कौन से सहायता राशि जमा करायी ? इतना  ही नहीं कांग्रेस उत्तराखंड के किसानों, बागवानों के बारे में जो घड़ियाली आँसू बहा रही है। उस बारे में भी उसे पता होना चाहिए कि त्रिवेंद्र रावत सरकार को बागवानों को दिए जा रहे हैलनेट (ओले से बचाव हेतु), फार्म मंशीनरी, प्लाटिग मटीरियल पर भारी भरकम छूट दे रही है तथा फसल बीमा योजना जैसे-जैसे बहुतों व्यापक प्लाभ वाली योजनाएं संचालित की जा रही है ।

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 469 हुई

देहरादून। प्रदेश में कोरोना का कहर लगातार जारी है। बुधवार को प्रदेश में 69 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। इन्हें मिलाकर प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 469 हो गई है। बुधवार को मिले मरीजों में देहरादून में चार, हरिद्वार में छह, पौड़ी गढ़वाल में 13 और टिहरी में 27, अल्मोड़ा में छह, ऊधमसिंहनगर में सात, नैनीताल में तीन और पिथौरागढ़ में तीन संक्रमित मिले हैं। सैंपल जांच के आधार पर प्रदेश में संक्रमण की दर 2.14 प्रतिशत हो गई है।

पॉजिटिव पाए गए सभी मरीज प्रवासी हैं और दूसरे राज्यों से लौटने के बाद से उन्हें क्वारंटाइन सेंटरों में रखा गया था। अब सभी मरीजों को इलाज के लिए अस्पतालों में भर्ती किया जा रहा है। अपर सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि बुधवार को राज्यभर से कुल 1017 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। इसमें से सबसे अधिक 191 देहरादून जिले से जबकि 185 हरिद्वार जिले से और 150 सैंपल नैनीताल जिले से जांच के लिए भेजे गए हैं। बागेश्वर जिले से बुधवार को एक भी सैंपल जांच के लिए नहीं भेजा गया। राज्य में अभी तक कुल 23975 सैंपल जांच के लिए भेजे जा चुके हैं। जिसमें से 18645 सैंपलों की रिपोर्ट आ चुकी है। 

राष्ट्रीय कांग्रेस कमेटी ने 28 मई को कार्यकर्ताओं को स्पीक अप इंडिया के तहत 50 लाख फेसबुक लाइव करने का दिया लक्ष्यः सुमित तिवारी


 

हरिद्वार। आई0 टी0 विभाग के प्रदेश महासचिव व हरिद्वार जिले के सोशल मीडिया प्रभारी सुमित तिवारी ने बताया कि  मंगलवार शाम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये प्रदेश स्तरीय हुई बैठक में बताया गया कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस दिल्ली से मिले दिशा निर्देशों के तहत कांग्रेस के सभी कार्यकर्ताओं व नेताओं को 28 मई को सुबह 11 से 2 बजे के बीच फेसबुक लाइव के द्वारा भारत सरकार व राज्य सरकार की दमनकारी नीतियों के खिलाफ एक साथ अपने विचार रखने होंगे। जिसमे लॉकडाउन में मजदूरों के साथ हो रहे अत्याचार, बेरोजगारी, तेजी से गिरती अर्थव्यवस्था, चैपट होते व्यापर, खराब पीपीई कीटों का वितरण, आदि विषयों पर सवाल पूछे जाएंगे। जिसको लेकर प्रदेश स्तर से लेकर बूथ स्तर तक तैयारियां जोरों पर है। जिसका एक वर्ल्ड रेकॉर्ड तैयार किया जाएगा। सुमित तिवारी ने यह भी बताया कि काँग्रेस की नई रणनीति के तहत कांग्रेस द्वारा अपने सभी नेताओं को सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने की हिदायत दी गयी है। जिसके लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह द्वारा 25 मई को एक पत्र जारी किया है।

आप पार्टी ने किया मदर सीएसओ श्रीमहंत रविंदर पूरी महाराज का सम्मान 


 

हरिद्वार। आम आदमी पार्टी जिला हरिद्वार इकाई द्वारा श्रीमहंत रविंदर पूरी महाराज एवं प्रदीप शर्मा देवी ट्रस्ट द्वारा कोरोना संक्रमण महामारी में किये गए उनके द्वारा सामाजिक एवम राहत कार्यो से प्रेरित होकर उनका सम्मान करते आभारव्यक्त किया।  इस अवसर पर जिला अध्यक्ष हेमा भण्डारी ने बताया उनके द्वारा किये कार्यो को इस आपदा में उन्हें  योद्धा की संज्ञा देते हुए इस संकट के क्षणों में सामाजिक एवम राहत कार्यो की प्रशंसा करते हुए उन्हें मानवता के सुरक्षित भविष्य की लड़ाई लड़ने उनके एवम सहयोगियों की कर्तव्यनिष्ठा को प्रेरणादायी बताते हुए उनके दीर्घायु की कामना की एवम उनके द्वारा सामाजिक कार्यो से हमारे जीवन मे भी प्रेरणा एवम ऊर्जा भर दी।

जिला सचिव अनिल सती ने बताया कि हरिद्वार जिले में महंत रविन्द्र पूरी द्वारा  कई स्कूल कॉलेज संचालित है , जिनसे कई विद्यार्थी लाभ ले रहे है कोरोना  महामारी से जब हरिद्वार  पूरी तरह चपेट में था ऐसे विकट परिस्थिति में महंत जी एवम उनकी ट्रस्ट ने आगे बढ़कर विभिन्न सामाजिक संगठन एवम प्रसाशन द्वारा राहत सामग्री घर घर तक पहुँचाने का कार्य किया है ऐसे संतो के आशिर्वाद समय समय पर हमे मिलता रहे ऐसी ईश्वर से कामना करते है। इस अवसर पर हेमा भण्डारी ,अनिल सती ,संजय मेहता, संजू नारंग, सुनील वर्मा, अर्जुन सिंह मुख्य रूप से उपस्थित रहे।  

भारतीय हाॅकी के सच्चे सिपाही थे बलबीर सिंह सीनियरः प्रो0 शास्त्री


  

-गुरूकुल कांगडी विश्वविद्यालय ने बलबीर सिंह को दी भावभीनी श्रद्वाजंलि 

 

हरिद्वार।गोल्डन मैन के नाम से मशहूर भारतीय हाॅकी को ओलम्पिक मे तीन बार जीत दिलाने के साथ सबसे ज्यादा गोल करने वाले बलबीर सिंह सीनियर आज हमारे मध्य नही रहे। हाॅकी टीम का सन् 1948 में लंदन ओलम्पिक, सन् 1952 मे हेल्सिंग ओलम्पिक तथा सन् 1956 मेलबर्न ओलम्पिक मे स्वर्ण जीतने वाली टीम के सदस्य रहे बलबीर सिंह को श्रद्वांजलि अर्पित की।

गुरूकुल कांगडी विश्वविद्यालय के शारीरिक शिक्षा एवं खेल विभाग की ओर से हाॅकी के इस सच्चे सिपाही को मौन स्मरण करते हुए श्रद्वाजंलि अर्पित की। अपने श्रद्वाभाव व्यक्त करते हुए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रूपकिशोर शास्त्री ने कहा कि बलबीर सिंह सीनियर के दिल और दिमाग मे केवल हाॅकी बसती थी। वह जब तक रहे देश की हाॅकी के विकास को समर्पित रहे। उनका ऐसे समय मे जाना हाॅकी तथा खिलाडियों के लिए अपूरणीय क्षति है। शारीरिक शिक्षा एवं खेल विभाग तथा आॅल इण्डिया स्वामी श्रद्वानंद हाॅकी टूर्नामेंट के अध्यक्ष प्रो0 आर0के0एस0 डागर ने अपने श्रद्वांजलि संदेश में बलबीर सिंह को याद करते हुए कहा कि बलबीर सिंह ओलम्पिक खेलने से पहले हाॅकी के तीन बार नेशनल खेले और तीनो बार अलग फोरमेंट मे खेले। पहली बार पंजाब यूनिवर्सिटी की टीम मे, दूसरी बार पंजाब पुलिस की टीम मेे और तीसरी बार पंजाब स्टेट की हाॅकी टीम मे खेलते हुए हाॅकी की नेशनल चैम्पियनशिप में विजेता बन कर उभरे। हाॅकी टूर्नामेंट के सचिव डाॅ0 अजय मलिक ने अपने श्रद्वा सुमन अर्पित करते हुए बलबीर सिंह सीनियर के 1958 टोक्यिों एशियन हाॅकी गेम्स की सिल्वर मेडलिस्ट टीम बनने की स्मृतियों को साझा किया। वर्ष 2008 में विश्वविद्यालय चैम्पियन बनी हाॅकी के कैप्टन दुष्यंत राणा ने उन्हे नेशनल हीरो के रूप में श्रद्वा सुमन अर्पित किए। श्रद्वांजलि अर्पित करने वालों मे कुलसचिव प्रो0 दिनेश चन्द्र भटट, परीक्षा नियंत्रक प्रो0 एमआर वर्मा, संकाय के डीन प्रो0 ईश्वर भारद्वाज, डाॅ0 शिव कुमार चैहान, वीरेन्द्र पटवाल, धर्मेन्द्र विष्ट, अश्वनी कुमार, हेमन्त नेगी सहित हाॅकी के पूर्व खिलाडी उपस्थित रहे। सभी ने सामाजिक दूरी का पालन करते हुए श्रद्वांजलि अर्पित की।

भेल मजदूर कल्याण परिषद-इंटक ने जरूरतमन्द लोगों को कराया भोजन 


हरिद्वार। भेल मजदूर कल्याण परिषद -इंटक द्वारा कोरोना महामारी की वर्तमान परिस्थिति में जरूरतमन्द लोगों के भोजन उपलब्ध कराने के लिए चलाई जा रही इंटक रसोई द्वारा  लगातार इकतालिसवे (41)दिन भी लगभग 1250 पैकेट तैयार भोजन का वितरण किया गया। इस संदर्भ में इंटक के महामंत्री राजबीर सिंह ने बताया कि  आज 1250 पैकेट भोजन नवोदय नगर रोशनाबाद, निर्मल बस्ती निकट शिवालिक नगर,विष्णुलोक कालोनी,ज्वालापुर,सुभाष नगर क्षेत्र में स्वमसेवी साथियो के माध्यम से वितरित करवाया गया है।साथ ही भेल उपनगरी के आस पास के बस्ती के लोग जो कार्यालय से ही भोज ले जाते है उन्हें यही भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। राजबीर सिंह के नेतृत्व में चल रहे इंटक के इस सेवा कार्य से प्रभावित होकर आज नगर कांग्रेस कमेटी ज्वालापुर ने इंटक कार्यालय पर राजबीर सिंह व उनकी टीम का माल्यार्पण कर उनका स्वागत किया गया तथा इस सेवा कार्य के लिए उन्हें साधुवाद दिया। स्वागत करने वालो में नगर अध्यक्ष यशवंत सैनी,उपाध्यक्ष सुबोध बंसल,अजनिश सीखोला,उषा शर्मा,विजय सैनी,पंडित नवीन बलवंत,सक्षम कौशिक,समर्थ वशिष्ठ,कैलाश प्रधान,आर.जी. सिन्हा आदि वरिष्ठ सदस्य रहे। इस मौके पर कार्यालय पर राजवीर,राजेन्द्र चैहान,राकेश चैहान ,अश्विनी चैहान ,अमित ,आशुतोष ,मनोज यादव, श्रवण चैहान ,राजेन्द्र धीमान,रिशु चैहान,सोनू चैहान, अम्बरीष,रविन्द्र चैहान,ललित कुमार,मुकुल राज, आदि साथी उपस्थित रहे।

डीएम ने डेंगू नियन्त्रण पर नयी रणनीति को लेकर की चर्चा, दिए दिशा-निर्देश    


 

हरिद्वार। वैक्टर जनित रोग डेंगू के नियन्त्रण को लेकर जिलाधिकारी सी0 रविशंकर ने  स्वास्थ्य विभाग सहित शिक्षा, बाल विकास, जिला पंचायती राज विभाग एवं स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ कलक्ट्रेट सभागार में बैठक कर डेंगू रोग नियन्त्रण पर नयी रणनीति पर विस्तृत चर्चा करने के साथ ही आवश्यक दिशा निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष प्रशसन तथा स्वास्थ्य विभाग की रणनीति केवल डेंगू नियंत्रण था जबकि इस बार परिदृश्य अलग है।

जिलाधिकारी सी रविशंकर ने कहा कि इस वर्ष डेंगू रोग का इलाज करने से ज्यादा डेंगू पनपने और फैलने से रोकना हमारी प्राथमिकता है। कोविड 19 के चलते समस्त संसाधन कोविड नियंत्रण में लगा देने से डेंगू संक्रमण के लिए संसाधनों का अभाव हो सकता है इसलिए जून माह की पहली तारीख से ही स्वास्थ्य और सम्बंधित विभाग जो कोविड 19 के सर्वे कार्यो को कर रहे हैं वह सभी टीम कंटेनमेंट जोन में कोविड के साथ-साथ निर्धारित प्रारूप पर डेंगू सर्वे भी आरम्भ करेंगी। सर्वे कार्मिकों को अवशेष 04 दिन की अवधि पर इस पर आंतरिक योजना बना कर 01 जून से कार्य अनिवार्य रूप से शुरू करना है।

उन्होंने कहा कि लोगों को जागरुक करने के लिए बैठकों से बचें और सोशल मीडिया के माध्यम से हर स्तर पर प्रचार प्रसार करें। जिलाधिकारी ने सभी सरकारी एवं अर्द्ध सरकारी कार्यालयों एवं संस्थानों, बस अड्डों के प्रबन्धकों को सफाई व्यवस्था रखने एवं डेगंू रोग से बचाव सम्बन्धी उपायों को अपनाये जाने के निर्देश जारी किये हैं। साथ ही उन्होंनें जनपद में स्थापित चिकित्सालयों, शिक्षण संस्थानों, होटलों, धार्मिक प्रतिष्ठानों, धर्मशालाओं, कूड़ा गोदामों एवं औद्योगिक आस्थानांे के प्रबन्धकोंध्स्वामियों को निर्देश दिये हैं कि वे अपनी-अपनी संस्थाओं में सफाई व्यवस्था दुरुस्त रखते हुए यह प्रमाण पत्र प्रस्तुत करेगें कि उनके द्वारा अपने संस्थानोंध्आस्थानों में खुले बर्तनों, टायरों, बोतलों, गमलों, कूलरों आदि में पानी जमा नहीं रहने दिया जाता हैं और इन खुले बर्तनों को टिनशेड या गोदामों में सुरक्षित स्थानों पर रखा गया है तथा उनके संस्थान में डेंगू रोग से बचाव हेतु सभी उपाय अपनाये जा रहे हैं। यह प्रमाण पत्र प्रत्येक कार्यालयध्यक्ष को हर 15 दिन में जिलाधिकारी देना होगा। बैठक में जिला मलेरिया अधिकारी डाॅ0 गुरनाम सिंह ने बताया कि डेंगू रोग का वाहक मादा एडीज मच्छर है जो ठहरे हुए साफ पानी में पनपता है और इसके घरों के अन्दर व घरों के आसपास पनपने की सम्भाना सर्वाधिक रहती है। उन्होंने जनता से कहा है कि यदि किसी व्यक्ति में डेंगू रोग के लक्षण दिखाई दे ंतो वे तुरन्त ही जनपद में स्थापित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अथवा जिला अस्पताल में जांच करवाये जाने हेतु पहुंचे। डीएम ने कोविड 19 के चलते स्थित मेला अस्पताल में स्थापित एलाइजा रीडर मशीन को भी जिला अस्पताल में स्थानंतरित किये जाने तथा रूड़की संयुक्त चिकित्सालय में एक और एलाइजा रीडर स्थापित किये जाने के निर्देश दिये। जिससे डेंगू रोग जांच की निःशुल्क व्यवस्था शहरी एवं ग्रामीण दोनो क्षेत्रों में चलती रहे।    

देहरादून में 3 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट पाॅजीटिव पाई गई

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया है आज कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत 294 सैम्पल जाचं हेतु भेजे गये तथा 153 सैम्पल प्राप्त हुए जिनमें सभी 3 व्यक्तियों की जांच रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त होने के फलस्वरूप जनपद में कोरोना पाॅजिटिव संक्रमितों की संख्या 82 हो गयी है, जिनमें 35 व्यक्ति स्वस्थ हो गये हैं तथा वर्तमान में 44 व्यक्ति उपचाररत् हैं जिनमें 3 व्यक्ति अन्य प्रदेश के हैं। अन्य राज्यों से आने वाले कुल 244 व्यक्तियों की सैम्पलिंग संकलित की गयी जिनमें, आशारोड़ी चैकपोस्ट पर 25, रायवाला चैकपोस्ट पर 14, धर्मावाला में 31,  दून मेडिकल कालेज में 33, महन्त इन्द्रेश अस्पताल में 16, कोरोनेशन में 1 बिधोली में 118, हाॅटल सालिटियर में 6 सैम्पल शामिल हैं। इसके अतिरिक्त 123 व्यक्तियों की रैण्डम सैम्पलिंग की गयी जिसमें आशारोड़ी चैकपोस्ट पर 22, रायवाला चैकपोस्ट पर 9 होटल सोलिटियर में 29, स्पोर्टस कालेज रायपुर में 63, सैम्पल शामिल हैं।

जनपद में आज आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा कुल 37077 व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी की की गयी। इसी प्रकार आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा जनपद में होम क्वारेंटीन किये गये कुल 858 व्यक्तियों की निगरानी का कार्य किया गया। इसी क्रम में अन्य राज्यों से जनपद में पंहुचे कुल 1080 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण एवं सैम्पल प्राप्त करने के उपरांत संस्थागत क्वारेंटाइन किया गया। कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत लाॅक डाउन अवधि के दौरान जनपद में बनाये गये 3 राहत शिविरों में ठहरे हुए 31 व्यक्तियों का चिकित्सकों एवं परामर्शदाताओं द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण उपरान्त कांउसिलिंग प्रदान की गयी। कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत दिहाड़ीध्मजदूरी करने आये 17 श्रमिकों जिन्हे रेन बसेरा लालपुल में बनाये गये राहत शिविर में ठहराया गया है, की साईकेट्रिक सपोर्ट टीम द्वारा रिवाइस्ड कांउसिलिंग की गयी।

आज विभिन्न ड्यूटियों में तैनात कार्मिकों को 314 एन-95 मास्क,  5240 ट्रीपल लेयर मास्क, 234 पीपीई किट, 410 वीटीएम वायल, 191 सेनिटाईजर, 125 सर्जिकल गलब्स, 1100 एग्सामिनेशन गलब्स  वितरित किये गये। कोरोना वायरस संक्रमण कोविड-19 की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु समस्त मेडिकल स्टोर पर बिना चिकित्सक के परामर्श की पर्ची के सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयों का विक्रय प्रतिबन्धित किये जाने के उपरान्त समस्त मेडिकल स्टोर स्वामियों द्वारा जनपद में कुल 112 व्यक्तियों को चिकित्सकीय पर्ची के आधार पर सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयां विक्रय की गयी।

869 निराश्रित पशुओं को पशु आहार उपलब्ध कराया गया

देहरादून। जिला प्रशासन की टीम द्वारा स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से जनपद अन्तर्गत विकासखण्ड चकराता, विकासनगर, सहसपुर, रायपुर व डोईवाला एवं तहसील सदर में कुल 869 निराश्रित पशुओं जिसमें 480 श्वान, 344 गौवंश एवं 45 अन्य पशुओं को चारा व पशु आहार उपलब्ध कराया गया। राम सिंह प्रधान जी दुग्ध विकास समिति रजि0 द्वारा रेनबसेरा पटेलनगर में ठहराये गये आसाम, उत्तरप्रदेश, हिमाचल प्रदेश एवं उत्तराखण्ड के 48 व्यक्तियों को  भोजन उपलब्ध करया जा रहा है।

दून हैप्पी मील्स में श्रीमती ईशा बत्रा, एमडीडीए काम्पलेक्स, विपरित धारा चैकी  द्वारा 5 अन्नपूर्णा किट उपलब्ध कराई गयी। इसी प्रकार किन्डरहिल्पसवर्क एनजीओ काठबंगला राजपुर रोड द्वारा 1000 मास्क, चर्च एक्सलरी फाॅर सोशल एक्शन, पाॅमसिटी द्वारा 500 सेनिटाइजर जिला प्रशासन को उपलब्ध कराये गये।

कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत डाॅ ए.के डिमरी, डाॅ जे. एल फिर्मल कृषि निदेशालय के 71 कार्मिकों को  प्रशिक्षण दिया गया तथा उपस्थित अधिकारियों एवं कर्मचारियों को रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने हेतु औषधि कावितरण किया गया । प्रधानमंत्री जनधन खाताधारकों द्वारा जनपद में विभिन्न बैंकों से 3099 लाभार्थियों द्वारा अपने जनधन खाते से धनराशि की निकासी की गयी। जनपद में विभिन्न विकासखण्डवार मनरेगा कार्यों के अन्तर्गत आतिथि तक 1041 निर्माण कार्य प्रारम्भ किये गये, जिनमें 14185 श्रमिकों को सैनिटाईजेशन एवं सामाजिक दूरी का अनुपालन करवाते हुए उक्त कार्य में योजित कर रोजगार उपलब्ध कराया गया। कोविड-19 के संक्रमण के  दृष्टिगत जिला आपदा परिचालन केन्द्र देहरादून में जन सहायता हेतु स्थापित कन्ट्रोलरूम में कुल 75 काॅल प्राप्त हुई हैं, जिनमें सभी काल पास हेतु प्राप्त हुई।

देहरादून से 1152 लोगों को विशेष टेªन के माध्यम किशनगंज बिहार भेजा गया

देहरादून,। देहरादून रेलवे स्टेशन से 1152 व्यक्तियों को विशेष टेªन के माध्यम किशनगंज बिहार भेजा गया है, इस टेªन में हरिद्वार से भी अतिरिक्त कोच जुड़ेंगे तथा वहां से भी श्रमिक अपने गंतव्यों स्थानों को भेजे जायेंगे। इसी प्रकार आज शाम उत्तरप्रदेश के बाराबंकी, गौंडा, गोरखपुर के लिए 1152 व्यक्तियों को लेकर श्रमिक स्पेशल टेªन भेजी जायेगी। जनपद देहरादून स्थित महाराणा प्रताप स्पोर्टस कालेज रायपुर से विभिन्न जनपदों के 708 व्यक्तियों को 29 बसों के माध्यम से सम्बन्धित जनपदों में भेजा गया, जिसमें, पिथौरागढ के 79, नैनीताल के 34, अल्मोड़ा के 92, बागेश्वर के 79, अधमसिंहनगर के 7, चम्पावत के 28, टिहरी के 254 पौड़ी के 135 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण एवं थर्मल स्क्रीनिंग के उपरान्त सम्बन्धित जनपदों हेतु भेजा गया। इसी प्रकार जनपद देहरादून से मुजफ्फरनगर उत्तरप्रदेश के 40 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण उपरान्त 1 बस के माध्यम से भेजा गया।

वायु सेवा के माध्यम से जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट पर पंहुचे 83 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण उपरान्त जनपद में प्रशासन द्वारा अधिग्रहित विभिन्न होटल में संस्थागत क्वारेंटीन किया गया है। इसी प्रकार जनपद के जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट से विभिन्न प्रदेशों के 107 व्यक्ति गंतव्यों हेतु गये। जनपद के  विभिन्न चयनित स्थानों पर प्रशासन द्वारा अधिकृत 12 मोबाईल वैन के माध्यम से सस्ते  दरों पर 84.60 क्विंटल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया। जिला प्रशासन की टीम द्वारा जनपद के ऋषिकेश नगर निगम क्षेत्र में अवस्थित आशुतोष नगरध्बैराज रोड ऋषिकेश में खाद्य एवं दैनिक उपयोग की आवश्यक सामग्री उपलब्ध करवाई गयी। जिलापूर्ति विभाग कन्टेंनमेंट आशुतोष नगरध्बैराज रोड ऋषिकेश में 2 गैस सिलेण्डर वितरित किये गये। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अन्तर्गत आशुतोष नगरध्बैराज रोड में 493 उपभोक्ताओं को खाद्यान उपलब्ध कराया गया। दुग्ध विकास विभाग द्वारा गुरू रोड पटेलनगर में 20, ई.डब्लू.एस ब्लाक एमडीडीए में 25, सेवलाकला कन्टेंमेंट जोन में 20 ली0 आशुतोष नगर में ऋषिकेश में 30 ली0, बैराज कालोनी में 20 कुल 115 ली0 दूध विक्रय किया गया।

क्वारेंटीन के नियमों में शिथिलता प्रदान की गई

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया कि राज्य सरकार द्वारा क्वारेंटीन के नियमों में शिथिलता प्रदान की गयी है, जिसमें आने वाले दम्पति जिनके 10 वर्ष तक के छोटे बच्चे हैं एवं 65 वर्ष की आयु के वरिष्ठ नागरिक, गर्भवती महिलांए, परिवारजन की मृत्यु, गम्भीर रूप से बीमार व्यक्तियों, जांच उपरान्त नोडल अधिकारी एवं स्वास्थ्य जांच टीम की संस्तुति के उपरान्त अपने घरों में होम क्वारेंटीन हेतु अनुमत किया गया है। देश के विभिन्न स्थानों से ड्यूटी पर आने वाले थल सेना, जल सेना, वायु सेना एवं अर्ध सैनिक बलों के अधिकारी एवं जवान तथा उनके परिवारजनों हेतु  सम्बन्धित यूनिट द्वारा अपने यूनिट कैम्प में बनाये गये  क्वारेंटीन सेन्टर में रखे जाने हेतु जांच उपरान्त नोडल अधिकारी एवं स्वास्थ्य जांच टीम की संस्तुति के पर सम्बन्धित यूनिट में रखे जाने हेतु  शासन द्वारा अनुमत किया गया है। जनपद में आतिथि तक लगभग 1400 व्यक्तियों कों क्वारेंटीन किया गया है। जिलाधिकारी ने अवगत कराया है विदेशों एवं अन्य राज्यों से देहरादून लौटने वाले उत्तराखण्ड वासियों को कोरोनेा वायरस संक्रमण कोविड-19 से रोकथाम हेतु भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप 14 दिन के लिए संस्थागत क्वारेंटीन केन्द्रों पर गैर चिकित्सकीय आवश्यक व्यवस्थाओं यथा स्थान, भोजन, बिस्तर, बिजली, पानी, पखें, इत्यादि के अनुश्रवण हेतु शिक्षा विभाग से  शिक्षकगणों को तैनात किया गया है। इसके अतिरिक्त जनपद में चिन्हित अधिकृत क्वारेंटीन फैसिलिटी में तैनात चिकित्सकीय स्टाप की सहायता हेतु पी.आर.डी स्वयं सेवकों को तैनात किया गया है।  

-----------------------------------

संगठन ने कोरोना योद्धाओं को सम्मानित किया 

देहरादून। श्रुत पंचमी के अवसर पर मानवाधिकार एवं सामाजिक न्याय संगठन के विजय पार्क स्थित ऑफिस में कोरोना वॉरियर सम्मान कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिन लोगों ने कोरोना महामारी में उत्कृष्ट कार्य किए और सेवा कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया, जरूरतमंद लोगों की तन, मन, धन से सेवा की उन लोगों को मानवाधिकार संगठन द्वारा सम्मानित किया गया। 

 इस अवसर पर संगठन के अध्यक्ष सचिन जैन ने कहा कि हम सभी कोरोना योद्धाओं को बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं देते हैं और आशा करते हैं कि वे इसी तरह भविष्य सभी जरूरतमंद लोगों को सहायता पहुंचाते रहें। कोरोना संक्रमण के चलते शोषण डिस्टेंस का ध्यान रखते हुए यह कार्यक्रम कई भागों में किया जाएगा। इस अवसर पर कोरोना योद्धा के रूप में रमा गोयल, अनिल वर्मा, मेजर प्रेमलता वर्मा, डॉक्टर दिनेश मंजू शर्मा, शिखा थापा, शारदा गुप्ता, शीतल सिंह, श्वेता तलवार, संजीव गोयल, सुनीता नौटियाल, रोमी सलूजा, नीलू साहनी, सोनी त्रिपाठी को सम्मानित किया। इसी क्रम में कैन्ट बोर्ड की सीईओ तनु जैन ने अपने आफिस में कई कोरोना योद्धाओं को मानवाधिकार संगठन के प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया। जिसमें डॉ मुकुल शर्मा, अमर जैन, गौरव जैन, डॉ शैलेंन्द्र कौशिक आदि शामिल रहे। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष मधु जैन एवम प्रदेश उपाध्यक्ष लछु गुप्ता ने अभी कोरोना वाॅरियर को बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं दी ओर प्रोत्साहित करने के लिए कोरोना योद्धा का गोल्ड मैडल भी दिया। 

महिलाओं में माहवारी सम्बंधी दिक्कतें पैदा कर रही कोरोना महामारीः डा. सुजाता संजय


 

देहरादून। पूरी दुनिया बेहद संक्रामक कोविड-19 वायरस के खतरे से जूझ रही है। इससे बचने के लिए साफ-सफाई और सोशल डिस्टेंसिंग अपनाना ही बेस्ट है। पर्सनल हाइजीन को बनाए रखने के लिए बार-बार हाथों को साबुन से धोने की सलाह दी जाती है। घर के अंदर रहने के अलावा संतुलित आहार और व्यायाम करने की सलाह दी जा रही है। इससे शरीर को बीमारियों से लड़ने में आसानी होगी, लेकिन पीरियड्स के दौरान महिलाओं को अपने स्वास्थ्य पर और भी ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है।

संजय आॅर्थोपीडिक स्पाइन एण्ड मैटरनिटी सेंटर जाखन देहरादून उत्तराखण्ड की प्रसूति एंव स्त्री रोग विश्ेाषज्ञ राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कृत डाॅ0 सुजाता संजय नें बताया कि महावारी के दौरान महिलाओं में बीमारियों से लड़ने की शक्ति कम हो जाती है। ऐसे में उनमें इंफेक्शन की सम्भावना भी बढ़ जाती है। इसलिए, कोविड-19 में मासिक धर्म स्वच्छता के साथ स्वास्थ्य और पोषण पर ध्यान दें। अक्सर महिलाएं परिवार की देखभाल के चक्कर में खुद की देखभाल करना भूल जाती हैं।मासिक धर्म कोई अपराध नहीं बल्कि एक सामान्य शारीरिक प्रक्रिया है। जिस पर घर और समाज में खुलकर बात की जाए तो इस दैरान स्वच्छता के महत्व को भी समझा जा सकता है। जिसके लिए हमें एक माहौल बनाना होगा और पुरानी परंपरागत सोच को बदलना होगा। यह स्वच्छता महिलाओं को रखेगी स्वस्थ और देगी विश्वास आगे बढनें का, कभी नहीं रुकनें का, और डर को जड़ से खत्म कर देने का। डाॅ0 सुजाता संजय  नें बताया कि 28 मई को पूरी दुनिया में मासिक धर्म स्वच्छता दिवस मनाया जाता है। 2014 में जर्मनी के वॉश यूनाइटेड नें इस दिन को मनाने की शुरुआत की थी। इसका मुख्य उद्देश्य था लड़कियों और महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता रखने के लिए जागरूक करना था। तारीख 28 इसलिए चुनी गई, क्योंकि आमतौर पर महिलाओं के मासिक धर्म 28 दिनों के भीतर आते हैं। 

दुनियाभर में कोरोना वायरस महामारी के दौरान यह संभव है कि लोग पहले से कहीं ज्यादा तनाव महसूस कर रहे हैं। भले ही उन्हें इस बात का एहसास न हो। यह लगातार होने वाला तनाव शरीर में अजीब तरह की समस्या पैदा कर सकता है। डाॅ0 सुजाता संजय नें बताया कि महिलाओं के लिए तो यह महामारी और भी चिंता पैदा करती है, क्योंकि इससे उनके मासिक धर्म का चक्र यानी पीरियड साइकल बिगड़ सकता है। तनाव हमारे हार्मोनल मार्ग को सक्रिय करता है जो कोर्टिसोल की रिलीज को बढ़ावा देता है, जिसे स्ट्रेस हार्मोन भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अधिक तनाव के समय शरीर में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ता है। कोर्टिसोल का ज्यादा रिलीज होना प्रजनन हार्मोन के सामान्य स्तर को दबा सकता है। इससे असामान्य ओव्यूलेशन होता है जो पीरियड साइकल को बाधित कर सकता है। डाॅ0 सुजाता नें बताया कि पीरियड्स का कभी-कभी न आना यानी एमेनोरिया तब होता है जब कोई दर्दनाक घटना सामने आती है। दैनिक जीवन का तनाव यह भी प्रभावित कर सकता है कि महिला का पीरियड साइकल कितने समय तक चलता है। हालांकि और भी कारक हैं जो इसका कारण बनते हैं। जीवनशैली भी पीरियड्स बंद होने का कारण हो सकती है। इसमें अत्यधिक तनाव के कारण पीरियड साइकल को नियमित करने वाले दिमागी हिस्से पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। इससे ओवुलेशन और पीरियड्स बंद हो जाते हैं। डिसमेनोरिया भी उच्च तनाव की स्थितियों से जुड़ा है। इसमें पीरियड्स के दौरान गर्भाशय में असहनीय पीड़ा होती है। जो लोग पहले से ही पीरियड का दर्द का अनुभव करते हैं, उनके इस तरह से प्रभावित होने की आशंका अधिक होती है।

कोविड-19 से बचाव कार्यों में धन की कोई कमी नहीः अमित नेगी


 

देहरादून । सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अमित नेगी ने शासन के वरिष्ठ अधिकारियों और जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिग द्वारा प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा की। श्री नेगी ने कहा कि कोविड-19 से बचाव कार्यों में धन की कोई कमी नहीं है। एसडीआरएफ, मुख्यमंत्री राहत कोष के साथ ही जिला योजना से भी जिलों को पर्याप्त धनराशि उपलब्ध कराई गई है। क्वारेंटाईन फेसिलिटी में सारी आवश्यक सुविधाएं और व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं। यहां रोके जाने वाले लोगों को जरूरी चीजों की कमी न हो। स्वच्छता का भी पूरा ध्यान रखा जाए। जिलों में क्वारेंटाईन सेंटरों की मानिटरिंग के लिए एडीएम स्तर के अधिकारी को नोडल बनाया जाए। क्वारेंटाईन सेंटर में क्या-क्या सुविधाएं होनी चाहिए, उसकी लिस्टिंग कर ली जाए।

      सचिव श्री नेगी ने कहा कि कोविड केयर सेंटर (सीसीसी) बहुत महत्वपूर्ण हैं। कोशिश की जाए कि यहां अधिक स्थान उपलब्ध हो। रेड जोन से आने वालों को संस्थागत क्वारेंटाईन किया जाना है। पर्वतीय जिलों में यथासंभव टेस्टिंग को बढाया जाए। इसके लिए बूथ फेसिलिटी भी विकसित की जा सकती है। प्राईवेट अस्पतालों का सहयोग लिया जाए। सचिव श्री नेगी ने कहा कि जितने कार्मिकों की आवश्यकता है, आउटसोर्सिग से ले लिया जाए। इसमें विशेषज्ञ कार्मिकों की नियुक्ति को प्राथमिकता दी जाए। शासन स्तर पर सीसीसी, एमआईएस, लाजिस्टिक आदि के लिए नोडल अधिकारी तैनात किए गए हैं। जिलों में भी नोडल अधिकारी नियुक्त करते हुए उन्हें सक्रिय किया जाए। जिलों में फील्ड लेवल पर जो भी कठिनाइयां आती हैं, शासन को उससे अवगत कराएं। नियमित रूप से इनपुट देते रहें। विभिन्न बिंदुओं पर डाटा संग्रहण किया जा रहा है। इस डाटा का विश्लेषण भी करें। इससे आगे की आवश्यकताओं के बारे में पता चलता है। सचिव श्री नेगी ने कहा कि हेल्थ स्टाफ को सुरक्षित रखना सर्वोच्च प्राथमिकता पर हो। उनके लिए व्यवस्थाएं फुल प्रूफ हों। सभी व्यवस्थाओं का निरंतर आंकलन करते हुए देखें कि कहां-कहां गैप हैं। इन गैप को दूर किया जाए। एमआईएस पोर्टल पर सारी जानकारियां देना सुनिश्चित किया जाए। वीडियो कांफ्रेंसिग में सभी जिलाधिकारियों ने अपना फीडबैक दिया। बैठक में सचिव दिलीप जावलकर, सौजन्या, शैलेश बगोली, डाॅ पंकज कुमार पाण्डे, आईजी संजय गुंज्याल सहित अन्य अधिकारी और जिलाधिकारी उपस्थित थे।

भाजपा के जिलों के प्रभारियों और विभिन्न मोर्चों के प्रदेश प्रभारियों की नियुक्ति

देहरादून। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने आज पार्टी संगठन के लिए जिलों के प्रभारियों और विभिन्न मोर्चों के प्रदेश प्रभारियों की नियुक्ति की है। 

पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी अजेंद्र अजय ने बताया कि प्रदेश अध्यक्ष श्री भगत ने हरिद्वार के लिए प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार, पौड़ी के लिए प्रदेश महामंत्री राजेन्द्र भंडारी, पिथौरागढ़ के लिए प्रदेश उपाध्यक्ष कैलाश शर्मा, उत्तरकाशी के लिए प्रदेश प्रवक्ता विनय गोयल व विनोद सुयाल को प्रभारी नियुक्त किया है। रुद्रप्रयाग का अनिल शाही, टिहरी का प्रदेश कोषाध्यक्ष पुनीत मित्तल, चमोली का विजय कप्रवान, देहरादून का प्रदेश उपाध्यक्ष अनिल गोयल, देहरादून महानगर का प्रदेश उपाध्यक्ष कुसुम कंडवाल, बागेश्वर का देवेंद्र ढैला, अल्मोड़ा का प्रदेश मंत्री आशीष गुप्ता, चंपावत का प्रदेश मंत्री पुष्कर काला, नैनीताल का प्रदेश उपाध्यक्ष खिलेंद्र चैधरी व उधमसिंहनगर का प्रदेश मंत्री राजेन्द्र बिष्ट को जिला प्रभारी बनाया गया है। भाजपा महिला मोर्चा का प्रभारी राजेंद्र भंडारी, युवा मोर्चा का कुलदीप कुमार, अनुसूचित जाति मोर्चा का कैलाश शर्मा, अल्पसंख्यक मोर्चा का अनिल गोयल, ओबीसी मोर्चा का खिलेंद्र चैधरी, किसान मोर्चा का राजेंद्र बिष्ट व अनुसूचित जाति मोर्चा का पुष्कर काला को बनाया गया है।

अनर्गल बयानबाजी और दुष्प्रचार करना कांग्रेस के डीएनए में शामिलः भगत 

देहरादून। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि अनर्गल बयानबाजी और दुष्प्रचार करना कांग्रेस के डीएनए में शामिल है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत बीस लाख करोड़ रुपए का पैकेज घोषित कर समाज के सभी वर्गों को राहत दी है। श्री भगत आज भाजपा प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दृष्टिगत केंद्र व प्रदेश सरकार ने लॉक डाउन की सही समय पर घोषणा की। उसका परिणाम है कि कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण रहा है। प्रवासियों की घर वापसी के कारण संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। मगर प्रदेश सरकार की तैयारियां पूरी है। सरकार हर तरह के संकट से निपटने को तैयार है।

श्री भगत ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान भाजपा संगठन पूरी तरह से लोगों की मदद में जुटा रहा। पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रदेश भर में 25 लाख से अधिक भोजन पैकेट व तीन लाख से अधिक अधिक राशन किट आदि जरूरतमंदों को वितरित किए। बड़ी संख्या में मास्क व सैनिटाइजर बांटे गए। घर वापस लौट रहे प्रवासियों की भी भाजपा कार्यकर्ता अपने स्तर से हरसंभव मदद कर रहे हैं। मगर आपदा के इस पूरे दौर में कांग्रेस कहीं भी सेवा कार्यों में नजर नहीं आई। इसके विपरीत कांग्रेस के लोग लगातार राजनीति करने में जुटे हुए हैं। उन्होंने कहा कि लॉक डाउन के कारण उपजी परिस्थितियों के मद्देनजर केंद्र की मोदी सरकार ने गरीब कल्याण योजना व आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत सबकी चिंता की है। केंद्र सरकार ने गरीबों, किसानों, महिलाओं, मजदूरों, व्यापारियों, छोटे उद्यमियों आदि सब के लिए कुछ ना कुछ राहत के उपाय किए हैं। प्रदेश की त्रिवेंद्र सरकार भी अपने स्तर से सभी वर्गों के हितों को ध्यान में रखकर योजनाएं संचालित कर रही हैं। भाजपा अध्यक्ष श्री भगत ने बताया कि मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरा होने पर पार्टी विभिन्न गतिविधियां आयोजित करेगी। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के कार्यकाल की ऐतिहासिक उपलब्धियां रही हैं। मोदी सरकार ने अपने कार्यकाल में तमाम ऐसे कार्य किए, जो वर्षो से लंबित पड़े थे। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने कोरोना महामारी के समय में बेहतर कार्य किया है। यही कारण है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के प्रयास की वैश्विक स्तर पर सराहना हुई है।

भाजपा मीडिया प्रभारी ने होम क्वारंटीन संबंधी पंपलेट को सामान्य व पुराना मामला बताया 


 

देहरादून। भाजपा ने पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पर चिपकाए गए होम क्वारंटीन संबंधी पंपलेट को सामान्य व पुराना मामला बताया है। पार्टी ने कहा कि इस मामले में तिल का ताड़ बनाने जैसा कुछ भी नहीं है। 

प्रदेश भाजपा के मीडिया प्रभारी अजेंद्र अजय ने बताया कि पार्टी के प्रदेश महामंत्री संगठन अजेय 27 अप्रैल को सहारनपुर से वापस लौटे थे। दूसरे प्रदेश से वापसी के मद्देनजर उन्होंने सरकारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप अपने को होम क्वारंटीन कर दिया था। इस दौरान प्रदेश महामंत्री संगठन अजेय ने स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों का पूरी तरह पालन किया और देहरादून स्थित अपने निजी आवास पर पूरे 14 दिन क्वारंटीन रहे। उन्होंने कहा कि अजेय ने खुद को होम क्वारंटीन होकर एक अच्छी व सकारात्मक पहल की थी। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी अजेंद्र ने यह भी स्पष्ट किया कि लॉक डाउन-1 शुरू होते ही भाजपा प्रदेश कार्यालय में किसी प्रकार की आवाजाही प्रतिबंधित कर दी गई थी, जो कि लॉक डाउन-4 तक जारी रही। लॉक डाउन 4 के पश्चात ही भाजपा प्रदेश मुख्यालय में सरकारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप कार्य किया जा रहा है। 

संघ और भाजपा के नेता अटल बिहारी वाजपेई के भाषण से नेहरू जी के इतिहास की प्रेरणा लेंः धीरेंद्र प्रताप

देहरादून। नेहरू गांधी परिवार पर सदैव आक्रामक रवैया अपनाने वाले संघ और भाजपा के कार्यकर्ता आज स्वर्गीय जवाहरलाल नेहरू की 56 वी पुण्यतिथि के अवसर पर आज तक के संघ और भाजपा के इतिहास के सबसे बड़े नेता पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई का नेहरू जी की मृत्यु पर दिया गया संबोधन पढ़ें और याद करें अटल बिहारी वाजपेई जी नेहरू जी का कितना सम्मान करते थे। नेहरू का भूत बड़ा मजबूत। कारण आज के नेता नेहरू के सामने बौने दिखाई देते हैं।

27 मई 1964 के दिन जवाहर लाल नेहरू की मृत्यु हो गयी थी। संसद में भारतीय जनसंघ के नौजवान नेता, अटल बिहारी वाजपेयी ने 29 मई, 1964 को संसद में उन्हें श्रद्धांजलि दी। उनका भाषण प्रस्तुत हैयह भाषण संसद के रिकार्ड का हिस्सा है। राज्यसभा की 29 मई 1964 की कार्यवाही में छपा है।

एक सपना था जो अधूरा रह गया, एक गीत था जो गूँगा हो गया, एक लौ थी जो अनन्त में विलीन हो गई। सपना था एक ऐसे संसार का जो भय और भूख से रहित होगा, गीत था एक ऐसे महाकाव्य का जिसमें गीता की गूँज और गुलाब की गंध थी। लौ थी एक ऐसे दीपक की जो रात भर जलता रहा, हर अँधेरे से लड़ता रहा और हमें रास्ता दिखाकर, एक प्रभात में निर्वाण को प्राप्त हो गया। मृत्यु ध्रुव है, शरीर नश्वर है। कल कंचन की जिस काया को हम चंदन की चिता पर चढ़ा कर आए, उसका नाश निश्चित था। लेकिन क्या यह जरूरी था कि मौत इतनी चोरी छिपे आती ? जब संगी-साथी सोए पड़े थे, जब पहरेदार बेखबर थे, हमारे जीवन की एक अमूल्य निधि लुट गई। भारत माता आज शोकमग् है, उसका सबसे लाड़ला राजकुमार खो गया। मानवता आज खिन्नमना है उसका पुजारी सो गया। शांति आज अशांत है, उसका रक्षक चला गया। दलितों का सहारा छूट गया। जन जन की आँख का तारा टूट गया। यवनिका पात हो गया। विश्व के रंगमंच का प्रमुख अभिनेता अपना अंतिम अभिनय दिखाकर अन्तर्ध्यान हो गया। महर्षि वाल्मीकि ने रामायण में भगवान राम के सम्बंध में कहा है कि वे असंभवों के समन्वय थे। पंडितजी के जीवन में महाकवि के उसी कथन की एक झलक दिखाई देती है। वह शांति के पुजारी, किन्तु क्रान्ति के अग्रदूत थेय वे अहिंसा के उपासक थे, किन्तु स्वाधीनता और सम्मान की रक्षा के लिए हर हथियार से लड़ने के हिमायती थे। वे व्यक्तिगत स्वाधीनता के समर्थक थे किन्तु आर्थिक समानता लाने के लिए प्रतिबद्ध थे। उन्होंने समझौता करने में किसी से भय नहीं खाया, किन्तु किसी से भयभीत होकर समझौता नहीं किया। पाकिस्तान और चीन के प्रति उनकी नीति इसी अद्भुत सम्मिश्रण की प्रतीक थी। उसमें उदारता भी थी, दृढ़ता भी थी। यह दुर्भाग्य है कि इस उदारता को दुर्बलता समझा गया, जबकि कुछ लोगों ने उनकी दृढ़ता को हठवादिता समझा। मुझे याद है, चीनी आक्रमण के दिनों में जब हमारे पश्चिमी मित्र इस बात का प्रयत्न कर रहे थे कि हम कश्मीर के प्रश्न पर पाकिस्तान से कोई समझौता कर लें तब एक दिन मैंने उन्हें बड़ा क्रुद्ध पाया। जब उनसे कहा गया कि कश्मीर के प्रश्न पर समझौता नहीं होगा तो हमें दो मोर्चों पर लड़ना पड़ेगा तो बिगड़ गए और कहने लगे कि अगर आवश्यकता पड़ेगी तो हम दोनों मोर्चों पर लड़ेंगे। किसी दबाव में आकर वे बातचीत करने के खिलाफ थे। प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने भारत रत्न जवाहरलाल नेहरू की 56वीं पुण्यतिथि के अवसर पर संघ और भाजपा के कार्यकर्ताओं से नेहरू जी की देश के लिए की गई महान सेवाओं और त्याग के बारे में संघ के सबसे बड़े नेता स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई जी के नेहरू जी की मृत्यु पर संसद में दिए गए संबोधन से सीख लेने की अपील की और कहां है कि संघ और भाजपा के नेता नेहरू और गांधी परिवार के संबंध में कुछ भी वक्तव्य जारी करने से पहले उनके परिवार की इस राष्ट्र के प्रति पिछले 100 साल से ज्यादा लंबे इतिहास में की गई सेवाओं का अटल बिहारी वाजपेई जी के संबोधन से संज्ञान ले उन्होंने जवाहरलाल नेहरू को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि वे महामानव थे शांति के दूत थे और संघर्ष उनके जीवन के कण-कण में था। वे सदैव हमारे ही नहीं पूरी दुनिया के प्रेरणास्रोत बने रहेंगे।

कोरोना काल में उत्तराखंड सरकार का दिव्यांगों के प्रति रवैया निंदनीयः धीरेंद्र प्रताप

देहरादूून। उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष और पूर्व दर्जाधारी मंत्री धीरेंद्र प्रताप ने ऐसे समय मे जब कोरोना वायरस के कारण देश के लाखो दिव्योंगों को बहुत समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, ऐसे समय में उत्तराखंड सरकार द्वारा यहां रह रहे दिव्यांगों की 3 महीने की पेंशन को काट कर उसमें से भी मात्र 2 महीने की पेंशन दिए जाने और उसमें भी एक हजार की राशि को घटाकर 500 कर दिए जाने को दिव्यांग भाइयों के साथ क्रूर मजाक बताया है।

  राज्य सरकार के इस फैसले को बहुत ही अमानवीय और अनैतिक बताते हुए धीरेंद्र प्रताप ने कहा है कि केंद्रीय वित्त मंत्री नीलम सीतारमण ने कोरोना के चलते मार्च  माह के अतिम सप्ताह में देशभर के दिव्यांगों को 3 महीने तक के लिए एक 1000 की इमदाद स्वरूप सहायता राशि देने का ऐलान किया था परंतु उत्तराखंड में राज्य सरकार इसमें भी डाका डालने में बाज नहीं आई और उन्होंने विकलांगता का पैमाना  80 प्रतिशत विकलांगता बताकर, ऐसे बहुत से दिव्यांगो की जिनके पास रोटी खाने तक के लिए पैसे नहीं है। उनकी सहायता राशि काट दी। धीरेन्द्र  प्रताप ने कहा किपहले तो उन्हें पहले महीने में 1000 की जगह मात्र 500 दिए और अब जो 500 भी 3 महीने के लिए मिलने थे उसमें भी यह कह दिया कि 2 महीने के बाद अब यह पैसे उन्हें नहीं दिए जाएंगे। उन्होंने कहा जब दिव्यांगों को मदद देने का फैसला केंद्र सरकार  का फैसला है तो राज्य के समाज कल्याण विभाग को यह फैसला नहीं लेना चाहिए था। उन्होंने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से आग्रह किया है कि वह दिव्यांगों के अधिकारों की रक्षा करें और समाज कल्याण मंत्रालय को निर्देश दे कि वे भगवान के मारे दिव्यांगों पर सरकार की महा मार ना करें और उन्हें केंद्र की नीति के अनुसार प्रतिमाह 3 महीने तक घ्5000 की राशि सहायता  राशि के रूप में निर्गत करने का कष्ट करें ।उन्होंने कहा एक और प्रधानमंत्री जनकल्याण के नाम पर 2000000 करोड रुपए के पैकेज की बात कर रहे हैं और उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सरकार के राज में जूतों में दाल बंट रही है। उन्होंने इसे अत्यंत दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण बताया और सरकार से अपने रवैए में सुधार करते  हुए दिव्यांगों को फौरी तौर पर प्रति मास कम से कम 5000 की सरकारी सहायता दिए जाने की मांग की।

बढ़ती मांग को देखते हुए पीपीई किट्स का उत्पादन शुरू किया 

देहरादून। वैश्विक स्तर पर जारी कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बीच, फ्रंटलाइन वर्कर्स (अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता) पूरी ईमानदारी से समाज के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं। अपनी शुरुआत के बाद से प्रॉडक्ट इनोवेशन के पर्याय रहे और समाज में योगदान देने के विजन के साथ डोनियर ग्रुप-डोनियर, ग्रेडो बाय जीबीटीएल (जीबीटीएलको पहले ग्रेसिमके रूप में जाना जाता था) और ओसीएम- नियो-टेक®टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हुए फैब्रिक्स, गारमेंट्स और प्रोटेक्टिव गियर के निर्माण के क्षेत्र में उतरे हैं। ग्रुप अपनी रेंज कार्टेक्स, प्रोटेक्स और शील्डटेक्स के तहत क्रमशः पीपीई किट्स, मास्क और हेल्थकेयर एपैरलकी पेशकश कर रहे हैं। 

हेल्थकेयर प्रॉडक्ट्स की बढ़ती जरूरतों को जल्द पूरा करने के लिए, ग्रुप ने ‘हीट सीम सीलिंग’टेपिंग मशीनों में निवेश किया है और पीपीई किट्स का उत्पादन शुरू कर दिया है। ये किट्स एसआईटीआरए और डीआरडीओ सहित जानी-मानी लेबोरेटोरीज और एजेंसियों द्वारा सर्टिफाइड हैं। हेल्थकेयर सेगमेंट की अहम जरूरतों को समझते हुए, ग्रुप ने एंटी-माइक्रोबियल और ब्लड रीपीलेंट फिनिश के साथ स्पेशलाइज्ड फैब्रिक्स भी विकसित किए हैं। ये फैब्रिक्स विशेष रूप से पीपीई कवरऑल्स के लिएनियो-टेक®टेक्नोलॉजी के साथ तैयार किए गए हैं। इन कवरऑल्स की एक यूएसपी यह है कि उनका दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है। साथ ही ये पहनने में बेहदआरामदायक है, क्योंकि इन्हें ब्रेथेबल वाटर-प्रूफ केमिकल से तैयार से तैयार किया गया है। हेल्थकेयर, एविएशन, डिफेंस, बैंकिंग, पुलिस, एनजीओ, म्युनिसिपल वर्कर, सिक्योरिटी एजेंसीज, सरकारी निकायों इत्यादि जैसे उद्योगों को उच्च गुणवत्ता वाले, उपयोगी, रेडी-टू-वियर प्रॉडक्ट्समुहैया कराने के प्राथमिक उद्देश्य के साथ इनको तैयार किया गया है। स्वास्थ्य, स्वच्छता और आराम के मानकों को बरकरार रखते हुए ये प्रॉडक्ट्स फ्रंटलाइन वारियर्स को वायरस और बैक्टीरिया से सुरक्षा प्रदान करते हैं। ये दोबारा इस्तेमाल हो सकने वाले ये कवरऑल्सअपशिष्ट प्रबंधन की चुनौतियों को काफी हद तक कम करने में मददगार साबित होंगे। 

इन एंटी-बैक्टीरियल फैब्रिक्स (कपड़ों) को कई इंडस्ट्रीज से काफी सराहना मिली है, जिनमें कई प्रमुख राज्य के पुलिस विभागों और दूसरे सरकारी विभाग शामिल हैं। 

इन फैब्रिक्स को उन लोगों द्वारा भी सराहा जा रहा है जो रोजाना सैलूनध्क्लीनिक में एप्रन के रूप (कम्यूटर सूट्स) में इनका इस्तेमाल करते हैं दृया किसी भी काम में जहां मानव स्पर्श शामिल हो सकता है। नियो-टेक®डोनियरग्रुप की कंपनियों द्वारा विकसित एक अनूठी तकनीक है, जो भारतीय कपड़ा उद्योग के प्रतिमानोंमें बदलाव लाने के इरादे से किए गए व्यापक और गहन अनुसंधान और विकास की परिणति है। ब्व्टप्क्-19 के मद्देनजर, इंडस्ट्री के दिग्गजों, जाने-माने केमिकलसप्लायर्स और तकनीकी संस्थानों की एक टीम का गठन किया गया था, जिसका उद्देश्य ऐसे फैब्रिक्स विकसित करना है जो उच्च गुणवत्तायुक्त और उपयोगी होने के साथ ही बैक्टीरिया और वायरस से भी बचाव (शील्ड) कर सकें। इसके अलावा वह नमी प्रबंधन, दुर्गंध को रोकने वाली, कूल मैक्स और अन्य तकनीकों से लैस है।

पुण्यतिथि पर याद किए गए प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू

देहरादून। प्रदेश कंागे्रस कमेटी कार्यालय में स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री, भारत रत्न, स्0 पं0 जवाहरलाल नेहरू की पुण्यतिथि के अवसर पर कंाग्रेसजनों ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में आयेाजित कार्यक्रम में पं0 जवाहर लाल नेहरू जी के चित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें श्रद्धा पूर्वक याद किया। इससे पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने जेल परिसर पहुंचकर नेहरू वार्ड में पं0 जवाहर लाल नेहरू जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धां सुमन अर्पित किये।

इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने पं0 नेहरू के जीवन वृत्त पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पण्डित जवाहर लाल नेहरू जी द्वारा स्वतंत्रता संग्राम के दौरान किये त्याग और योगदान पर हमें गर्व है। उन्होंने प्रगतिशील, धर्मनिरपेक्ष और आधुनिकि भारत की जो आधारशिला रखने में योगदान दिया उसके लिए हम सब भारतवासी उन्हें कृतज्ञता से याद करते हुए नमन करते हैं। पं0 जवाहरलाल नेहरू जी के पंचशील के सिद्धांत आज भी पूरी दुनिया को शांति का संदेश देते हैं। उन्होंने संसदीय लोकतंत्र के इतिहास में समाजवाद, लोकतंत्र व नियोजन का नया प्रयोग किया था जिससे पूरे विश्व में लोकतंत्र की बयार कोे नई दिशा मिली थी। उन्होंने सार्वजनिक क्षेत्र के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करते हुए भारत के औद्योगिक विकास की मजबूत नींव खड़ी की थी। आजाद भारत की मजबूत अर्थ व्यवस्था की बुनियाद उनके कुशल नेतृत्व व दूरदृष्टि व विकास की सोच के कारण ही पड़ पाई थी। पं0 नेहरू ने पूरे विश्व में भारत के विकास का एक नया माॅडल प्रस्तुत किया था। आज भी उन्हें पूरे विश्व में मिश्रित अर्थ व्यवस्था का जनक माना जाता है। उन्होंने कहा कि पं0 जवाहर लाल नेहरू जी एवं उनके द्वारा किये गये कार्यों तथा उनकी स्मृतियों को मिटाने के लिए कुछ शक्तियां जो इस समय सत्ता मद में चूर हैं, अनेकानेक कुत्सित प्रयास कर रही हैं हमें उनके इस कुप्रयास का जवाब देना है। उन्होंने कहा कि जो लोग आज भारत की राजनीति से कांग्रेस को मुक्त करने की बात कर रहे हैं उन्हें हिन्दुस्तान की जनता समय-समय पर जवाब दे रही है एक समय वे भारत की राजनीति से स्वयं मुक्त हो जायेंगे।

प्रीतम सिंह ने कहा कि आधुनिक भारत के निर्माता प0 नेहरू जी बहुलतावादी समाज, लोकतंत्र और सामाजिक न्याय तथा साझा समृद्धि के लिए राष्ट्र के संसाधनों पर समान अधिकार और अवसर के पक्षधर थे। उन्होंने भारत की एकता, सम्प्रभुता और अखण्डता को अक्षुण्ण बनाये रखने तथा विभाजनकारी विचारधारा की राजनैतिक शक्तियों का मुकाबला करने का मार्ग दिखाया तथा गुटनिरपेक्ष आन्दोलन का सूत्रपात किया तथा विश्व के राष्ट्रों में भारत के गौरव को बढ़ाकर विश्व नेतृत्व की भूमिका में खड़ा किया। हमे उनके दिखाये मार्ग पर चलकर साम्प्रदायिकता, घृणा और हिंसा को बढ़ावा देने का काम करने वाली शक्तियों का डटकर मुकालबा करना है।

श्रद्धासुमन अर्पित करने वालों में प्रदेश महामंत्री संगठन विजय सारस्वत, प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना, पूर्व मंत्री शूरवीर सिंह सजवाण, मातवर सिंह कण्डारी, प्रदेश महामंत्री प्रदेश महामंत्री नवीन जोशी, राजेन्द्र शाह, ताहिर अली, गोदावरी थापली, हरिकृष्ण भट्ट, पूर्व मंत्री अजय सिंह, पूर्व मीडिया चेयरमैन राजीव महर्षि, विषेश आमंत्रित सदस्य सुभाष चैधरी, महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, पूर्व विधायक राजकुमार, रामकुमार वालिया, जिलाध्यक्ष संजय किशोर, प्रदेश सचिव राजेश शर्मा, शोभाराम, नवीन पयाल, सीताराम नौटियाल, गिरीश पुनेड़ा, संदीप चमोली निवर्तमान प्रवक्ता गरिमा दसौनी, अर्जुन कुमार, प्रदेश सचिव प्रणीता बडोनी, शांति रावत, राजेश चमोली, सूरत सिंह नेगी, कमर खान, सुनित राठौर, कुल्दीप चाौधरी, अमरजीत सिंह भरत शर्मा, उर्मिला थापा, दीवान सिंह तोमर, अश्वनी बहुगुणा,, नागेश रतूड़ी, महेश जोशी, जगदीश धीमान, धर्मसिह पंवार, विशाल मौर्य, मनीष नागपाल, कमलेश रमन, मंजू त्रिपाठी, विकास नेगी, विजय रतूड़ी, पुष्कर सारस्वत, सूर्यप्रताप सिंह राणा, भूपेन्द्र नेगी, संदीप कुमार, प्रणीता बडोनी, मोहन काला, सावित्री थापा, मोहित नेगी, अभिनन्दन शर्मा, अनुराधा तिवारी, सुलेमान अली, आशीष सक्सेना, सुधीर सुनेहरा, अजय रावत, अनिल बसनेत, सहित अनेक कांग्रेसजन शामिल थे। 

माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाचार्यों के लिए पांच दिवसीय ऑनलाइन प्रशिक्षण का शिक्षामंत्री ने किया शुभारंभ 


 

देहरादून। माध्यमिक विद्यालय में कार्यरत प्रधानाचार्यों के लिए पांच दिवसीय ऑनलाइन प्रशिक्षण का शुभारंभ राज्य के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे के द्वारा किया गया। कोविड-19 के संक्रमण के फलस्वरूप ऑनलाइन शिक्षण की प्रक्रिया पर आधारित है। प्रशिक्षण का उद्देश्य माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत प्रधानाचार्यों को ऑनलाइन शिक्षण प्रशिक्षण प्रविधि पर दक्ष करना है।  माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत प्रधानाचार्यों के लिए पांच दिवसीय ऑनलाइन प्रशिक्षण का शुभारंभ राज्य के माननीय शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे के द्वारा किया गया है। यह प्रशिक्षण राज्य शैक्षणिक प्रबंधन संस्थान (सीमैट), उत्तराखण्ड, देहरादून द्वारा आयोजित किया जा रहा है। प्रशिक्षण का उद्देश्य माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत प्रधानाचार्यों को ऑनलाइन शिक्षण प्रशिक्षण प्रविधि पर दक्ष करना है। 

प्रशिक्षण को केंद्रीग स्टूडियो राजीव गांधी नवोदय विद्यालय देहारदून से प्रसारित किया जा रहा है तथा माध्यमिक विद्यालय जहां पर वर्चुअल आई.सी.टी लैब, जिनकी संख्या 500 है, के प्रधानाचार्यों के लिए आयोजित किया जा रहा है। इस प्रशिक्षण के शुभारंभ के अवसर पर प्रदेश के शिक्षा मंत्री के द्वारा 500 प्रधानाचार्यों, राज्य के सभी जनपदों के मुख्य शिक्षा अधिकारियों, विद्यालयों के विद्यालय के प्रबंध समितियों के सदस्य तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ वार्तालाप किया गया। प्रशिक्षण के शुभारंभ के दिन 48 विद्यालय के केंद्रीय स्टूडियो में प्रधानाचार्यों से शिक्षा मंत्री ने कोविड-19 के संक्रमण के फलस्वरूप शिक्षा तथा परीक्षा के बाधित होने के कारण हुई परेशानियों पर सीधी वार्ता की। अधिकांश प्रधानाचार्यों द्वारा शेष परिषदीय परीक्षाओं को संपन्न करवाने करवाने तथा मूल्यांकन कार्य प्रारंभ करने पर अपनी पृष्छा की, जिनके बारे में माननीय शिक्षा मंत्री जी ने प्रशिक् ओं का समाधान किया। माननीय मंत्री जी ने युवाओं का आह्वान किया कि वे कोरोना से लड़ने के लिए वॉलिंटियर के  रूप में काम करेंगे। उन्होंने जानकारी दी कि अधिक्तर राज्य में 1,50,000 वॉलिंटियर तैयार हो गये हैं और राज्य सरकार का लक्ष्य ढाई लाख वॉलिंटियर तैयार करना है। माननीय मंत्री जी ने समस्त जनता का आह्वान किया कि वे कोरोना से लड़ने के लिए स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन का अनुपालन करें तथा बाहर से आये हुए प्रवासियों के साथ आत्मीयतापूर्ण व्यवहार करें। यह अनोखी पहल उत्तराखण्ड के  दूरद्रष्टा व माननीय शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे की बदौलत संभव हुई, जिन्होंने इस वर्चुअल क्लासरूम टेक्नोलॉजी को उत्तराखण्ड के सबसे दूरदराज के इलाके में लागू करने में सफलता पाई। यह प्रशिक्षण सीमैट द्वारा दिनांक 26 से 30 मई, 2020 तक संचालित किया जा रहा है, जिसमें कोविड-19 के संक्रमण के फलस्वरूप ऑनलाइन शिक्षण की प्रक्रिया पर आधारित है। प्रशिक्षण में प्रतिदिन प्रातरू 10.30 बजे से 12.00 बजे तक प्रथम सत्र एवं 12.30 बजे से 2.00 बजे तक द्वितीय सत्र आयोजित किये जाने हैं। प्रशिक्षण में प्रथम सत्र में निदेशक, अकादमिक, शोध एवं प्रशिक्षण सीमा जौबसारी ने सभी प्रतिभागियों को प्रशिक्षण के उद्देश्यों तथा निदेशालय, अकादमिक, शोध एवं प्रशिक्षण द्वारा संचालित नवाचारी व गुणवत्तापरक कार्यक्रमों के बारे में जानकारी दी। प्रशिक्षण के शुभारंभ के अवसर पर विद्यालयी शिक्षा विभाग के महानिदेशक आलोक पांडे ने सभी प्रतिभागियों का आह्वान किया कि वे भविष्य में गुणवत्तापरक शिक्षा हेतु  कार्य करें। प्रशिक्षण के शुभारंभ के अवसर पर अपर निदेशक, सीमैट शशि चैधरी द्वारा सभी आंगतुकों का आभार व्यक्त करते हुए प्रशिक्षण सत्रों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। दिनांक 26 से 30 मई तक चलने वाले सत्रों में तनाव प्रबंधन, समय प्रबंधन, वित्तीय प्रबंधन, ऑनलाइन शिक्षण, कोविड-19, (बचाव व सुरक्षा), शैक्षिक नेतृत्व प्रबंधन,  सामुदायिक सहभागिता, आनंदम् आदि विषयों का पैडागॉजी तथा शिक्षक नवाचारों पर परिचर्चा आयोजित की जानी है। ऑनलाइन आयोजित यह प्रशिक्षण अत्यंत महत्वपूर्ण है तथा प्रशिक्षण कर क्षेत्र में नवाचार प्रयोग है। शुभारंभ के अवसर पर महानिदेशक, विद्यालयी शिक्षा, निदेशक, अकादमिक, शोध एवं प्रशिक्षण, अपर निदेशक, सीमैट, विभागाध्यक्ष, सीमैट मैनेजर, आईसीटी वर्चुअल लैब तथा संकाय सदस्य आदि उपस्थित थे। इस वर्चुअल क्लासरूम योजना को वर्चुअल कम्युनिकेशन के माध्यम से वैल्यूएबल ग्रुप द्वारा श्स्टूडियो द प्रोजेक्टश् के तहत स्थापित किया जा रहा है। इसके लिए कंपनी इंटरएक्टिव टेक्नोलॉजी पर आधारित वी-सैट तकनीक का इस्तेमाल कर रही है। यह टेक्नोलॉजी वी-सैट के माध्यम से  दूरदराज रहनेवाले छात्रों, शिक्षकों अथवा किसी भी शखघ््स को जुड़ने में मददगार साबित होती है। वर्चुअल क्लासरूम के माध्यम से दूरदराज रहनेवाले लोगों को सैटेलाइट आधारित टेक्नोलॉजी से जोड़कर जानकार शिक्षकों से शिक्षा हासिल करने में मदद करता है। इसके लिए टीवी स्क्रीन्स की मदद ली जाती है। वर्चुअल कम्युनिकेशन विभिन्न इंडस्ट्री का नये आकार में ढालने में अहम भूमिका अदा कर रहा है। वैल्यूएबल ग्रुप ने अब तक मेडिकल, रीयल एस्टेट और प्रशिक्षुओं से जुड़ी विभिन्न परियोजनाओं को वी-सैट आधारित इंटररैक्टिव टेक्नोलॉजी के माध्यम से सफलतापूर्वक अंजाम दिया है।

Featured Post

एसजेवीएन अध्यक्ष नंदलाल शर्मा ने सीएम धामी से की भेंट, उत्तराखंड में जल विद्युत परियोजनाओं के क्षेत्र में निवेश की इच्छा जताई

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नन्द लाल शर्मा ने उत्तराखंड में जल विद्युत परियोजनाओं के क्षेत्र में निवे...